चींटी के पर निकलना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

चींटी के पर निकलना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग (Cheentee ke par nikalana Muhavara ka arth)

चींटी के पर निकलना मुहावरे का अर्थ – खुद पर बहुत घमंड करना।

Cheentee ke par nikalana Muhavara ka arth – khud par bahut ghamand karana.

दिए गए मुहावरे का हिंदी में वाक्य प्रयोग

वाक्य प्रयोग: सोहनलाल ने अपने जीवन में थोड़े से उपलब्धियों के उप आकर खुद पर घमंड करने लगा है अर्थात चींटी के पर निकल आए हैं।

वाक्य प्रयोग: मीरा ने साइकिल प्रतियोगिता में विजय प्राप्त करके खुद पर घमंड करने लगी है इसे कहते हैं चींटी के पर निकल आना।

वाक्य प्रयोग: सोहनलाल ने एक खेल प्रतियोगिता जीतकर खुद को एक बड़ा खेल खिलाड़ी समझने लगा है इसे कहते हैं चींटी के पर निकल आना।

वाक्य प्रयोग: मोहन ने अपने विद्यालय के एक छोटे से प्रतियोगिता में विजय क्या प्राप्त कर ली कि वह अपने ऊपर इतना घमंड करने लगा है कि वह सभी को खुद से छोटा समझने लगा है ऐसी परिस्थिति में ही कहा जाता है कि चींटी के पर निकल निकल आए हैं।

यहां हमने “चींटी के पर निकलना” जैसे बहुचर्चित मुहावरे का अर्थ और उसके वाक्य प्रयोग को समझा। चींटी के पर निकलना मुहावरे का अर्थ होता है कि खुद पर अत्यधिक घमंड हो जाना। मोहनलाल अपने बेटे पर अत्यधिक घमंड करता है क्योंकि उसका बेटा एक बहुत बड़ा डॉक्टर है जबकि वह अपने माता पिता को थोड़ा सा भी ध्यान नहीं देता है इसे ही कहते हैं चींटी के पर निकलना। चुकी यह मुहावरा है और मुहावरा और असामान्य अर्थ प्रकट करता है इसीलिए यहां इस मुहावरे का अर्थ दोहरा लाभ प्राप्त करने से हैं।

मुहावरे परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं। एक शब्द के कई मुहावरे हो सकते हैं।यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए मुहावरे ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी किसी का भी मुहावरे पूछा जा सकता है।

मुहावरे का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में मुहावरे पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से मुहावरे बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में मुहावरे का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत में भी मुहावरे पूछे जाते हैं।

मुहावरे कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण मुहावरे और उनका वाक्य प्रयोग

आकाश-पाताल एक करनाचार चाँद लगाना
आड़े हाथों लेनाअपना घर समझना
आपे से बाहर होनाआसमान सिर पर उठाना

1000+ हिंदी मुहावरों के अर्थ और वाक्य प्रयोग का विशाल संग्रह 

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here