पत्र लेखन (प्रकार, विशेषताएं, और प्रारूप)

पत्र लेखन क्या है? पत्र के प्रकार, पत्र लेखन विधि, पत्र की विशेषताएं, पत्र का प्रारूप | Types of Letters in Hindi

Types of Letters in Hindi
Image: Types of Letters in Hindi

पत्र लेखन क्या है?

पत्र लेखन एक बहुत पुरानी विद्या है। पत्र लेखन में हम कागज के माध्यम से अपने प्रियजनों तक अपनी खबर पहुंचाते हैं। पत्र लेखन अपने आप में एक कला है, इस कला के माध्यम से हम अपने प्रियजनों, दोस्तों, रिश्तेदारों, शिक्षकों, कार्यालय, पत्र लेखन के लिए अपने संदेश, अपनी भावनाओं और अपने विचारों को व्यक्त करते हैं।

पत्र लेखन तो बहुत समय पहले से ही चली आ रही है, पहले संदेश लिखने के लिए कागज और दवात का इस्तेमाल तो करते थे। पहले संदेश में लिखने के लिए कागज और दबाव का उपयोग करते थे, लेकिन पत्र देने के लिए कबूतर के माध्यम से पत्र दिया गया था। लेकिन धीरे-धीरे नए बदलाव हुए हैं, जिसके कारण हमने पत्र भेजने के लिए डाकिया की मदद लेना शुरू कर दिया है।

अपने प्रियजनों को संदेश के रूप में भावनाओं को भेजें। पत्र में सरल, सरल और सामान्य बोली जाने वाली भाषा का प्रयोग करते हुए हम संदेश भेजें, ताकि पत्र प्राप्त करने वाला व्यक्ति आपकी भावनाओं को भली-भांति जान सके।

पत्र लेखन का इतिहास

पत्र लेखन एक सदियों पुराना विज्ञान है। पत्र लेखन एक भी कला है, जिसके द्वारा हम अपनी भावनाओं को दूसरों तक पहुँचाते हैं। पत्र लेखन में यह जानना भी आवश्यक है कि पत्र लेखन का प्रारंभ कब और कहां और कैसे हुआ था? किसने सबसे पहली बार किस को और कौन सा पत्र लिखा था?

ये सभी प्रश्न आपके मन में हमेशा आते होंगे और कभी-कभी ऐसे प्रश्न अक्सर परीक्षाओं में भी पूछे जाते हैं।

आपको पता होना चाहिए कि आपको किसी भी इतिहास की किताब में ऐसे प्रश्न नहीं मिलेंगे। ऐसा माना जाता है कि जब मानव जीवन की शुरुआत हुई तो पत्र लेखन का ज्ञान नहीं था, बल्कि धीरे-धीरे जब स्वर्गदूतों को अपने प्रियजनों को अपने विचारों और भावनाओं को व्यक्त करने या अपने दूर के रिश्तेदारों की हाल-चाल जानने के लिए पत्र लिखने की आवश्यकता होती थी।

आप सभी ने अपने इतिहास की किताब से पढ़ा होगा कि पुराने दिनों में मन की बात व्यक्त करने के लिए चित्र-लिपि का इस्तेमाल किया जाता था। धीरे-धीरे उस लिपि को बदलकर भाषा का आविष्कार किया गया। भाषा के बारे में वैज्ञानिकों का कहना है, भाषा का आविष्कार होने के बाद पत्र लेखन का शुभारंभ हुआ था।

आज हम लोग यह भली-भांति जानते हैं कि किसी भी तरह का पत्र लेखन चित्र से ही आविष्कार हुआ था, जैसे कि सूत्र लिपि, प्रतीकात्मक लिपि, भाग मुल्क, ध्वनि मुल्क लिपि, आदि।

यदि आज भी इतिहास के पन्नी को पलटा जाता है तो हमें उचित लिपि और भाव मुल्क लिपि के बहुत सारे प्रमाण प्राचीन काल के इतिहास में मिल जाएंगे।

तो आप समझ ही गए होंगे कि पत्र लेखन का शुभारंभ कब और कहां और कैसे हुआ था? पत्र लेखन का इतिहास का शुरुआत चित्र लिपि और भाग लिपि एवं भाव मुल्क लिपि के द्वारा ही और उसी समय से ही चलती आ रही है।

पत्र की विशेषताएं

पत्र लेखन का उपयोग मानव के सभी वर्गों द्वारा अपना संदेश भेजने का सबसे सस्ता और सरल और सबसे सामान्य माध्यम है। इसमें ज्यादा खर्च नहीं होता है और यह हमारे प्रियजनों तक भी अच्छी और सुविधा के साथ पहुंचता है। हम अपनी पूरी भावनाओं को पत्रों के माध्यम से व्यक्त करते हैं। आप अपने प्रिय माता-पिता तक विचारों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक स्पष्ट रूप से पहुँचा सकते हैं।

यद्यपि आज के युग में पत्र लेखन का प्रयोग बहुत कम हो रहा है, अधिकांश पत्र लेखन का संबंध आपके कार्यालय से है, क्योंकि आजकल पत्र टेलीफोन, ईमेल, सोशल मीडिया, एसएमएस संदेश के माध्यम से भेजा जाता है। जिससे पत्र लेखन का चलन बहुत कम हो गया है।

आजकल टेक्नोलॉजी का इतना विस्तार हो गया है कि अब हमें अपने विचारों और भावनाओं को व्यक्त करने के लिए ज्यादा समय बर्बाद नहीं करना पड़ता है, हम संदेश या सोशल मीडिया के माध्यम से, कॉल पर या वीडियो कॉल के माध्यम से यानी व्हाट्सएप के माध्यम से संदेश के माध्यम से अपने संदेश देते हैं। पत्र लेखन भारत का एक पारंपरिक और सांस्कृतिक माध्यम है।

पत्र लेखन क्या है? पत्र के प्रकार, पत्र लेखन विधि, पत्र की विशेषताएं, पत्र का प्रारूप | Types of Letters in Hindi

पत्र लेखन की आवश्यकता क्यों पड़ी होती है?

पत्र लेखन की आवश्यकता हमें अपने संदेश, भावना या विचारों को अपने दोस्तों, प्रियजनों, रिश्तेदारों या किसी सरकारी या निजी संस्थान के अधिकारियों तक पहुंचाने के लिए एक पत्र लिखने की जरूरत थी। यदि आपके मित्र या प्रियजन आपके साथ नहीं रहते हैं या दूर शहर में या दूर राज्य में रहते हैं, तो आपको पत्र लेखन की आवश्यकता होगी।

पत्र लेखन के माध्यम से हम अपनी हाल-चाल, भावनाओं और विचारों को अपने रिश्तेदारों तक पहुँचाते हैं। हम कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण समाचार देने के लिए पत्र लेखन का भी उपयोग करते हैं। पत्र लेखन का उपयोग छात्र अपने विद्यालय के प्राचार्य को लिखने के लिए भी करते हैं। साथ ही कुछ अन्य कार्यालय जैसे बैंक, डाकघर, डीएम कार्यालय, पुलिस कार्यालय भी कुछ आवेदन या अनुरोध, प्रार्थना या शिकायत करने के लिए उपयोग करते हैं। एक पत्र भी एक ठोस सबूत और एक लिखित और स्थायी दस्तावेज है।

पत्र लिखते समय ध्यान रखने योग्य बातें

पत्र लिखने से पहले आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि आपका पत्र पूरी तरह से स्पष्ट अक्षरों में और स्पष्ट रूप से लिखा गया है। यदि आप अपने परिवार के सदस्यों को ही पत्र लिख रहे हैं तो आपको अपना पत्र स्पष्ट अक्षरों में लिखना चाहिए। अपना पत्र लिखते समय बहुत ही सरल और आसान बोली जाने वाली भाषा का प्रयोग करें, जिससे आपका पत्र बहुत स्पष्ट हो।

पत्र लिखते समय आपको यह भी ध्यान रखना चाहिए कि आपका पत्र सरल भाषा के साथ-साथ छोटे वाक्यों और दो-तीन अनुच्छेदों में होना चाहिए। पत्र लिखते समय आपको शब्दों की सीमा का भी ध्यान रखना होगा, आपका पत्र केवल 150 से 200 शब्दों का होना चाहिए।

पत्र लिखते समय आपको यह भी ध्यान रखना होगा कि आप जिसे भी पत्र लिख रहे हैं, पत्र की शुरुआत पते या अभिवादन से ही करें। पत्र में आप जो भी संबोधित या अभिवादन करते हैं, यह स्पष्ट है कि आप अपने उन प्रियजनों को सम्मान और सम्मान दे रहे हैं जिन्हें आप पत्र में पत्र लिख रहे हैं।

पत्र लिखते समय आपको एक और बात का ध्यान रखना चाहिए कि आप अपने पत्र में प्रेषक का नाम, पता और तिथि भी अवश्य लिखें।

पत्र लेखन के अंग कौन-कौन से हैं?

पत्र लेखन के मूल रूप से तीन भाग होते हैं।

  1. प्रारंभ – यानि पत्र के आरंभ में पत्र लिखकर हम प्रेषक के पते का अभिवादन करने लगते हैं।
  2. मध्य भाग – यानी पत्र-लेखन में मूल विषय के बारे में व्यक्त करने के लिए कि हम अपने पत्र में मुख्य समाचार विस्तार से लिखते हैं, जो कि 150 से 200 शब्दों में है।
  3. अंतिम भाग – अर्थात पत्र-लेखन का अंत जिसमें हम प्रेषक का नाम या देश का नाम, पता लिखते हैं।

पत्र लेखन क्या है? पत्र के प्रकार, पत्र लेखन विधि, पत्र की विशेषताएं, पत्र का प्रारूप | Types of Letters in Hindi

पत्र लेखन कितने प्रकार का होता है?

पत्र मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं।

  1. औपचारिक पत्र (Formal letter)
  2. अनौपचारिक पत्र (Informal letter)

औपचारिक पत्र (Formal Letter)

औपचारिक पत्र मुख्य रूप से कार्यालय के काम के लिए होते हैं। जैसे सरकारी संस्थान, निजी कार्यालय। औपचारिक पत्र आमतौर पर केवल अधिकारियों, शिक्षकों, प्रधानाचार्यों, सरकारी विभागों या कार्यालयों जैसे किसी संस्थान में आवेदन या अनुरोध करने के लिए विनम्रता से लिखे जाते हैं। आप इस पत्र को पूरी तरह से आधिकारिक पत्र कह सकते हैं।

इस पत्र को लिखने के लिए, आपको हमेशा विनम्रता और आसान सम्मान के साथ बोलना होगा। एक औपचारिक पत्र का उपयोग आपसे किसी कार्य के लिए अनुरोध करने के लिए या किसी कार्य को शुरू करने के निवेदन या अनुरोध के लिए किया जाता है।

सरल भाषा में समझे तो औपचारिक पत्र एक विद्यार्थी अपने प्रधानाचार्य को छुट्टी मांगने के लिए या स्कूल ना आने के लिए या किसी तरह की बीमारी पर अवकाश पाने के लिए लिखते हैं। कुछ सरकारी संस्थान में जैसे कि बैंक में खाता खुलवाने बंद करने के लिए भी हम लोग औपचारिक पत्र का ही इस्तेमाल करती हैं।

औपचारिक पत्र का प्रयोग कुछ कार्यालयों जैसे डी.एम. कार्यालय, अदालत, सरकारी कार्यालय, जैसे एमएलए, एमपी, डॉक्टर, को हम लोग अपनी समस्या के समाधान के लिए औपचारिक पत्र का इस्तेमाल करके निवेदन करती हैं। इस प्रकार के पत्र सीमित शब्दों में ही लिखे जाने चाहिए। शब्दों की सीमा 150 से 200 तक होनी चाहिए।

औपचारिक पत्र मुख्यतः ३ प्रकार के होते हैं।

  1. व्यवसायिक पत्र (Business letter)
  2. कार्यालय पत्र या सरकारी पत्र (Official letter)
  3. प्रार्थना पत्र (Application)

व्यवसायिक पत्र (Business letter): व्यापारिक पत्रों का प्रयोग हम व्यवसायिक रूप से ही करते हैं जैसे माल की खरीद-बिक्री, किसी भी प्रकार के धन के लेन-देन के संबंध में हम व्यापारिक पत्रों का प्रयोग करते हैं, यह पत्र मुख्य रूप से किसी कंपनी या किसी व्यापारी के लिए उसके कच्चे माल के लिए है। इसके अलावा एक कंपनी अपनी पत्रिका छपवाने के लिए अपनी किताब भी प्रकाशित करती है।

कार्यालय पत्र या सरकारी पत्र (Official letter): कार्यालय पत्रों का प्रयोग सरकारी कार्य या संस्था के किसी भी महत्वपूर्ण कार्य को शुरू करने या रोकने के लिए लिखा जाता है। विशेष रूप से यह पत्र सरकारी अधिकारियों या नगर निगम के महापौर, समाचार, पत्र के संपादक, पुलिस विभाग, आला अधिकारी, बैंक अधिकारी को लिखा जाता है।

प्रार्थना पत्र (Application): आवेदन पत्र का अर्थ है कि हम किसी से अनुरोध कर रहे हैं, कि मेरा कुछ काम पूरा हो जाए, जैसे स्कूली छात्र छुट्टी के लिए केवल आवेदन का उपयोग करते हैं या किसी भी सरकारी विभाग में किसी भी समस्या को लागू करने के लिए यह प्रार्थना करके अनुरोध करते हैं। हम अपना काम करवाते हैं, जिसके लिए हमें प्रार्थना पत्र का इस्तेमाल करना होता है।

औपचारिक पत्र में संबोधन अभिवादन और समापन

पत्र जिसे लिखना हो 

संबोधन

अभिवादन

समापन

व्यवसायिक पत्र, 

कार्यालयी पत्र, प्रार्थना पत्र 

अपरिचित व्यक्तियों को लिखे जाते हैं।  

श्रीमान, महोदय,

माननीय, मान्यवर। 

अभिवादन नहीं किया जाता। 

प्रार्थी, विनीत,

भवदीय या भवदीया  

औपचारिक पत्र लेखन का प्रारुप

पत्र पाने वाले का नाम व पता ……………………………………………………………………………………. ……………………………………………………………………………………………………………………………………….

दिनांक …………………………………………………………………………………………………………

पत्र का विषय …………………………………………………………………………………………………

संबोधन ……………………………………………………………………………………………………….

विषय : पत्र लेखन का उद्देश्य ( जिस भी कारण हो, आप अपने पत्र लिखने का कारण या उद्देश्य लिखे) ………….

पत्र का विस्तार …………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

कार्य संपादन का आग्रह ………….

पत्र लिखने वाले का नाम, हस्ताक्षर व पद का नाम ……………………………………………………………………………………………………….

औपचारिक पत्र लेखन का उद्धारण

उदाहरण 1.स्वास्थ्य खराब होने के कारण 5 दिनों के अवकाश लेने के संबंध में विद्यालय के प्रधानाचार्य को प्रार्थना पत्र लिखिए।

परीक्षा भवन,
सेवा में,
प्रधानाचार्य,
केंद्र विद्यालय
गोरखपुर, उत्तर प्रदेश
दिनांक: 7/9/21

विषय: अवकाश प्राप्ति हेतु प्रार्थना पत्र

श्रीमान,
सविनय निवेदन यह है कि मैं आपके विद्यालय में कक्षा आठ का छात्र हूं। कल दिनांक 7/9/21 को विद्यालय से वापस आने के बाद मुझे तेज तीव्र ज्वर आ गया। डॉक्टर ने मुझे 5 दिन का विश्राम करने की सलाह दी है। मैं अगले 5 दिनों तक विद्यालय में अनुपस्थित रहूंगा।

अतः महोदय से निवेदन है कि आप मुझे दिनांक 7/9/21 से 11/9/21 तक अवकाश प्रदान करने की कृपा करें|

धन्यवाद

आपका आज्ञाकारी शिष्य
मनोज तिवारी
कक्षा- 8
रोल नंबर-20
दिनांक -8/4/18

उदाहरण 2. आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होने के कारण अपने विद्यालय के प्रधानाचार्य को छात्रवृत्ति के लिए प्रार्थना पत्र लिखिए।

परीक्षा भवन,
सेवा में,
प्रधानाचार्य,
नवोदय विद्यालय
पटना, बिहार
दिनांक: 7/8/19

विषय- छात्रवृत्ति हेतु प्रार्थना पत्र।

श्रीमान,

सविनय निवेदन यह है कि मैं आपके विद्यालय का कक्षा दसवीं का छात्र हूं। मैं अपनी कक्षा में प्रतिवर्ष अच्छे अंको से उत्तीर्ण होता रहता हूं। मैं विद्यालय की क्रिकेट टीम का सदस्य भी हूं इसके अतिरिक्त मैं विद्यालय की प्रमुख गतिविधियों में हमेशा भाग लेता रहता हूं और विद्यालय का गौरव बढ़ाने का प्रयास भी करता रहता हूं। मैं अपनी कक्षा का मॉनिटर भी हूं। अपने इस व्यवहार के कारण में सभी अध्यापक अध्यापिका का प्रिय भी हूं।

मेरे पिताजी सरकारी दफ्तर में चपरासी थे, परंतु आप वे सेवानिवृत्त हो गए हैं। हम 10 भाई बहन है घर का खर्च बड़ी ही कठिनाई से चल पा रहा है। इन हालात में मेरा पढ़ाई करना मुश्किल हो गया है। अपनी पढ़ाई को ठीक ढंग से जारी रखने के लिए मुझे छात्रवृत्ति की बहुत ज्यादा जरूरत है अन्यथा पढ़ाई के बिना मेरा भविष्य अंधकार में हो जाएगा। काबिल बनना चाहता हूं और अपने मां का मां पिता का सहारा बनना चाहता हूं।

अतः आपसे अनुरोध है कि आप मुझे जल्द से जल्द छात्रवृत्ति प्रदान करने की कृपा कीजिए, ताकि मैं अपनी पढ़ाई सफलतापूर्वक कर सकें।

धन्यवाद

आपका आज्ञाकारी शिष्य
नाम – सुशील पासवान
कक्षा – दसवीं
दिनांक- 7/8/19

उदाहरण 3. बचत खाता चालू करने हेतु बैंक मैनेजर को प्रार्थना पत्र।

सेवा में,
श्रीमान शाखा प्रबंधक,
पंजाब नेशनल बैंक,
गोरखपुर, उत्तर प्रदेश

विषय:- बंद खाता चालू करवाने के लिए प्रार्थना पत्र

महोदय,

सविनय निवेदन यह है कि मैं साहिल शर्मा आपके बैंक का खाता धारक हूं और मेरा बैंक अकाउंट नंबर 5462 1100 है और पिछले कुछ महीनों से किसी कारणवश बैंक में लेनदेन न होने की वजह से मेरा खाता बंद हो गया है। लेकिन अब मैं पुणे उसी बंद खाता को फिर से चालू करवाना चाहता हूं। अतः आपसे विनम्र निवेदन है कि मेरे बंद हुए खाता को दोबारा चालू करने की कृपा करें। इसके लिए मैं सदा आपका आभारी रहूंगा।

धन्यवाद

आपका विश्वासी
नाम साहिल शर्मा
अकाउंट नंबर- 5462110
मोबाइल नंबर-967xxxxx

उदाहरण 4. मोहल्ले में गंदगी को साफ कराने हेतु स्वास्थ्य अधिकारी को पत्र लिखें।

परीक्षा भवन,
सेवा में,
मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी,
नगर निगम,
जमालपुर, बिहार

विषय: मोहल्ले में व्याप्त गंदगी को साफ कराने हेतु अधिकारी को प्रार्थना पत्र।

मान्यवर,

सविनय निवेदन यह है कि मैं गोपाल शर्मा नया रामनगर सेक्टर 2-बी जमालपुर का रहने वाला हूं। आपको बताते हुए बहुत दुख हो रहा है कि बीते कुछ दिनों से हमारे मोहल्ले में चारों तरफ मक्खी और मच्छरों का आतंक फैल गया है। इसका प्रमुख कारण यह है कि हमारे मोहल्ले में चारों तरफ पूरा कूड़ा करकट और गंदगी फैल गया है, जिससे हमारे मोहल्ले वासियों का जीना दुर्लभ हो गया है। अगर समय रहते गंदगी को साफ ना किया गया तो कोई नहीं बीमारी जन्म ले लेगी।

अतः आपसे विनम्र निवेदन यह है कि जल्द से जल्द नया राम नगर सेक्टर बी की गंदगी को साफ किया जाए, जिससे मोहल्ले वासियों के सारे परिवारों का जीवन सुलभ हो सके और एक नई बीमारी होने से बच सकें।

धन्यवाद

आपका विश्वासी
नाम- गोपाल शर्मा
पता- नया रामनगर सेक्टर 2- बी
जमालपुर, बिहार

Read Also: औपचारिक पत्र लेखन

पत्र लेखन क्या है? पत्र के प्रकार, पत्र लेखन विधि, पत्र की विशेषताएं, पत्र का प्रारूप | Types of Letters in Hindi

अनौपचारिक पत्र (Informal Letter)

हम अपने प्रियजनों, परिवार के सदस्यों, दोस्तों, रिश्तेदारों को लिखने के लिए अनौपचारिक पत्र लेखन का उपयोग करते हैं। यह पत्र एक व्यक्तिगत पत्र है। जो किसी से शेयर नहीं करते। हम व्यक्तिगत रूप से लिखते हैं।

इस पत्र को व्यक्तिगत पत्र के रूप में भी जाना जाता है। इस पत्र में हम अपनी भावनाओं, अपने विचारों को सरल और स्पष्ट भाषा में लिखते हैं।

हम इस पत्र का उपयोग अपने प्रियजनों का हालचाल पूछने या उन्हें किसी विशेष कार्यक्रम का हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित करने, या कोई महत्वपूर्ण जानकारी देने के लिए करते हैं।
इस अनौपचारिक पत्र में शब्दों की कोई सीमा नहीं है, यह व्यक्ति के विषय के अनुसार लिखा जाता है।

अनौपचारिक पत्र में संबोधन, अभिवादन और समापन

पत्र जिसे   लिखना 

संबोधन

अभिवादन

समापन

अपने से छोटों को

चिरंजीवी , प्रिय , आयुष्मान

आशीर्वाद , बहुत-बहुत स्नेह , सुखी रहो , प्रसन्न रहो 

शुभचिंतक , हितैषी , शुभाकांक्षी 

अपने से बड़ों को

आदरणीय , पूजनीय माननीय , श्रद्धधेय 

सादर प्रणाम , चरण स्पर्श प्रणाम

आपका आज्ञाकारी , आपका पुत्र /पुत्री /बहन /भाई /बहू

बराबर वालों या मित्रजनों  को

मित्रवर , प्रियवर , मान्यवर 

सप्रेम नमस्ते , नमस्कार

तुम्हारा हितैषी , शुभाभिलाषी आदि

अनोपचारिक पत्र का प्रारुप

भेजने वाले का पता ……………………………………………………………………………………………………………………………………………

दिनांक …………/………/202……

संबोधन ……………………………………………………………………………………………………………………………………

अभिवादन ……………………………………………………………………………………………………………………………………………..

पत्र विस्तार ……………………………………………………………………………………………………………………………………….……………………………………………………………………………………………………………………………………….……………………………………………………………………………………………………………………………………….

अनुच्छेद 1 :

अनुच्छेद 2:

अनुच्छेद तीन और समापन। 

भेजने वाले का नाम  ……………………………………………………………………………………………………………………………………….……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………….……………………………………….

अनौपचारिक पत्र का उद्धारण

उदाहरण 1.अपने विद्यालय की तरफ से नई दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित पुस्तक प्रदर्शनी में जाने के अपने अनुभव को अपने पिताजी को बताते हुए पत्र लिखिए?

परीक्षा भवन
केंद्र विद्यालय
नई दिल्ली
दिनांक-12 अक्टूबर 2005

आदरणीय पिताजी
सादर प्रणाम
मैं यहां कुशलपूर्वक से हूं। आशा करता हूं आप सभी कुशल पूर्वक होंगे। मैं इस पत्र के माध्यम से अपने अनुभवों को आपके साथ अवगत कराना चाहता हूं। पिछले सप्ताह मैं विद्यालय की तरफ से नई दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित पुस्तक प्रदर्शनी में गया था। विगत सप्ताह 6 अक्टूबर 2005 को दिल्ली के प्रगति मैदान में पुस्तक प्रदर्शन का आयोजन हुआ था।

मुझे भी इस पुस्तक प्रदर्शनी में जाने का शुभ अवसर प्राप्त हुआ और यह पुस्तक प्रेमियों के लिए एक बहुत सुंदर आयोजन था। पिताजी आपको पता है दिल्ली के प्रगति मैदान में वहां अनेक प्रकार की पुस्तके सजी हुई थी। अनेक विश्व प्रसिद्ध लेखों की लिखी हुई पुस्तकें जो विभिन्न विषयों पर आधारित थी वह भी वहां उपलब्ध थी। मैंने भी अपने ज्ञान अध्ययन हेतु कुछ पुस्तकें खरीदी है।

वह पुस्तक प्रदर्शनी मुझे बहुत अच्छी लगी मैंने इस अवसर का लाभ उठाया। प्रगति मैदान में दिल्ली पुस्तक मेला (दिल्ली पुस्तक मेला) का आयोजन किया जाता है। यह मेला एनबीटी इंडिया द्वारा नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेला (विश्व पुस्तक मेला) से अलग है। दिल्ली पुस्तक मेला दिल्ली के कैलेंडर में एक महत्वपूर्ण पुस्तक कार्यक्रम है।

इससे पहले कि मैं आपको और विवरण दूं, मैं यह स्पष्ट कर दूं कि दिल्ली पुस्तक मेला (दिल्ली पुस्तक मेला) नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेला (विश्व पुस्तक मेला) से अलग है। दिल्ली पुस्तक मेला का आयोजन (आमतौर पर सितंबर-अक्टूबर में) इंडिया ट्रेड प्रमोशन ऑर्गनाइजेशन (आईटीपीओ) और द फेडरेशन ऑफ इंडियन पब्लिशर्स (एफआईपी) द्वारा किया जाता है।

नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेला (विश्व पुस्तक मेला) का आयोजन नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया द्वारा (आमतौर पर फरवरी में) किया जाता है। इन दोनों मेलों का स्थान एक ही है और वह है प्रगति मैदान।अब मैं अपना पति यहीं पर समाप्त करता हूं मां को मेरा प्रणाम और छोटों को मेरा प्यार दीजिएगा।

आपका पुत्र
अभिनव

उदाहरण 2. अपने नए विद्यालय में बने नए मित्रों के बारे में बताते हुए अपने पिता को एक पत्र लिखिए और उन्हें पत्र के माध्यम से बताइए कि आपको अपने दोस्तों में क्या अच्छा लगा?

परीक्षा भवन
केंद्र विद्यालय
नई दिल्ली
दिनांक- 4 अप्रैल 2021

आदरणीय पिताजी
सादर प्रणाम
मैं यहां कुशल से हूं और आशा करता हूं आप सभी कुशल पूर्वक होंगे। आपको बताते हुए मुझे बहुत खुशी हो रही है कि मेरा नया विद्यालय बहुत अच्छा है और यहां पर मेरे बहुत सारे अच्छे मित्र बन गए हैं। मेरे कुछ दोस्त पढ़ाई में अव्वल है तो कुछ दोस्त खेलों में अच्छे हैं मेरे सारे दोस्तों में जो मेरे सबसे निकट है उसका नाम सुनील है। पिताजी सुनील पढ़ने में बहुत बुद्धिमान है और वह बहुत समझदार भी है।

वह अपने पुस्तक भी मेरे साथ साझा करता है। सुनील की अंग्रेजी भाषा भी बहुत अच्छी है। वह मुझे अंग्रेजी में भी बहुत कुछ सिखाता है। मैं अगली बार जब आप को पत्र लिख लूंगा तो अंग्रेजी में लिख लूंगा। मैं यहां मन लगाकर पढ़ाई कर रहा हूं और इस बार वार्षिक परीक्षा में अव्वल आने की पूरी कोशिश करूंगा। मुझे अपने दोस्तों से बहुत कुछ सीखने के लिए मिला है।

हम सब प्रतिदिन घंटो साथ बैठकर पढ़ाई करते हैं और जब पढ़ाई से मन भर जाता है तो थोड़ा खेल कूद कर लेते हैं। खेल कूद करने से शरीर का व्यायाम भी हो जाता है। आपको पता है पिताजी खेलने से शरीर स्वस्थ रहता है। पिताजी अगले सप्ताह हमारे विद्यालय में प्रतियोगिता एवं नाटकों का आयोजन होने वाला है, जिसमें मैं भाग लेने के बारे में सोच रहा हूं। जीतने वाले को बहुत से इनाम मिलेंगे।

आशा करता हूं कि आप को मेरे नए दोस्त सुनील के बारे में सुनकर अच्छा लगा होगा और मैं आपके पत्र का इंतजार करूंगा। मां को मेरा प्रणाम और छोटों को मेरा प्यार दीजिएगा।

आपका पुत्र
नंदन

उदाहरण 3. अच्छी संगति का महत्त्व बताते हुए अपने छोटे भाई को पत्र लिखिए?

परीक्षा भवन
एयर फोर्स स्कूल
नैनीताल
दिनांक- 4 जून 2021

प्रिय अखिल
मैं यहां कुशल पूर्वक आशा करता हूं। तुम भी कुशल पूर्वक है मुझे कल तुम्हारे प्रधानाचार्य का पत्र मिला, जिसमें उन्होंने यह बताया है कि तुम किसी बुरे संगति में पड़ गए हो और अपने शिक्षकों का बात भी नहीं मानते हो। मुझे बहुत दुख हुआ यह सुनकर के कि तुम बुरे संगति में पड़ गए हो। अखिल मैं आज कुछ अपना अनुभव तुम्हें अवगत कराना चाहता हूं।

मित्र का चुनाव वास्तव में कठिन कार्य है। क्योंकि उसकी संगति का से ही व्यक्ति में गुण दोष आते हैं और व्यक्ति अपने जीवन के आसपास के वातावरण से प्रभावित होता है। मानव के विचारों और कार्यों को उसके संस्कार वंश परंपरा यही दिशा दे सकती है। यदि उसे अच्छा वातावरण मिलता है तो कल्याण के मार्ग पर चलते हैं और उसे यदि उसे दूषित वातावरण मिलता है तो वह उसके कार्य भी उसके प्रभावित हो जाते हैं।

व्यक्ति जिस वातावरण व संगति में रहता है, उसका प्रभाव अनिवार्य रूप से उससे पड़ता है। आपका संगति आपका भविष्य तय करती है। अच्छी संगति अच्छा भविष्य बुरी संगति बुरा भविष्य आशा करता हूं कि तुम्हें मेरी बात समझ में आ गई होगी। बुरी संगति प्रतिभावान व्यक्ति को भी बेकार और सफल बना देती है। इसलिए अपने दोस्त सावधानी से सुनो घर के एक व्यक्ति की बुरी संगति से पूरे परिवार के लिए मुसीबत खड़ी हो सकती है।

अगर तुम्हें किसी अच्छे व्यक्ति का साथ ना मिल रहा हो तो अकेले ही आगे बढ़ना अच्छा रहता है। थोड़ी मुश्किल ही आएगी लेकिन यही आपके भविष्य के लिए अच्छा होगा। मुझे उम्मीद है कि तुम मेरी बातों को ध्यान रखोगे और शीघ्र ही अपने लिए अच्छे मित्र ढूंढोगे और गंदे मित्र को छोड़ दोगे।

मुझे शीघ्र ही तुम्हारे अगले पत्र का इंतजार रहेगा, जिसमें तुम मुझे नए मित्र के बारे में बताओगे। मन लगाकर के पढ़ाई करो सदैव अपने गुरुजनों का सम्मान करो और अपने सहपाठियों से इसने की भावना रखो ईश्वर तुम्हारी हर मनोकामना को पूर्ण करें और अपना ख्याल रखो पढ़ाई-लिखाई करके एक अच्छा व्यक्ति बने।

तुम्हारा बड़ा भाई
अभिनव
स्नेह आशीर्वाद

अन्य महत्वपूर्ण जानकारी

शिकायती पत्रसूचना लेखनसंदेश लेखन
विज्ञापन लेखनऔपचारिक पत्र लेखनअनौपचारिक पत्र लेखन
तत्सम और तद्भव शब्दविशेषणकारक

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here