शांति पाठ हिंदी अर्थ सहित

Shanti Path in Sanskrit With Hindi Meaning

शांति पाठ हिंदी अर्थ सहित | Shanti Path in Sanskrit With Hindi Meaning

ॐ द्यौः शान्तिरन्तरिक्षं शान्तिः
पृथिवी शान्तिरापः शान्तिरोषधयः शान्तिः।
वनस्पतयः शान्तिर्विश्वेदेवाः शान्तिर्ब्रह्म शान्तिः
सर्वं शान्तिः शान्तिरेव शान्तिः सा मा शान्तिरेधि।।
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः।। — यजुर्वेद

भावार्थ:
यजुर्वेद के इस शांति पाठ मंत्र के माध्यम से साधक ईश्वर से शांति बनाए रखने की प्रार्थना करता है।
विशेष रूप से हिंदू संप्रदाय के लोग किसी भी प्रकार के धार्मिक समारोह, संस्कार, यज्ञ
आदि के प्रारंभ और अंत में इस शांति पथ के मंत्रों का जाप करते हैं।
भूमि में शांति हो, अंतरिक्ष में शांति हो, पृथ्वी शांत हो, जल शांत हो,
औषधियां और वनस्पतियां शांति दें। सभी पदार्थ सुसंगत और शांतिपूर्ण हों,
ज्ञान में शांति हो, दुनिया में सब कुछ शांति से हो।
सर्वत्र शान्ति हो, मुझे भी वह शान्ति मिले। इस पाठ से प्रार्थना करने से मन शांत हो जाता है।

ॐ असतो मा सद्गमय।
तमसो मा ज्योतिर्गमय।
मृत्योर्माऽमृतं गमय।।
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः।।

भावार्थ:
इसका मतलब है कि मुझे असत्य से सत्य की ओर ले चलो।
मुझे अंधकार से प्रकाश की ओर ले चलो।
मुझे मृत्यु से अमरता की ओर ले चलो। ओम शांति! शांति! शांति!
यह मंत्र मूल रूप से सोम यज्ञ की स्तुति में मेजबान द्वारा गाया गया था।
आज यह सबसे लोकप्रिय मंत्रों में से एक है, जिसे प्रार्थना की तरह दोहराया जाता है।

ॐ सर्वेशां स्वस्तिर्भवतु।
सर्वेशां शान्तिर्भवतु।
सर्वेशां पुर्णंभवतु ।
सर्वेशां मङ्गलंभवतु।
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः।।

भावार्थ:
सब कुछ ठीक हो सकता है
सभी चीजों में शांति हो,
हर चीज में परफेक्ट बनो,
आप सभी के लिए गुड लक,
ओम शांति! शांत हो! शांत हो!

शांति पाठ इन हिंदी (shanti paath in hindi)

ॐ पूर्णमदः पूर्णमिदं पूर्णात् पूर्णमुदच्यते।
पूर्णस्य पूर्णमादाय पूर्णमेवावशिष्यते।। -वृहदारण्यक उपनिषद
भावार्थ:
परमात्मा सच्चिदानंदघन परब्रह्म पुरुषोत्तम परमात्मा हर तरह से हमेशा परिपूर्ण है।
यह संसार भी उस परब्रह्म से भरा है, क्योंकि यह संपूर्ण उस पूर्ण पुरुषोत्तम से उत्पन्न हुआ है।
इस प्रकार, भले ही परब्रह्म की पूर्णता के साथ दुनिया पूर्ण है, वह परब्रह्म पूर्ण है।
उस पूर्ण में से पूर्ण को हटा देने पर भी वह पूर्ण ही रहता है।

Shanti Path in Sanskrit With Hindi Meaning

ॐ शं नो मित्रः शं वरुणः।
शं नो भवत्वर्यमा।
शं नो इन्द्रो बृहस्पतिः।
शं नो विष्णुरुरुक्रमः।
नमो ब्रह्मणे।
नमस्ते वायो।
त्वमेव प्रत्यक्षं ब्रह्मासि।
त्वामेव प्रत्यक्षं ब्रह्म वदिष्यामि।
ॠतं वदिष्यामि।
सत्यं वदिष्यामि।
तन्मामवतु।
तद्वक्तारमवतु।
अवतु माम्।
अवतु वक्तारम्।।
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः।।

भावार्थ:
ओम्, देवता हमारे मित्र हो, हमारे साथ हो, वरुण हमारे साथ हो,
आदरणीय आर्य कृपया हमसे जुड़ें,
इंद्र और बृहस्पति हमारे अनुकूल हों,
विष्णु लंबी प्रगति के साथ हमारे साथ रहें,
ब्राह्मण को नमस्कार
वायु को नमस्कार (मनुष्य की सांस),
आप वास्तव में दृश्यमान ब्रह्म हैं,
मैं घोषणा करता हूं, आप वास्तव में दृश्यमान ब्रह्म हैं,
मैं ईश्वरीय सत्य की बात करता हूँ,
मैं परम सत्य की बात करता हूं,
मेरी रक्षा करो,
जो मालिक की रक्षा करता है
मेरी रक्षा करो,
गुरु की रक्षा करो
शांति शांति शांति।

shanti mantra meaning in hindi

ॐ सहनाववतु।
सह नौ भुनक्तु।
सह वीर्यं करवाव है।
तेजस्वि नावधीतमस्तु मा विद्विषाव है।
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः।।

भावार्थ:
ओम!
हे परमेश्वर!
हम छात्र और शिक्षक दोनों की एक साथ रक्षा करें,
हम छात्र और शिक्षक दोनों का एक साथ-साथ पोषण करें,
हम दोनों साथ मिलकर महान ऊर्जा और शक्ति के साथ कार्य करें एवं विद्या प्राप्ति का सामर्थ्य प्राप्त करें,
हमारी बुद्धि तेज हो,
हम एक दूसरे से ईर्ष्या न करें।

ॐ आप्यायन्तु ममाङ्गानि वाक् प्राणश्चक्षुः श्रोत्रमथो बलमिन्द्रियाणि च सर्वाणि सर्वं।
ब्रौपनिषदं माहं ब्रह्म निराकुर्यां मा मा ब्रह्म निराकरोदनिराकरणमस्त्वनिराकरणं मेऽस्तु।
तदात्मनि निरते य उपनिषत्सु धर्मास्ते मयि सन्तु ते मयि सन्तु।।
ॐ शान्तिःशान्तिः शान्तिः।।

भावार्थ:
मेरे अंग, वाणी, प्राण, आंख, कान, बल और सभी इंद्रियां पूर्ण विकसित हैं, उपनिषदों में जो कुछ है वह ब्रह्म है।
मैं ब्रह्म से कभी इनकार नहीं कर सकता, मैं ब्रह्म से कभी इनकार नहीं कर सकता, मेरी ओर से कोई इनकार (ब्राह्मण) नहीं हो सकता,
मुझ से कोई अविश्वास नहीं हो सकता है, उपनिषदों द्वारा प्रशंसा की गई सभी धर्म उन लोगों में चमकते हैं जो खुद को जानना चाहते हैं।
वे मुझमें चमकते हैं
ओम! शांति! शांति! शांति!

Shanti Path in Sanskrit With Hindi Meaning

ॐ वाङ् मे मनसि प्रतिष्ठिता मनो मे वाचि प्रतिष्ठितमावीरावीर्म एधि।
वेदस्य म आणिस्थः श्रुतं मे मा प्रहासीरनेनाधीतेनाहोरात्रान्
संदधाम्यृतम् वदिष्यामि सत्यं वदिष्यामि तन्मामवतु
तद्वक्तारमवत्ववतु मामवतु वक्तारमवतु वक्तारम्।।
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः।।

भावार्थ:
ओम्, मेरे आवाज मेरे मन में स्थापित हो (अर्थात मेरी वाणी जो वेदों का पाठ करती है वह मेरे मन पर केंद्रित है जो वेदों को सुनेगा),
मेरे मन को मेरी वाणी में स्थापित होने दो (अर्थात मेरा मन जो वेदों को सुनता है वह रिसीवर के भाषण पर केंद्रित है),
मुझमें आत्म-ज्ञान को विकसित होने दो,
मेरे मन और वाणी को वेदों के ज्ञान का अनुभव करने का आधार बनने दो,
मैंने जो कुछ भी (वेदों से) सुना है, वह मात्र दिखावा नहीं होना चाहिए…
लेकिन दिन-रात पढ़ाई करने से जो मिलता है उस पर डटे रहो।
मैं ईश्वरीय सत्य की बात करता हूँ,
मैं परम सत्य की बात करता हूं,
मेरी रक्षा करो,
जो मालिक की रक्षा करता है
मेरी रक्षा करो,
जो गुरु की रक्षा करता है, जो गुरु की रक्षा करता है,
शांति! शांति! शांति!

ॐ भद्रं कर्णेभिः शृणुयाम देवाः।
भद्रं पश्येमाक्षभिर्यजत्राः।
स्थिरैरङ्गैस्तुष्टुवागँसस्तनूभिः।
व्यशेम देवहितं यदायूः।
स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवाः।
स्वस्ति नः पूषा विश्ववेदाः।
स्वस्ति नस्ताक्षर्यो अरिष्टनेमिः।
स्वस्ति नो वृहस्पतिर्दधातु।।
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः।।

भावार्थ:
हे भगवान! हमारे दाता! हम कान से सुनते हैं कि जो भी शुभ है वह क्या है।
हे भगवान! हमारे दाता! पूजा के योग्य,अपनी आंखों से देख सकते हैं कि जो भी शुभ है वह क्या है।
हे भगवान! हमें अपनी इंद्रियों में स्थिर और स्वस्थ शरीर के साथ हम आप से यह प्रार्थना करते हैं कि हमें स्वस्थ शरीर और अच्छा देखने के लिए और अच्छा सुनने के लिए शक्ति दे,
हमें देवताओं द्वारा यह अमूल्य जीवन प्राप्त हुआ है हमें इस जीवन का आनंद अच्छी आदतों, अच्छे विचार, अच्छी भावना, दूसरों के प्रति सच्ची भावना और दूसरों के कल्याण के लिए हमेशा तैयार रहना और हमेशा अच्छी बातों को सुनना बोलना और सोचना चाहिए
भगवान इंद्र जोकि स्वर्ग लोक के देवता हैं हमारा कल्याण करें हमारी रक्षा करें और सदैव हमें बुराइयों से दूर रखें,
पृथ्वी के देवता है जो सब जगह मौजूद हैं वह हमारा कल्याण करें हमारी रक्षा करें और
हमें सदैव बुराइयों से दूर रखें तथा जो काल है जो की रक्षा का जख्म है हमारा कल्याण करें
हमारे ऊपर सदैव अपनी दया बनाए रखें और जो ब्रिज पतिदेव हैं वह सदैव हमारी भलाई
के लिए हमारे ऊपर अपनी दया दृष्टि बनाए रखें हम पर अपना आशीर्वाद बनाए रखें
ओम, शांति, शांति, शांति।

यह भी पढ़े

गायत्री मंत्र का अर्थ, महत्व और जाप का सटीक तरीका

यदा यदा ही धर्मस्य श्लोक का हिंदी अर्थ

वक्रतुंड महाकाय मंत्र हिंदी अर्थ सह‍ित

संपूर्ण महामृत्युंजय मंत्र हिंदी अर्थ सहित

ॐ सहनाववतु सहनौभुनक्तु मंत्र हिंदी अर्थ सहित

माहेश्वर सूत्र (जनक, विवरण और इतिहास)

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here