हार्डवेयर क्या होता है? (महत्व, प्रकार, भाग और उदाहरण)

Hardware Kya Hai: यदि आपने कंप्यूटर कभी पढा है या कंप्यूटर में रुचि रखते हैं तो आपने हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर इन दो शब्दों के बारे में निश्चित ही सुना होगा और बिना इन दोनों के कंप्यूटर का कोई अस्तित्व नहीं होता। हालांकि हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर इन दोनों के कार्य भिन्न-भिन्न होते हैं यहां तक कि इन दोनों में काफी अंतर होता है फिर भी केवल एक की उपस्थिति में कंप्यूटर को नहीं चलाया जा सकता।

ऐसे ही कुछ सहायक उपकरणों और प्रोग्राम की मदद से कंप्यूटर असल कंप्यूटर बनते हैं, जिसके बाद हम कंप्यूटर को चला पाते हैं। इस तरीके से हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर कंप्यूटर के मुख्य 2 भाग होते हैं और आज के लेख में हम कंप्यूटर के प्रमुख भाग हार्डवेयर के बारे में जानेंगे कि हार्डवेयर क्या है?, हार्डवेयर के कितने प्रकार होते हैं?

Hardware Kya Hai
Hardware Kya Hai

यदि आपको भी नहीं पता कि हार्डवेयर क्या होता है तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें, जिससे आपको कंप्यूटर हार्डवेयर के बारे में सारी जानकारी मालूम हो जाएगी।

हार्डवेयर क्या होता है? (महत्व, प्रकार, भाग और उदाहरण) | Hardware Kya Hai

कंप्यूटर हार्डवेयर क्या है?

हार्डवेयर कंप्यूटर का वह भाग होता है, जिसे हम देख वह छू सकते हैं। हार्डवेयर की मदद से हम कंप्यूटर को निर्देश भेजते हैं और हार्डवेयर की मदद से ही आउटपुट निकल कर आता है। कीबोर्ड, माउस, प्रिंटर, मॉनिटर, मदरबोर्ड इत्यादि यह सभी कंप्यूटर हार्डवेयर के उदाहरण है।

आप इसे इस तरह भी समझ सकते हैं कि कंप्यूटर पर आप जो भी पढ़ते हैं, वो स्क्रीन पर दिखाई देता है और वह स्क्रीन एक हार्डवेयर है। इस तरीके से हार्डवेयर से ही कंप्यूटर की संरचना बनती है और बिना हार्डवेयर के कंप्यूटर का कोई अस्तित्व नहीं है।

उदाहरण के लिए आप नॉट पैड पर कुछ टाइप करते हैं, जहाँ टाइप करते हैं, वह सॉफ्टवेयर है। लेकिन टाइप करने के लिए हम कीबोर्ड का इस्तेमाल करते हैं और वह कीबोर्ड हार्डवेयर है और बिना कीबोर्ड के हम टाइपिंग नहीं कर सकते। इस तरीके से हम कंप्यूटर को हार्डवेयर की मदद से ही निर्देश भेजते हैं और जब तक हम निर्देश नहीं भेजेंगे कंप्यूटर किसी भी प्रकार का आउटपुट नहीं दिखाएगा।

इस तरह बिना हार्डवेयर के कंप्यूटर नहीं संचालित किया जा सकता। केवल हार्डवेयर ही नहीं बिना सॉफ्टवेयर के भी कंप्यूटर नहीं चलाया जा सकता। कंप्यूटर को चलाने के लिए हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर दोनों की उपस्थिति जरूरी है।

हार्डवेयर का महत्व

कंप्यूटर के संचालन में हार्डवेयर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। बिना हार्डवेयर के कंप्यूटर की कल्पना नहीं की जा सकती है। क्योंकि कंप्यूटर को बनाने में कई सारी सर्किट को मदरबोर्ड के साथ जोड़ा जाता है, किबोर्ड लगाया जाता है, मॉनिटर फिक्स किया जाता है, स्पीकर, सीपीयू, यूपीएस सब कनेक्ट किए जाते हैं और तब जाकर कंप्यूटर चलने के लिए तैयार होता है और यह सब हार्डवेयर है और बिना इन सबके कंप्यूटर को नहीं चला सकते हैं।

इसके अलावा सरल शब्दों मे कंप्युटर मे दिखने वाली और आप जीतने जीजों को छु सकते है, वो सब हार्डवेयर कहलाता है। हार्डवेयर वो सभी चीजें है, जिनके द्वारा कंप्युटर बनता है। आप जो भी वस्तु कंप्युटर मे देखते है, जिन्हे आप छु सकते है और कंप्युटर को निर्देश दे सकते है। साथ ही आपने निर्देश का जवाब पा सकते है, उन सबको कंप्युटर का हार्डवेयर कह सकते है।

हार्डवेयर के प्रकार

कंप्यूटर हार्डवेयर के अंतर्गत आने वाले जितने भी घटक हैं, उन्हें मुख्य रूप से चार भागों में बांटा गया है, जो कुछ निम्नलिखित है:

इनपुट डिवाइस (Input Device)

इनपुट डिवाइस एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है, जिसकी मदद से हम कंप्यूटर को कंट्रोल करते हैं। यूं कहे कि हम इसी डिवाइस की मदद से कंप्यूटर तक डेटा, सूचना और कमांड को पहुंचाते हैं। उस कमांड और डेटा को पढ़ने के बाद कंप्यूटर प्रोसेस करता है और फिर आउटपुट देता है।

कीबोर्ड एक इनपुट डिवाइस है, जिसकी मदद से हम टाइपिंग करके कंप्यूटर को कमांड भेजते हैं और फिर वह उसे मॉनिटर पर आउटपुट की तरह दिखाता है। स्केनर, माउस और माइक्रोफोन भी इनपुट डिवाइस का उदाहरण है। इन सभी इनपुट डिवाइस के मदद से कंप्यूटर को इनपुट दिया जाता है।

यह भी पढ़े: इनपुट डिवाइस क्या है? इसकी परिभाषा, प्रकार और उदाहरण

 आउटपुट डिवाइस (Output Device)

आउटपुट डिवाइस कंप्यूटर हार्डवेयर के श्रेणी में आते हैं। हार्डवेयर कंप्यूटर को दिए गए निर्देश के अनुसार आउटपुट दिखाने में मदद करता है। उदाहरण के लिए मॉनिटर कंप्यूटर का मुख्य आउटपुट डिवाइस हैं।

कीबोर्ड पर टाइप करके जो भी निर्देश कंप्यूटर को दिए जाते हैं, उसका आउटपुट मॉनिटर पर दिखता है। आउटपुट डिवाइस के द्वारा ही कंप्यूटर अन्य हार्डवेयर डिवाइस और यूजर से कम्युनिकेट कर पाता है।

मॉनिटर के अतिरिक्त प्रिंटर, स्पीकर, हेडफोंस, और प्रोजेक्टर कंप्यूटर के हार्डवेयर श्रेणी में आने वाले आउटपुट डिवाइस हैं।

यह भी पढ़े: आउटपुट डिवाइस क्या है? (प्रकार, कार्य और उदाहरण)

प्रोसेसिंग डिवाइस (Processing Device)

कंप्यूटर हार्डवेयर की श्रेणी में आने वाले प्रोसेसिंग डिवाइस को इंटरनल मेमोरी डिवाइस भी कहा जाता है, जो इनपुट और आउटपुट के बीच मध्यवर्ती अवस्था का कार्य करता है। कंप्यूटर को जो भी निर्देश दिए जाते हैं, वह निर्देश कंप्यूटर तक पहुंचते ही परिणाम नहीं आ जाता, उससे पहले प्रोसेसिंग डिवाइस से गुजरना होता है।

वहां पर प्रक्रिया होने के बाद परिणाम को आउटपुट डिवाइस पर दिखाया जाता है। इस तरह प्रोसेसिंग डिवाइस वह स्टेज है, जहां पर रॉ डेटा को इंफॉर्मेशन में बदला जाता है। सीपीयू, जिपीयू, नेटवर्क कार्ड इत्यादि प्रोसेसिंग डिवाइस के अंतर्गत आते हैं।

यह भी पढ़े: प्रोसेसिंग डिवाइस क्या है? और इसका उदाहरण

स्टोरेज डिवाइस (Storage Device)

स्टोरेज डिवाइस कंप्यूटर हार्डवेयर के श्रेणी का वह डिवाइस है, जो कंप्यूटर को दिए जाने वाले डेटा को संभाल के रखता है, उसे स्टोर करने का कार्य करता है। कंप्यूटर में स्टोरेज डिवाइस दो प्रकार के होते हैं प्रायमरी स्टोरेज डिवाइस और सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस।

प्राइमरी स्टोरेज डिवाइस वह डिवाइस होते हैं, जो डेटा को कुछ क्षण के लिए स्टोर करके रखते हैं। वहीँ सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस डेटा को स्थायी रूप से सेव करके रखते हैं।

प्राइमरी स्टोरेज डिवाइस आकार में काफी छोटे होते हैं, जो कंप्यूटर में आंतरिक रूप से लगे होते हैं। हाई सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस आकार में बड़े होते हैं, जो कंप्यूटर में अंदर या बाहर मौजूद होते हैं।

RAM, ROM प्राइमरी स्टोरेज डिवाइस के अंतर्गत आते हैं। वहीँ Hard Disk Drive, Flash Memory, USB Device, Optical Disk Drive इत्यादि सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस के अंतर्गत आते हैं।

हार्डवेयर के भाग

हार्डवेयर को मुख्य रूप से दो भागों में विभाजित किया गया जो निम्नलिखित हैं:

इंटरनल हार्डवेयर

इंटरनल हार्डवेयर का मतलब होता है कंप्यूटर के ऐसे भौतिक घटक, जिसे कंप्यूटर के अंदर मौजूद होते हैं, जिसे हम देख नहीं सकते। हालांकि हम कम्प्यूटर को खोलने के बाद देख सकते हैं और छू सकते हैं।

रेम, रोम, पीएसयू, एनआईसी, मदरबोर्ड, सीपीयू ग्राफिक कार्ड इत्यादि इंटरनल हार्डवेयर के उदाहरण है।

एक्सटर्नल हार्डवेयर

कंप्यूटर के वह भौतिक घटक जो कंप्यूटर के बाहर से कंप्यूटर के साथ जुड़े होते हैं, इन घटक को हम देख सकते हैं, इसे पेरीफेरल कंपोनेंट भी कहा जाता है। इनपुट और आउटपुट डिवाइस एक्सटर्नल हार्डवेयर में ही आते हैं। प्रिंटर, स्कैनर, कीबोर्ड, माउस, मॉनिटर, यूपीएस, स्पीकर इत्यादि एक्सटर्नल हार्डवेयर के उदाहरण है।

कंप्यूटर हार्डवेयर के कुछ उदाहरण

Mouse

कंप्यूटर के संचालन में माउस का अत्यधिक योगदान होता है। यह कंप्यूटर हार्डवेयर की श्रेणी में आने वाला इनपुट डिवाइस है, जिसकी मदद से कंप्यूटर में डेटा को इनपुट किया जाता है। इसे पॉइंटिंग डिवाइस भी कहा जाता है, जिसे चुनने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसकी मदद से कर्सर को भी नियंत्रित किया जाता है।

माउस पर तीन बटन होते हैं दायां, बांया और एक स्क्रॉल बटन होता है, जिससे ऊपर नीचे करके मॉनिटर पर दिखाए गए पेज को ऊपर नीचे कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त माउस का इस्तेमाल कंप्यूटर में किसी भी एप्लीकेशन या सॉफ्टवेयर को खोलने के लिए किया जाता है, जिसके लिए पहले उस सॉफ्टवेयर या एप्लीकेशन के आइकन पर क्लिक करना होता है, जो माउस की मदद से करते हैं।

यह भी पढ़े: माउस क्या होता है? (फुल फॉर्म, प्रकार, कार्य और उपयोग)

Keyboard

कीबोर्ड कंप्यूटर हार्डवेयर की श्रेणी में आने वाला इनपुट डिवाइस है, जो व्यापक रूप से उपयोग में आता है। कंप्यूटर को डेटा व निर्देश भेजने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है। कीबोर्ड के मदद से टाइपिंग करके हम कंप्यूटर को निर्देश दे सकते हैं।

यह बहुत सारे कुंजियों का समूह होता है, जिसका अलग अलग कार्य होता है। इन कुंजियों पर अंग्रेजी वर्णमाला से लेकर, नंबर और अन्य प्रकार की कई गणितीय चिन्ह अंकित होते हैं।

यह भी पढ़े: कीबोर्ड क्या है? पूरी जानकारी

Printer

प्रिंटर कंप्यूटर हार्डवेयर के अंतर्गत आता है, जो एक आउटपुट डिवाइस है। कंप्यूटर को दी जाने वाली निर्देश कोई कागज पर प्रिंट के रूप में आउटपुट दिखाता है। यह सॉफ्ट कॉपी को हार्ड कॉपी में परिवर्तित करता है। यह कंप्यूटर में संग्रहित टेक्स्ट, फोटो या किसी भी डॉक्यूमेंट को कागज में प्रिंट कर सकता है।

कंप्यूटर को दिए जाने वाले निर्देश और दिखाए जाने वाले आउटपुट का कार्य काफी फास्ट होता है और प्रिंटर इतनी तेजी से कार्य करने में सक्षम नहीं होता है। इसीलिए प्रिंटर में एक मेमोरी भी लगा होता है, जो परिणाम को संग्रहित करके रखता है और फिर धीरे-धीरे परिणाम को प्रिंट करता है।

हालांकि कंप्यूटर के संचालन में प्रिंटर की कोई भूमिका नहीं होती है। लेकिन जानकारी को हार्ड कॉपी में निकालने के लिए प्रिंटर को कंप्यूटर से जोड़ना पड़ता है।

यह भी पढ़े: प्रिंटर क्या है? प्रकार, कार्य और उपयोग

मदरबोर्ड

मदरबोर्ड कंप्यूटर का इंटरनल हार्डवेयर डिवाइस है। यह कम्प्यूटर का महत्वपूर्ण भाग होता है, जिसे कंप्यूटर का बैकबोन भी कहा जाता है। इस पे कंप्यूटर के सभी महत्वपूर्ण हार्डवेयर घटक जैसे मेमोरी, हार्ड ड्राइव, वीडियो कार्ड, प्रोसेसर इत्यादि जुड़े होते हैं। यह सभी डेडीकेटेड पोर्ट के माध्यम से जुड़े होते हैं।

मदरबोर्ड इन सभी कनेक्टेड डिवाइस को पावर सप्लाई पहुंचाता है। इसके अतिरिक्त आपस में कम्युनिकेशन भी करवाता है। यह सूचनाओं को भी सुरक्षित रखता है, जिससे कंप्यूटर आसानी से चालू हो जाता है। मदर बोर्ड के बनावट के आधार पर इसे इंटीग्रेटेड मदरबोर्ड और नॉन इंटीग्रेटेड मदरबोर्ड में बांटा गया है।

यह भी पढ़े: मदरबोर्ड क्या है? (कार्य, प्रकार और इतिहास)

Scanner

स्केनर कंप्यूटर हार्डवेयर की श्रेणी में आने वाला इनपुट डिवाइस है। किसी भी हार्ड कॉपी पर लिखे गए जानकारी या तस्वीरों को कंप्यूटर में संग्रहित करने के लिए स्कैन किया जाता है। इस तरीके से स्केनर किसी भी तस्वीर या दस्तावेज को डिजिटल छवियों में परिवर्तित करता है।

स्केनर के कई प्रकार होते हैं, जिनका इस्तेमाल अलग-अलग जगहों पर होता है जैसे कि हैंड हेल्ड स्कैनर (handheld scanner), फ्लैट बेड स्कैनर (Flat Bed Scanner), ड्रम स्कैनर (Drum scanner)।

Monitor

मॉनिटर एक आउटपुट हार्डवेयर डिवाइस है, जो आउटपुट को सॉफ्ट कॉपी के रूप में प्रदर्शित करता है। यह दिखने में बिल्कुल टीवी की तरह होता है। बिना मॉनिटर के कंप्यूटर का कोई इस्तेमाल नहीं। इसे विजुअल डिस्प्ले यूनिट भी कहा जाता है। यह अच्छे स्क्रीन रेजोल्यूशन के साथ अच्छी तस्वीरें दिखाता है। मॉनिटर के मुख्य रूप से चार प्रकार है।

  • LED (Light Emitting Diode)
  • CRT Monitor
  • Flat Panel Monitor
  • LCD (Liquid Crystal Display)

यह भी पढ़े: मॉनीटर क्या हैं? प्रकार और विशेषताएं

FAQ

कंप्यूटर हार्डवेयर कौन-कौन से हैं?

कीबोर्ड, माउस, मदरबोर्ड, मॉनिटर, सीपीयू, स्पीकर, प्रिंटर, स्कैनर, हार्ड डिस्क इत्यादि कंप्यूटर हार्डवेयर के उदाहरण है।

हार्डवेयर के कितने प्रकार होते हैं?

हार्डवेयर के दो प्रकार है। इंटरनल हार्डवेयर और एक्सटर्नल हार्डवेयर।

क्या कंप्यूटर हार्डवेयर पर वायरस का प्रभाव पड़ता है?

नहीं कंप्यूटर वायरस का प्रभाव केवल सॉफ्टवेयर पर पड़ता है। कंप्यूटर हार्डवेयर पर कंप्यूटर वायरस का कोई फर्क नहीं पड़ता।

इंटरनल हार्डवेयर क्या होता है?

कंप्यूटर के हार्डवेयर डिवाइस जो कंप्यूटर के अंदर मौजूद होते हैं, उसे इंटरनल हार्डवेयर डिवाइस कहते हैं। जैसे कि मदरबोर्ड, हार्ड डिस्क, मेमोरी इत्यादि।

क्या बिना हार्डवेयर के केवल सॉफ्टवेयर जरिए कंप्यूटर चलाया जा सकता है?

कंप्यूटर को संचालित करने में सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर दोनों की ही आवश्यकता पड़ती है। इन दोनों के बिना कंप्यूटर का कोई अस्तित्व नहीं है।

एक्सटर्नल हार्डवेयर क्या होता है?

ऐसे कंप्यूटर हार्डवेयर डिवाइस जो कंप्यूटर के बाहर मौजूद होते हैं, जिसे हम देख सकते हैं, उसे एक्सटर्नल हार्ड वेयर कहते हैं। प्रिंटर, माउस, मॉनिटर, स्पीकर, कीबोर्ड इत्यादि एक्सटर्नल हार्डवेयर है।

सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर में क्या अंतर है?

जिन्हें कंप्यूटर के बारे में अच्छे से नहीं पता उन्हें अक्सर इन दो शब्दों के बीच में कन्फ्यूजन रहता है। बता दें सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर में काफी अंतर होता है। जहां हार्डवेयर कंप्यूटर के सभी भौतिकी भाग होते हैं, जिन्हें हम छू सकते हैं, देख सकते हैं, वहीँ सॉफ्टवेयर को हम देख तो सकते हैं लेकिन छू नहीं सकते। इसके अतिरिक्त सॉफ्टवेयर को बनाने के लिए प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में इंस्ट्रक्शन लिखे जाते हैं, वहीँ हार्डवेयर को बनाने के लिए भौतिकी सामग्रियां या कंपोनेंट का इस्तेमाल किया जाता है। कंप्यूटर के सभी प्रोग्राम सॉफ्टवेयर के उदाहरण है।

निष्कर्ष

आज के लेख में हमने कंप्यूटर का महत्व भाग हार्डवेयर के बारे में जाना। हमें उम्मीद है कि इस लेख के जरिए अब आपको समझ में आ गया होगा कि हार्डवेयर क्या होता है और हार्डवेयर के कितने प्रकार होते हैं।

यदि यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे अपने सोशल मीडिया प्लेटफार्म के जरिए जरूर शेयर करें। लेख से संबंधित कोई भी प्रश्न हो तो आप कमेंट में लिख कर पूछ सकते हैं।

यह भी पढ़े

रैम क्या है? प्रकार, कार्य, विशेषताएं और फुलफॉर्म

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? कार्य, प्रकार और विशेषता

डेटाबेस क्या है? इसके प्रकार, कार्य, उपयोग और लाभ

CPU क्या है और कैसे काम करता है?

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 5 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here