चने चबाना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

चने चबाना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग (Chane chabaana muhaavare ka arth)

चने चबाना मुहावरे का अर्थ – ऐसा भोजन जो रूखा सूखा हो।

Chane chabaana muhaavare ka arth – aisa bhojan jo rookha sookha ho.

दिए गए मुहावरे का हिंदी में वाक्य प्रयोग

वाक्य प्रयोग: सीता मात्र 4 महीने में ही अपनी 12वीं की परीक्षा की तैयारी कर रही है मानो कि वह चने चबा रही है।

वाक्य प्रयोग: जिन व्यक्तियों के पास खाने के लिए ज्यादा समय नहीं होता है उसे चने चबाना पड़ता है।

वाक्य प्रयोग: जब देश में लॉकडाउन लगा था तो पूरे देश के लोगों को चने चबाना पड़ा था।

वाक्य प्रयोग: गरीब व्यक्ति अक्सर अपने घरों में चने चबा कर अपना पेट पालन करते हैं।

यहां हमने “चने चबाना ” जैसे बहुचर्चित मुहावरे का अर्थ और उसके वाक्य प्रयोग को समझा। चने चबाना मुहावरे का अर्थ होता है की रूखी सूखी खाना। इसका सबसे अच्छा उदाहरण हम गरीब और निर्धन व्यक्तियों को देख सकते हैं जो कि रुखा सुखा खा कर अपना जीवन चलाते हैं अर्थात चना चबाकर रहते हैं। चुकी यह मुहावरा है और मुहावरा और असामान्य अर्थ प्रकट करता है इसीलिए यहां इस मुहावरे का अर्थ दोहरा लाभ प्राप्त करने से हैं।

मुहावरे परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं। एक शब्द के कई मुहावरे हो सकते हैं।यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए मुहावरे ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी किसी का भी मुहावरे पूछा जा सकता है।

मुहावरे का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में मुहावरे पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से मुहावरे बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में मुहावरे का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत में भी मुहावरे पूछे जाते हैं।

मुहावरे कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण मुहावरे और उनका वाक्य प्रयोग

आकाश-पाताल एक करनाचार चाँद लगाना
आड़े हाथों लेनाअपना घर समझना
आपे से बाहर होनाआसमान सिर पर उठाना

1000+ हिंदी मुहावरों के अर्थ और वाक्य प्रयोग का विशाल संग्रह 

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here