अभि उपसर्ग से शब्द

अभि उपसर्ग से शब्द (Abhi upasarg se shabd in Hindi)

अभि उपसर्ग से शब्द- अभियान, अभिज्ञान, अभिशाप, अभिभावक, अभिनय, अभिनन्दन, अभिनेता, अभिनेता, अभिमत, अभिरक्षक, अभिमुख, अभिशाप, अभिलाषा, अभिकर्ता, अभिनव।

Abhi upasarg se shabd abhiyaan, abhigyaan, abhishaap, abhibhaavak, abhinay, abhinandan, abhineta, abhineta, abhimat, abhirakshak, abhimukh, abhishaap, abhilaasha, abhikarta, abhinav.

अभि उपसर्ग से शब्द (Prefix of Abhi in Hindi)और उपसर्ग जोड़ने पर किसी भी शब्द का मूल शब्द का अर्थ बदल जाता है। उपसर्ग शब्द या शब्दांश के पहले जुड़कर किसी भी शब्द के अर्थ में विशेषता को लाती है। उपसर्ग का प्रयोग स्वतंत्र रूप से नहीं किया जा सकता है। उपसर्ग शब्द किसी भी शब्द के आगे जुड़ कर विभिन्न प्रकार के शब्दों का निर्माण करती है जिसे हम वाक्यों के द्वारा जानेंगे। इसीलिए एक वाक्य में सभी उपसर्ग शब्दों का प्रयोग हो जाए, यह जरूरी नहीं है। स्थिति के आधार पर वाक्य में अलग अलग उपसर्ग का प्रयोग अलग अलग स्थान पर किया जा सकता है।

नीचे हम उदाहरण के माध्यम से इसे और अधिक गहराई से जानने का प्रयास करेंगे।

अभि शब्द के वाक्य प्रयोग द्वारा उपसर्ग शब्दों के अंतर को समझना

  • अभियान- अभियान का अर्थ होता है मुहिम, आक्रमण, चढ़ाई, किसी विशिष्ट कार्य हेतु एक विशिष्ट योजना करना, प्रस्थान करना, मिशन बनाना। हमारे देश के भारतीय सैनिक किसी विशिष्ट कार्य निश्चित उद्देश्य की सिद्धि के लिए दलबल सहित एक जान बनाकर अभियान बनाकर आगे बढ़ते हैं।
  • अभिज्ञान- अभिज्ञान का मतलब स्मरण या विश्वास दिलाने के लिए दी गई वस्तु, पहचान, लक्षण, स्मृति, निशानी, सबसे बुद्धिमान, बुद्धिमता जानकार होता है। माता सीता ने अभिज्ञान रूप से देने के लिए राम भक्त हनुमान को अपनी अंगूठी दी थी जिसे वह राम को दिखाकर माता सीता के मिलने का विश्वास दिलाते हैं।
  • अभिशाप – अभिशाप का अर्थ होता है श्राप या शाप देना, झूठा दोषारोपण करना या लांछन लगाना। किसी की अनिष्ट की कामना से कहा वह शब्द अभिशाप कहलाता है जैसे गौतम ऋषि के श्राप से अहिल्या पत्थर की हो गई थी।
  • अभिभावक- अभिभावक का अर्थ होता है जो कि आश्रय देता है, देखरेख करता है, संरक्षण करता है। मोहन के पाठशाला में उसके शिक्षक ने मोहन के अभिभावक को बुलाया है।
  • अभिनंदन- अभिनंदन करने का अर्थ होता है अभिवादन करना, बधाई देना, प्रोत्साहित करना, आनंदित या प्रसन्न होना ।जब किसी व्यक्ति को उसके अच्छे गुणों के लिए उसके अच्छी बातों के लिए आदर सूचक बात की जाती है तो उसे अभिनंदन करना कहा जाता है।

उपसर्ग शब्द परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं। उपसर्ग शब्द या शब्दांश के पहले जुड़कर किसी भी शब्द के अर्थ में विशेषता को लाती है। एक शब्द के कई उपसर्ग शब्द हो सकते हैं।यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए शब्द उपसर्ग शब्द ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी उपसर्ग शब्दों में से किसी का भी उपसर्ग शब्द पूछा जा सकता है।

उपसर्ग शब्दों का विशेष महत्व है और इनकी सहायता से हम विभिन्न प्रकार के नए शब्दों का निर्माण कर सकते हैं। उपसर्ग शब्द का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में उपसर्ग शब्द पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से उपसर्ग शब्दों बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में उपसर्ग शब्दों का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत और उर्दू और फारसी में भीउपसर्ग शब्दों पूछे जाते हैं।

उपसर्ग शब्द कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण उपसर्ग से बने शब्द

परिअनअनु
बदसमअप 
गैरकमउत

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here