शीत ऋतू पर निबंध

Sheet Ritu in Hindi: भारत की ऋतुओं में शीत ऋतु का भी विशेष महत्व होता है। हम यहां पर शीत ऋतु पर निबंध शेयर कर रहे है। यह निबन्ध सही विद्यार्थियों के लिए लाभदायक होगा।

Essay on Winter Season in Hindi
Image: Essay on Winter Season in Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

शीत ऋतू पर निबंध | Essay on Winter Season in Hindi

शीत ऋतू पर निबंध (250 शब्द)

प्रस्तावना

भारत में जितनी भी ऋतुएँ होती हैं उनमें से एक शीत ऋतु (sheet ritu in hindi) भी होती हैं। भारतवर्ष में यह ऋतु दिसम्बर माह से पहले शुरू होती हैं, जो की आगामी मार्च और मध्य अप्रैल तक चलती हैं। शीत ऋतु के आते ही लगभग पूरे भारत में सर्दी तेजी से बढ़ जाती हैं। शीत ऋतू में प्राय दिन दिन छोटे और रात बड़ी होती हैं। गर्मी के मौसम में जिन लोगों को धूप पसंद नही होती हैं वही धूप सर्दी के मौसम लोगो को काफी प्रिय लगती है।

शीत ऋतू का समय

शीत ऋतु के शुरुआत के समय के बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता है। जिस प्रकार की भारत की भोगोलिक स्तिथि हैं उस हिसाब से यह देश के कई हिस्सों में यह नवम्बर से शुरू होकर फ़रवरी तक रहती हैं वही यह कुछ हिस्सों में दिसम्बर से शुरू होकर मार्च तक रहती हैं।

शीत ऋतु के आने का कारण

भारत में शीत ऋतू (sheet ritu in hindi) के शुरुआत की अवधि के समय हमारी पृथ्वी सूर्य के चारों ओर घूमती हैं और साथ ही पृथ्वी घूमते – घूमते अलग-अलग चक्कर लगाती हैं। हमारे आसपास के मौसम में बदलने में सबसे बड़ी भूमिका पृथ्वी का अपने अक्ष पर घूमना सबसे ज्यादा महत्त्व होता हैं।

शीत ऋतू में परिवर्तन

इस मौसम में पहाड़ी इलाके काफी सुन्दर दीखते हैं। इस शीत ऋतु में दिन काफी सुहावने होते हैं। शीत ऋतू में पेड़ पोधे भी काफी सुन्दर दीखते हैं। 

निष्कर्ष

दिसम्बर माह से शुरू होने वाले इस मौसम में प्रकृति अपनी अपनी पूरी सुंदरता हमें दिखाती है। शीत ऋतु का यह मौसम दिसम्बर से शुरू होकर मार्च माह तक चलता है।

शीत ऋतू पर निबंध (600 शब्द)

प्रस्तावना

भारत की ऋतुओं में ठंड के समय को शीत ऋतु की श्रेणी में रखा जाता है। शीत ऋतु का इन्तजार हर भारतीय को बेसब्री से रहता है। साल का यह ठंडा मौसम सबसे सुहावना होता है, जिन लोगों को धूप पसंद नही होती हैं वे लोग भी इस मौसम में दिन में धूप में टहलते हैं। इस मौसम की शुरुआत से ही लोगों में काफी उमंग सी भर जाती हैं। यह मौसम किसान और फसल के लिए भी अच्छा साबित होता है।

शीत ऋतू का समय

साल में ठंड लाने वाले इस मौसम की शुरुआत नवम्बर माह में होती हैं वह इस ऋतु का समापन जनवरी माह में होता है। हिन्दू महीनो के अनुसार देखे तो यह मौसम कार्तिक, अगहन, पौष, माघ इन चार महीनों तक लगातार चलता हैं। इन चार महीनो में सबसे ज्यादा ठण्ड टी\रहती हैं ख़ास कर उत्तरी भारत के राज्यों में इसका असर दीखता है।

शीत ऋतू का महत्त्व

यह मौसम शरीर के लिए काफी अच्छा होता है। इस मौसम में शरीर का पाचन तंत्र काफी मजबूत होता हैं और भूख भी काफी अधिक लगती है जो सेहत के लिए काफी अच्छा है। सर्दी के मौसम में हम जो भी खाते हैं उससे हमारा शरीर हस्त्पुस्थ रहता हैं। यह मौसम ठंडा रहता है जिस वजह से लोग सुबह देर तक व्यायाम करते हैं जिससे लोगों का शरीर भी काफी स्वस्थ और फिट रहता है।

सर्दी के मौसम में हर प्रकार के ताजा फल और और ताज़ी सब्जियां उपलब्ध रहित हैं जिसे खाने से हमारा शरीर अच्छा और स्वस्थ रहता हैं। वह इस का दूसरा रूप देखे तो बच्चों के लिए सर्दी का मौसम काफी खतरनाक साबित होता हैं, छोटे बच्चे ठंड सहन नही कर पाते हैं और वे बीमार पड़ जाते हैं।

शीत ऋतू की दिनचर्या

सर्दी के मौसम में अक्सर सुबह देरी से उठने की आदत होती हैं जो की इस दिनचर्या का सबसे बड़ा परिवर्तन हैं। इस समय में काफी परिवर्तन देखने को मिलता है जिसमें सरकारी और निजी कार्यालयों के साथ – साथ स्कूल और कॉलेज सुबह 10 बजे के बाद खुलते हैं।

शीत ऋतु में लोग घर बाहर ना आकर अपने घर की छतों पर घूमते हैं। शीत ऋतू में दिन छोटे और रात बड़ी होती हैं जिस वजह से लोग घर जल्दी आ जाते हैं।

शीत ऋतू में प्रकृतिक दृश्य

शीत ऋतू में सबसे ज्यादा असर पेड़ पोधो पर देखने को मिलता हैं। शीत ऋतू में पेड़ के पत्ते झड़ते रहते हैं और पत्तो का रंग बदलना काफी मनमोहित करने वाला होता हैं। पहाड़ी इलाको में इस मौसम के काफी बर्फ़बारी होती हैं साथ ही दिन और रात का तापमान काफी घिर जाता हैं। वो दृश्य काफी मनमोहक होता है जब लोग प्रकृति की वादियों में घूमने जाते हैं और प्रकृति का आनंद उठाते हैं। इस समय में उत्तरी भारत में खासकर कुल्लू मनाली में बर्फ की बारिश काफी मनमोहक होती हैं।

उपसंहार

शीत ऋतु को सबसे ठंडी वाली ऋतु कहा जाता है। इस मौसम में दिन और रात का तापमान पूरा गिर जाता है। शीत ऋतु में प्रकृति अपने अलग अलग रंग दिखाती है। साल में ठंड लगने वाले इस मौसम की शुरुआत नवम्बर माह में होती हैं वह इस ऋतु का समापन जनवरी माह में होता है।

अंतिम शब्द

हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा शेयर की गई यह जानकारी “शीत ऋतू पर निबंध (Sheet Ritu in Hindi)” आपको पसंद आई होगी, इसे आगे शेयर जरूर करें। आपको यह जानकारी कैसी लगी, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

इन्हें भी पढ़ें

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here