परा उपसर्ग से शब्द

परा उपसर्ग से शब्द (Para Upsarg se shabd in Hindi)

परा उपसर्ग से शब्द- पराशक्ति,पराक्रम, पराभूत, पराभव, पराजय, परामर्श, पराधीन, पराजयते, पराभवति,पराकाष्ठा, परावर्ती, पराविद्या, परावलंब, परावृत्त।

Para Upsarg se Shabd- paraashakti, paraakram, parabhoot, parabhav, parajay, paramarsh, paraadhin, parajaayate, parabhaavatee, parakasth, paravartee, paravidya, paravalamba, paravrat.

परा उपसर्ग से शब्द (prefix of Para in Hindi)और उपसर्ग जोड़ने पर किसी भी शब्द का मूल शब्द का अर्थ बदल जाता है। उपसर्ग शब्द या शब्दांश के पहले जुड़कर किसी भी शब्द के अर्थ में विशेषता को लाती है। उपसर्ग का प्रयोग स्वतंत्र रूप से नहीं किया जा सकता है। उपसर्ग शब्द किसी भी शब्द के आगे जुड़ कर विभिन्न प्रकार के शब्दों का निर्माण करती है जिसे हम वाक्यों के द्वारा जानेंगे। इसीलिए एक वाक्य में सभी उपसर्ग शब्दों का प्रयोग हो जाए, यह जरूरी नहीं है। स्थिति के आधार पर वाक्य में अलग अलग उपसर्ग का प्रयोग अलग अलग स्थान पर किया जा सकता है।

नीचे हम उदाहरण के माध्यम से इसे और अधिक गहराई से जानने का प्रयास करेंगे।

परा शब्द के वाक्य प्रयोग द्वारा उपसर्ग शब्दों के अंतर को समझना

  • पराशक्ति- पराशक्ति का अर्थ होता है सर्वव्यापी, शुद्ध चेतना, सर्वोत्तम शक्ति और समस्त वस्तुओं का मूल पदार्थ। पराशक्ति भगवान शिव के तीन पहलुओं में से एक है।
  • पराक्रम- पराक्रम का अर्थ होता है शौर्य, समर्थ। रानी लक्ष्मीबाई की पराक्रम वीरता जग जाहिर है।
  • पराभूत – पराभूत का अर्थ होता है पराजित होना हारा हुआ ध्वस्त नष्ट तिरस्कृत। राम ने क्रिकेट में पराभूत हो गया।
  • पराधीन- पराधीन का अर्थ होता है जो दूसरे के अधीन हो, दूसरों के बस में रहना, परतंत्र। पराधीन व्यक्ति होता है जो कि पिंजरे में बंद पक्षी के समान होता है जो कि ना कि उड़ सकता है ना अपने मर्जी से कुछ खा सकता है ना अपने मर्जी से एक जगह रह सकता है।
  • परामर्श – परामर्श का अर्थ होता है किसी बात के लिए जब हम किसी से सलाह लेते हैं, दूसरों से ली गई परामर्श। जब किसी व्यक्ति को व्यक्तिगत समस्या या कठिनाई को दूर करने के लिए किसी व्यक्ति से सहायता सलाह मार्गदर्शन लेना पड़ता है तो उसे परामर्श कहते हैं।

उपसर्ग शब्द परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं। उपसर्ग शब्द या शब्दांश के पहले जुड़कर किसी भी शब्द के अर्थ में विशेषता को लाती है। एक शब्द के कई उपसर्ग शब्द हो सकते हैं।यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए शब्द उपसर्ग शब्द ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी उपसर्ग शब्दों में से किसी का भी उपसर्ग शब्द पूछा जा सकता है।

उपसर्ग शब्दों का विशेष महत्व है और इनकी सहायता से हम विभिन्न प्रकार के नए शब्दों का निर्माण कर सकते हैं। उपसर्ग शब्द का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में उपसर्ग शब्द पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से उपसर्ग शब्दों बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में उपसर्ग शब्दों का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत और उर्दू और फारसी में भीउपसर्ग शब्दों पूछे जाते हैं।

उपसर्ग शब्द कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण उपसर्ग से बने शब्द

गैरकमअनु
अवस्वउत
समबदअप

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here