इधर – उधर की हाँकना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

इधर – उधर की हाँकना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग (Idhar–udhar kee haankana Muhavara ka arth)

इधर – उधर की हाँकना मुहावरे का अर्थ – व्यर्थ की बातें करना, बेकार की बातें करना या गप मारना।

Idhar – udhar kee haankana Muhavara ka arth – vyarth kee baaten karana, bekaar kee baaten karana ya gap maarana.

दिए गए मुहावरे का हिंदी में वाक्य प्रयोग ह हमेशा इधर-उधर की हाँकता रहता हैं, कभी बैठकर पढ़ता नहीं।

वाक्य प्रयोग: सीता हमेशा इधर-उधर की हाँकना में लगी रहती है वह कभी बैठकर पढ़ाई करती तो वह आज कक्षा में अव्वल आती है।

वाक्य प्रयोग: संजय जब मोहन से मिला तो बहुत देर तक इधर-उधर की हाँकना में लगा रहा, लेकिन उसने उससे कोई भी काम की बात नहीं की।

वाक्य प्रयोग: सोहनलाल हमेशा इधर-उधर की हाँकता रहता है अगर वह इतना वक्त अपने व्यापार में लगाता तो मैं कब का अमीर हो चुका होता।

वाक्य प्रयोग: हमेशा हमारे बड़े बूढ़े हमारे माता-पिता हमें समझाते हैं कि जो व्यक्ति इधर उधर की हांकने में लगा रहता है वह हमारा ना अच्छा मित्र होता है ना अच्छा शुभचिंतक होता है इसीलिए हमें उन लोगों से हमेशा बचकर रहना चाहिए।

यहां हमने “इधर –उधर की हाँकना” जैसे बहुचर्चित मुहावरे का अर्थ और उसके वाक्य प्रयोग को समझा। इधर –उधर की हाँकना मुहावरे का अर्थ होता है कि व्यर्थ की बातों में लगे रहना बेकार की बातें करना गफ्फार ना वैसे व्यक्ति जो कि हमेशा व्यर्थ की बातें करते हैं इधर-उधर की बातें करते रहते हैं हमेशा करते रहते हैं किसी कार्य को करते नहीं बस लंबी-लंबी हंसते रहते हैं वैसे व्यक्तियों से हमेशा बच के रहना चाहिए दूर रहना चाहिए क्योंकि वह अपना समय तो बर्बाद करते ही है साथ में साथ आपका भी समय बर्बाद कर देते हैं तो वैसे व्यक्ति से हमेशा दूर रहना चाहिए। चुकी यह मुहावरा है और मुहावरा और असामान्य अर्थ प्रकट करता है इसीलिए यहां इस मुहावरे का अर्थ दोहरा लाभ प्राप्त करने से हैं।

मुहावरे परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं। एक शब्द के कई मुहावरे हो सकते हैं।यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए मुहावरे ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी किसी का भी मुहावरे पूछा जा सकता है।

मुहावरे का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में मुहावरे पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से मुहावरे बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में मुहावरे का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत में भी मुहावरे पूछे जाते हैं।

मुहावरे कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण मुहावरे और उनका वाक्य प्रयोग

आपे से बाहर होना कठपुतली बनना
आसमान सिर पर उठाना अपने पाँव पर आप कुल्हाड़ी मारना
आपे से बाहर होना आकाश-पाताल एक करना

1000+ हिंदी मुहावरों के अर्थ और वाक्य प्रयोग का विशाल संग्रह 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here