अधिकरण कारक (परिभाषा और उदाहरण)

अधिकरण कारक (Adhikaran karak): हिन्दी व्याकरण में कारक काफी महत्व रखता है। कारक के बारे में जानकारी लेना हर विद्यार्थी के लिए काफी जरूरी है। हिंदी व्याकरण में कारक को मुख्य रूप से पढ़ा जाता है और कारक का एक भाग सम्प्रदान कारक है। यहां पर अधिकरण कारक के बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान कर रहे हैं।

Adhikaran karak
Adhikaran karak

यहां पर अधिकरण कारक की परिभाषा और उसके उदाहरण आदि के बारे में विस्तार से जानने वाले है।‌

कारक के बारे में विस्तार से पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें कारक (परिभाषा, भेद और उदाहरण)

अधिकरण कारक किसे कहते है?

अधिकरण कारक की परिभाषा: अधिकरण का मतलब आश्रय होता है, संज्ञा का वह स्वरूप जिसमें किया कि आधार का बोध होता हो, उसे अधिकरण कारक कहते हैं।

अधिकरण कारक में विभक्ति चिन्ह में भीतर अंदर, ऊपर, बीच, इत्यादि शब्दों का प्रयोग होता है।

अधिकरण कारक के उदहारण

  • जब मैं कुए के अंदर गया तो पता चला पानी नहीं है।

प्रयुक्त उदाहरण में अंदर विभक्ति चिन्ह का प्रयोग हुआ है। अतः यह उदाहरण अधिकरण कारक के अंतर्गत आएगा। क्योंकि जिस उदाहरण में अंदर विभक्ति चिन्ह का प्रयोग होता है। वह अधिकरण कारक का मुख्य उदाहरण माना जाता है।

  • जब बाबा घर में आए थे तब कोई नहीं था।

ऊपर उदाहरण के अंदर मे विभक्ति चिन्ह का प्रयोग हुआ है। इस उदाहरण के माध्यम से घर के अंदर पापा गए तब कोई नहीं था। अतः यह उदाहरण अधिकरण कारक के अंतर्गत आएगा।

  • राजा ने रणभूमि में जान दे दी।

ऊपर उदाहरण के अंदर में विभक्ति चिन्ह का प्रयोग हुआ है। अतः यह उदाहरण अधिकरण कारक के अंतर्गत आएगा। क्योंकि इस उदाहरण में राजा के रणभूमि में जान देने की बात कही जा रही है।

  • खाना बीच में छोड़ दो।

इस वाक्य में बीच शब्द का प्रयोग विभक्ति चिह्न के रूप में किया गया है। यह शब्द अधिकरण कारक का हिस्सा है और यह उदाहरण अधिकरण कारक के अंतर्गत आएगा।

  • राधिका ने क्लास बीच में छोड़ दी।

ऊपर दिए के उदाहरण में बताया गया है कि राधिका जिसने बीच में क्लास छोड़ दी है। बीच शब्द का प्रयोग विभक्ति चिह्न के रूप में हुआ है। अतः यह अधिकरण कारक का उदाहरण है।

अधिकरण कारक के अन्य उदाहरण

  • मछलियां पानी में रहती है।
  • घर के अंदर दीपक जल रहे हैं।
  • राम ने क्लास बीच में छोड़ दी।
  • राधा के घर के अंदर चोर था।
  • मेरा दोस्त कमरे के अंदर है।

ऊपर दिए गए उदाहरण में विभक्ति चिन्ह का प्रयोग हुआ है और यह सभी उदाहरण अधिकरण कारक के उदाहरण है।

हमने क्या सिखा?

हमने यहां पर अधिकरण कारक किसे कहते हैं और इसके उदाहरण के बारे में विस्तार से जाना है। यदि आपका इससे जुड़ा कोई सवाल या सुझाव है तो हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। इस जानकारी को आगे शेयर जरूर करें।

यह भी पढ़े

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here