सम उपसर्ग से शब्द

सम उपसर्ग से शब्द (Sam upasarg se shabd in Hindi)

सम उपसर्ग से शब्द – समकालीन, समदर्शी, समकोण, समकालीन, समझाना, समवार, समर्पण, समाज, समर्पित, समाप्त, समाचार।

Sam upasarg se shabd samakaaleen, samadarshee, samakon, samakaaleen, samajhaana, samavaar, samarpan, samaaj, samarpit, samaapt, samaachaar.

सम उपसर्ग से शब्द (Prefix of Sam in Hindi) और उपसर्ग जोड़ने पर किसी भी शब्द का मूल शब्द का अर्थ बदल जाता है। उपसर्ग शब्द या शब्दांश के पहले जुड़कर किसी भी शब्द के अर्थ में विशेषता को लाती है। उपसर्ग का प्रयोग स्वतंत्र रूप से नहीं किया जा सकता है। उपसर्ग शब्द किसी भी शब्द के आगे जुड़ कर विभिन्न प्रकार के शब्दों का निर्माण करती है जिसे हम वाक्यों के द्वारा जानेंगे। इसीलिए एक वाक्य में सभी उपसर्ग शब्दों का प्रयोग हो जाए, यह जरूरी नहीं है। स्थिति के आधार पर वाक्य में अलग अलग उपसर्ग का प्रयोग अलग अलग स्थान पर किया जा सकता है।

नीचे हम उदाहरण के माध्यम से इसे और अधिक गहराई से जानने का प्रयास करेंगे।

सम शब्द के वाक्य प्रयोग द्वारा उपसर्ग शब्दों के अंतर को समझना

  • समकालीन- समकालीन का अर्थ होता है जो कि वर्तमान काल का हो, एक ही समय का हो, आधुनिक हो। सुभाष चंद्र बोस और मोहनदास करमचंद गांधी समकालीन थे।
  • समदर्शी- समदर्शी का अर्थ होता है जो कि सभी को समान दृष्टि से देखता, जो कि न्याय प्रिय हो। माता पिता अपने सभी बच्चों को समदर्शी रूप से देखते हैं अर्थात वह अपने सभी बच्चों को एक समान प्यार करते हैं।
  • समकोण- समकोण का अर्थ गणित भाषा में 90 डिग्री का कोण होता है, आयत में जिसके आमने-सामने के सभी कोण समान हो वह समकोण कहलाता है।
  • आज मोहन के कक्षा में शिक्षक ने सभी बच्चों को समकोण बनाना सिखा रहे थे।
  • समाचार- समाचार का अर्थ होता है सूचना, खबर, नया ताजा सूचना, किसी घटना आदि का विवरण जानना। पुराने जमाने में लोग समाचार को रेडियो के द्वारा या समाचार पत्रों के द्वारा जानते थे। लेकिन आधुनिक युग में लोग समाचार को दूरदर्शन के द्वारा और डिजिटल मीडिया के द्वारा भी जान सकते हैं।
  • समर्पण- समर्पण का अर्थ होता है शॉप देने का भाव या किसी को आदरपूर्वक कुछ भेंट देने का भाव या फिर आत्मसमर्पण करना। मीरा ने भगवान श्री हरि को अपना संपूर्ण जीवन उनके चरणों में समर्पित कर दिया।

उपसर्ग शब्द परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं। उपसर्ग शब्द या शब्दांश के पहले जुड़कर किसी भी शब्द के अर्थ में विशेषता को लाती है। एक शब्द के कई उपसर्ग शब्द हो सकते हैं। यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए शब्द उपसर्ग शब्द ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी उपसर्ग शब्दों में से किसी का भी उपसर्ग शब्द पूछा जा सकता है।

उपसर्ग शब्दों का विशेष महत्व है और इनकी सहायता से हम विभिन्न प्रकार के नए शब्दों का निर्माण कर सकते हैं। उपसर्ग शब्द का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में उपसर्ग शब्द पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से उपसर्ग शब्दों बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में उपसर्ग शब्दों का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत और उर्दू और फारसी में भीउपसर्ग शब्दों पूछे जाते हैं।

उपसर्ग शब्द कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण उपसर्ग से बने शब्द

गैरअनकम
परिस्वअनु
बदअभिअन

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here