फ्रेंडशिप पर कविताएँ

Poem on Friendship in Hindi: नमस्कार दोस्तों, फ्रेंड्स तो सबके होते है, मेरे भी है और आपके भी होंगे। परन्तु एक अच्छा और सच्चा मित्र किस्मत वालों को ही मिलता है। दोस्ती का रिश्ता इस दुनिया का एक ऐसा रिश्ता होता है जो कि खून का नहीं होता। यह सिर्फ़ विश्वास पर टिका होता है, आंख बंद करके भी दोस्तों पर भरोसा किया जा सकता है। दोस्त ही हमारे जीवन में ऐसे होते हैं, जिनको हम अपने मन से चुनते है।

दोस्त ही होता है जो हमें अपने निराशाजनक जीवन से दूर ले जाकर ढेर सारी खुशियाँ देता है। हमारे हर सुख और दुःख में अपनी हर सहभागिता निभाता है।

इस दोस्त जैसे अनमोल शब्द को समझने के लिए मैं आपके समक्ष आज दोस्ती पर कुछ कविताएँ शेयर कर रहा हूँ। उम्मीद करता हूँ आपको यह Hindi Kavita पसंद आएगी।

Poem on Friendship in Hindi

हमारे इस ब्लॉग पर और भी बेहतरीन हिंदी कविताएँ (Poems In Hindi) उपलब्ध है आप उन्हें जरूर पढ़ें: <यहां पढ़ें>

Read Also

फ्रेंडशिप पर कविताएँ – Poem on Friendship in Hindi

दोस्ती पर कविता (Friendship Love Poem in hindi) – 1

कितने अजीब है ना ये रिश्ते, जो किस्मत से मिलते हैं।
अपनी यारी को जन्नत बना जाते हैं,
दोस्त मिले तो अन्जाने में, कोई मस्ती वाला यार बन गया,
कोई हॉस्टल की टोली में मिल गया,
कुछ नोट्स वाले दोस्त मिले, कोई चाय की चुश्कियों के साथ दिल गये।
कईयों ने साथ में गलियां भी खाई और कईयों ने खिलवाई भी।
पर दोस्ती हर एक ने क्या ख़ूब निभाई,
दोस्तों के नाम पर सारे भुक्कड़ ही मिले, एक टिफिन में पूरी टोली ने लूट मचाई।
और चाय के शौकीन तो हम बराबर के निकले, फिर क्या सब के हाथ में चाय और सबकी टांग खिंचाई।
धीरे-धीरे दोस्ती और गहराई, अपने नये रंग लाई,
कुछ बेस्ट फ्रेंड बने और कुछ सीक्रेट पार्टनर।
कुछ के दिल मिल गये और कहीं रक्षा सूत्र बंध गये।
अब एक दौर गलतफहमियों का भी आया,
कभी रोना कभी मनाना, कभी रूठना कभी समझाना
अपनी यादों में एक हिस्सा यह भी बनाया।
अब जो वक्त था बिछड़ने का, वो फिर सबको साथ ले आया।
नम आँखे और दिल में इतनी सारी यादें लिए, जाते वक्त फिर मिलने के वादे दिए
हर कोई अपनी राहों में बढ़ गया, आज कोई पास तो नहीं मगर सब साथ है।
मिलते आज भी हैं सब, दोस्ती की यही तो बात है,
ये महज एक कहानी नहीं, ये मेरी दोस्ती की दास्तान है।

प्रिय मित्र कविता (Best Poems on Friendship in Hindi) – 2

दोस्त बन कर भी नहीं साथ निभाने वाला
वही अंदाज़ है ज़ालिम का ज़माने वाला।

अब इसे लोग समझते हैं गिरफ्तार मेरा
सख्त नदीम है मुझे दाम में लाने वाला।

क्या कहें कितने मरासिम थे हमारे इस से
वो जो इक शख्स है मुंह फेर के जाने वाला।

मुन्तज़िर किस का हूँ टूटी हुई दहलीज़ पे मैं
कौन आएगा यहाँ कौन है आने वाला।

मैंने देखा है बहारों में चमन को जलते
है कोई ख्वाब की ताबीर बताने वाला।

Poem on Friendship in Hindi
Poem on Friendship in Hindi

फ्रेंडशिप पर कविता (Hindi Poem on Dosti) -3

कहते हैं कि दोस्ती का रिश्ता
बड़ा ही खूबसूरत होता है।।

अगर दोस्ती ही बेवफा हो जाये
तो यही रिश्ता सबसे बदसूरत होता है।।

दो दोस्त अगर बिछड़ जाये
तो ज़िन्दगी वीरान होती है।।

दोस्ती दो दिलों को जोड़ती है
वो बड़े से बड़े दुःख का असर तोड़ती है।।

दोस्तों हमेशा बांध कर रखना दोस्ती प्रेम की डोर से
क्योंकि दोस्ती के रिश्ते का कोई मोल नहीं होता है।।

अकेले में दोस्त ही काम आता है
ख़ुशी में भी दोस्ती के साथ हाथों में जाम आता है।।

दोस्त को कभी न खोना तुम
हमेशा दोस्त को दिल में बसाना तुम।।

मित्रता पर कविता (Poem on True Friendship in Hindi) – 4

किसी न किसी पे किसी को ऐतबार हो जाता है,
अजनबी कोई शख्स यार हो जाता है,
खूबियों से नहीं होती मोहब्बत सदा,
खामियों से भी अक्सर प्यार हो जाता है।।

किन लफ़्ज़ों में इतनी कड़वी कसैली बात लिखूं,
मैं सच लिखूं के अपने हालत लिखूं,
कैसे लिखूं मैं चांदनी रातें,
जब गरम हो रेत तो कैसे मैं बरसात लिखूं।।

सभी नग्मे साज़ में गाये नहीं जाते,
सभी लोग महफ़िल में बुलाये नहीं जाते,
कुछ पास रह कर भी याद नहीं आते,
कुछ दूर रह कर भी भूलाये नहीं जाते।।

Poetry for Friendship in Hindi
Poetry for Friendship in Hindi

दोस्ती क्या है (Friendship Par Kavita) – 5

Beautiful Poem on Friendship in Hindi

क्या खबर तुमको दोस्ती क्या हैं,
ये रोशनी भी हैं और अँधेरा भी हैं,
दोस्ती एक हसीन ख़्वाब भी हैं,
पास से देखो तो शराब भी हैं।

दुःख मिलने पर ये अजब भी हैं,
और यह प्यार का जवाब भी हैं,
दोस्ती यु तो माया जाल हैं,
इक हकीकत भी हैं ख़याल भी हैं।

कभी जमीं कभी फ़लक भी हैं,
दोस्ती झूठ भी हैं सच भी हैं,
दिल में रह जाए तो कसक भी हैं,
कभी ये हर भी हैं जीत भी हैं।

दोस्ती साज भी हैं संगीत भी हैं,
शेर भी नमाज़ भी गीत भी हैं,
वफ़ा क्या हैं वफ़ा भी दोस्ती हैं,
दिल से निकली दुआ भी दोस्ती हैं।

बस इतना समझ ले तू
एक अनमोल हिरा हैं दोस्ती।

मित्रता पर छोटी कविता (Hindi Poem on Dosti) – 6

एक दिन जिंदगी ऐसे मुकाम पर पहुँच जाएँगी।
दोस्ती तो सिर्फ़ यादों में ही रह जाएँगी।
हर बात दोस्तों की याद दिलायेंगी।
और हँसते हँसते फिर आँख नम हो जाएँगी।
ऑफिस के रूम में क्लासरूम नज़र आएँगी।
पैसे तो बहोत होंगा।
लेकिन खर्चा करने के लम्हें काम हो जायेंगें।
जी लेंगे खुल के इस पल को मेरे दोस्त।
क्यूँ के जिंदगी इस पल को फिर से नहीँ दोहराएँगी।

Poetry in Hindi for Friendship
Poetry in Hindi for Friendship

Best Friendship Poem in Hindi – 7

आज रूठा हुवा इक दोस्त बहुत याद आया
अच्छा गुज़रा हुवा कुछ वक़्त बहुत याद आया।

मेरी आँखों के हर इक अश्क पे रोने वाला
आज जब आँख यह रोई तू बहुत याद आया।

जो मेरे दर्द को सीने में छुपा लेता था
आज जब दर्द हुवा मुझ को बहुत याद आया।

जो मेरी आँख में काजल की तारा रहता था
आज काजल जो लगाया तू बहुत याद आया।

जो मेरे दिल के था क़रीब फ़क़त उस को ही
आज जब दिल ने बुलाया तू बहुत याद आया।

Poem on Friends in Hindi – 8

Friendship Poetry in Hindi

“मुश्किलों में ये ही साथ देते हैं
अपने ना हो पास तो
अपनों सा अहसास देते हैं
झूठ में झूठ और सच में सच
हर बात पे विचार देते हैं
गली नुक्कड़ की शान है इनसे
दोस्ती की पहचान है इनसे
ये वो ही निकम्मे हैं
जो…………
घर पर गलत फोन भी कर सकते हैं
साथ न होने पर साथ भी बता सकते हैं
छोटी सी उम्र में ही निभाते हैं बड़ो का रोल
बड़ो की बात हो, तो बन जाते हैं छोटे बच्चो से अनमोल
इन्होने शरारते सीखी हैं शुरू से ही
जिन्दा है दोस्ती की परिभाषा इन्ही से ही
कितना काम आते हैं, ये हर बात में
बहाने हजारो हैं इनके सोचने की दुकान में
इनसे न कोई मासूम होता है, इनसे न कोई खड़ूस होता है
जिनके पास ये हैं उनको ही ये सब महसूस होता है
दोस्ती करके देखो तुम भी
सोहबत में इसकी रहकर देखो तुम भी
ना पाओगे जब पास अपने
तो होंगे खुद से ही उदास तुम भी”
“खाना चुरा कर भी खाते हैं ये
अपने घर से बनवाकर भी नहीं लाते हैं ये
छीन कर खाना इनकी रगो में बसा
इन्ही आदतों से दोस्त कहलाते हैं ये ”
“दोस्ती का प्यारा सा मिजाज होता है
हर कमीना दोस्त भी खास होता है
ग्रुप की शान इकलौता दोस्त ही बढ़ाता है
इनकी हर अदा पर दिल मेहरबान होता है
सबके सामने गलतियों पर डाल देते हैं पर्दा
गर अकेले में हैं तो बातों से कर देते हैं नंगा
ये ही वो नादान हैं ये ही वो विद्वान हैं
जिनका हमारे जीवन में रहा योगदान है”
“पापा ने हमेशा कहा देखो अपने दोस्त को
उसके साथ रहते हो, तो बनो जैसा है वो
उनको नहीं मालूम उसके पपा की नजरो में
कितना बड़े वाला नालायक है वो”
“ना देखा साजन, खिलोनी सा यारा
साजन की मार में, खिलोनी बेचारा
जाम भी लगाते हैं, साथ में दोनों
आईडियो की खान, खिलोनी सितारा
लाइफ ओके की हसी का पिटारा
ऐसा हैं मैडम के पीछे साजन आवारा”
“मन ना लगे जब परिवार में
दिल दुखने लगे भरे बाजार में
केवल एक ही दोस्त को कॉल कर लेना
बहार आ जाएगी तुम्हारे संसार में”

Poetry in Hindi on Friendship

दोस्ती एक विश्वास (Friendship Poem in Hindi) – 9

प्रेम और त्याग के धागे से जुड़ा,
एक विश्वास है दोस्ती।

दुनिया के सभी रिश्तों में,
सबसे खास है दोस्ती।

दिलों को दिलों से जोड़ने वाला,
एक प्यारा अहसास है दोस्ती।

जीवन में घोलदे जो रस,
वह मिठास है दोस्ती।

पूरी हो जाये जो हरदम,
वह आस है दोस्ती।

होठों पर ला दे जो मुस्कुराहट,
वह हास है दोस्ती।

जीवन में भर दे संगीत,
वो साज है दोस्ती।

जीना सिखलाता है जो,
वो अंदाज है दोस्ती।

-निधि अग्रवाल

Best Friendship Poetry in Hindi – 10

Friendship Poem in Hindi

हर सुख दुःख में, साथ साथ जीया करते थे।
हार हो या जीत एक दुसरे का हमेशा साथ दिया करते थे।
कभी हम तुमसे कभी तुम हमसे रूठ जाया करते थे।
फिर हम तुम्हे और कभी तुम हमें मना लिया करते थे।
एक दूसरे की खुद से ज्यादा परवाह किया करते थे।
ये बात बस कल की ही लगती है।
हम तुम अपनी दोस्ती पर कितना इतराया करते थे।

यकीन नहीं होता समय के साथ हालात इतने बदल जायेंगे।
हम अपनी अपनी दुनिया में इस कदर खो जायेंगे।
एक दूसरे की जिंदगी में बस एक याद बनकर रह जायेंगे।
हम ना तुमसे, ना जिंदगी से कोई शिकायत करेंगे।
बस इस यकीन को हमेशा दिल में कायम रखेंगे।
जब भी दिल से पुकारेंगे, तुम्हें अपने पास पाएंगे।

Poetry on Friendship in Hindi
Poetry on Friendship in Hindi

*****

उम्मीद करते हैं आपको यह मित्रता पर कवितायें (Poem on Friendship in Hindi) पसंद आई होगी। इन कविताओं को आपने सोशल मीडिया और दोस्तों के बीच शेयर जरूर करें। आपको यह Hindi Poems कैसी लगी, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। हमारे फेसबुक पेज को लाइक जरूर कर दें।

Read Also

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here