सूर्य मंत्र हिंदी अर्थ सहित

Surya Mantra in Hindi

Surya Mantra in Hindi
Surya Mantra in Hindi

सूर्य मंत्र हिंदी अर्थ सहित | Surya Mantra in Hindi

“ऊँ घृणि सूर्याय नम:।।”
भावार्थ : इस मंत्र का जाप आप कभी भी कर सकते हैं। यह सूक्ष्म दिखने वाला मंत्र सौर प्रार्थना मंत्र जितना ही शक्तिशाली है। क्योंकि यह नई बीमारी शरीर में दिखना बंद हो जाती है। इसे सूर्य नाम मंत्र कहते हैं।

“ऊँ आदित्याय विदमहे दिवाकराय धीमहि तन्नो सूर्यः प्रचोदयत।।”
भावार्थ :
ओम! हे सूर्य देव, मैं आपकी पूजा करता हूं, आप मुझे ज्ञान के प्रकाश से रोशन करते हैं, हे! दिन के निर्माता, मुझे ज्ञान दो और हे सूर्य देव! तुम मेरे दिमाग को हल्का करो।

“ॐ ऐहि सूर्य सह स्त्रांशों तेजोराशे जग त्पते, अनुकंपयेमां भक्त्या, गृहाणार्घ्यं नमो स्तुते।।”
भावार्थ :
सूर्य देव को अर्घ्य देने से बल में वृद्धि होती है। इसके साथ ही आंखों की रोशनी तेज करने के लिए सूर्य को जल अर्पित करना बहुत फायदेमंद माना जाता है। मान्यता के अनुसार सुबह के समय सूर्य नरम अवस्था में होता है और जल चढ़ाते समय सूर्य को जलधारा के बीच में देखने से आंखों की रोशनी बढ़ती है।

‘उदसौ सूर्यो अगादुदिदं मामकं वच:। यथाहं शत्रुहोऽसान्यसपत्न: सपत्नहा।।
सपत्नक्षयणो वृषाभिराष्ट्रो विष सहि:। यथाहभेषां वीराणां विराजानि जनस्य च।।’

भावार्थ : यह सूरज ढल गया है, मेरा यह मंत्र भी चढ़ गया है ताकि मैं शत्रु का वध करने वाला बन सकूं। प्रतिद्वंदी का नाश करने वाला, प्रजा की इच्छा को पूरा करने वाला, शक्ति से राष्ट्र को प्राप्त करने वाला और जीतने वाला बनो, ताकि मैं शत्रुओं के वीरों और अपने और अन्य लोगों का शासक बन सकूं।

ॐ मित्राय नमः
भावार्थ :ॐ मित्राय नमः मित्राय का अर्थ है मित्र को प्रणाम। सूर्य देव हम सभी के सच्चे मित्र और सहायक हैं। एक सच्चे दोस्त को दोस्त के रूप में संबोधित किया गया है। उनसे इस मंत्र का प्रयोग कर हम सूर्य देव से मित्रता का भाव प्रकट कर रहे हैं।

ॐ रवये नमः
भावार्थ: “रावाय” का अर्थ है प्रकाशवान को प्रणाम, जो स्वयं प्रकाशित है और सभी जीवित प्राणियों पर दिव्य आशीर्वाद प्रदान करता है।

ॐ सूर्याय नमः
भावार्थ :यहां सूर्य को भगवान के रूप में काफी सक्रिय माना जाता है। प्राचीन वैदिक ग्रंथों में, सूर्य को सात घोड़ों वाले रथ पर सवार होकर आकाश में यात्रा करने की कल्पना की गई है। ये सात घोड़े सर्वोच्च चेतना से निकलने वाली सात किरणों के प्रतीक हैं। ॐ सूर्याय नमः का अर्थ है क्रियाओं के प्रेरक को प्रणाम।

ॐ भानवे नमः
भावार्थ :सूर्य भौतिक स्तर पर गुरु का प्रतीक है। इसका सूक्ष्म अर्थ यह है कि गुरु हमारे भ्रमों के अन्धकार को दूर करते हैं – जैसे प्रातःकाल में रात्रि का अन्धकार दूर हो जाता है।

ॐ खगाय नमः
भावार्थ :प्राचीन काल से ही सूर्य यंत्रों के प्रयोग से लेकर वर्तमान युग में जटिल यंत्रों के प्रयोग तक दीर्घकाल में समय का ज्ञान प्राप्त करने का आधार आकाश में सूर्य की गति को आधार माना गया है।

ॐ पूष्णे नमः
भावार्थ :सूर्य समस्त शक्तियों का स्रोत है। एक पिता की तरह, वह हमें शक्ति, प्रकाश और जीवन देकर हमारा पोषण करते हैं।

ॐ हिरण्यगर्भाय नमः
भावार्थ :हिरण्यगर्भ, स्वर्ण अण्डे के समान सूर्य के समान तेजस्वी हिरण्यगर्भ वह संरचना है जिससे सृष्टिकर्ता ब्रह्मा की उत्पत्ति हुई। ॐ हिरण्यगर्भाय नमः का अर्थ है स्वर्णिम् विश्वात्मा को प्रणाम।

ॐ मरीचये नमः
भावार्थ :मारीच ब्रह्मपुत्रों में से एक है। लेकिन इसका मतलब मृग मृगतृष्णा भी है। हम जीवन भर सत्य की खोज में भटकते रहते हैं। ॐ मरीचये नमः का अर्थ है सूर्य रश्मियों को प्रणाम।

ॐ आदित्याय नमः
भावार्थ: ॐ आदित्याय नमः का अर्थ है अदिति-सुत को प्रणाम, अदिति भी विश्व माता (महाशक्ति) के अनंत नामों में से एक है। साथ ही सभी देवताओं की माता अनंत और असीम है।

ॐ सवित्रे नमः
भावार्थ : ॐ सवित्रे नमः का अर्थ है सूर्य की उद्दीपन शक्ति को प्रणाम, सावित्री उत्तेजक या जागृत करने वाली देवता है। इसका संबंध सूर्य देव से है। सावित्री उगते सूरज की प्रतिनिधि है जो जागती है और मनुष्य को सक्रिय बनाती है।

ॐ अर्काय नमः
भावार्थ : ॐ अर्काय नमः का अर्थ है प्रशंसनीय को प्रणाम, अर्क का अर्थ है ऊर्जा। सूर्य विश्व शक्ति का प्रमुख स्रोत है। हस्त उत्तानासन में, हम जीवन और ऊर्जा के इस स्रोत के लिए अपना सम्मान व्यक्त करते हैं।

ॐ भास्कराय नमः
भावार्थ : ॐ अर्काय नमः का अर्थ है आत्मज्ञान-प्रेरक को प्रणाम, सूर्य नमस्कार की अंतिम स्थिति प्राणासन में है (नमस्कारासन), जो सूर्य के प्रति समर्पण और आध्यात्मिक सत्य के महान प्रकाशक के रूप में है।

ॐ श्री सबित्रू सुर्यनारायणाय नमः

एहि सूर्य! सहस्त्रांशो! तेजो राशे! जगत्पते!
अनुकम्प्यं मां भक्त्या गृहाणार्घ्य दिवाकर!

भावार्थ :हे सहस्त्रांशो! हे तेजो राशे! हे जगत्पेते! मॉन पर्पना करें। मेरे द्वारा मित्रा शश नवाता, बारंबार शश नवाता।

यह भी पढ़े

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here