Home > Sanskrit Vyakaran > Shabd Roop > मित्र शब्द के रूप

मित्र शब्द के रूप

मित्र शब्द के रूप | Mitra Shabd Roop in Sanskrit

जैसा की आप सभी को पता होगा की वाक्य शब्द की सबसे छोटी इकाई को कहा जाता हैं। और संस्कृत व्याकरण में इन्ही शब्द पद बनाया जा सकता हैं। संज्ञा और सर्वनाम के शब्दों को पद बनाने लिए तीन विभक्तियों का किया जाता हैं। जैसे : प्रथमा, द्वितीया आदि।

इन्ही शब्दरूपों और पदों का उपयोग पुल्लिङ्ग्, स्‍त्रीलिङ्ग और नपुसकलिङ्ग इसके अलावा एकवचन, द्विवचन और बहुवचन रूपों में किया जाता हैं।

मित्र शब्द के रूप (Mitra Shabd Roop In Sanskrit): मित्र शब्द रूप एक अकारांत नपुंसकलिंग शब्द हैं। मित्र शब्द के शब्द रूप नीचे बनी हुई है। जो कि मित्र शब्द के अकारांत नपुंसकलिंग शब्दों के शब्द रूप हैं।

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा मित्रम् मित्रे मित्राणि
द्वितीया मित्रम् मित्रे मित्राणि
तृतीया मित्रेण मित्राभ्याम् मित्रैः
चतुर्थी मित्राय मित्राभ्याम् मित्रेभ्यः
पंचमी मित्रात् मित्राभ्याम् मित्रेभ्यः
षष्ठी मित्रस्य मित्रयोः मित्राणाम्
सप्तमी मित्रे मित्रयोः मित्रेषु
सम्बोधन हे मित्रम् ! हे मित्रे ! हे मित्राणि !
Mitra Shabd Roop in Sanskrit
Mitra Shabd Roop in Sanskrit

संस्कृत के अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप

संस्कृत व्याकरण

संस्कृत धातु रुपसंस्कृत वर्णमालालकार
संस्कृत में कारकसंस्कृत में संधिसमास प्रकरण
प्रत्यय प्रकरणउपसर्ग प्रकरणसंस्कृत विलोम शब्द

Related Posts

Leave a Comment