निधि नरवाल की कविताएं – Nidhi Narwal Poetry Lyrics

नमस्कार दोस्तों, इस पोस्ट में हमने निधि नरवाल की कविताओं का संग्रह (Nidhi Narwal Poetry Collection) किया है। यहां पर आपको निधि नरवाल की कविताओं के साथ-साथ इनके Videos भी देखने को मिलेंगे। कमेंट बॉक्स में आपको यह कविताएं कैसी लगी जरूर बताएं।

nidhi-narwal-poetry

निधि नरवाल कविताएं – Nidhi Narwal Poetry Lyrics

उसे पसंद है – USEY PASAND HAI

Nidhi Narwal Poetry Lyrics

बाते बेहिसाब बताना,
कुछ कहते कहते चुप हो जाना,
उसे जताना, उसे सुनाना,
वो कहता है उसे पसंद है,

ये निगाहें खुला महखाना है,
वो कहता है, दरबान बिठा लो,
हल्का सा वो कहता है, तुम काजल लगा लो,
वेसे ये मेरा शौक नही, पर हाँ, उसे पसंद है,

दुपट्टा एक तरफ ही डाला है,
उसने कहा था की सूट सादा ही पहन लो,
बेशक़ तुम्हारी तो सूरत से उजाला है,
तुम्हारे होठों के पास जो तिल काला है,
बताया था उसने, उसे पसंद है,

usey-pasand-hai

वो मिलता है, तो हस देती हूं,
चलते चलते हाथ थाम कर उससे बेपरवाह सब कहती हूं,
और सोहबत मैं उसकी जब चलती है हवाएं,
मैं हवाओं सी मद्धम बहती हूं,

मन्नत पढ़ कर नदी मैं पत्थर फेंकना,
मेरा जाते जाते यू मुड़ कर देखना ,
ओर वो गुज़रे जब इन गलियों से ,
मेरा खिड़की से छत से छूप कर देखना,
हां उसे पसंद है,

झुल्फों को खुला ही रख लेती हूं,
उसके कुल्हड़ से चाय चख लेती हूं,
मैं मंदिर मे सर जब ढक लेती हूं,
वो कहता है उसे पसंद है,

ये झुमका उसकी पसंद का है,
और ये मुस्कुराहट उसे पसंद है,
लोग पूछते है सबब मेरी अदाओ का ,
मैं कहती हूं उसे पसंद है,

************

कोई तो हो – Koi Toh Ho

Nidhi Narwal Poetry in Hindi

कोई तो हो जो सुने तो सुने बस मेरी निगाह को
क्योंकि जुबान पर अक्सर ताले
और नज़रों में बहुत सारी कहानियाँ रखती हूँ मैं
वो मुझसे बात करने आये और कहें
की मुझसे नज़रें मिलाओ
फिर हो यूँ की वो कहें
कि कुछ कहना चाहती हो?
जो नहीं कहना चाहती हो वो तो मैंने सुन लिया


दिल तो हर जगह से टूटा हुआ है मेरा
दिल के हर कोने, हर दीवार में छेद है
मगर कोई तो हो जो झांक कर अंदर आने में दिलचस्पी रखें
झांक कर भागने में नहीं
दिल तो ढेर हो चुका एक घर है
जो मरम्मत नहीं मांगता, बस सोहबत मांगता है
उस शख्स की जो कि इसकी टूटी हुई दीवारों के अन्दर आ कर
इसे जोर जोर से ये बताए कि इसकी बची कुची दीवारे मैली है
जो रंगी जा सकती है

koi-toh-ho


कुछ तस्वीरें टंगी है अब भी पुरानी
जो फेंकी जा सकती है
हाँ वैसे काफी नुकसान हुआ है दर-ओ-दीवार के टूटने से
मगर इसकी बुनियाद अब भी सलामत है
कोई तो हो कि जो देखें तो देखें बस मुझको
कहें मुझसे कि ये मुस्कराहट ना खूबसूरत तो है
मगर ख़ास नहीं


ख़ास है ये ज़ख्म जो तुमने कमाये है पहने नहीं
कहें मुझसे कि ये ख़ुशी मेरी है मैं नहीं
कहे मुझसे कि जो मैं दिखती हूँ ना वो मैं हूँ नहीं
कहें मुझसे कि मैं अपनी नज़्मों को
अपनी ज़हन के आगे का पर्दा बना कर रखती हूँ
पर्दा जिसके आर पार दिखता है

कहें मुझसे कि मेरी मुस्कुराहटें बस मेरी नाकाम कोशिशें है
अपने जज़्बात पे लगाम लगाने के लिए
कहें मुझसे कि ये नक़ाब उतार कर रख दे तू
और आइना देख महज खुद को देखने के लिए
छुपाने के लिए नहीं
कहें मुझसे कि तू दर्द का चेहरा है
दरारों से भरा हुआ, बिगड़ा हुआ
दर्द जो हसीं है, इश्क़ है
कहें मुझसे की तू दर्द है, हसीं है, इश्क़ है

Read Also: महानायक अमिताभ बच्चन की कविताएं

************

चोरी हुई किताब – Chori Hui Kitab

Nidhi Narwal Shayari Lyrics in Hindi

यह स्कूल की बात है उस किताब पर नाम मेरा लिखा था
तो जाहीर है कि मेरी थी फिर भी कोई दूजा उसे चुरा ले गया
अब चोर काबिल था या ना समझ पता नहीं
पर एक बात हैं तब भी ख्याल आया था

आज भी आता हैं कि इस चश्म मे तो रहता होगा
वो चोर भी कि पड़ ले समझ ले वो किताब पर
मेरी तरह समझ नहीं पाएगा
क्यू कि वो किताब मेरी थी
यह स्कूल की बात है उस किताब पर नाम मेरा लिखा था
तो जाहीर है कि मेरी थी फिर भी कोई दूजा उसे चुरा ले गया
अब चोर काबिल था या ना समझ पता नहीं
पर एक बात हैं तब भी ख्याल आया था

chori-hui-kitab

आज भी आता हैं कि इस चश्म मे तो रहता होगा
वो चोर भी कि पड़ ले समझ ले वो किताब पर
मेरी तरह समझ नहीं पाएगा
क्यू कि वो किताब मेरी थी
उस किताब का 3 4 शेफा मेने हल्का सा फाड़ रखा था
उसने ओर शेफे फाड़ दिये होंगे पर
उस 3 4 शेफे के फटे हुए टुकड़े मेरे पास थे ,
शाबित क्या करना था किताब मेरी थी

उस किताब के अंदर रखे हुए कुछ कोरे पन्ने
मे आँगन के फूल की एक पंखुर
ओर एक बोरियत मे बनाये हुआ स्केच उसने फ़ेक दिये होंगे
ताकि यह पता ना लगे किसी को कि वो किताब मेरी थी
एक दिन उस चोर को पकड़ लिया मैंने
मैंने उससे कहा सुनो यह किताब मेरी हैं
उसने किताब पर अपना नाम दिखाया ओर
फटे हुए शेफे दिखाये

ओर बोला नहीं, मैंने कहा सुनो
सुनो धूल जम गई है इस पर
तुम्हारी होती तो यह हसर ना होता इसका
वो चुप हो गया पर माना नहीं की वो किताब मेरी नहीं है

आज के दिन जब मैं तुम्हें किसी ओर की बाहो मे देखती हू
तो तुम्हारी मोहब्बत मुझे उस चोरी हुई किताब सी लगती हैं
एक दिन उस चोर को पकड़ लिया मैंने
मैंने उससे कहा सुनो यह किताब मेरी हैं
उसने किताब पर अपना नाम दिखाया ओर
फटे हुए शेफे दिखाये

ओर बोला नहीं, मैंने कहा सुनो
सुनो धूल जम गई है इस पर
तुम्हारी होती तो यह हसर ना होता इसका
वो चुप हो गया पर माना नहीं की वो किताब मेरी नहीं है

आज के दिन जब मैं तुम्हें किसी ओर की बाहो मे देखती हू
तो तुम्हारी मोहब्बत मुझे उस चोरी हुई किताब सी लगती हैं

Read Also: नरेन्द्र मोदी की “हे… सागर!!! तुम्हें मेरा प्रणाम!” कविता

************

मैं ऐसी नहीं थी – Main Aisi Nahi Thi Poetry

जिस रस्ते पे में चल रही थी
मुझे मालूम तक नहीं की जाना कहा है
फिर भी चल रही हु
और जिस रस्ते से होकर मैंने यहाँ
तक का सफर तय किया है
उस रस्ते पर युही यु मेरे कदमो के निशान मुझे दिखाई देते है
मगर फिर भी में मुड़कर उस और
वापस नहीं जा सकती

मन करता है काश कोई एक तो नामुमकिन
ख्वाइश मांगने का हक़ तो दिया होता खुदा ने
तो वापस वह तक जाती जहा से सब शुरू हुआ था
मोहब्बत के लिए नहीं सपनो के लिए नहीं
हसरतो के लिए आगाज़ तक जाती
कुकी मुझे मिलना है खुद से और मिलना है उन लोगो
से जोकि तब मेरे साथ थे
जबकि दिन और हम कुछ और ही थे
आज वो हु और अनजान हु उन लोगो से जो मेरे बगल में,

मेरे सामने फगत बैठे है या खड़े है
है मगर इन चेहरों से तो वाक़िफ़ हु
मेहबूब से बिछड़ जाना बोहोत दर्दनाक होता है
मेहबूब से बिछड़ जाना दिल में खलील कर देता है
पैर यक़ीन मनो खुद से बिछड़ जाना बेहतर है, कियो
तुम फोटो हाथ में लेकर लोग दर लोग
पूछ नहीं सकते की इसे देखा क्या

main-aisi-nahi-thi

तुम अखबार में इस्तेहार नहीं छपवा सकते की ये लापता है
तुम छुप छुप कर देख नहीं सकते,
मालूम नहीं करवा सकते
की वो इंसान जो खो गया है वो खैरियत से है भी या नहीं

तुम अपनी हालत का भला ज़िम्मेदार किसको टेहराओगे
की कौन छोड़ गया तुम्हे यहाँ,
कियुकी वो इंसान तो तुम खुद हो
तुम अगर रुककर एक जगह खड़े होकर शांति से
याद करने की भी कोशिस करोगे न,
तुम कैसे हुआ करते थे
तो यकीन मनो यादो की जगह बस हाल ही मिलेंगे

ये जीती जगती मौत के जैसा है,
तुम ज़िंदा हो ….तुम ज़िंदा हो …
मगर तुम्हारा ज़नाज़ा बिना चार कंधो के ही उठ चूका है

ऐसे में तुम बस बैठ कर अफ़सोस कर सकते हो
और वो करके भी तुम्हे बस अफ़सोस ही मिलेगा
मगर मुझे एक बार रूबरू होना है खुद से
मुझे देखना है,
मुझे जानना है की आज दिन में आखिर कितनी बर्बाद हु
या और कितनी और मोहलत बची है मेरे पास,
ज़िन्दगी तक वापस आने की
में ये एक खाल का लिबास जिसमे खवाब, मोहब्बत, दर्द,
जिसमजु कुछ भी नहीं है

में ये नहीं हु,
में मेरी रूह को कही पीछे छोड़ आयी हु
मुझे वापस जाना है
में अनजान बानी बोहोत दूर तक आचुकी हु
मुझे एक बार आगाज़ तक ले चलो,
यकीन मनो
मैं ऐसी नहीं हु…

************

करीब तो मेरे भी है तू – Kareeb To Mere Bhi Hai Tu

Nidhi Narwal Poetry Lyrics in English

KE WO AAKAR NASHEEN HUA,
MERE JISM PAR
ANKHON PAR AJAB SI PYAS THI.
MUJHE KEHNE LAGA TUMHE CHAHTA HU..

MEIN SUN RAHI THI BAATIEN USKI..
MUJHE KEHNE LAGA TUMHARI SHAKAL SURAT MEIN KOI AAB NAHI
TUMHARE MEHBOOB KE ARAYE ISHQ KE KYA KEHNE
SHAYAD MUJHME WO BAAT NAHI..

KAREEB TO TU MERE BHI HAI SACH KEH RAHA HU
BAS TERI ROOH KE MEIN PAAS NAHI
MEIN USSE DUNIYA JANHA SE CHHUPANE LAG JAATI ..
TOH PAGAL SA HOKAR KEHTA KI HAAN,
HAAN AZIZ NAHI HU TUMHARA TO AITRAAZ KARO
OR DOOR RAKHO YE NIGHA TUM..

KUCHH GINTI KE PAL BACHE HEIN MER PASS..
BAS DEKH LENE DO YE CHEHRA MUJHE BEPANHA..

DUM TOD HI JAUNGA..
BHOT JALD MEIN,
KYO WAQT SE PEHLE DETI HO MARNE KI WAJHA TUM..

EK TARFA ASHIQUE THA MERA
THA AFSOS TO USKE SEENE BHI
ISI AFSOS MEIN MACHALTA THA
WO MERE MEHBOOB SE JALTA THA..

kareeb-to-mere-bhi-hai-tu

MAINE BHI NAFRAT TO KHOOB KARI USSE
PAR HASHRA USKA DEKH HAR YE JIGAR ROOTH SA JATA THA..
WO AYA THA KHOONI YAADIEN CHASHMA ANKHON MEIN LIYE
APNI AKHRI SAANSE YAADON M LIYE KU
KUCH WAQT WO ZINDSA RAHA,
MERI MOHABBAT MEIN SHARMINDA RAHA

BEKADRA THA,BEPARWAH THA,,
PAR ZAKHMI THA WO BHI KANHI BEWAJHA TO BEPARWAH KOI HOTA NAHI..
MAINE FIR BHI USKA KHAYAL KARA,,
ROZ USSE SAWAAL KARA
KI AB KAISE ,KI AB KAISE..

WO BADE DIN TOH KHAMOSH RHA..
FIR EK DIN MUJHE MERE MEHBOOB KE YAADON MEIM LIPATTA DEKH..
MUSKURA KAR MUJHSE KEHNE LAGA,
KI TUM OR TUMHARA MEHBOOB..
KAMBKHAT EK JAISE HAI..
TUM BHI TO MERA ITNA KHAYAL MERE WAJOOD KO KHATAM KARNE KE HI LIYE RAKHTI HO..
ZAKHMI HOKAR AYA WO AYA THA WO ZAKHM MERA APNI MAUT KI RANJHIS MEIN..
MERE BADAN PAR DAAG DE GAYA

Read Also: अटल बिहारी वाजपेयी जी के सर्वश्रेष्ठ सुविचार और कविताएं

************

चक्कर – Chakkar by Nidhi Narwal

Nidhi Narwal Poetry Status

किसी भी रिश्ते मे रूठना मानना चलता है
कभी कभी दूरिया भी आ जाती है
बहुत ज्यादा मगर यार ऐसा है
कि अगर तुम्हारे दिल मे और उस शख्स
के दिल में तुम्हारे लिए और तुम्हारे दिल
मे उस शख्स के लिए जो फिक्र हैं

ना वो सच्ची है तो तुम्हें ये बात हमेशा
याद रखनी चाहिए कि जो दूरिया है
ये बस कुछ पल की है और अक्सर बातें
याद रखने के लिए हम क्या करते हैं

तो यही बात खुद को याद दिलाने के
लिए लिखा हैं मेने एक ख्याल चक्कर

एक बहुत बाड़ा गोल सा चक्कर है
किसी मैराथन ट्रैक के जैसा
इस चक्कर का अखिर चक्कर क्या है
देखो इस चक्कर पर न तुम और मैं
खड़े हैं तुम नहीं तुम और मैं मगर एक

दूसरे की तरफ पीठ करके
तुम उस तरफ मुह किए हो और मैं
इस तरफ क्युकी अभी अभी हम दोनों
ने अपनी अपनी अना को अपनी अपनी
मोहब्बत से उपर रखकर ये तय किया है

chakkar

कि अब से तुम उस तरफ चलोगे और
मैं इस तरफ कुछ फैसले लिए है
कि अब से ये राहें अलग अलग हैं
अब से हाथ पकड़कर क्या हाथ छोडकर

भी साथ नहीं चलना
तुम रोने लगे तुम्हारे पास भागते
हुए नहीं आना हैं और अगर मैं गिरने
लगी तो तुम ये हरगिज़ नहीं दिखाओगे

कि तुम अब भी परवाह करते हो
और पीछे नहीं मुड़ना याद रखना
पीछे नहीं मुङना याद रखना बिल्कुल
ऐसा ही करना हैं अलग अलग चलना है

अकेले चलना हैं चलते जाना है
एक दूसरे से दूर होते जाना हैं और
पीछे मुड़कर नहीं देखना हैं टस से मस
नहीं होना है चाहे कुछ भी हो जाए

1 सेकंड,
तब क्या होगा जब इस बड़े से चक्कर की
ये दो राहे जिन पर हम अलग अलग
चल रहे हैं ये दोनों एक दूसरे की तरफ
आने लगेंगे तुम यहा आने लगोगे मैं वहां
जाने लगूंगा ना तुम वापिस मुड़ पाओगे

ना मैं वापिस मुड़ पाउंगा क्युकी पीछे नहीं
मुड़ ना हैं ये तो हमने तय किया था और
चलो मान ले मुड़ जाते हैं दोनों मे से
अगर कोई भी एक शख्स मुड़ा और वो

दूसरा नहीं मुड़ा तो वो एक दूसरे के पीछे
चलने लग जाएगा और मानो अगर दोनों
के दोनों मुड़ गए तो वो दोनों एक दूसरे
की तरफ चलने लग जाऐंगे ये सिलसिला
चलता रहेगा तुम और मैं चलते रहेंगे

कभी इस तरफ कभी उस तरफ और घूमते
फिरते कभी एक दूसरे की तरफ और
वेसे ना अलग अलग दिशा मे चलने मे भी
मुझे कोई ऐतराज़ नहीं क्युकी देखो दो

लोग है एक यहा खड़ा है एक यहा खड़ा हैं
ईन दो लोगों को अगर एक दूसरे से दूर
जाना हैं तो अलग अलग दिशा मे चलना
पड़ेगा मगर अगर उन लोगों को एक
दूसरे के करीब आना है तो भी अलग
अलग दिशा मे ही चलना पड़ेगा

तुम्हारा और मेरा रिश्ता महज एक चक्कर
के जेसा है तुम यहा जाओ या यहा वहा
जाओ तुम कहीं ना कहीं मुझसे टकरा ही

जाओगे और फिर अलग अलग भी चलोगे
घूम फिर कर मेरे पास ही आओगे अब
ज़माना यू ही थोड़ी ना कहता हैं कि
इसका और इसका चक्कर चल रहा है

************

मुझे अधूरा रहने दो – Mujhe Adhoora Rehne Do

Kuch kami jab lagti h, saansein bda machalti h,
Varna to kambaqt ye, itra kr hi chlti h.
To pyaas zara si tum meri saanson me bhi rehne do
Mujhe adhoora rehne do.


Tum jaante bhi the bhala ki ragon me kinaro tk tha tumhara naam bhara,
Thoda apna naam tum apni nabz me behne do,
Mehsoos krna chahti hu main khud ko mujhe adhoora rehne do.
Gulaab k bahane kaanton se meri zindagi mat sajao rehne do
Agar tumhe lgta h ki tum mere poorak ho to Mujhe adhoora rehne do.


Daag to Chand pe bhi hota h, pr agr tb bhi tumhe lgta h ki mujhme koi aib h,
To mere hr Daag ko main panah dungi, mujhe adhoora rehne do.
Dekha h, suna h maine ki aakhiri Panne tk aa k band ho jati h kitaab, Lekhak yaad rhta nhi gum ho jati h kitaab,
To mere agle panno ko tum Kora hi rhne do, yaad rahungi main barso, mujhe adhoora rehne do.


Poora ishq poora dil ye sb to kitaabi baatein h,
Aksar shayar bhi to mehfil me toota dil le k aate h.
To meri pehchan tum gumshuda hi rhne do,
Sab poochenge naam mera pr mujhe adhoora rehne do.

Nidhi Narwal Poetry

************

मां बता मुझे – Maa Bata Mujhe By Nidhi Narwal

माँ तू कमजोर तो नहीं है
ये मैं जानती हूँ
पर मुझे बात करनी है
तुझसे और बात दरअसल ये है

कि मैं यह चाहती हूँ
कि आज तू बात करे मुझसे
तो ठीक है ना तूने खाना खाया दवाई ली
घर पर सब कैसे हैं अच्छा शहर का मौसम

तेरी तबीयत सब कैसा है
तू ठीक है ना मेरी याद आती है
मैं घर आऊँ ये सब नहीं जानना मुझे
ईन सब के जबाब तो मुझे
पहले से पता है क्युकी बर्षों से ये सवाल

maa-bata-mujhe

और इनके जबाब बदले नहीं हैं
मुझे तुझसे वो जानना हैं
जो तेरी आखों के बगल मे पड़े
नील चीख़ चीख कर मुझे बताता हैं
बच्ची नहीं हूँ माँ बड़ी हो गयीं हू

कहानिया सुनकर नींद नहीं आती
बता वो सच्चाई जो तेरे होठों
पर बर्फ के जेसी ज़मी रखी है
बता वो सब मुझे जिसका शोर तेरी
चुपी से साफ़ साफ़ सुनाई देती है

बता वो किस्सा जो तेरी पीठ पर
मुझे हर बार दिखाई देता है
तेरे सुर्ख गालों पर मेहरून
और नीले धब्बे है

जो घूंघट के पीछे तूने सालों तक रखे है
मगर मुझे नजर आते हैं
माँ तू कितनी भोली हैं
तेरी चूडिय़ां तेरी कलाई की चोट
को छुपा नहीं पाती तेरी हालत
सब बताती है

तू खुद बता क्यू नहीं पाती के
तेरे फर्ज के बदले कौन से किस
किस्म के तोहफे है ये तेरी जीस्त की
आखिर कौन सी किताब के सफे हैं

ये मुझे बता मैं वो किताब फाड़कर
कहीं फेंक दूंगी ये तोहफे देने वाले को
मेरा वादा है तुझसे तोहफे देने वाले
को सूत समित वापिस दूंगी
माँ मैं तेरी बेटी हूं इतना तो

काबिल तूने बनाया है मुझे
कि पैर मे चुभा काटा खुद निकाल
फेंक सुकू गुनाहगारों और गुनाह के मुह
पर एक तमाचा टेक सकू
माँ बता मुझे माथे पर सिंदूर की
जगह ये खून क्यू रखा है तेरा

इसे रखने वाला सच सच बता पिता है
मेरा मुझे शर्म नहीं आएगी अरे
कोई मोहब्बत का इज़हार है
क्या तू बोल तो सही तू बोलती

क्यू नहीं माँ तेरे हकों का इतबार है
क्या मैं कमजोर नहीं हू मैं कमजोर
बिल्कुल नहीं हू माँ मगर मुझसे
बात कर वरना शायद
कमजोर पड़ जाऊँ

Nidhi Narwal Poetry

************

ज़िन्दगी सुन – Zindagi Sunn

चली जा रही हो चली जा रही हो
रुको तो सही?
कबसे सदाऐं दे रही हूँ
कुछ सुनो तो सही?

मैं कितने ख़त भिजवा चुकी
कितनी कोशिशें करी मैंने
दीवार के जैसी ठहरकर मेरी
हर ख़िश्त में ढूंढा तुमको कहाँ गयी है,

कब आएगी मैनें जाकर पूछा सबको
क्या ताल्लुक भुला दिए हैं मुझसे?
क्या मैं याद नहीं तुम्हें.. सच में?
बहाने मुंह पर रहते है

कल आओगी कहती हो
तुम आजाओगी चलो मान लिया
पर ये “कल” आए
तब तो तुम्हारा कल आज तक नहीं आया
और पता नहीं कितना वक़्त लगेगा
कितनी रातें, कितने दिन,

पता नहीं कब तक और ये इंतज़ार जगेगा
एक परिंदे को भेजा था
कि तूझसे कुछ पैगाम ही मिल जाता

मैं राह तक रही हूँ
आज तक परिंदे को भी लगता है
तेरी हवा लग गयी रुख बदला फिज़ा का मेरे शहर में
दरवाज़े खिड़की खुले रखे दिन रात मैंने

और दोपहर में कि तू आ ही जाएगी या पैगाम कोई पहुंचाएगी
एक रोज़ शाम हुई पैगाम आया शुक्र है
तेरा सलाम आया किसी सितम से कम नहीं है
ये दो लफ़्ज़ जो तूने लिखकर भेजें हैं
कम्बख़्त कि “कल आउंगी”

उससे अगली सुबह आफ़ताब ढ़लकर वापस आया
पर आज तलक भी वो रात कटी नहीं है
बहुत मसरूफ़ हो गयी हो
शायद तुम शायद यकीनन!
तुम्हें वक़्त नहीं मिलता मैं कुछ वक़्त देने घर तक आऊँ?

जिन्दगी सुन
मिल लिया कर कभी-कभी!

Nidhi Narwal Poetry

************

मैं अजीब हूँ अलग हूँ – Main Ajeeb Nahi, Alag Hu

कुछ जख्म अब पायाब है – Kuch Jakham Ab Payab Hai

टूटा दिल निधि नरवाल – Toota Dil by Nidhi Narwal

ये आपको Nidhi Narwal Poetry कैसी लगी हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। हमें Instagram पर फॉलो जरूर करें।

Thank You

Read Also

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here