वसंत ऋतु पर निबंध

Essay on Spring Season in Hindi: नमस्कार दोस्तों, यहां पर हमने वसंत ऋतु पर निबन्ध शेयर किया है।  वसंत ऋतु हमारे जीवन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। यदि आप वसंत ऋतु पर हिंदी निबंध में खोज रहे है तो आप बिलकुल सही जगह पर आये हैं। यहां पर हमें अलग-अलग शब्द सीमाओं में निबंध उपलब्ध किया है।

Essay on Spring Season in Hindi

यह निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और उच्च कक्षा के विद्यार्थियों के लिए मददगार साबित होगा। आप इस हिंदी निबन्ध को अंत तक जरूर पढ़ें।

वसंत ऋतु पर निबन्ध – Essay on Spring Season in Hindi

वसंत ऋतु पर निबन्ध (250 शब्द)

वसंत ऋतु हम सभी लोगों के लिए आनंददायक ऋतु होती है। वसंत ऋतु सभी ऋतु में सबसे अधिक पसंद किया जाने वाला सीजन माना जाता है। वसंत ऋतु को सभी मित्रों का ऋतुराज कहा जाता है। वसंत ऋतु के आ जाने से लोगों को सर्दी और ठंडी से छुटकारा प्राप्त हो जाता है।

वसंत ऋतु का समय लोगों के लिए बहुत ही खुशी का समय होता है। इस ऋतु में तापमान में नमी आ जाती है और धीरे-धीरे प्रत्येक जगह पर फूल पौधे घास इत्यादि उठ जाते हैं और चारों तरफ हरियाली ही हरियाली दिखाई देने लगती है। इस प्रकृति में सब कुछ सक्रिय होता है और पृथ्वी पर इसी प्रकृति को देखना वसंत ऋतु में संभव हो जाता है।

वसंत ऋतु का आगमन भारत में मार्च-अप्रैल और मई के महीने में आता है अर्थात वसंत ऋतु भारत में 3 महीने के लिए आता है। वसंत ऋतु के आगमन के बाद कोयल पक्षी इत्यादि अपनी आवाज में गाना गाना शुरू कर देते हैं। यही वह ऋतु होती है, जिसमें सभी लोग आम खाने का भली-भांति मजा ले पाते हैं। इस ऋतु के कारण लोग प्रकृति को काफी नजदीकी से देख लेते हैं क्योंकि इस समय में पौधे अपनी नई पत्तियां और फूल लेने लगते हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात वसंत ऋतु के आगमन के उपलक्ष में ही सभी लोग वसंत पंचमी का त्यौहार भी मनाते हैं।

वसंत ऋतु एक ऐसी है जो कि हमारे लिए काफी खुशियां लाती है। वसंत ऋतु के आगमन पर सभी किसान अपने खेतों में फसलों के पकने का इंतजार करने लगते हैं।

वसंत ऋतु पर निबन्ध (600 शब्द)

प्रस्तावना

वसंत ऋतु सभी देशों में अलग-अलग समय पर आती है और इसके अलग-अलग समय पर आने के कारण ही समस्त देशों में अलग-अलग तापमान भी होता है। वसंत ऋतु के आने से सभी किसान काफी उत्सुक हो जाते हैं क्योंकि वसंत ऋतु के आगमन से सभी किसान अपनी-अपनी फसलों के पकने का बड़ी ही बेसब्री से इंतजार करने लगते हैं।

बसंत ऋतु की महत्वपूर्ण जानकारी

वसंत ऋतु के समय में तापमान बहुत ही सामान्य होता है और ना तो ज्यादा सर्दी होती है और ना ही ज्यादा गर्मी। यही कारण है कि वसंत ऋतु को सभी ऋतु में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है और इसे सभी ऋतु का राजा कहा जाता है। वसंत ऋतु के अंतिम समय में धीरे-धीरे गर्मी की शुरुआत होने लगती है और वसंत ऋतु के समाप्ति तक काफी गर्मी शुरू हो जाती है। वसंत ऋतु एक ऐसी ऋतु है, जिसके आ जाने से संपूर्ण प्रकृति मानो एक अलग ही बात कह रही हो।

वसंत ऋतु के समय में फल फूल विकसित होने लगते हैं और कमल का फूल जल को ऐसे खेल लेता है जैसे वह कहना चाहता हो कि अपने सारे दोनों को समेत करके आप एक बहुत ही खुले रुप से जिंदगी का आनंद प्राप्त करें। आसमान में पक्षी अपने किलकारियां मारकर के वसंत ऋतु का स्वागत करते हैं और हम मानव वसंत ऋतु का स्वागत करने के लिए बसंत पंचमी का त्यौहार मनाते हैं।

वसंत ऋतु के आगमन से प्रस्थान तक का समय

वसंत ऋतु का आगमन अंग्रेजी भाषा में मार्च महीने से हो जाता है और वसंत ऋतु का प्रस्थान मई महीने में होता है। वहीं दूसरी तरफ हिंदी भाषा में वसंत ऋतु का आगमन फाल्गुन मास में होता है और उसका प्रस्थान चैत्र मास में होता है। फाल्गुन मास से लेकर चैत्र मास तक का यह समय किसानों, पक्षियों, फलों, फूलों, पेड़ों इत्यादि के लिए काफी लाभदायक होता है।

वसंत ऋतु के आगमन से शीत ऋतु जैसा महा भयंकर प्रकोप भी खत्म हो जाता है। शीत ऋतु के महा भयंकर प्रकोप के खत्म हो जाने के बादसंपूर्ण प्रकृति बहुत ही शुद्ध और वातावरण बहुत ही हरियाली पूर्वक दिखाई देने लगता है। सरसों के पौधे के फूल खिलने लगते हैं और उसकी सुगंध वसंत ऋतु में चारों तरफ फैलने लगती है।

वसंत ऋतु को लेकर लोगों में उत्साह

बसंत रितु को लेकर के लोगों में ऐसा उत्साह उत्पन्न हो जाता है कि लोग काफी खुश हो जाते हैं क्योंकि इसी माह में लोगों की फसलें पकने लगती हैं। इस वसंत ऋतु में सबसे ज्यादा खुशी किसान परिवारों को मिलती है। सभी किसान भाई अपने खेतों में पकी हुई फसलों को हवा के प्रभाव से लहराते हुए देखकर इतना प्रसन्न होते हैं कि वसंत ऋतु की प्रशंसा करने लगते हैं। वसंत ऋतु में ही प्रकृति के कण-कण नवजीवन के लिए संचालित होने लगते हैं। वसंत ऋतु के समय में ही होली जैसा महान पर्व भी आता है, इसीलिए होली पर्व को वसंतोत्सव के नाम से भी जाना जाता है।

अंतिम शब्द

वसंत ऋतु एक ऐसी ऋतु है जो लोगों के जहन में उमंग सा भर देती है। वसंत ऋतु में माहौल बहुत ही खुशनुमा बना रहता है और ना ही कहीं पर शरद ऋतु की कठोरता दिखाई देती है और ना ही ग्रीष्म ऋतु का भयंकर ताप।

हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा शेयर किया गया यह “वसंत ऋतु पर निबन्ध (Essay on Spring Season in Hindi)” आपको पसंद आया होगा, इसे आगे शेयर जरूर करें। यदि आपका इससे जुड़ा कोई सवाल या फिर कोई इसमें त्रुटी दिखे तो हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here