प्यार पर बेहतरीन कविताएं

Love Poem in Hindi: नमस्कार दोस्तों, आज यहां पर आप मोहोब्बत के उन नगमों को पढ़ेंगे जो किसी बड़े शायर ने नहीं लिखे हैं, बल्कि मेरे और आप ही की तरह मुहोब्बत के एक परवाने ने लिखे हैं और किसी शायर ने भी क्या खूब कहा है कि “मुहोब्बत के परवाने जब कलम पकड़ते हैं तो कत्ले आम हो जाते हैं।”

Love Poem in Hindi

Read Also: Poem on Life in Hindi

प्यार पर कविता – Love Poem in Hindi

कैसे और किस पे विश्वास करें…?

क्या अभिशाप था एक लड़की होना,
एक कली खिली थी मां के आंचल में,
उसे कन्या भ्रूण हत्या का शिकार बनाया गया,
पुरुष प्रधान समाज में बेटे की लालच में,
एक मासूम को अपनी महत्वाकांक्षा की बली चढाया गया।

जो बच गई वो मां की कोख में सलामत,
माना हुए कहीं जश्न भी, तो कहीं दरिंदो का मन ललचाया है,
क्या कसूर उस मासूम का जो उसे अपनी हवस का शिकार बनाया है।

कैसे विश्वास करे कोई किसी पे,
अपनों ने ही कई दफा उसपे हाथ आजमाया है,
क्या कोई खिलौना है लड़कियां, तुमने उन्हें अपना घिनौना खेल बनाया है।

आज वो सुरक्षित नहीं जन्मदाता के हांथो में भी,
जन्मदाता ने ही मौत की सय्या पे सुलाया है।

बांधा जिन हाथों में रक्षासूत्र, उसने भी उसे पराया बताया है,
दहेज के नाम पे न जाने कितनी बहुओं को जलाया है,
पवित्र अग्नि के समक्ष बंधी जिससे परिणय सुत्र में,
उसी ने उसे प्रताड़नाओं की अग्नि में जलाया है,
सोच हैवानि तुम्हारी और दौष उनके बदलते स्वरूप को बताया है,
लड़की हो, औरत हो, माता हो, स्त्री हो, बहू हो,
एक औरत ने ही औरत के अस्तित्व को दबाया है।

कैसे और किस पे विश्वास करे अब…?
सबने हर दफा उन्हे ही गलत ठहराया है।

-मीनल सांखला

Love Poem in Hindi

एक ऐसी आखिरी मुलाकात जिसका ख़्वाब तक न देखा हो

वो तन्हा से लम्हे, धड़कती हुई कभी थमती हुई सांसे
गूंजते शोर के बीच पसरा सन्नाटा, नम उम्मीदों से भरी आंखें
उनके आखिरी मुलाकात का हिस्सा बन रही थी
एक ऐसी आखिरी मुलाकात जिसका ख़्वाब तक उनकी आंखो ने नहीं देखा था।।

वो आंखे तो आज से ही उनकी अगली मुलाकात के इंतजार में लगी थी
जो उस आखिरी मुलाकात का शायद खौफ मिटा रही थी
छुटते हाथ, मुड़ती हुई राहे, बार बार थमते कदम
फिर एक बार मूड देख लेने की अदा,
बिछड़न का एहसास दिला रही थी।।

इससे बेखबर वो दिलो में फिर मिलने की आस थी
पर उनकी राहें अब उनकी मंजिल अलग बना रही थी
वो निरंतर चलती सुइयां अलविदा की घड़ियां बना रही थी
उस पल रुका सब था आंखे नदियां बहा रही थी
वो मिलन की खुशियां आखिरी मुलाकात भुला रही थी।।

-मीनल सांखला

Love Poem in Hindi

Read Also: Akelapan Shayari – अकेलापन शायरी

अब तुम कम याद आते हो

ना अब तुम प्यार जताते हो,
ना अब तुम वादे निभाते हो,
ना अब अपनी बातों से हंसाने आते हो,
ना अब अब यादों में रुलाने आते हो,
ना ख़्वाबों में नींद चुराने आते हो,
ना सुबह अपनी आवाज से उठाने आते हो,
आँखों का काजल अब भी बिखरता है,
पर अब कहा तुम उसे मिटाने आते हो,
रिश्ता आज भी उलझा हुआ है तुमसे,
अब कहा तुम सुलझाने आते हो,
बेशक मोहब्बत के दर्द में आज भी तड़पाते हो,
पर शायद अब तुम कम याद आते हो।।

-मीनल सांखला

Latest Poem on Love in Hindi

वादा है मोहबत तब भी होगी जब तुम साथ ना होंगे

एक वादा हम करते है बिछड़ के भी सारी उम्र इश्क करने का
एक वादा तुम कर दो बस साथ निभाने का
दिल में भले तुम मत रखना
पर यादों में मुझे जिन्दा रखना
तुमारी नफ़रत भी मंजूर होगी हमें
बस नाराजगी को हमसे खफा रखना
तुमारा साथ मुकदर नहीं
पर दोस्ती जरूर मुक्कमल करना
इस रिश्ते को अपनी इबादत माना है
तुम इस पर अपनी दोस्ती की इंनायत रखना।।

-मीनल सांखला

Best Love Poem in Hindi

क्या ख़ूब इश्क़ किया जाता है

क्या ख़ूब इश्क़ किया जाता है
ना जाने क्यू हर बार इश्क़ को ही जलील किया जाता है
जो करते थे ता उम्र साथ निभाने का वादा
अब क्यूँ हर बार उन्हीं से हर वादा तोड़ दिया जाता है
जो जीते थे कभी हमारे लिए
अब क्यूँ हर बार उन्हीं हाथो हमारा दिल मार दिया जाता है।

-मीनल सांखला

Hindi Poetry About Love

Hindi Love Poem

इलज़ाम थे जो लगे उनपे कभी
उन्हें हमने अपना बना दिया।

कठघरे में थी वफा उनकी तब
हमने खुद को बेवफा बता दिया।

मुस्कुरा के अपनी झूठी जीत पे
उन्होंने अपना दामन छूडा लिया।

फिरभी जब आएं वो सामने कभी
इश्क़ हमारा आंखों से बह
होंठो से होले से मुस्कुरा दिया।।

-मीनल सांखला

Kavita in Hindi for Love

मौसम की पहली बारिश में तुम्हारा साथ

माना कुछ खता हमसे हुई तो कुछ तुमसे
अब सब भूलना चाहती हूं
फिर तुम संग जीना चाहती हूं
नए सपने बुनना चाहती हूं
मौसम की पहली बारिश में तुम संग भींगना चाहती हूं
थाम के तेरा हाथ भीगी सड़क पे चलना चाहती हूं
बेफिक्र जो तुझ में खोना चाहती हूं
कभी रूठना कभी मनाना चाहती हूं
जो खो गए है पल खुशियों के
उन्हें तुम संग फिर जीना चाहती हूं।

-मीनल सांखला

love Poetry

Love by Luck – Love Poetry in Hindi

उसका मिलना मुकद्दर नहीं था
ऐसा नहीं कि उसे इश्क़ नहीं था।
शायद उसका अलग होना समय की जरूरत था
ऐसा नहीं कि उसे कोई गम नहीं था।
उसका अब किसी और का होना जरूरी था
ऐसा नहीं कि उसे प्यार ही नहीं था।
शायद उसका इश्क़ भूलना भी जरूरी था
ऐसा नहीं कि उसे कोई अफ़सोस ही नहीं था।

-मीनल सांखला

Hindi Love Poem

Poem on Love in Hindi

ना तुम्हारे लिए बातें जरूरी
ना कोई मुलाकातें जरूरी
ना ही कोई यादे जरूरी
ना ही कोई वादे जरूरी
ना मेरा इश्क़ जरूरी
ना ही मेरे अश्क जरूरी
फिर कैसा यह रिश्ता मुझसे
क्या में भी हूं जरूरी
या हूं सिर्फ एक मजबूरी।

-मीनल सांखला

Love Poem in Hindi

Poem in Hindi on Love Sad

जो टूटा था उस दिन
उस दिल को तलाश तेरी थी
जो सुनी थी आवाज तुमने
वो मोहब्बत की आवाज मेरी थी
जो गुजरी थी तन्हा राते कभी
वो बातें अब कल की सारी थी
लिखी जिनसे से नई ये कहानी
वो बाते इश्क़ की हमारी थी।

-मीनल सांखला

Latest Poem on Love in Hindi

फिर भी तुमसे प्यार करती हूँ

वक्त बेवक्त तुम्हे याद करती हूँ,
जो ना मिलो तो फरियाद करती हूँ,
माना तुम्हे ऐतबार नहीं हम पर
मैं फिर भी तुमसे प्यार करती हूँ,
तुम जब आते हो ख़्वाबों में
वहीं तुम्हारा दीदार करती हूँ,
तुम लाख करो इनकार हम से
मैं हर दफा तेरा इंतजार करती हूँ,
माना तुम्हें यकीन नहीं बातों पर
पर मैं फिर भी तुमसे प्यार करती हूँ।

-मीनल सांखला

Best Love Poem in Hindi

Best Love Poem in Hindi

तेरे मिलने का दस्तूर समझ नहीं आया
मेरा था क्या कसूर मुझे समझ नहीं आया
खता मेरी थी या गुनहगार तुम मुझे तुम्हारा ये अंदाज समझ नहीं आया
झूठा था इश्क़ या थी कोई मजबूरी
तेरे यूँ चले जाने का राज समझ नहीं आया
झूठी हकीकत थी या बहाने थे सच्चे
तेरा ये दोहरा मिज़ाज समझ नहीं आया।

-मीनल सांखला

love Poetry

Read Also: Poem on College Life in Hindi

Short Love Poem in Hindi

ये जो हम अकेले है, तुम्हारे रवेये बदल रहे हैं,
भूलने की कोशिश है ना हमें, कुछ कुछ हम भी समझ रहे है,
तुम्हे लगता है ना रह लोगे हमारे बिना तुम,
आज जितना हम तड़प रहे है, इस तड़प से तुम कैसे बचोगे,
भूलने की कोशिश कर रहे हो, यकीन मानो एक दिन हमसे ज्यादा रोयोगे।

मौत हमारी देखोगे एक दिन तुम और सांसे तुम्हारी उखड़ेगी,
जलेगा जिस्म मेरा तब विरह की आग में तुम्हारी रूह तड़पेगी।

Hindi Poetry About Love

ना ख्वाहिश अब तुझे चाहने की
ना अब कोई फरमाइश तेर लौट आने की
अब बार है तेरी बेवफ़ाई से भी वफ़ा निभाने की
हां अब मैंने भी कसम खाई है तुझे भूल जाने की।

Kavita in Hindi for Love

नफरते भी हमें अब सबकी कबूल है
पर अब हम इश्क़ करे कोई मंजूर नहीं,
इश्क़ का हक़ जो उन्हें दिया था
उन योदों में भी अब कोई और मंजूर नहीं।

Hindi Love Poem

अब वो भी पूछने लगे हमसे कि भूल गये क्या
जिनकी यादें लिए हम जिया करते हैं।

Love Poem in Hindi

लिखना बहुत कुछ चाहती हूँ पर जब भी लिखने
बैठती हूँ आंसू से फैली कागज पे स्याही बताती
हैं कि हमारा रिश्ता भी यूँ ही फेल गया है जो अब
कभी शायद नहीं जुड़ सके।

Latest Poem on Love in Hindi

वो जूठ था या सच नहीं जानना चाहती
मैंने तो बस तुमसे इश्क़ किया था और आज
मैं बस तुम्हे याद क्र रही हूँ
I Miss You या कुच्छ यूँ कहूँ जरूरत है आज भी तुम्हारी।

Best Love Poem in Hindi

मेरी मंजिले तो गम ही गई थी तेरे साथ ही
फिर भी मेरी आँखे तेर इंतजार से थकती नहीं
हां है अब तुझे तुमसे बेशुमार इश्क़
पर इजहार भी अब मैं भी करती नहीं।

Hindi Poetry About Love

मैंने भी एक गुनाह किया हैं
हां मैंने भी किसी से इश्क़ बेपनाह किया है।

Kavita in Hindi for Love

तुम संग अगर इश्क़ ना हुआ होता तो
नफ़रत तक का रिश्ता ना रखते तुमसे।

love Poetry

बातों को दिल से लगाया तन्हा इसलिए नहीं हूँ
बल्कि बातों बातों में दिल गलत लगा दिया
इसलिए तन्हा हूँ।

Hindi Love Poem

इश्क़ वाली कुछ बात तो उनमें भी थी
हिस्से में तन्हाइयों की रात उनके भी थी
जब जब आई हिचकियाँ तब समझें
कुछ यादें हमारी साथ उनके भी थी।

Love Poem in Hindi

बस इतना समझा दो
तुम संग ये रिश्ता इश्क़ का है या अश्क का।

Latest Poem on Love in Hindi

जिसने बेपनाह मोहब्बत की हो
बेहिसाब दर्द भी उन्हें ही मिलते हैं।

Best Love Poem in Hindi

ना तुम गुनहगार थे ना हम वफादार
तुम्हारा क्या कसूर तुमसे इश्क़ में हमने
ही खुद से वफ़ा नहीं निभाई।

Hindi Poetry About Love

उनसे फासले दिल बेशक दुखाते हैं
मगर याद दिला जाते हैं
कि हमने खता-ए-इश्क़ किया था।

Kavita in Hindi for Love

उनसे ज्यादा उनके साथ पे गुमान था और
वो साथ महज एक बात के लिए छोड़ गये।

love Poetry

तेरे मतलबी साथ से तो मेरा तन्हा
इंतजार ज्यादा अच्छा है।

Hindi Love Poem

जब कह नहीं पाती दर्द अपना
उसे पन्नो पे छुपाती हूँ
जब दर्द अश्क बन जाता है
उससे कविता बनाती हूँ।

Love Poem in Hindi

तुम क्यों हर रोज दिल दुखाते हो
छोड़ जाने की बात करते हो
और खुद को यार बताते हो।

Love Poem in Hindi

Latest Poem on Love in Hindi

हम तो तुम्हें देख ही मुस्करा देते है
जैसे हसने का फरमान ले आये हो तुम
तुम हो कितने जरूरी बताएं कैसे
जीने का नया अरमान लाए हो तुम
इलजाम तो सबने खूब लगाए
बस वापस सच सुनने की हिम्मत
किसी में ना थी।

*****

हम ना रूठे है ना तुम्हे रूठने देंगे
ताउम्र साथ निभाने का वादा किया है तुमने
ऐसे केसे तुम्हे कहीं जाने देंगे।

*****

उनकी हर अदायगी पसंद आती हैं
पर जब वो रुठते है
उनकी बेरुखी वो रुठते है
उनकी बेरुखी दिल तोड़ जाती है।

*****

लगता है मेरा रब भी मुझसे रूठा है
क्योंकि आज जिसका साथ टूटा है
वो प्यार नहीं मेरा यार है।

*****

Hindi Poetry About Love

शक उसके प्यार पे नहीं है बस
उसकी बेरुखी तकलीफ देती है।

*****

दिल उनकी बातों ने उनके
बदले रवैये ने तोड़ा
यकीन था जिस एक पे खुद से
ज्यादा आज उसने भी साथ छोड़ा।

*****

अलविदा तो महज एक दिखावा मात्र था
वरना तो उसकी यादों कू भी रुंह
में समा के बैठे है।

*****

दर्द दिल का हो तो सहना आसान नहीं होता
और जब जख्म अपनों के दिए हो तो
भूलना मुमकिन नहीं होता।

*****

Kavita in Hindi for Love

जज्बात खूब थे पर अल्फ़ाज नहीं
प्यार बेपनाह था पर दिल को करार नहीं
आँखें भी तड़प रही थी दीदार में
दिल रो रहा था इंतजार में
और वो दर्द-ए-जुदाई लिख गए प्यार में।

*****

ना जाने क्यूँ लोग इश्क़ को
बदनाम करते है
वर्ना तो दिल दोस्ती में भी
टूटता है।

*****

खुद से खुद को छिपती हूँ
बेवजह आंसू बहाती हूँ
तस्वीरों से मन बहलाती हूँ
बेवफ़ाई से वफ़ा निभाती हूँ।

*****

कुच्छ यादें ऐसी होती है जो आँखों में आंसू और
होठों पर मुस्कराहट दोनों एक साथ ले आती है।

*****

मैं तो एक सफर हूँ उनका
मंजिल तो उनकी कोई और हैं।

*****

ना फरियादें ना शिकायतें
हैं कहीं ऐसी भी मोहबतें।

*****

कैसे कह दूँ कि वो भी भूल गये हर बात
उनकी तो याददाश्त अच्छी है
और मैं भूल जाऊं कैसे प्यार
मेरी भी तो मोहबत सच्ची हैं।

*****

फरियाद करूं मैं किससे जो
आँखों में देख ना समझ पाएं
वो मेरे खामोश अल्फ़ाज कैसे
समझ पायेंगे।

*****

अंतिम शब्द

यदि आप ऐसी ही और प्यार पर कविता और शायरी (Love Poem in Hindi) पढ़ना चाहते है तो आप Instagram पर secret_word_15 फॉलो कर सकते हैं।

Read Also

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here