निजवाचक सर्वनाम (परिभाषा और उदाहरण)

निजवाचक सर्वनाम (Nij Vachak Sarvanam): हिंदी व्याकरण जिसमे सर्वनाम का काफी महत्व रहता है। आज हम यहां पर निजवाचक सर्वनाम की परिभाषा और निजवाचक सर्वनाम के उदाहरण बारे में विस्तार से जानने वाले है।

Nij Vachak Sarvanam

सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण के बारे में विस्तार से जानने के लिए यहां क्लिक करें सर्वनाम

निजवाचक सर्वनाम किसे कहते हैं?

निजवाचक सर्वनाम की परिभाषा: दो शब्द व्यक्ति अपने खुद के लिए प्रकट करता है। अर्थात जिन शब्दों में काम करने वाले व्यक्ति के साथ अपनापन प्रकट होता है। उन शब्दों को निजवाचक सर्वनाम के रूप में जाना जाता है। जैसे: आप, स्वयं, खुद, अपना, हमारा इत्यादि।

यहां पर आप शब्द का मतलब सुनने वाले सुनने वाले के लिए है। यह एक आदर्श सूचक मध्यम पुरुष वाचक सर्वनाम भी है। यहां पर आप शब्द का प्रयोग व्यक्ति अगले वाले प्रश्न के लिए करता है। इसमें अपनापन प्रकट होता है, इसलिए इसे निजवाचक सर्वनाम के तहत रखा गया है।

निजवाचक सर्वनाम के उदाहरण

  • मैं अपनी बाइक लेकर जा रहा हूं।
  • मैं खुद आ जाऊंगा।
  • आप अपना काम खुद करो।
  • वह काम स्वत: ही हो जाना चाहिए।
  • अपने आप काम करो।

यहां पर आप शब्द का प्रयोग बोलने वाले द्वारा सुनने वाले के लिए प्रयोग किया जा रहा है। यह मध्यम पुरुष माना जाता है।

  • पापा आप सो जाओ, मैं अपने आप खाना खा लूंगा।

इस उदाहरण में प्रथम शब्द आप जो कि पापा के लिए उपयोग हुआ है। यह शब्द कहने वाले और पापा के बीच का मध्यम पुरुष है। जबकि दूसरे शब्द कहने वाले के लिए प्रयोग हुआ है। इसलिए यह उत्तम पुरुष निजवाचक सर्वनाम का उदाहरण है।

  • आप आ गई पर आपकी बहन नहीं आई।

इस वाक्य में पहला शब्द आप जिसका प्रयोग सुनने वाले प्रश्न के लिए हुआ है। इसलिए इसे आदर सूचक मध्यम पुरुष माना जाता है।

  • आपको इस बैठक से संबंधित सूचना नहीं थी।

ऊपर दिए गए इस वाक्य में आप शब्द का प्रयोग बोलने वाले व्यक्ति द्वारा सुनने वाले व्यक्ति के लिए आदर सूचक के रूप में प्रयोग किया जाता है। इसलिए यह आदर सूचक मध्यम पुरुष माना जाएगा।

निजवाचक सर्वनाम में “आप” का प्रयोग के अलग-अलग अर्थ

  1. निजवाचक सर्वनाम जिसमें आप शब्द का प्रयोग किसी भी संख्या या सर्वनाम के अवधारणा के रूप में होता है। जैसे: मैं आप वहां आ रही हूं।, मैं आप वह किताब पढ़ रही हूं।
  2. निजवाचक सर्वनाम में का दूसरा आप शब्द का प्रयोग निराकरण के रूप में होता है। उदाहरण के तौर पर जैसे: उन्होंने मुझे यह करने से मना किया और आप बुरा मान गए।
  3. सर्व साधारण के मतलब मैं भी आप शब्द का प्रयोग मुख्य रूप से होता है। जैसे आप भले तो दुनिया भली (अपने से बड़ों का सम्मान करना सही है)
  4. उदाहरण के मतलब मैं भी कभी-कभी आप शब्द का प्रयोग ही के साथ जोड़कर किया जाता है। यह कार में आप ही चला लूंगा।, यह किताब में आप ही पढ़ लूंगा।

निजवाचक सर्वनाम के कुछ अन्य उदाहरण

  1. मैं अपना काम खुद करना उचित मानता हूं।
  2. मैंने यह काम खुद पूरा किया है।
  3. अपना काम में अपने आप पूरा करूंगा।
  4. भगवान भी उन्हीं का साथ देता है, जो अपनी मदद खुद करते हैं।
  5. मैं स्वयं काम करने में सक्षम हूं।
  6. जब तक तुम स्वयं कोई भी काम के बारे में ठान नहीं लोगे, तब तक वो असंभव रहेगा।
  7. हर काम को सफल बनाने के लिए तुम्हें स्वयं कठोर परिश्रम करना होगा।
  8. आप हमारे यहां किसी भी व्यक्ति को मत भेजना मैं स्वयं आ रहा हूं।
  9. अगर आपको मेगी खाना पसंद है, तो अपने आप बना लो।

हमने यहां पर निजवाचक सर्वनाम की परिभाषा और उदाहरण (Nij Vachak Sarvanam)” के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त की है। यदि आपका इससे जुड़ा कोई सवाल है तो आप कमेंट बॉक्स में जरूर पूछे।

यह भी पढ़े

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here