शनि देव के मंत्र हिंदी अर्थ सहित

Shani Dev Mantra in Hindi

Shani Dev Mantra in Hindi
Image: Shani Dev Mantra in Hindi

शनि देव के मंत्र हिंदी अर्थ सहित | Shani Dev Mantra in Hindi

वैदूर्य कांति रमल:, प्रजानां वाणातसी कुसुम वर्ण विभश्च शरत:।
अन्यापि वर्ण भुव गच्छति तत्सवर्णाभि सूर्यात्मज: अव्यतीति मुनि प्रवाद:।।

भावार्थ:-जब शनि ग्रह वैदुर्यरत्न या बनफूल या अलसी के फूल जैसे शुद्ध रंग से प्रकाशित होता है, तो यह विषयों के लिए शुभ फल देता है, यह अन्य पात्रों को प्रकाश देता है, फिर उच्च वर्णों को समाप्त करता है, ऋषि महात्मा कहते हैं।

श्री नीलान्जन समाभासं, रवि पुत्रं यमाग्रजम।
छाया मार्तण्ड सम्भूतं, तं नमामि शनैश्चरम।।

भावार्थ: शनिदेव सूर्यदेव के पुत्र हैं। शनि देव को नौ ग्रहों का राजा कहा जाता है। शनि देव ही व्यक्ति को अपने कर्मों का फल देते हैं। शनिवार के दिन शनिदेव को तेल चढ़ाना बहुत शुभ होता है।

ॐ शं शनैश्चरायै नम:
ॐ प्रां प्रीं प्रौं स: शनैश्चराय नम:

भावार्थ: शनिवार का दिन शनिदेव का होता है और इस दिन स्नान करके काले वस्त्र धारण करें। शनिदेव की मूर्ति के पास जाकर इस मंत्र का जाप करें। इस मंत्र का जाप घर या मंदिर में कहीं भी किया जा सकता है।

ध्वजिनी धामिनी चैव कंकाली कलहप्रिया।
कंटकी कलही चाऽथ तुरंगी महिषी अजा।।
शनेर्नामानि पत्नीनामेतानि संजपन् पुमान्।
दुःखानि नाशयेन्नित्यं सौभाग्यमेधते सुखम।।

भावार्थ: ऐसी मान्यता है कि इस मंत्र का प्रतिदिन पाठ करने से व्यक्ति के कष्ट दूर हो जाते हैं।

ऊं कृष्णांगाय विद्महे रविपुत्राय धीमहि तन्न: सौरि: प्रचोदयात।
भावार्थ: हर शनिवार शाम को पीपल के पेड़ पर सरसों के तेल का दीपक जलाएं। यही काम शमी के पेड़ के नीचे भी करें। इससे शनि दशा का प्रभाव कम होता है।

ॐ शन्नो देवी रभिष्टय आपो भवन्तु पीपतये शनयो रविस्र वन्तुनः।
भावार्थ: इस मंत्र के जाप से व्यक्ति पर शनि की साढ़ेसाती का बुरा प्रभाव समाप्त हो जाता है। इसे श्री शनि वैदिक मंत्र कहते हैं। कहा जाता है कि इस मंत्र का जाप करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं। इसके साथ ही यह भी माना जाता है कि इस मंत्र का 23000 हजार बार जाप करने से साढ़ेसाती का प्रभाव कम हो जाता है।

कोणोSन्तको रौद्रायमोSथ बभ्रु: कृष्ण: शनि: पिंगलमन्दसौरी:।
नित्यं स्मृतो यो हरते च पीडां तस्मै नम: श्रीरविनन्दनाय।।

भावार्थ: दशरथ ने कहा – कोनः अंतक, रौद्रयम, बभ्रुः, कृष्ण शनि, पिंगला, मंडा, सौरी: इन नामों को लगातार याद करने से दर्द का नाश करने वाले शनि देव को नमस्कार।

सुराSसुरा: किं पुरुषोरगेन्द्रा गन्धर्व विद्याधरपन्नगाश्च।
पीड्यन्ति सर्वे विषमस्थितेन तस्मै नम: श्रीरविनन्दनाय।।

भावार्थ: देवता, असुर, किन्नर, उर्जेंद्र (सर्प राजा), गंधर्व, विद्याधर, पन्नम – ये सभी शनि के विपरीत होने पर पीड़ित होते हैं, यही शनि को नमस्कार है।

नरानरेन्द्रा: पश्वो मृगेन्द्रा वन्याश्च ये कीटपतंगभृंगा:।
पीड्यन्ति सर्वे विषमस्थितेन तस्मै नम: श्रीरविनन्दनाय।।

भावार्थ: शनि देव को नमस्कार, राजा, मनुष्य, शेर, पशु और जो कुछ भी है, कीड़े, पतंगे, भौंरा के अलावा, शनि के विपरीत होने पर वे सभी पीड़ित होते हैं।

देशाश्च दुर्गाणि वनानि यत्र सेनानीवेशा: पुरपत्तनानि।
पीड्यन्ति सर्वे विषमस्थितेन तस्मै नम: श्रीरविनन्दनाय।।

भावार्थ: शनि के विपरीत होने पर देश, किले, जंगल, सेना, शहर, महानगर भी पीड़ित होते हैं, इसलिए शनि देव को नमस्कार है।

तिलैर्यवैर्मार्षगुडान्नदानैलोर्हेन नीलाम्बरदानतो वा।
प्रीणाति मन्त्रैर्निजवासरे च तस्मै नम: श्रीरविनन्दनाय।।

अर्थ– शनिवार के दिन तिल, जौ, उड़द, गुड़, अनाज, लोहा, नीला कपड़ा और अपने स्तोत्र के पाठ से प्रसन्न होने वाले शनि को नमस्कार।

प्रयागकूले यमुना तटे च सरस्वती पुण्य जले गुहायाम्।
यो योगिनां ध्यानगतोSपि सूक्ष्मस्तस्मै नम: श्रीरविनन्दनाय।।

भावार्थ: प्रयाग में, यमुना के तट पर, सरस्वती के पवित्र जल में या गुफा में, जो योगियों के ध्यान में है, सूक्ष्म रूप शनि को नमस्कार है।

अन्य प्रदेशात्स्वगृहं प्रविष्टस्तदीयवारे स नर: सुखी स्यात्।
गृहाद्गतो यो न पुन: प्रयाति तस्मै नम: श्रीरविनन्दनाय।।

भावार्थ: दूसरे स्थान से यात्रा करके शनिवार के दिन अपने घर में जो प्रवेश करता है, वह सुखी होता है और जो अपने घर से बाहर जाता है वह शनि के प्रभाव से पुन: लौटकर नहीं आता है, ऎसे शनिदेव को नमस्कार है

स्रष्टा स्वयं भूर्भुवनत्रयस्य त्राता हरीशो हरते पिनाकी।
एकस्त्रिधा ऋग्यजु: साममूर्तिस्तस्मै नम: श्रीरविनन्दनाय।।

भावार्थ: यह शनि स्वयंभू हैं, तीनों लोकों के निर्माता और रक्षक, संहारक और धनुष धारक हैं। एक होते हुए भी ऋगु, यजुः और सममूर्ति हैं, ऐसा सूर्यपुत्र को प्रणाम है।

शन्यष्टकं य: प्रयत: प्रभाते नित्यं सुपुत्रै पशुबान्धवैश्च।
पठेत्तु सौख्यं भुवि भौगयुक्त: प्राप्नोति निर्वाणपदं तदन्ते।।

भावार्थ: जो व्यक्ति अपने पुत्र, पत्नी, पशु और भाइयों के साथ प्रतिदिन शनि के इन आठ श्लोकों का पाठ करता है, उसे इस लोक में सुख की प्राप्ति होती है और अंत में मोक्ष की प्राप्ति होती है।

ॐ शन्नो देवी रभिष्टय आपो भवन्तु पीपतये शनयो रविस्र वन्तुनः।
भावार्थ: इस मंत्र के जाप से व्यक्ति पर शनि की साढ़ेसाती का बुरा प्रभाव समाप्त हो जाता है। इसे श्री शनि वैदिक मंत्र कहते हैं। कहा जाता है कि इस मंत्र का जाप करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं। इसके साथ ही यह भी माना जाता है कि इस मंत्र का 23000 हजार बार जाप करने से साढ़ेसाती का प्रभाव कम हो जाता है।

कोणस्थ: पिंगलो बभ्रु: कृष्णो: रौद्रोSन्तको यम:।
सौरि: शनैश्चरो मन्द: पिप्पलादेन संस्तुत:।।
एतानि दश नामनि प्रातरुत्थाय य: पठेत्।
श्नैश्चरकृता पीडा न कदाचि विष्यति।।

1)कोणस्थ:, 2) पिंगल:, 3)बभ्रु:, 4)कृष्ण:, 5) रौद्रान्तक:, 6)यम:, 7) सौरे:, 8) शनैश्चर:, 9) यम:, 10) पिप्पलादेन संस्तुत:।
शनि के उपरोक्त दस नामों का प्रातः पाठ करने से कभी भी शनि संबंधी कोई परेशानी नहीं होती है और निःसंदेह शनि देव की कृपा हमेशा बनी रहती है। जिन लोगों पर शनि की कृपा हो या न हो, उन्हें इसका पाठ करना चाहिए।

यह भी पढ़े

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here