अनु उपसर्ग से शब्द

अनु उपसर्ग से शब्द (Anu upsarg se Shabd in Hindi)

अनु उपसर्ग से शब्द- अनुगामी, अनुसरण, अनुकाल, अनुकुल, अनुरुप, अनुगुण, अनुकंपा, अनुग्रह, अनुपान, अनुक्षण, अनुदिन, अनुज, अनुचर, अनुपात, अनुकरण, अनुस्वार, अनुशासन, अनुशीलन, अनुत्तम, अनुपम।

Anu upsarg se Shabd anugami, anusaran, anukaal, anukul, anurup, anugun, anukampaa, anugrah, anupaan, anupaan, anukshan, anudin, anuj, anuchar, anupaat, anukaran, anuswar, anushasan, anushil, anuttam, anupam.

अनु उपसर्ग से शब्द (Prefix of itoms in Hindi)और उपसर्ग जोड़ने पर किसी भी शब्द का मूल शब्द का अर्थ बदल जाता है। उपसर्ग शब्द या शब्दांश के पहले जुड़कर किसी भी शब्द के अर्थ में विशेषता को लाती है। उपसर्ग का प्रयोग स्वतंत्र रूप से नहीं किया जा सकता है। उपसर्ग शब्द किसी भी शब्द के आगे जुड़ कर विभिन्न प्रकार के शब्दों का निर्माण करती है जिसे हम वाक्यों के द्वारा जानेंगे। इसीलिए एक वाक्य में सभी उपसर्ग शब्दों का प्रयोग हो जाए, यह जरूरी नहीं है। स्थिति के आधार पर वाक्य में अलग अलग उपसर्ग का प्रयोग अलग अलग स्थान पर किया जा सकता है।

नीचे हम उदाहरण के माध्यम से इसे और अधिक गहराई से जानने का प्रयास करेंगे।

अनु शब्द के वाक्य प्रयोग द्वारा उपसर्ग शब्दों के अंतर को समझना

  • अनुगामी- अनुगामी का अर्थ होता है जो कि पीछे चलने वाला हो, आज्ञाकारी हो, अनुगमन करने वाला हो। भगवान राम का भाई लक्ष्मण हमेशा भगवान राम का अनुगामी करता था अर्थात भगवान राम के पीछे पीछे चलता था हमेशा उसकी आज्ञा का पालन करता था।
  • अनुसरण-अनुसरण का अर्थ होता है पीछे चलना, अनुगमन करना, अनुकरण करना, अनुकूल आचरण करना। जो लोग अच्छे व्यक्तियों की आदतों का अनुकरण करते हैं उनका जीवन हमेशा सफलता से भरा रहता है।
  • अनुकूल- अनुकूल का अर्थ होता है जो कि हमारे मन के अनुकूल हो, हमारे पक्ष में हो, हर किसी का इच्छा होता है कि हम अपने अनुकूल वातावरण में रहना चाहते हैं, जहां हमारी इच्छा के अनुसार सारी चीजें मौजूद हो अनुरूप हो उपयुक्त हो चाहते हैं।
  • अनुज – अनुज का अर्थ होता है छोटा भाई। भगवान राम का अनुज लक्ष्मण भरत और शत्रुघ्न है।

उपसर्ग शब्द परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं।उपसर्ग शब्द या शब्दांश के पहले जुड़कर किसी भी शब्द के अर्थ में विशेषता को लाती है। एक शब्द के कई उपसर्ग शब्द हो सकते हैं।यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए शब्द उपसर्ग शब्द ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी उपसर्ग शब्दों में से किसी का भी उपसर्ग शब्द पूछा जा सकता है।

उपसर्ग शब्दों का विशेष महत्व है और इनकी सहायता से हम विभिन्न प्रकार के नए शब्दों का निर्माण कर सकते हैं। उपसर्ग शब्द का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में उपसर्ग शब्द पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से उपसर्ग शब्दों बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में उपसर्ग शब्दों का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत और उर्दू और फारसी में भीउपसर्ग शब्दों पूछे जाते हैं।

उपसर्ग शब्द कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण उपसर्ग से बने शब्द

प्रअभि
समविस्व
गैरबदपरि

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here