कर्म कारक (परिभाषा और उदाहरण)

कर्म कारक (Karm Karak): कारक जिसे हिंदी व्याकरण की मुख्य शाखा माना‌ जाता है। आज हम कारक का एक भाग कर्म कारक के बारे में यहां पर जानने वाले हैं।

Karm Karak
Karm Karak

यहां पर हम कर्म कारक किसे कहते हैं (Karm Karak Kise Kahate Hain), कर्म कारक की परिभाषा (Karm Karak ki Paribhasha), कर्म कारक के उदाहरण (Karm Karak ke Udaharan) आदि के विस्तार से जानेंगे।

कारक के बारे में विस्तार से पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें कारक (परिभाषा, भेद और उदाहरण)

कर्म कारक किसे कहते हैं?

कर्म कारक की परिभाषा: किसी भी वस्तु या व्यक्ति द्वारा वाक्य में की गई क्रिया का प्रभाव पड़ता है, उसे कर्म कारक कहते हैं। कर्म कारक में ‘को’ विभक्ति चिन्ह का प्रयोग होता है।

कर्म कारक का चिन्ह क्या होता है?

हिंदी या संस्कृत की भाषा में कुल 8 कारक होते हैं और इन सभी आठों कारकों का अलग-अलग चिन्ह होता है, जिनकी मदद से हम किसी भी कारक को पहचान सकते हैं तथा उसे आसानी से समझ सकते हैं।

संस्कृत भाषा में यदि कारक के चिन्ह को हमने पहचाना है तो उसके आधार पर हम कारक को चिन्हित करके अपने अनुवाद को आसानी से कर पाते हैं, इसीलिए किसी भी कारक का चिन्ह जानना बहुत ही आवश्यक होता है।

कर्म कारक का चिन्ह “को” इसकी मदद से हम कर्म कारक को बड़ी ही आसानी से कर्म कारक की पहचान कर पाते हैं, जिससे हमें कारण का पता लग जाता है और अपने कार्य को बड़ी ही सरलता पूर्वक कर पाते हैं।

कर्म कारक में विभक्ति कौन सी होती है?

सभी कारकों की विभक्ति अलग-अलग विभक्ति होती है तथा हमारे संस्कृत या हिंदी भाषा में कुल 7 विभक्तिया होती है। प्रत्येक विभक्तिओ के अलग-अलग कारक होते है। कर्म कारक की विभक्ति द्वितीय विभक्ति होती है।

कर्म कारक के 10 उदाहरण

  • मोहन स्कूल को जा रहा था।

मोहन स्कूल को जा रहा था इस वाक्य में कर्म कारक है क्योंकि इस वाक्य में मोहन स्कूल को जा रहा है तथा अपने ऊपर आपको बताया कि कर्म कारक का चिन्ह को होता है तो इस वाक्य में कर्म कारक है।

  • राम गीता की पुस्तक को पढता है।

राम गीता की पुस्तक को पढता है इस वाक्य में राम गीता की पुस्तक को पढता वाक्य में को आया है, जिसके कारण इस वाक्य में कर्म कारक है।

  • सोहन कुत्ते को भगाता है।

इस वाक्य में सोहन कुत्ते को भगाने कार्य कर रहा है इस वाक्य में भी को आया है आशा 30 वाक्य में भी कर्म कारक है।

  • राम ने लखन को गले लगाया।

राम ने लखन को गले लगाया इस वाक्य में भी कर्म कारक है।

  • मोहन ने फल को तोड़ा।

इस बात ने मोहन द्वारा फल को तोड़ा जाता है अर्थात इस वाक्य में भी कर्म कारक है।

  • राहुल अपने बालों को कंघी करता है।

विश्वास ने राहुल अपने बालों को कंघी कर रहा है अर्थात इस वाक्य में भी को आया है, जिसके कारण से इसमें कर्म कारक है।

  • राधा अपने पुत्र को लेने स्कूल जा रही है।

राधा अपने पुत्र को लेने स्कूल जा रही है, इस वाक्य में राधा अपने पुत्र को लेने जा रही है अर्थात इस वाक्य में कर्म कारक है।

  • पिता ने पुत्र को आज्ञा दिया।

पिता ने पुत्र को आज्ञा दिया इस वाक्य में को आया है, जिसके कारण से इस वाक्य में कर्म कारक है।

  • अध्यापक छात्रों को पढ़ाते हैं।

अध्यापक द्वारा छात्रों को पढ़ाई जाने का कार्य हो रहा है, इस वाक्य में को आया है अर्थात इस वाक्य में कर्म कारक है।

  • माता ने अपने पुत्र को खाना खिलाया।

इस वाक्य में माता द्वारा अपने पुत्र को खाना खिलाने का कार्य किया जा रहा है, जिसके कारण से इस वाक्य में कर्म कारक है।

कर्म कारक के प्रमुख उदाहरण (Karm Karak Examples in Hindi)

  • राम ने रावण को मारा।

प्रयुक्त वाक्य में ‘को’ शब्द का प्रयोग हुआ है। यह को विभक्ति चिन्ह जिसके माध्यम से क्रिया का असर रावण पर पड़ रहा है। अतः रावण कर्म कहलायेगा और यह वाक्य कर्म कारक के अंतर्गत आएगा।

  • अध्यापक ने छात्र को बुलाया।

प्रयुक्त उदाहरण में ‘को’ विभक्ति चिन्ह का उपयोग किया गया है। इस विभक्ति चिन्ह के आधार पर क्रिया का प्रभाव छात्र पर पड़ रहा है और इस वाक्य में छात्र कर्म कहलायेगा और उदाहरण के रूप में दिया गया यह वाक्य कर्म कारक के अंतर्गत आएगा।

  • पापा ने भाई को डांटा।

ऊपर दिए गए इस वाक्य में स्पष्ट दिखाई दे रहा है कि वाक्य में ‘को’ विभक्ति चिन्ह का प्रयोग हुआ है। इस वाक्य में क्रिया का प्रभाव भाई पर पड़ रहा है। अतः भाई कर्म कहलायेगा और यह वाक्य कर्म कारक की श्रेणी में आएगा।

  • रमेश ने राम को मारा।

इस वाक्य में स्पष्ट दिखाई दे रहा है कि ‘को’ विभक्ति चिन्ह का प्रयोग हुआ है। इस वाक्य में क्रिया का प्रभाव राम पर पड़ रहा है और राम जिसे कर्म कहा जाएगा और इस वाक्य को कर्म कारक के अंतर्गत रखा जाएगा।

  • टीचर ने सभी छात्रों को बुलाया है।

उदाहरण के रूप में ऊपर दिए गए वाक्य में ‘को’ विभक्ति चिन्ह का प्रयोग किया गया है। इस वाक्य में क्रिया का प्रभाव छात्रों पर पड़ रहा है और छात्रों को कर्म कहा जाएगा अतः यह उदाहरण कर्म कारक के अंतर्गत आएगा।

कर्म कारक के कुछ अन्य उदाहरण

  • राकेश ने अपनी गाड़ी को तेज भगाया।
  • रमेश ने राधिका को तमाचा मारा।
  • मां ने अपने बच्चे को दूध पिलाया।
  • कुत्ते ने मेरे दोस्त को काट दिया।
  • राम ने घोड़े को पानी पिलाया।

ऊपर दिए गए सभी उदाहरण में ‘को’ विभक्ति चिन्हा का उपयोग हुआ है और सभी उदाहरण में किया का प्रभाव साफ साफ दिखाई दे रहा है।

हमने क्या सिखा?

हमने यहां पर कर्म कारक किसे कहते हैं और इसके उदाहरण के बारे में विस्तार से जाना है। यदि आपका इससे जुड़ा कोई सवाल या सुझाव है तो हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। इस जानकारी को आगे शेयर जरूर करें।

यह भी पढ़े

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।