अधिगम के सिद्धांत

अधिगम के सिद्धांत | Adhigam Ke Siddhant

Adhigam Ke Siddhant
Image: Adhigam Ke Siddhant

अधिगम (सीखने) के सिद्धांत

अधिगम यानी कि “सीखना” एक कला है, लेकिन अधिगम एक प्रक्रिया है। जब आप किसी काम को करने की इच्छा रखते हैं, तो आपको उससे पहले आप उस कार्य को सीखना पड़ता है। उस कार्य को सीखने के लिए आपको एक निश्चित कर्म से या पद्धति से गुजरना होगा, इसे ही अधिगम कहते हैं।

विभिन्न मनोवैज्ञानिकों ने सीखने की कुछ सिद्धांत निर्धारित किए है। अतः किसी भी उद्दीपक के प्रति क्रमबद्ध प्रतिक्रिया की खोज को ही अधिगम को सिद्धांत कहते हैं।

समय-समय पर मनोवैज्ञानिकों ने अधिगम के विभिन्न सिद्धांतों की खोज करते रहे हैं। यहां पर मुख्यतः दो प्रमुख अधिगम के सिद्धांतों को बताया गया है।

  1. सहचार्य सिद्धांत (Associative Theories)
  2. क्षेत्र सिद्धांत (Field Theories)

अध्ययन की सुविधा हेतु यहां पर निम्नलिखित अधिगम के सिद्धांतों का वर्णन किया गया है।

  1. प्रयत्न और भूल का सिद्धांत (Theory of Trial and Error)
  2. संबद्ध प्रतिक्रिया का सिद्धांत
  3. स्किनर या ऑपरेन्ट कन्डीशनिंग का क्रिया प्रसूत अनुबन्धन
  4. अंतर्दृष्टि या सूझ का सिद्धांत
  5. अनुकरण का सिद्धांत

पर्यटन और भूल का सिद्धांत (Theory of Trial and Error in Hindi)

कथन और गलती के सिद्धांत के तहत हम कोई भी कार्य एक बार में नहीं सीख पाते हैं, सीखने की प्रक्रिया में हम बहुत मेहनत करते हैं और कई बाधाओं के कारण ये गलतियाँ भी होती रहती हैं।

हम कोई भी कार्य एक बार में नहीं सीख सकते हैं। सीखने की प्रक्रिया में, हम कोशिश करते हैं और बाधाओं के कारण गलतियाँ करते हैं। निरंतर प्रयास से सीखने की प्रगति होती है और गलतियाँ कम से कम होती हैं। इसलिए किसी कार्य के प्रति बार-बार प्रयास करने से गलतियाँ कम हो जाती हैं, इसलिए इसे कोशिश और गलती का सिद्धांत कहा जाता है।

एल एल रीन के अनुसार – “संयोजन सिद्धांत वह सिद्धांत है जो मानता है कि प्रक्रियाओं, स्थितियों और प्रतिक्रियाओं में बुनियादी या अर्जित क्रियाएं होती हैं।” विस्तार से पढ़ें – परीक्षण और त्रुटि का सिद्धांत।

सम्बद्ध प्रतिक्रिया का सिद्धान्त (Conditioned Response Theory in Hindi)

संघ के माध्यम से सीखने में शामिल सहज क्रिया को सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। जब हम स्वाभाविक रूप से एक असामान्य उत्तेजना का जवाब देते हैं, तो संबंधित प्रतिक्रिया के माध्यम से सीखना होता है।

जब कुत्ता भोजन को देखते हुए लार टपकता है या जब घंटी बजती है, लार आने लगती है, तो संबंधित प्रतिक्रिया के माध्यम से सीखना होता है।

जैसा कि बरनार्ड ने लिखा है, “सहयोगी प्रतिक्रिया एक उत्तेजना की पुनरावृत्ति द्वारा व्यवहार का स्वचालन है, जिसमें उत्तेजना पहले प्रतिक्रिया के साथ होती है, लेकिन अंत में यह एक प्रेरणा बन जाता है।

ऑपरेन्ट कन्डीशनिंग या स्किनर का क्रिया प्रसूत अनुबन्धन (Skinner’s Operant Conditioning in Hindi)

उत्तेजक प्रतिक्रिया सीखने के सिद्धांतों की श्रेणी में, बी एफ स्किनर ने वर्ष 1938 में ऑपरेटिव लर्निंग रिएक्शन को एक विशेष आधार देकर एक महान योगदान दिया। इस प्रक्रिया का परीक्षण करने के लिए स्किनर ने बॉक्स बनाया, जिसे स्किनर बॉक्स या स्किनर बॉक्स के रूप में जाना जाता है।

अन्तर्दृष्टि या सूझ का सिद्धान्त (Theory of Insight in Hindi)

बोधगम्य अधिगम का सिद्धांत गेस्टाल्टिस्टों का एक उत्पाद है। वे अंश में नहीं, समग्र में विश्वास करते हैं। जैसा कि कोलेसनिक ने लिखा है, “सीखना एक व्यक्ति की अपने पर्यावरण की समझ और उसके आविष्कार के बीच संबंधों को स्पष्ट करने की प्रक्रिया है।”

प्रस्तुत सिद्धांत के अग्रदूत कोहलर और बार्डिमर थे। वे अधिगम को सामग्री के महत्व और परिणाम पर आधारित मानते हैं। उन्होंने अपनी समझ को अपनी बुद्धि का परिणाम मानकर कार्य किया है।

अनुकरण का सिद्धान्त (Theory of Imitation in Hindi)

नकल एक सामान्य प्रवृत्ति है, जिसका उपयोग मनुष्य दैनिक जीवन की समस्याओं को हल करने में करता है। नकल में हम दूसरों को काम करते हुए देखते हैं और वही करना सीखते हैं। मनोवैज्ञानिकों ने सिद्ध किया है कि अनुकरण से ही सीखना संभव है। मनुष्यों में अनुकरण का सिद्धांत अधिक सफल रहा है।

इस लेख में आपने जाना अधिगम के सिद्धांत (Adhigam Ke Siddhant) किसे कहते हैं। उसके साथ आप लोगों ने अधिगम के सिद्धांत के कुछ उदाहरण भी देखें। जिससे कि आपको समझ में आ गया होगा, यह कितने प्रकार के होते हैं। और किस तरह से अधिगम के सिद्धांत शब्द मिलकर किसी वाक्य को परिवर्तित कर देते हैं।

अन्य हिन्दी व्याकरण

संज्ञासमासविज्ञापन लेखन
सर्वनामशब्द शक्तिविस्मयादिबोधक
विराम चिन्हविशेषणकारक

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here