गलती का एहसास शायरी

Galti Ka Ehsaas Shayari

Galti Ka Ehsaas Shayari
Galti Ka Ehsaas Shayari

गलती का एहसास शायरी |Galti Ka Ehsaas Shayari

तरस गए हम कुछ.सुनने.
को.तेरे लब से
.प्यार की बात.ना.सही,
कोई शिकायत.ही कर दो

जब देखा तुझे पहली बार
सब कुछ गुलाबी लगने लगा
शायद हमें भी प्यार हो गया होगा
ऐसा एहसास होने लगा

ज़िंदगी में हर गलती एक
नई सीख दे कर जाती है.

Read Also :-ईद शायरी

कितना प्यार है
तुमसे वो लफ़्ज़ों के सहारे कैसे बताऊँ,
महसूस कर मेरे
एहसास को गवाही कहाँ से लाऊं।

वो गलतियां बहुत दर्द देती हैं,
जिनकी माफी मांगने
का वक्त निकल चुका हो…

उन से दूर होने के बाद
दर्द का एहसास पता चला
जब वो बहुत दूर चले गए
मौत का रास्ता पता चला

गलतियों और खुशियों
में एक बात सामान होती है,
दोनों ही अपने पास कम
और दूसरे के पास ज्यादा लगती हैं।

वजूद शीशे का हो तो
पत्थरों से मोहब्बत नहीं करते,
एहसास-ए-चाहत ना
मिले तो हस्ती बिखर जाती है।|

दुनिया तो बस आपकी
एक गलती का इंतजार कर रही है!

दर्द का एहसास दे गए
हम से बहुत दूर चले गए
मेरी जिंदगी से चले गए
अब वो बस तस्वीरो में रह गए

स्वयं की गर्दन को उतना ऊँचा
भी मत उठाना की झुक ही न सको
और अपने उसूलों को इतना
नीचे भी मत गिराना की उठ न सको।

****

रूठा रहे वो मुझसे
ये मंज़ूर है हमें लेकिन,
यारो उसे समझाओ
के मेरा शहर न छोड़े…

जान- जान कहकर, उसने हमारी ही जान ले ली,
शायद गलती, हमारी ही थी।
जो उन्हें अपनी जान, हद से ज्यादा ही दे दी।।

कुछ दर्द ऐसे होते हैं
जिन्हें दवा और दुआ,
दोनों भी काम नहीं आते

अजीब दस्तूर है इनाम का बक्सा
कोई बांटने को तैयार नहीं होता,
और गलतियों का टोकरा कोई
अपने सर पर उठाने को राज़ी नहीं होता।

ये वक़्त बेवक़्त मेरे ख्यालों में
आने की आदत छोड़ दो तुम,
कसूर तुम्हारा होता है
और लोग मुझे आवारा समझते हैं..!!

Galti Ka Ehsaas Shayari

ख्वाबों में समिट कर रह गई है ज़िंदगी,
आप अभी भी माफ़ी पर अटके हुए हैं

आरज़ू जगी हैं
इस दिल में आप के लिए
क्या बन्ना चा होगी साथी
जिंदगी के सफर के लिए

किताबों में लिखी बातें सारी सही है
बस वह एक बात लिखना भूल गए की,
अगर माफ़ी माँगना ज़रूरी है
तो माफ़ करना भी ज़रूरी है।

वो अपने फ़ायदे की
खातिर फिर आ मिले थे हम से,
हम नादान समझे के
हमारी दुआओं में असर बहुत है..

चलो अब हम भी मोहब्बत करें,
गलती आप करना,
माफ़ी हम मांग लेंगे

गुनहगार को गलती का
एहसास होना जरूरी हैं
जो गलती को न माने,
शायद वो उसकी मजबूरी हैं

जीवन का सार बस इतना सा है
गलती है तो माफ़ी मांग लीजिए,
और अगर आपके साथ कुछ
गलत हुआ है तो माफ़ कर दीजिए।

लगता है इस बार मुझे
मोहब्बत होकर ही रहेगी,
आज रात ख्वाब में मैंने
खुद को बरबाद होते देखा है….

तुम हँसते हो मुझे हँसाने के लिए,
तुम रोते हो तो मुझे रुलाने के लिए,
तुम एक बार रूठ कर तो देखो,
मर जायेंगे तुम्हें मनाने के लिए

जख़्म भरे नहीं अब पुरे
वो और दर्द देने लगे
पूछा हमने के क्या गलती हैं तो
मुझे देखकर मुस्कुराने लगे
और हम उनकी मुस्कराहट के लिए
ख़ुशी से दर्द सहने लगे

Read Also :-नए साल के लिए बधाई संदेश

इंसान गलती करकर ही
जिंदगी जीना सीखता है.

मोहब्बत की आजतक बस
दो ही बातें अधूरी रही,
इक मै तुझे बता नही पाया,
और दूसरी तूम समझ नही पाये.

किसी के दिल में बसना कुछ बुरा तो नहीं,
किसी को दिल में बसाना कोई खता तो नहीं,
गुनाह हो यह ज़माने की नज़र में तो क्या,
ज़माने वाले कोई खुदा तो नहीं।

मेरे जीने का एहसास हो तुम
मेरी सांस हो तुम
इस दिल का अरमान हो तुम
मेरे लिए जिंदगी जीना का मक़सद हो तुम

*****

जो इंसान गलतियों की माफी मांगते है
और दुसरो को माफ करते है
वहीं अच्छी जिन्दगी जीते है.

वो जान गयी थी ,
हमे दर्द में मुस्कराने की आदत हैं
वो रोज नया जख्म देती थी
मेरी ख़ुशी के लिए

“जो इंसान अपनी
गलतियों को ढूंढता है,
वही सफल होता है I”

खामोशी में भी एक एहसास हैं
मेरे दर्द के पीछे भी कई राज़ हैं

सुना हे, वोह जब मायुश होते हे,
हमे बहोत याद करते हे
अये खुदा, अब तुहि बता,
उसकी खुशी की दुआ करु या मायुशि कि!!!

“दिमाग़ पर ज़ोर डालकर
गिनते हो गलतियां मेरी,
कभी दिल पे हाथ रख
कर पूछना कसूर किसका था..”

वो इंसान गलती नही
करता जो खुद को
गलतियों के साँचे में
ढाल कर और भी मजबूत बनता है.

माफ़ कर दो उनको
जिनको तुम भूल नहीं सकते..
भूल जाओ उनको
जिनको तुम माफ़ नहीं कर सकते….

कैसे करूँ मुकदमा उस
पर उसकी बेवफाई का
कमबख्त ये दिल भी
उसका ही वकील निकला…

मारने वाले तो एक दिन
बिन बताये मर जाते हैं..!
रोज़ तो वो मरते हैं,
जो खुद से ज्यादा किसी और को चाहते हैं…!!!

जैसे हर झूठ में कुछ ना
कुछ सच जरूर होता है,
वैसे ही हर गलती में कुछ
ना कुछ सही जरूर होता है I

Galti Ka Ehsaas Shayari

लिख रहा हूँ आज फिर
कुछ अपनी खामोश तमन्नायें
कुछ तो महसूस करेंगे
पर कुछ फिर से वाह-वाह करेंगे…

ज़िंदगी सिर्फ चार दिन की दास्ताँ है,
कहीं रूठने मनाने मे न निकल जाये…

जो लोग न तो अपनी गलतियों से सीखते हैं,
और न दूसरों की गलतियों से सीखते हैं,
वैसे लोग बर्बाद हो जाते हैं।

दुनिया की आलोचना पर ध्यान मत दीजिए,
क्यूंकि वह तो भगवान् की आलोचना करते हैं
जो सम्पूर्ण सृष्टि के रचयता हैं।

“हर एक गलती आपको
आपके सफलता के ओर ले जाती है !”

कभी मौका मिला तो हम
किस्मत से शिकायत जरुर करेंगे…
क्यो छोड़ जाते हैं
वो लोग जिन्हे हम टुटकर चाहते हैं…

आँख दुनिया की हर एक चीज देखती है
पर जब आँख के अंदर कुछ चला जाता है
तो उसे आँख नही देख पाती!
ऐसे ही इंसान दूसरे की गलती तो
देख लेता है पर खुद की गलती
उसे नजर नहीं आती!

ईश्वर अपनी किताब में
सब का हिसाब रख रहा है
गलती की आड़ में जो पाप कर रहा है
ईश्वर उन सब का हिसाब लिख रहा है।

अनुभव की कमाई केवल
गलतियों को खुल कर
खर्च करने वाला व्यक्ति
ही कमा सकता है।

समेट कर ले जाओ
अपने झूठे वादों के अधूरे किस्से
शायद अगली मोहब्बत
में तुम्हें फिर इनकी जरुरत पड़े..

आप किसी के लिए कितना ही भला कर लें
आपकी एक भूल और वह,
आपके सारे एहसानों को भुला देगा।

हम तो सोचते थे
कि लफ्ज ही चोट करते हैं मगर
कुछ खामोशियों के
जख्म तो और भी गहरे निकले…

दुनिया की नज़र खूबियां
देखना पसंद नहीं करती,
और खामिया न भी हो तब भी
किसी न किसी तरह से निकाल ही लेती है।

तुम तो चले गए मुस्कुरा
कर उस मोड़ से मगर
मैं आज भी छत के किनारे
पर तेरा इंतजार कर रहा हूँ…

गलती हुई तो माफी मांग लो
अगर किसी ने आपके साथ
किया हो तो उसे माफ कर दो.

किसी के दिल में बसना
कोई गुनाह तो नहीं,
गुनाह है ये जमाने के नजर में तो,
क्या जमाने वाले कोई खुदा तो नहीं।।

गलती करो पर माफी मांग लो
क्योंकि इसे आपके रिश्ते बच जाएगे.

छोड़ दें कोशिशें
इंसानों को पहचानने की,
यहाँ जरूरतों के
हिसाब से बदलते नकाब हैं।

Read Also :-औकात शायरी

वो व्यक्ति कभी जिंदगी में आगे नहीं
बढ़ जो गलतियों को सुधार नहीं सकता है.

कोई किसी को पसन्द
करे तो कोई गुनाह नहीं।
इश्क और पसन्द दिल के
दो अलग अलग एहसास है।।

इंसान को खुद की
गलती तब मेहसूस होती है
जब वक्त निकल जाता है.

बहाना कोई ना बनाओ
तुम मुझसे खफा होने का।
तुम्हें चाहने के अलावा
कोई गुनाह नहीं है मेरा।।

जो व्यक्ति दूसरो की गलती
से सीखता है वहीं महान है।

अगर तेरे बिना जीना आसान होता तो।
कसम मुहब्बत की तुझे
याद करना भी गुनाह समझते।।

ये ना पूछ के शिकायतें कितनी है तुम से,
तो बता तेरा कोई और सितम बाकी तो नहीं।

******

गलती निकाने के लिए भेजा चाहिए
और…
गलती कबूल करने के लिए कलेजा चाहिए.

कभी सोचा न था
के वो मुझे तनहा कर जायेगा,
जो अक्सर परेशां
देख कर कहता था, मैं हूँ ना।

डर गलती का कुछ करने ही नहीं देता,
मेरी नज़र में तो डर सबसे बड़ी गलती है।

खामोशियाँ कर देती
बयां तो अलग बात है,
कुछ दर्द है
जो लफ़्ज़ों में उतारे नहीं जाते।

ज़िन्दगी है ही ऐसी अध्यापिका,
यह सबक भी सिर्फ उसे पढ़ाती है
जो गलती करता है।

झूठी हँसी से जख्म और बढ़ता गया,
इससे बेहतर था खुलकर रो लिए होते।

उनकी गलती नहीं जो गलती करते हैं,
और उनकी गलतियों का कोई
प्रायश्चित नहीं जो गलती दोहराते हैं.

Galti Ka Ehsaas Shayari

मोहब्बत ख़ूबसूरत होगी
किसी और दुनिया में,
इधर तो हम पर जो गुज़री है
हम ही जानते हैं।

वह व्यक्ति पूरी तरह से गलत होता है
जिसके कार्य से किसी गरीब को दुख मिलें।

जब जब मुझे लगा मै
तेरे लिए ख़ास हूँ
तेरी बेरुखी ने ये
समझा दिया मैं झूठी आस में हूँ

एक गलती होने से
किसी व्यक्ति को पूरी तरह
गलत मान लेना बहुत बड़ी भूल हैं।

सुना है आज समंदर
को बड़ा गुमान आया है,
उधर ही ले चलो कश्ती
जहां तूफान आया है।

जो लोग गलत होते हैं
वो दूसरों को गलत साबित करके
खुद को सही दिखाने का प्रयास करते है।

इस बात का एहसास
किसी पर ना होने देना
की तेरी चाहतो से चलती है मेरी सांसे

गलत होने पर खुद को सही
साबित करने का प्रयास मत करो।
खुद को सुधारने का प्रयास करो।

उसके दिल पर भी
क्या खूब गुज़री होगी
जिसने इस दर्द का
नाम मोहब्बत रखा होगा

गलतियां तो दूसरों की
अनपढ़ भी गिन लेता है
अपनी गलतियां गिनने के
लिए पढ़ा लिखा होना आवश्यक है।

बस यही है ये मेरे
एहसास में कैसी महक कोई
खुशबू में लगाओ तेरी खुसबू आये

इंसान गलतियों का घर है यह सच है,
पर वह घर टूट जाता है
जो समय पर अपनी मरम्मत नहीं कर पाता।

मुझ को एहसास है
लेकिन तुझे एहसास नही
तेरे दामन कु हवा मेरे लिए रास नही

बचपन में ही गलतियाँ
माफ की जाती हैं।
जवानी में कई गयी
गलतियाँ सजा बन जाती हैं।

लगता है मै भूल चुका हूं
मुस्कुराने का हुनर
कोशिश जब भी करता हू
आँसू निकल आते है

मुझे मालूम नही मेरी
आँखों को तलाश किसकी
तुझे देखता हूं
तो मंजिल का एहसास होता है|

गलती से जो हम सीखते है,
वही हमारी अनुभव होती है.

इश्क ना करने की वजह पूछी तो बोल पड़ी
गलतियां बहोत करते हो तुम
अरे नासमझ प्यार में गलतियों को नहीं देखा जाता
बस उन्हें हंस कर भुला दिया जाता है।

Read Also

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here