कर्ता कारक (परिभाषा और उदाहरण)

कर्ता कारक (Karta Karak Kise Kahate Kain): हिंदी व्याकरण में कारक शब्दों का मुख्य रूप से प्रयोग होता है। व्याकरण में कारक शब्दों का कितना महत्व होता है, इसके बारे में जानकारी कारक को पढ़ने के बाद में पता चलती है।

Karta Karak Kise Kahate Hain
Karta Karak Kise Kahate Hain

यहां पर हम कर्ता कारक किसे कहते हैं, कर्ता कारक के उदाहरण आदि के विस्तार से जानेंगे।

कारक के बारे में विस्तार से पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें कारक (परिभाषा, भेद और उदाहरण)

कर्ता कारक किसे कहते हैं?

कर्ता कारक की परिभाषा: कोई भी वाक्य जिसमें कार्य करने वाले का पता लगता है, उन्हें कर्ता कारक कहा जाता है। कर्ता कारक में विभक्ति चिह्न के रूप में ने का प्रयोग होता है।

जैसे: राम ने केला खाया, प्रियंका ने गाड़ी चलाई इत्यादि।

कर्ता कारक के भेद

कर्ता कारक दो प्रकार का होता है, जो निम्न है:

  1. परसर्ग सहित 
  2. परसर्ग रहित

परसर्ग सहित

जो वाक्य भूतकाल के लिए प्रयोग होते हैं और उन वाक्यों में ‘ने’ परसर्ग का प्रयोग होता है। उनको परसर्ग सहित कर्ता कारक कहा जाता है। उदाहरण:

  • मेरे मित्र ने आज यह खाया था।
  • रामू ने आज गाड़ी चलाई थी।
  • टीचर ने आज मुझे पीटा था।
  • सुरेश ने आज केला खाया था।
  • दीपक ने सुबह आज बादाम खाए थे।

परसर्ग रहित

जो वाक्य वर्तमान और भविष्य काल के लिए प्रयोग होते हैं और उन वाक्य में ‘ने’ परसर्ग का प्रयोग नहीं होता है। उन वाक्यों को परसर्ग रहित कर्ता कारक कहा जाता है।

  • राम स्कूल जा रहा है।
  • कल भारत का मैच होगा।
  • मोहन किताब पढ़ रहा है।
  • नरेश खाना खाता है।
  • सुरेश किताबें पढ़ता है।
  • दीपक सो रहा है।

कर्ता कारक के मुख्य उदाहरण

यहां पर हम कर्ता कारक को कुछ उदाहरण (Karta Karak Examples in Hindi) के माध्यम से समझेंगे, जिससे आपको कर्ता कारक आसानी से समझ में आ जायेगा।

  • राम ने आज क्रिकेट खेला।

ऊपर उदाहरण में आप देख सकते हैं कि ‘ने’ विभक्ति चिन्ह का प्रयोग किया गया‌ है। यह चिन्ह कर्ता कारक को दर्शाता है और इस वाक्य में बताया जा रहा है कि राम ने आज क्रिकेट खेला है। इसका मतलब कार्य करने वाले करता का पता चल रहा है। अतः यह कर्ता कारक का मुख्य उदाहरण है।

  • रमेश ने बीमार की सहायता की।

प्रयुक्त वाक्य में ‘ने’ विभक्ति चिन्ह का प्रयोग हुआ है। इस विभक्ति चिन्ह के आधार पर कार्य करने वाले कर्ता का पता चल रहा है। अतः यह उदाहरण कर्ता कारक की श्रेणी में आएगा।

  • राकेश ने न्यूज़पेपर पूरा पढ़ लिया।

ऊपर उदाहरण में ‘ने’ विभक्ति चिन्ह का प्रयोग हुआ है। इस विभक्ति चिन्ह के माध्यम से कार्य करने वाले व्यक्ति के बारे में पता चल रहा है। इस विभक्ति चिन्ह के जरिए कर्ता के काम करने की स्थिति का पता चला है। अतः यह वाक्य कर्ता कारक के अंतर्गत आएगा।

  • राधा ने आम खाया।

ऊपर उदाहरण में स्पष्ट रूप से पता चल रहा है कि ‘ने’ विभक्ति चिन्ह का प्रयोग हुआ है और इस चिन्हों के माध्यम से कर्ता के कार्य के बारे में स्पष्ट रूप से पता चल रहा है।‌ अतः यह उदाहरण जिसको कर्ता कारक के अंतर्गत रखा जाएगा।

  • पवन ने गाड़ी चलाई।

ऊपर वाक्य में स्पष्ट रुप से देख पा रहे होंगे कि ‘ने’ विभक्ति चिह्न का प्रयोग किया गया है। इस विभक्ति चिन्ह के जरिए काम करने वाले व्यक्ति की स्थिति के बारे में पता चल रहा है। मतलब कर्ता के कार्य के बारे में स्पष्ट रूप से पता चल रहा है। अतः इस वाक्य को कर्ता कारक (Karta Karak) के अंतर्गत रखा जाएगा।

हमने क्या सिखा?

हमने यहां पर कर्ता कारक किसे कहते हैं और इसके उदाहरण के बारे में विस्तार से जाना है। यदि आपका इससे जुड़ा कोई सवाल या सुझाव है तो हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। इस जानकारी को आगे शेयर जरूर करें।

यह भी पढ़े

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here