ग्रीष्म ऋतु पर निबंध

Grishma Ritu Essay in Hindi: भारत की ऋतुओं में ग्रीष्म ऋतु का भी विशेष महत्व होता है। हम यहां पर ग्रीष्म ऋतु पर निबंध शेयर कर रहे है। यह निबन्ध सही विद्यार्थियों के लिए लाभदायक होगा।

Grishma Ritu Essay in Hindi
Image: Grishma Ritu Essay in Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

ग्रीष्म ऋतु पर निबंध | Grishma Ritu Essay in Hindi

ग्रीष्म ऋतू पर निबंध (250 शब्द) 

प्रस्तावना

साल की सबसे गर्म ऋतु कही जाने वाली इस ऋतु की शुरुआत अप्रैल के बाद होती हैं जो की जून माह तक चलती हैं। इस ऋतु में मौसम काफी गर्म होता है साथ ही इस मौसम में दिन का तापमान सामान्य से ऊपर रहता हैं। गर्मी के मौसम से लोग सुबह घूमना पसंद करते हैं वह इस मौसम में दिन में धूल भरी आंधियां भी चलती हैं। साल का यह मौसम सबसे नापसंद किया जा सकता है क्योंकि इसमें गर्मी सबसे ज्यादा होती हैं।

ग्रीष्म ऋतु की शुरुआत

साल की सबसे गर्म ऋतु कहे जाने वाले इस मौसम की शुरुआत अप्रैल माह में होती हैं जो की जून माह तक चलती हैं। इस ऋतु में मौसम काफी गर्म होता है। इस मौसम में गर्मी अपने अंतिम चरम पर होती और इस मौसम में दिन और रात का तापमान काफी ऊपर के स्तर पर होता है।

ग्रीष्म ऋतू का महत्त्व

ग्रीष्म ऋतू के शुभारम्भ से ही पेड़ पौधों का महत्त्व समझ दिखाई देता है। पेड़ पौधे इस मौसम में खिलने के लिए तैयार होते हैं। ग्रीष्म ऋतु किसानों के लिए भी अच्छी रहती हैं। तिल, जौ, बाजरे के लिए गर्मी यह का मौसम काफी अच्छा रहता है। इस मौसम में खेतों में नमी बढ़ती हैं जो की फसलों के लिए काफी लाभकारी होती हैं। ग्रीष्म ऋतू किसानों के लिए काफी लाभकारी होती हैं।

निष्कर्ष

खेती की दृष्टि से ग्रीष्म ऋतु का काफी महत्व होता है। इस मौसम की शुरुआत अप्रैल माह से शुरू होती हैं जो की जुलाई तक चलती हैं।

ग्रीष्म ऋतू पर निबंध (600 शब्द)

प्रस्तावना

सालभर में मुख्य रूप से चार मौसम होते हैं और साल के इन चारों मौसम में सबसे गर्म गर्मी का मौसम ही होता है जो की साल के मध्य तक रहता है। चार मौसम के साथ भारत में सामान्यतः छ: ऋतुएँ होती हैं जो एक के बाद एक आती रहती हैं और यह चक्र चलता रहता है।

उन सभी छ: ऋतुओं में से एक यह ग्रीष्म ऋतु होती है। साल में जब बसंत ऋतु समाप्त होती है तब उसके बाद ग्रीष्म ऋतु आती है। ग्रीष्म ऋतु भारत में ग्रीष्मकालीन संक्रांति के दौरान शुरू होती हैं।

गर्मी का मौसम

जैसा की हम सभी जानते हैं कि हमारी पृथ्वी हर वक़्त घूमती रहती है। जब भी पृथ्वी अपने अक्ष पर घूम कर पूरी तरह सूरज की तरफ झुकती है तो उसी समय साल का सबसे भयानक गर्मी का मौसम आता है। जब गोलार्ध यानी पृथ्वी सूर्य की तरफ होता है तब ही गर्मी आती है और जब गोलार्ध यानी पृथ्वी सूरज से कुछ दूर होता है तब सर्दी आती है। भारत में ग्रीष्म ऋतु ज्येष्ठ और आषाढ़ के महीनों में आती है।

ग्रीष्म ऋतू में अधिक गर्मी का कारण

गर्मियों के मौसम में दिन में सबसे अधिक तापमान और यह मौसम सबसे शुष्क मौसम होता है। इस मौसम को में सबसे खतरनाक मानसून भी ऋतुओ में शामिल होता है जिसकी वजह से देश में गर्मी के कारण मृत्यु की दर बढ़ जाती है। गर्मी के इस ऋतु में इस मौसम में तापमान अधिक होने की वजह से दिन और रात दोनों का मौसम गर्म हो जाता है और इस गर्म मौसम की वजह से कई जगहों पर ग्रीष्म मौसम के कारण पानी की कमी की वजह से सूखा पड़ जाता है।

इस ऋतु में ही गर्म हवा और दिन और रात के तापमान में वृद्धि की होने की वजह से भी यह ऋतु और अधिक गर्म हो जाती है। यह ऋतू मनुष्यों और जंगली जानवरों दोनों को ही अपनी प्रकृति के कारण बहुत अधिक परेशानी में डालता है। ग्रीष्म मौसम में पानी की काफी कमी होती हैं जिससे कई प्रकार की बीमारियां भी होती है। इस वजह से ग्रीष्म ऋतु को सबसे खतरनाक ऋतू भी खा जाता है।

ग्रीष्म ऋतू का लाभ

जैसा कि हम सब जानते हैं कि भारतवर्ष की 6 ऋतुओं में से हर ऋतु या फिर हर मौसम के अपने अपने अलग-अलग लाभ होते हैं ठीक इसी तरह ऋतुओं में इस ग्रीष्म ऋतु में भी मनुष्य के जीवन में कई अनेक लाभ हैं। अगर भूगोल की दृष्टि से समझे तो जब अगर गर्मी अच्छी तरह पड़ती है तो उसी वर्ष वर्षा भी बहुत अच्छी तरह और काफी अच्छी होती होती है और इसी वजह से खाना पकता है और खाने के पूरी तरह योग्य बनता है।

काफी तेज से पड़ने वाली गर्मी के मौसम में कई विषैले कीटाणु भी नष्ट हो जाते हैं। और अगर इस मौसम में हमारे स्वाद की बात करें तो इस गर्मी के मौसम में हमें काफी स्वादिष्ट फल जैसे आम, लीची आदि प्रकार के फल भी खाने को भी मिलते हैं।

वैसे अगर गर्मी के मौसम में पीने की बात ना करे तो गर्मी का क्या मजा, गर्मी के साथ-साथ हमें गर्मी के दिनों में कई अलग-अलग प्रकार के कोल्ड ड्रिंक, शरबत, मटका दही, लस्सी, जैसी चीजों के खाने पीने का आनंद भी मिलता है। और जो लोग मीठे और ठंडे खाने पीने के बहुत शौकीन होते हैं वह गर्मी के मौसम में कई तरह की कुल्फी का आनंद भी लेते हैं।

निष्कर्ष

गर्मी का मौसम (summer season) काफी गर्म होता हैं। इस मौसम में तापमान सातवें आसमान पर होता हैं। इस मौसम का काफी महत्व है। इस मौसम में दिनचर्या में भी काफी बदल जाती हैं। ग्रीष्म ऋतू में दिन बड़े और रात छोटी हैं।

अंतिम शब्द

हम उम्मीद करते हैं हमारे द्वारा लिखे गये ग्रीष्म ऋतु पर निबंध (nibandh) आपको पसंद आये होंगे। इसे आप अपने होम वर्क और अन्य जगह पर इस्तेमाल कर सकते हैं। साथ ही इसे अपने मित्रों और प्रियजनों के साथ भी अवश्य शेयर करें।

इन्हें भी पढ़ें

मेरा नाम सवाई सिंह हैं, मैंने दर्शनशास्त्र में एम.ए किया हैं। 2 वर्षों तक डिजिटल मार्केटिंग एजेंसी में काम करने के बाद अब फुल टाइम फ्रीलांसिंग कर रहा हूँ। मुझे घुमने फिरने के अलावा हिंदी कंटेंट लिखने का शौक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here