आज की तिथि क्या है?

Aaj Ki Tithi Kya Hai: आज से लगभग तकरीबन 40 50 वर्ष पहले आज की तरह तारीख तथा अंग्रेजी कैलेंडर के बारे में कोई भी नहीं जानता था। उसी समय भारत में मुख्य रूप से हिंदू पंचांग के अनुसार तिथि की गणना की जाती थी।

तिथि के अनुसार ही सभी तरह के कार्य किए जाते और तिथि के अनुसार ही घटनाओं का जिक्र किया जाता था। यहां तक कि आज के समय में भी सनातन धर्म से संबंधित सभी तरह के व्रत और त्योहार हिंदू पंचांग के अनुसार तिथि के अनुसार ही मनाए जाते हैं।

यहाँ पर आप आज क्या तिथि है (Aaj Kya Tithi Hai) के बारे में जान सकेंगे। साथ ही आपको जिस दिन की तिथि जाननी है, उस दिन का चयन करके आसानी तिथि की जानकारी ले सकते हैं।

आज की तिथि क्या है? (Aaj Ki Tithi Kya Hai) | Today Tithi

आज की हिन्दू तिथि और पंचांग

दिन
तिथि
नक्षत्र
करण
योग
राशि

आज का विशेष

श्री हनुमान चालीसाशिव चालीसाश्री दुर्गा चालीसा
श्री शनि चालीसायदा यदा ही धर्मस्यशांति पाठ
माँ दुर्गा देवी कवचशिव तांडव स्तोत्रश्री पांडुरंग अष्टकम्

हिंदू तिथि गणना

हिंदू पंचांग के अनुसार तिथि चंद्र दिवस या सूर्य और चंद्रमा के बीच बढ़ने वाले समय के अनुसार 12 डिग्री पर समय बढ़ने से अलग तिथि बन जाती है।‌ हिंदू पंचांग के अनुसार चंद्र दिवस का समय अलग हो सकता है। यह समय 21 घंटे से लेकर 26 घंटे के बीच में अलग-अलग हो सकता है।

वैदिक ज्योतिष गणना के अनुसार एक चंद्र महीना में 30 तिथि होती है, जिसे एकादशी, द्वादशी इस तरह से देखा जाता है। इसमें 15 तिथि कृष्ण पक्ष और उसके बाद 15 तिथि शुक्ल पक्ष के अंतर्गत आती है। 15 तिथि के बाद अमावस्या और उसके बाद 15 तिथि के बाद पूर्णिमा होती है।

उसके बाद फिर से अगले महीने यही क्रम चलता रहता है। जिस प्रकार से अंग्रेजी कैलेंडर में अंग्रेजी महीनों के नाम होते हैं। ठीक उसी प्रकार हिंदी कैलेंडर में भी हिंदी महीनों के नाम होते हैं।

तिथियों के नाम

  • प्रतिपदा तिथि
  • द्वितीया तिथि
  • तृतीया तिथि
  • चतुर्थी तिथि
  • पंचमी तिथि
  • षष्ठी तिथि
  • सप्तमी तिथि
  • अष्टमी तिथि
  • नवमी तिथि
  • दशमी तिथि
  • एकादशी तिथि
  • द्वादशी तिथि
  • त्रयोदशी तिथि
  • चतुर्दशी तिथि
  • अमावस्या
  • पूर्णिमा

निष्कर्ष

हिंदू धर्म में तिथि का काफी ज्यादा महत्व है। सनातन धर्म के सभी तरह के पर्व, त्यौहार, उत्सव इत्यादि हिंदू पंचांग के कैलेंडर की तिथि के अनुसार ही होते हैं। इसीलिए वर्तमान समय में हिंदू पंचांग का बहुत महत्त्व है।

मंत्र एवं श्लोक

गायत्री मंत्रमहामृत्युंजय मंत्रहनुमान जी के मंत्र
शनि देव मंत्रगणेश मंत्रश्री कनकधारा स्तोत्र
शिव मंत्रश्री राम मंत्रसूर्य मंत्र
इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here