ख्वाब शायरी

Khwab Shayari in Hindi

Khwab Shayari in Hindi
Images :-Khwab Shayari in Hindi

ख्वाब शायरी |Khwab Shayari in Hindi

सुनो मेरी जान तुम्हारा हाथ पकड़कर
घूमने का दिल करता है चाहे वो ख़्वाबों
में हो या हक़ीक़त में।

आ जाते हैं वो भी रोज ख्वाबों में,
जो कहते हैं हम तो कहीं जाते ही नहीं।

देखा एक ख्वाब तो ये सिलसिले हुए
दूर तक निगाहों में हैं गुल खिले हुए
ये गिला है आपकी निगाहों से
फूल भी हो दरमियान तो फासले हुए

ऐ ख़ुदा बस एक ख़्वाब सच्चा दे दे
अबकी बरस मानसून अच्छा दे दे!

कोई ख्वाब फिर से चमक उठा,
कोई जख्म फिर से हरा हुआ,
मैं समझ रहा था बेवफ़ा,
वो हमारे ख्वाब से जुदा हुआ…..!!

कोई मिला ही नहीं जिस
को सौपते मोहसिन,
हम अपने ख्वाब की खुशबु,
ख्याल का मौसम।

तुझसे मिलना तो अब ख्वाब सा लगता है,
इसलिए मैंने तेरे इंतज़ार से मोहब्बत की है.

कुछ ख़ास फर्क नहीं पड़ता
अब ख्वाब अधूरे रहने पर
बहुत करीब से कुछ
सपनो को टूटते देखा है!

यहां फूलों की खुशबु न मुझे मिली न तुझे मिली,
ये चमन न तेरा हुआ न मेरा हुआ,
ख्वाब था मेरे जहन में ना में कह सका ना में लिख सका,
जबान मिली तो कटा हुआ, कलम मिली तो बिका हुआ……..!!

खुदा का शुक्र है कि उसने ख्वाब बना दिये,
वरना तुम्हें देखने की हसरत रह ही जाती।

ख़्वाब जितने भी थे जल गए सारे
अब इन आँखों में नमी के सिवा कुछ
भी नही।

चिराग अपनी थकान की कोई सफ़ाई ना दे,
वो तीरगी है जो ख्वाब तक दिखाई ना दे,
ओर बहुत याद आते हैं वो रिश्ते जो टूट जाते हैं,
खुदा किसी को मोहब्बत ना दे,
मैं सारी उम्र अंधेरों में काट सकता हूँ,
मगर मेरे दीये को रोशनी पराई न दे……..!!
अगर यही हाल है दुनिया का तो,
मेरी केद भली है मुझे रिहाई ना दे.

सोये थे सारे ख़्वाब शहर के मचल गये
मुरझाये सारे फूल गुलसितां के खिल गये
नेताजी हमें आपसे उम्मीद है बड़ी
तकदीर थी हमारी हमें आप मिल गये।

गुलाब, ख्वाब, दवा, जहर, जाम क्या क्या है…..??
मैं आ गया हूँ, बता इन्तजाम क्या क्या है…..??

ताबीर जो मिल जाती तो एक ख्वाब बहुत था,
जो शख्स गँवा बैठे है नायाब बहुत था,
मै कैसे बचा लेता भला कश्ती-ए-दिल को,
दरिया-ए-मुहब्बत मे सैलाब बहुत था।

तेरे ख्वाबों का भी है शौक़ तेरी यादों में भी है मज़ा,
समझ नहीं आता सोकर तेरा दीदार करूँ या
जाग कर तुम्हें याद.

हादसा बन के कोई ख्वाब बिखर जाए तो क्या हो
वक्त जास्बात को तब्दील नहीं कर सकता,
देर हो जाने से एहसास नहीं मर सकता,
Mohhabat है दिलों का रिश्ता,
ऐसा रिश्ता जो सरहादो में कभी तब्दील नहीं हो सकता,
तु किसी ओर की रातों का हँसी चाँद सही,
मेरे हर रंग में शामिल तु है,
तुमसे रोशन है मेरे ख्वाब,
तु किसी भी राह से गुजरू मेरी मंजिल तु है……!!

Read Also: क्यूट शायरी

बस यही दो मसले ज़िन्दगी
भर न हल हुए ना नींद पूरी हुई
न ख्वाब मुकम्मल हुए।

Khwab Shayari in Hindi

शाम होने को है घर जाते हैं,
अब बुलंदियों से उतर जाते हैं,
ए जिन्दगी सामने ना आया कर तुझे देख डर जाते हैं ,
हम ख्वाब क्या देखें, थके हारे लोग
सोते हैं ओर मार जाते हैं……!!

ख़्वाब वैसे तो इक इनायत है,
आँख खुल जाए तो मुसीबत है।

पूरा अब मेरा ये ख़्वाब हो जाये
लिख दू उनके दिल पे किताब हो जाये
ना मयकदे की जरूरत हो ना मयखाने की
अगर नज़र से पिला दो शराब हो जाये।

मोहब्बत के नशे में झूठे ख्वाब दिखा गई,
मैं क्या बताऊँ उसकी अदाएं
कमवक्त पानी में आग लगा गई……..!!

पूरा नहीं हुआ , तो क्या हुआ,
दिखाने वाले तेरा ख्वाब अच्छा था.

ख्वाब मनुष्य को जीने नहीं देता और
मनुष्य ख्वाब को कभी मरने नहीं देता!

निकला हू घर से मिलने की उम्मीद ले के,
जानता हूँ मिलोगी नहीं,
घर लौटऊंगा उदास हो के,
तेरे गली में जाना अच्छा लगता है मुझे,
तुझे अपना बनने का ख्वाब सचा लगता है मुझे……!!

तुझे ख्वाबो में पा कर दिल
का करार खो ही जाता है,
मैं जितना रोकूँ खुद को
तुझसे प्यार हो ही जाता है…

वो बचपन की नींद अब ख्वाब हो गई,
क्या उमर थी कि, शाम हुई और सो गये.

खुदा का सुक्र है कि उसने ख्वाब बना दिए
वरना तुम्हें देखने की तो हसरत
रह ही जाती।

नहीं पसंद मोहब्बत में मिलावट मुझको,
अगर वो मेरा है तो ख्वाब़ भी मेरे देखे……..!!
ख्वाब सा था साथ तुम्हारा,
ख्वाब बन के रह गया……..!!

प्यार का ज़ज़्बा भी
क्या क्या ख्वाब दिखा देता है,
अजनबी चेहरों को महबूब बना देता है.

ये ख़याल था कभी ख़्वाब में तुझे देखते
कभी ज़िंदगी की किताब में तुझे देखते!

Read Also: ब्रोकन हार्ट शायरी

ख्याल, ख्वाब,ख्वाहिशे है तुझसे सब,
हर वक्त तुझे याद करने का बहाना सब.

कभी तुम्हरी याद आती है तो कभी तुम्हारे ख्व़ाब आते है,
मुझे सताने के सलीके तो तुम्हें बेहिसाब आती है………..!!

लो अब आवाज दी जाये नींद को,
कुछ थके थके से लग रहे हैं ख्वाब मेरे……..!!

मुझको दिखा रहा था जो मंजिलो का
ख्वाब फिर मेरे सामने से वो रास्ता
चला गया।

दिल ने आज फिर तेरे
दीदार की ख्वाहिश रखी है,
अगर फुरसत मिले तो
ख्वाबों मे आ जाना……..!!

ज्यादा ख्वाब मत बुनिये.
मिलेगा वही जो मंजूरे खुदा होगा.

ऐ पाक तेरा ख़्वाब नजारा ही रहेगा
तू क़िस्मत का मारा है मारा ही रहेगा
तेरे हर सवाल का जबाब करारा ही रहेगा
कश्मीर हमारा हैं और हमारा ही रहेगा!

अधूरे ख्वाब अधूरी मोहब्बते अधूरी ज़िन्दगी,
चल चाँद तू ही खुश हो जा तू तो पूरा है न आज.

सिर्फ ख्वाब होते तो क्या बात होती
आप तो खवाहिश बन बैठे वो भी
बेइंतहा !

जिनकी पलकों पे तेरे ख़्वाब हुआ करते हैं
ज़िंदगी में वही बेताब हुआ करते हैं.

कल कहीं ख्वाब हकीकत में बदल जायेंगे
आज जो ख्वाब फ़क़त ख्वाब नजर आते
हैं ।

रातों को जागते हैं इसी वास्ते कि ख़्वाब,
देखेगा बन्द आँखें तो फिर लौट जायेगा .

*****

शोर न कर धड़कन ज़रा
थम जा कुछ पल के लिए
बड़ी मुश्किल से मेरी आँखों
में उसका ख्वाब आया है……..!!

Khwab Shayari in Hindi

नामुमकिन सा मैने एक ख़्वाब देखा
ख़्वाब में तुझे मुहब्बत निभाते देखा !

जब निभाने ही नहीं थे तो क्यों दिखाए थे
इतने ख्वाब अब ये शिकायत मुझे तुमसे
उम्र भर रहेगी !

मैंने देखा है बहारो में चमन को जलते
है कोई ख्वाब की तावीर बताने वाला।

दिल मे घर करके बैठे है
ये जो ज़ि द्दी से ख़्वाब,
कागज पे उतार मै
वो सारे मेहमान ले आऊँ.

ख़्वाब बुनते बुनते एक उम्र हो चली ,
अब उन ख्वाबो को
सिरहाने रख सोने को जी चाहता है……..!!

Read Also: दर्द भरी शायरी

तोड़ दिया इन कंपनी वालो ने ख़्वाब तुझे
पाने का कहते है तेरा नंबर भी मेरी पहुंच
से बाहर है !

एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है
मैं ने हर करवट सोने की कोशिश की

सोने की जगह रोज़ बदलता हूँ मैं लेकिन
एक ख्वाब किसी तरह बदलता ही नहीं है !

नींद मिल जाए कहीं तो भेजना जरा,
ज़ीना मुहाल कर रखा है मेरी इन आँखों ने,
खुली हो तो तलाश तेरी बंद हो तो ख्वाब तेरे……….!!

न नींद, आयी न ख़्वाब आये,
जवाबो में भी कुछ सवाल आये.

चप्पे-चप्पे में निगाहों के सख्त पहरे थे
नज़र बचा के तेरे ख़्वाब चले आए हैं !

आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम,
कितना ख्वावों में तुझे और तलाशा जाए
बहोत सारे ख्वाब अधूरे है मेरे……..!!

ख़ुदा नहीं न सही आदमी का ख़्वाब सही,
कोई हसीन नज़ारा तो है नज़र के लिये.

*****

मुद्दते लगी बुनने में ख्वाब का स्वेटर
तैयार हुआ तो मौसम ही बदल चूका था !

आवाज़ दे रहा था कोई मुझ को ख़्वाब में,
लेकिन ख़बर नहीं कि बुलाया कहाँ गया………!!

तेरी आँखों में कई ख़्वाब छोड़ आए हैं,
हर इक सवाल का जवाब छोड़ आए हैं.

मेरी खुशियो का सबब है मुझे नीद न
आना वो सब परेशाँ है जिनके ख्बाव पूरे
नही होते !

एक ख्वाब ने आँखे खोली हैं,
क्या मोड़ आया है कहानी में,
वो भीग रही थी बारिश में
और आग लगी है पानी में.

Khwab Shayari in Hindi

ईमानदारी से काम करने वालो के ख्वाब
भले ही पुरे न हो पर नींद जरूर पूरी होती है!

सहर ख़्वाब में तुम फ़िर आये थे,
सरहाने पे फ़िर आज ओस की बून्दें हैं.

जानता हूँ ये ख्वाब झूठे हैं ख्वाहिसे अधूरी हैं
पर जिंदा रहने को गलत फेह्मियां
भी जरुरी हैं।

किसी को नींद आती है
मगर ख्वाब से नफरत है
किसी को ख्वाब प्यारे है
मगर वो सो नहीं पाते !

हर रात वही बहाना है मेरे दिल का,
मैं सोता हूँ तो तेरा ख़्वाब आ जाता है.

हमारे दिल से आज धुआं निकल रहा है
लगता है आज उसने मेरे ख्वाबो को
जला डाला।

तुम्हारी याद में आँखों का रतजगा है,
कोई ख़्वाब नया आए तो कैसे आए.

आँखे तो क़ैदखाने से बाहर न आ सकी
पर जिंदगी के ख़्वाब अँधेरे में पल गए !

जिस ख्वाब में हो जाए
दीदारे नबी हासिल
ऐ इश्क़ कभी हमको
भी वो नींद सुला दे.

Read Also: दूरियों पर बेहतरीन शायरी

आज मैंने हसीन ख़्वाब देखा
खुद को मुस्कुराते हुए आपके साथ देखा!

जो ख्वाबों में चले आते तुम्हारा क्या बिगड़ जाता,
तेरा पर्दा बना रहता,मुझे दीदार हो जाता.

हर रात हसीन रात हो
बस एक अगर तेरा साथ हो
बीते मेरा हर लम्हा खूबसूरत
जैसे कोई हसीन ख्व़ाब हो !

हम नींद से उठकर,
इधर-उधर ढूंढते हैं तुझे,
क्यों ख्वाबों में मेरे,
इतने करीब चले आते हो तुम❓

ख़्वाब का रिश्ता हक़ीक़त से न जोड़ा जाए
आईना है इसे पत्थर से न तोड़ा जाए !

छू जाते हो तुम मुझे हर
रोज एक नया ख्वाब बनकर,
ये दुनिया तो खामखां कहती है
कि तुम मेरे करीब नहीं…….!!

अब तो इन आँखों से
भी जलन होती है मुझे,
खुली हों तो तलाश तेरी,
बंद हों तो ख्वाब तेरे.

ख्वाब दुःख देने लगे थे
मैंने सोना ही छोड़ दिया !

******

रात बड़ी मुश्किल से खुद
को सुलाया है मैंने,
अपनी आँखों को तेरे
ख्वाब का लालच देकर.

माजरा क्या हे ये भी बता दो
आजकल ख्वाबों मे छा जाते हो !

ता फिर न इंतज़ार में नींद आये उम्र भर,
आने का अहद कर गये आये जो ख्वाब में………!!

मुद्दत हो गयी ख्वाब में
भी नहीं आया ख्याल नींद का
हैरत में हैं दिल,
मुझे किसका हैं इंतज़ार.

बड़े ख्व़ाब देखने के जज्बात रखता हूँ
उसे पूरा करने की मैं औकात रखता हूँ !

Khwab Shayari in Hindi

मेरे ख्वाबो को, अब बिखरने न देना,
बहुत प्यार से थामा है, तेरे हाथो को,
अपने हाथों में .

दीदार तो एक ख़्वाब ठहरा,
बात भी बेशक़ न हो,
बस एक तेरी ख़ैरियत का,
पैग़ाम मिल जाया करे.

पलकें भी चमक जाती हैं सोते में हमारी,
आँखो को अभी ख्वाब छुपानें नहीं आते.

न सिर्फ़ आब, इन
आँखों में ख़्वाब रखता हूँ,
मैं वो बादल हूँ,
जो सीने में आग़ रखता हूँ ……….!!

हसरतें पूरी न हो तो न सही पर
ख्वाब देखना कोई गुनाह तो नहीं !

कभी हक़ीक़त में भी बढ़ाया करो ताल्लुक़
हमसे अब ख़्वाबों की मुलाक़ातों से
तसल्ली नहीं होती !

Read Also: चाहत शायरी

मुझे मौत से डरा मत,
कई बार मर चुका हूँ
किसी मौत से नहीं
कम कोई ख़्वाब टूट जाना……….!!

वो जो मुमकिन ना हो उसे मुमकिन बना
देता है
ख्व़ाब दरिया के किनारों को मिला देता है !

इक ख़्वाब का ख़याल है दुनिया कहें जिसे है,
इसमें इक तिलिस्म तमन्ना कहें जिसे………..!!

जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है,
माँ दुआ करती हुई ख्वाब में आ जाती है.

तरसती निगाहों ने देखा है
कल फिर ख्वाब तेरे आने का !

*****

वो जो मुमकिन न हो
मुमकिन ये बना देता है,
ख़्वाब दरिया के
किनारों को मिला देता है ………….!!

आज फिर तेरे दीदार की हसरत दिल ने रखी है
अगर वक्त मिले तो ख्वाबो में आ जाना.

सोचता हूँ इस दिल मे एक कब्रिस्तान बना
लूँ सारे ख्वाब मर रहे हैँ एक एक करके !

अब जुदाई के सफ़र को मिरे आसान करो,
तुम मुझे ख़्वाब में आ कर न परेशान करो…….!!

सज़ा ये है कि नींदें छीन
ली दोनों की आँखों से,
खता ये है कि हम दोनों
ने मिलकर ख्वाब देखा था.

जिन्दगी ने झेले हैं सब अज़ाब दुनिया के
बस रहे हैं दिल में फिर भी ख्व़ाब दुनिया के !

सोने दो मुझे,
तुम्हारे ख्वाब भी तो देखने हैं………!!

Khwab Shayari in Hindi

सोने लगा हूँ तुझे ख्वाब
में देखने कि हसरत ले कर,
दुआ करना कोई जगा
ना दे तेरे दीदार से पहले.

एक तो सुकून और एक तुम
कहाँ रहते हो आजकल
मिलते ही नहीं !

कल रात भर मैं ख्वाब में
उसके आगोश में रहा,
ख्वाब ही सही,
मगर कुछ पल तो मैं उसका रहा……….!

ख़्वाबों को तो अक्सर हकीकत की ज़मीन
पर ही रक्खा है
ये बदबख्त अरमान चले गए आसमानों की
दहलीज़ परे !

खिड़की, चाँद, क़िताब और मैं,
मुद्दत से एक बाब और मैं,
शब भर खेलें आपस में ,
दो आँखें इक ख़्वाब और मैं.

कभी तुम्हारी याद आती है
कभी तुम्हारे ख्वाब आते है
मुझे सताने के सलीके तो
तुम्हें बेहिसाब आते है !

न सिर्फ़ आब,
इन आँखों में ख़्वाब रखता हूँ,
मैं वो बादल हूँ,
जो सीने में आग़ रखता हूँ .

देर रात जब किसी की याद सताए ठंडी
हवा जब जुल्फों को सहलाये कर लो
आंखे बंद और सो जाओ क्या पता
जिसका है ख्याल वो खवाबों में आ जाये!

अगर ख़ुदा न करे सच ये ख़्वाब हो जाए
तेरी सहर हो मेरा आफ़ताब हो जाए……..!!

Read Also: आँसू शायरी

ख़्वाब ही ख्व़ाब मैं कब तक देखूँए
ये आरजू है एक बार समाने भी देखूँ !

सौदा कुछ ऐसा किया है
तेरे ख़्वाबों ने मेरी नींदों से
या तो दोनों आते हैं
या कोई नहीं आता !

राजे दिल सब बताना चाहता हूँ,
एक ग़ज़ल तुझ पर सुनाना चाहता हूँ.
रात देखे ख्वाब जो तुम संग मैंने,
ख्वाब वो सब मैं भुनाना चाहता हूँ ………..!!

काश फिर मिलने की वजह मिल जाए
साथ जितना भी बिताया वो पल मिल जाए
चलो अपनी अपनी आँखें बंद कर लें
क्या पता ख़्वाबों में गुज़रा हुआ कल मिल जाए !

डरते है आग से कही जल न जाये,
डरते है ख्वाब से कहीं टूट न जाये,
लेकिन सबसे ज़्यादा डरते है आपसे,
कहीं आप हमे भूल न जाये………….!!

मुझे खबर है तेरे दिल में मैं नहीं
तेरे दिल में कोई और ही सही
तू कभी भुलाया न जाएगा
तू बस एक टूटा हुआ ख्व़ाब ही सही !

दिल की हर यादो में, मै सवारूँ तुझे,
तू दिखे तो इन आँखो में उतारू तुझे,
तेरे नाम को जुबा पर ऐसे सजाऊ,
सो जाऊ तो ख्वाबों मे बस पुकारू तुझे………!!

******

छु जाते हो तुम मुझे हर रोज एक नया
ख्वाब बनकर ये दुनिया तो खामखा
कहती है कि तुम मेरे करीब नहीं !

मेरा हर ख्वाब आज हकीकत बन जाये,
जो हो बस तुम्हारे साथ ऐसी जिन्दगी बन जाये,
हम लाये लाखो में एक गुलाब तुम्हारे लिए,
और ये गुलाब मोहब्बत की शुरुआत बन जाये ………!!

सोने दो मुझे,
तुम्हारे ख्वाब भी तो देखने हैं.

Khwab Shayari in Hindi

तुझसे दोस्ती करने का हिसाब ना आया
मेरे किसी भी सवाल का जवाब ना आया
हम तो जागते रहे तेरे ही ख़यालो मे
और तुझे सो कर भी हमारा ख्वाब ना आया !

दिल की धड़कन को धड़का गया कोई.
मेरे ख्वाबों को जगा गया कोई,
हम तो अनजाने रास्तो पे यूं ही चल रहे थे,
अचानक ही प्यार का मतलब भी सीखा गया कोई………!

ख़्वाब ही ख़्वाब कब तलक देखूँ
काश तुझ को भी इक झलक देखूँ !

ऐसा भी कभी हो मैं जिसे ख़्वाब में देखूँ
जागूँ तो वही ख़्वाब की ताबीर बताए

जिसे पाया ना जा सके वो जनाब हो तुम,
मेरी जिंदगी का पहला ख्वाब हो तुम,
लोग चाहे कुछ भी कहे लेकिन मेरी ज़िन्दगी का
एक सुन्दर सा गुलाब हो तुम………..!!

और तो क्या था बेचने के लिए
अपनी आँखों के ख़्वाब बेचे हैं !

न जाने सालों बाद कैसा समां होगा,
हम सब दोस्तों में से कौन कहा होगा,
फिर अगर मिलना होगा तो मिलेंगे ख्वाबों में,
जैसे सूखे गुलाब मिलते है किताबों में……….!!

सुना है वो कह कर गये है के अब तो हम
सिर्फ़ तुम्हारे ख्वाबो मैं ही आएँगे
कोई कह दे उनसे की वो वादा कर ले हम से
ज़िंदगी भर के लिए हम सो जाएँगे !

काश उनकी आँखों में भी मेरे लिए ख्वाब होगा,
उनके दिल के किसी कोने में, हमारे लिए प्यार होगा..
यही सोच के गुजारता हु, अपनी हर राते,
शायद कभी उन्हें भी हमारा इंतज़ार होगा………!!

ये तो अच्छा है कि मेरे
हर ख़्वाब पूरे नहीं होते.,
वरना मेरे दोस्त किस-किस को

हकीकत की रस्सियों पे लटककर
न जाने कितने ख्व़ाब खुदख़ुशी कर गये !

तुम्हारी आँखों की तौहीन है ज़रा सोचो
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है !

कितना अधूरा लगता है तब,
जब बादल हो पर बारिश ना हो,
जब जिंदगी हो पर प्यार ना हो,
जब आँखे हो पर ख्वाब ना हो,
और जब कोई अपना हो पर साथ ना हो………!!

खुदा का शुक्र है कि ख्वाब बना दिए,
वरना तुम्हें देखने की
तो हसरत दिल में ही रह जाती.

काश उनका चेहरा आता रोज हमारे ख्वाब में
मर जाते पर नींद से उठने की
जुर्रत नहीं करते !

फ़र्ज़ था जो मेरा निभा दिया मैंने,
उसने माँगा जो वो सब दे दिया मैंने,
वो सुनके गैरों की बातें बेवफ़ा हो गयी,
समझ के ख्वाब उसको आखिर भुला दिया मैंने…….!!

मेरे आँखों के ख्वाब, दिल के अरमान हो तुम,
तुम से ही तो मैं हूँ , मेरी पहचान हो तुम
मैं ज़मीन हूँ अगर तो मेरे आसमान हो तुम,
सच मानो मेरे लिए तो सारा जहां हो तुम………!!

ख्वाबों को आँखों से मिन्हा करती है
नींद हमेशा मुझसे धोखा करती है।

पागल आंखों वाली लड़की
इतने महेंगे ख़्वाब ना देखो थक जाओगी
कांच से नाज़ुक ख़्वाब तुम्हारे
टूट गए तो पछताओगी .

Read Also: दोस्ती पर शायरी

तुझको ख्वाबो में देखने वाला
कितनी मुश्किल से जागता होगा !

रात की गहराई आँखों में उतर आई,
कुछ ख्वाब थे और कुछ मेरी तन्हाई,
ये जो पलकों से बह रहे हैं हल्के हल्के,
कुछ तो मजबूरी थी कुछ तेरी बेवफाई………..!!

जो उन मासूम आँखों ने दिए थे
वो धोके आज तक मैं खा रहा हूँ !

एक मुस्कान तू मुझे एक बार दे दे,
ख्वाब में ही सही, एक दीदार दे दे.
बस एक बार कर लें तू आने का वादा,
फिर उम्र भर का चाहे इंतजार दे दे………!!

तेरे ख़्वाबों की लत लगी जब से
रात का इंतिज़ार रहता है !

जब भी हम मिलेंगे तुमसे तो ढेर सारी
बात होगी हकीकत में ना सही कभी
ख़्वाबों में ही मुलाकात होगी !

******

किताबों के पन्नो को पलट के सोचता हूँ,
यूँ पलट जाए मेरी ज़िंदगी तो क्या बात है.
ख्वाबों मे रोज मिलता है जो,
हक़ीकत में आए तो क्या बात है.

मैं सो रहा हूँ तेरे ख़्वाब देखने के लिए
ये आरज़ू है कि आँखों में रात रह जाए !

Khwab Shayari in Hindi

ख़्वाब आँखों से गए,
नींद रातों से गई
वो गया तो ऐसे लगा,
ज़िंदगी हाँथो से गई……..!!

क्या क़यामत है कि आरिज़ उन के नीले
पड़ गए हम ने तो बोसा लिया था ख़्वाब
में तस्वीर का !

खुली फ़िज़ाओं के आदी हैं ख़्वाब के पंछी,
उन्हें क़फ़स में कहाँ आप पालने निकले……..!!

तुम ख़्वाबों में आकर बड़ा सताते हो
खुद चैन से सोते हो और मुझे जगाते हो !

एक सूरज था कि तारों के घराने से उठा
आँख हैरान है क्या शख़्स ज़माने से उठा।

रोज़ वो ख़्वाब में आते हैं गले मिलने को,
मैं जो सोता हूँ तो जाग
उठती है क़िस्मत मेरी………..!!

तुम्हारे ख़्वाब से हर शब लिपट के सोते हैं
सज़ाएँ भेज दो हम ने ख़ताएँ भेजी हैं !

इक मुअम्मा है
समझने का न समझाने का,
ज़िंदगी काहे को है
ख़्वाब है दीवाने का………….!!

आशिक़ी में ‘मीर’
जैसे ख़्वाब मत देखा करो,
बावले हो जाओगे
महताब मत देखा करो……..!!

दुनिया है ख़्वाब,
हासिल-ए-दुनिया
ख़याल है इंसान ख़्वाब
देख रहा है ख़याल में ………!!

हर घडी तेरा दीदार किया करते हैं
हर ख्वाब में तुझसे इज़हार किया करते हैं.
दीवाने हैं तेरे हम यह इक़रार करते हैं
जो हर वक़्त तुझसे
मिलने की दुआ किया करते हैं.

चले ही जाते हैं इक और ख़्वाब के पीछे,
सराब बनके यक़ीं को गुमान खींचता है………!!

दिखाई जाने क्या दिया है
जुगनुओं को
ख़्वाब में खुली है जबसे
आँख आफताब माँगने लगे……!!

वो अक़्सर तोलता है
ख़्वाब और सिक्के तराज़ू में,
ख़ुशी पाने में इक सिक्का
हमेशा कम निकलता है………!!

कोई बताएगा कैसे दफनाते हैं उनको,
वो ख्वाब जो दिल में ही मर जाते हैं……..!!

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here