पढ़ाई में अव्वल कैसे आएं?

Padhai Me Avval Kaise Aaye: हर एक बच्चा एग्जाम में टॉप आना चाहता है लेकिन सभी बच्चे की समझ शक्ति एक जैसी नहीं होती है। सब बच्चा पढ़ाई में होशियार नहीं होता। लेकिन ऐसा नहीं है कि आप पढ़ाई में कमजोर है तो आप अव्वल नहीं आ सकते। यदि दृढ़ विश्वास और कड़ी मेहनत हो तो आप हर एक असंभव चीजों को संभव कर सकते हैं।

आपने यह कथन तो जरूर सुना होगा “करत करत अभ्यास के, जड़मति होत सुजान, रस्सी आवत जात है, सिल पर परत निशान” वर्तमान के द्वारा कहे गए इस कथन के अनुसार आट यदि लगातार अभ्यास करते हैं तो आप भी पढ़ाई में अव्वल आ सकते हैं।

आज का यह लेख भी हम उन्हीं बच्चों के लिए लेकर आए हैं जो पढ़ाई में अव्वल आना चाहते हैं। इस लेख को आप अंत तक पढे क्योंकि इस लेख में आपको पढ़ाई में अव्वल कैसे आएं? और पढ़ाई में अव्वल होने के तरीके जानने को मिलेगा।

Padhai-Me-Avval-Kaise-Aaye
Image : Padhai Me Avval Kaise Aaye

पढ़ाई में अव्वल कैसे आएं? | Padhai Me Avval Kaise Aaye

अपनी बॉडी क्लॉक को समझ कर पढ़ाई का सही वक्त सुनिश्चित करें

जो बच्चे पढ़ाई में कमजोर होते हैं उनमें से ज्यादातर बच्चों की यही शिकायत होती है कि वह जो भी पढ़ते हैं उनके दिमाग से निकल जाता है। उन्हें कुछ याद नहीं होता। उन बच्चों को पढ़ाई में अव्वल होने के लिए सबसे अच्छा तरीका है कि वे अपने बॉडी क्लॉक को समझे। क्योंकि हर व्यक्ति का शरीर अलग-अलग समय के अनुसार ज्यादा एक्टिव रहता है।

सब की कार्यक्षमता एक समय में एक समान नहीं होती जैसे कि सुबह के समय सो कर उठने के बाद आपका दिमाग पूरी तरीके से फ्रेश हो जाता है और उस समय आप कुछ भी पढ़ते हैं तो चीजें जल्दी याद होती है और इसीलिए ज्यादातर लोग हमें सुबह उठकर पढ़ने की सलाह देते हैं।

वही यदि आप दोपहर में पढ़ते हैं तो आपको नींद आने लगती है और ऐसे में हमारा दिमाग कोई भी चीजों को याद नहीं कर पाता। लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिन्हें सुबह की तुलना में रात में ज्यादा अच्छे से याद होता है। तो अपने बॉडी क्लॉक का विश्लेषण करें और जाने की कौन से समय आपका दिमाग ज्यादा सक्रिय है उसी वक्त आप पढ़ने बैठे। तब आपको सारी चीजें आसानी से याद हो जाएगी।

शारीरिक व्यायाम और मस्तिष्क को विकसित करने वाले आहार

जैसा सब जानते हैं कि किसी भी चीज को याद हमारा मस्तिष्क करता है। ऐसे में यदि आपका मस्तिष्क स्वस्थ नहीं है तो आप कुछ भी पढेंगे तो आपको याद नहीं रहेगा। इसीलिए आपको आपके मस्तिष्क को, अपने शरीर को स्वस्थ रखना पड़ेगा।  क्योंकि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन का निवास होता है।

ऐसे में अगर कोई व्यक्ति बहुत बीमार है या कई प्रकार की बीमारियों से ग्रस्त है तो वह अपने मन को एकाग्र चित्त नहीं कर पाएगा इसीलिए आप अपने मन को एकाग्र करना है तो आपको स्वस्थ रहना पड़ेगा और स्वस्थ रहने के लिए आपको चाय,कॉफी, फास्ट फूड जैसे तेल से तली चीजों को खाना छोड़ना पड़ेगा।

अपने भोजन में पौष्टिक आहार का सेवन करना पड़ेगा। इसके अतिरिक्त अपने दैनिक चर्या में व्यायाम को भी शामिल करें। व्यायाम करने से आपके मस्तिष्क में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ती है और ज्यादा समय तक आप एकाग्रता रह पाते हैं जिससे आप लंबे समय तक पढ़ाई कर पाने में सक्षम होते हैं।

पढ़ने का नियमित घंटा तय करें

यदि आपको पढ़ाई में अव्वल होना है तो आपको पढ़ाई को समय देना पड़ेगा। यदि आप सोचेंगे कि प्रतिदिन एक घंटा पढ़ने से आपको सब कुछ ज्ञान हो जाएगा तो ऐसा संभव नहीं है। आपको अपने पढ़ाई के लिए नियमित 5 से 6 घंटे का समय निकालना पड़ेगा। आपको अपने इस नियम पर दृढ़ भी रहना पड़ेगा।

ऐसा नहीं कि आप पहले दिन 6 घंटे तक जोश में आकर पढ़ लिए और दूसरे दिन एक ही घंटा पढे। ऐसे में आपका सिलेबस भी कंप्लीट नहीं हो पाएगा और आप अपने क्लास में अव्वल नहीं आ पाएंगे। इसीलिए अपने विषय के सिलेबस को ध्यान देते हुए प्रतिदिन उसके अनुसार पढ़ाई का समय निर्धारित करें।

यह भी पढ़े :एक अच्छा लीडर कैसा होना चाहिए?

नया सीखने की चाह रखें

यदि आपको पढ़ाई में अव्वल होना है तो टॉपर बनने के मकसद से पढ़ाई ना करें बल्कि ज्ञान को अर्जित करने और ज्यादा से ज्यादा चीजों को सीखने के मकसद से पढ़ाई करें क्योंकि टॉपर होना आपके जिंदगी का मायने नहीं है। आपको ढेर सारा ज्ञान अर्जित करना है और वही ज्ञान आपको जिंदगी में सफलता दिलाएगी।

रटे नहीं समझे

ज्यादातर बच्चे जो क्लास में टॉपर आना चाहते हैं वे तो अव्वल आने के हौड में किसी भी विषय को समझने के बजाय उसे रटते हैं। लेकिन याद रखिए कि यदि आप कोई भी चीज की रट्टा मारते हैं तो वह आप भूल भी बहुत जल्दी जाते हैं। रट्टा मारी हुई चीजे आपको लंबे समय तक याद नहीं रहती। इसीलिए हर चीजों के कांसेप्ट को समझे।

आज के इस डिजिटल जमाने में तो हर एक विषय के कांसेप्ट को समझना काफी आसान हो गया है क्योंकि इस इंटरनेट के समय में आपको जो भी कुछ समझ में नहीं आता आप उसे यूट्यूब पर उसकी वीडियो देख सकते हैं। उससे संबंधित जानकारी गूगल पर खोज सकते हैं जहां पर आपको उस चीज से संबंधित विस्तृत जानकारी मिली जाएगी।

स्मार्ट स्टडी करें

स्मार्ट स्टडी का मतलब है कि आप अपने पूरे सिलेबस को समय के अंदर समाप्त करें। यदि आपने किसी एक विषय पर एक चैप्टर कंप्लीट कर लिया है तो दूसरा चैप्टर शुरू करने का इंतजार ना करें । विद्यालय में उस टॉपिक को शुरू करने से पहले ही आप उस टॉपिक के बारे में खुद जाने, उस टॉपिक को खुद घर पर पढे।

नोट्स तैयार करें

आपने यह जरूर देखा होगा कि जो बच्चे क्लास में  टॉपर आते हैं वे क्लास में टीचर के द्वारा पढ़ाई जाने वाली हर एक इंपॉर्टेंट पॉइंट को अपने नोटबुक में नोट करते हैं और फिर उसे घर पर जाकर दोहराते हैं। बहुत बार होता है कि टीचर हमें जो पढ़ाते हैं तब तक तो हमें याद रहता है लेकिन घर पर आने के बाद फिर हम वह चीज भूल जाते हैं।

इसीलिए यदि आपको भी पढ़ाई में अव्वल होना है, तो क्लास में टीचर जो भी पढ़ाते है उसका नोट जरूर बनाए ताकि जब भी आपको लगे कि आप उस चीज को भूल चुके हैं, तो एक बार नोटबुक खोल कर उसको दोबारा पढ़ सकते हैं।

रीवीजन करें

हम प्रतिदिन नई-नई चीजें सीखते हैं नई नई चीजों को याद रखते हैं । ऐसे में हमारा मस्तिष्क किसी एक चीज को लंबे समय तक याद रखने में कभी कबार सक्षम नहीं हो पाता। इसीलिए हर एक पढाई हुई चीजों का रिवाइज जरूर करें। रिवाइज करने से वह चीज हमेशा के लिए आपके दिमाग में रहती है और आप उसे कभी नहीं भूलते।

इसलिए यदि पढ़ाई में अव्वल होना है तो स्कूल में पढ़ाए जाने वाले हर एक विषय को घर पर आने के बाद उसे रिवाइज करें और फिर हफ्ते में भी एक आद बार उस चीज को रिवाइज करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो एग्जाम के समय आपके दिमाग पर ज्यादा पढ़ने का बोझ भी नहीं आता बस एग्जाम के समय भी आपको मात्र एक बार हर चीजों को रिवाइज करना होता है।

प्रश्न पूछने में कभी संकोच न करें

हर बच्चे कि समझ सकती एक जैसी नहीं होती है। किसी किसी बच्चे को एक बार में हीं समझाने से सब कुछ समझ जाते हैं, कुछ बच्चे को दो तीन बार समझाना पड़ता है तव वे समझते हैं। ऐसे में कई बार हम देखते हैं कि क्लास में कई बच्चों को कोई कांसेप्ट समझ ना आने के बावजूद भी वे संकोच के मारे टीचर से नहीं पूछते हैं।

लेकिन यदि आप चीजों को समझकर नहीं पड़ेंगे तो वह आपको कभी भी याद नहीं होगा। इसीलिए टीचर के द्वारा पढ़ाई जाने वाली हर एक चीजो के ऊपर कुछ भी डाउट हो तो उसे टीचर से तुरंत पूछकर उसे क्लियर करें।

पिछले साल के पेपर को सॉल्व करें

आप चाहते हैं कि परीक्षा में अच्छे मार्क्स लाए तो आप को परीक्षा में आने वाले पेपर का पैटर्न भी समझना पड़ेगा। इसके लिए आप पिछले साल के पेपर को सॉल्व करें। ज्यादातर टॉपर यही करते हैं। वे मॉक टेस्ट सीरीज या पिछले कुछ सालों के पेपर को जरूर सॉल्व करते हैं।

ऐसा करने से उनको पता चल जाता है कि एग्जाम में किस तरीके का सवाल पूछा जा सकता है और इससे आपको यह भी जानकारी मिल जाती है कि कौन से सवाल का वेटेज ज्यादा है ताकि आप उन चीजों को ज्यादा अच्छे से पढ़ सके।

यह भी पढ़े : खुद को मोटिवेट कैसे करें?

अपनी राइटिंग स्पीड को बढ़ाएं

कुछ बच्चे एग्जाम में अच्छे मार्क्स इसलिए नहीं ला पाते क्योंकि उनकी राइटिंग स्पीड अच्छी नहीं होती है।  हालांकि उन्हें सभी प्रश्नों का उत्तर आ रहा होता है लेकिन राइटिंग स्पीड अच्छी ना होने के कारण समय खत्म हो जाता है और उस पेपर को पूरा लिख नहीं पाते। इसीलिए आप एग्जाम से पहले ही राइटिंग स्पीड की प्रैक्टिस करें। इसके लिए आप पिछले साल की पेपर सेट को एक निश्चित टाइम ड्यूरेशन में पूरा पेपर सॉल्व करने की कोशिश करें।

यदि आप ऐसा बार-बार करेंगे तो आपकी राइटिंग स्पीड ठीक हो जाएगी। इसके अतिरिक्त एग्जाम पेपर समय पर पूरा करने के लिए कभी भी कठिन सवालों पर ज्यादा वक्त बर्बाद ना करें। यदि आपको लग रहा है कि कोई सवाल आप से नहीं हो रहा है तो ज्यादा ना सोचे, उसे छोड़कर आप अन्य सवालों को हल करें।

जब अन्य सवाल हल हो जाते हैं तब अंत में कठिन सवालों को हल करने की कोशिश करें। इसके अतिरिक्त पेपर को समय पर पूरा करने के लिए आप ज्यादा नंबर वाले प्रश्नों को पहले हल करने की कोशिश करें उसके बाद आप कम नंबर की प्रश्नों की ओर है।

अपनी हैंड राइटिंग सुधारे

यदि परीक्षा में अच्छे नंबर लाने हैं तो आपकी हैंडराइटिंग भी बहुत मायने रखती है। यदि हैंडराइटिंग अच्छी हो तो आपको एक्स्ट्रा मार्क्स भी मिल जाते हैं।

इसीलिए पढ़ाई के साथ-साथ अपनी हैंडराइटिंग को भी सुधारने की अभ्यास करें । यदि आपकी हैंडराइटिंग अच्छी नहीं है तो प्रतिदिन एक पेज हैंड राइटिंग सुधारने के लिए लिखे।

गणित के फार्मूले को कागज पर लिखकर दीवार पर चिपका दें

गणित के प्रश्नों को हल करने के लिए फार्मूला ही सबसे ज्यादा मायने रखता है और ज्यादातर बच्चे जिनकी गणित कमजोर होती है उनकी सबसे बड़ी शिकायत यही होती है कि उन्हें फार्मूला याद नहीं होता।

ऐसे बच्चों के लिए फार्मूला याद करने का अच्छा उपाय है कि वे एक कागज पर गणित के सभी फार्मूले को लिखकर दीवार पर चिपका दें और ऐसे जगह पर चिपकाए, जहा सुबह उठते ही उनकी नजर सीधे उस कागज पर पड़े। ऐसा करने से बहुत आसानी आपको गणित के फार्मूले याद हो जाएंगे।

सभी विषयों को प्राथमिकता दे

हर एक बच्चे का अपना एक विषय सबसे पसंदीदा होता है जिसे वे पढ़ना बहुत पसंद करते हैं। लेकिन एग्जाम में पास होने के लिए केवल एक विषय ही मायने नहीं रखता,आपको सभी विषयों को प्राथमिकता देनी पड़ती है और सभी विषय पर आपको सामान मेहनत करना पड़ता है।

ऐसे में यदि आपका कोई भी विषय कमजोर है तो आप सबसे पहले अपने कमजोर विषय पर ज्यादा ध्यान दें और उसे सुधारने की कोशिश करें।

टॉपर स्टूडेंट के साथ दोस्ती बनाए

जैसा सब जानते हैं कि व्यक्ति जिस के संपर्क में रहता है उसी की तरह बन जाता है। इसलिए यदि आप पढ़ाई में अव्वल आना चाहते हैं तो दोस्ती हमेशा टॉपर स्टूडेंट के साथ करें। जो क्लास में टॉपर आते हैं उनसे जाने कि आखिर वह किस तरीके से पढ़ाई करते हैं, उनसे प्रेरणा हासिल करें ताकि आप भी पढ़ाई में अव्वल बन सके।

निष्कर्ष

आज के लेख में हमने आपको पढ़ाई में अव्वल कैसे आएं?(Padhai Me Avval Kaise Aaye) के बारे में जानकारी देंगे। इन सबके अतिरिक्त पढ़ाई में अव्वल आने के लिए आप प्रतिदिन अपने क्लास को अटेंड करें। टीचर के द्वारा दी जाने वाली सभी लेक्चर को ध्यान पूर्वक सुने। अपना एक टाइम टेबल बनाएं और उसे अमल करें।

यदि आप लगातार अभ्यास करते हैं तो निश्चित ही परीक्षा में अव्वल आएंगे। तो हमें उम्मीद है कि आज का यह लेख आपको अच्छा लगा होगा। लेख से संबंधित कोई भी समस्या हो तो आप कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं।

यह भी पढ़े :

गुस्से पर काबू कैसे पाएं?

नेगेटिव सोच कैसे दूर करे?

तनाव मुक्त कैसे रहे?

किसी भी मुश्किल को आसानी से कैसे सुलझाएं?

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here