समास प्रकरण (संस्कृत व्याकरण)

समास प्रकरण (संस्कृत व्याकरण) | Samas in Sanskrit

Samas in Sanskrit
Samas in Sanskrit

समास प्रकरण

जब कई शब्द अपने जोड़ने वाले विभक्ति-चिह्न छोड़ कर एक शब्द बन जाते हैं तो उस एक शब्द के बनने की क्रिया को ‘समास’ कहते हैं और उस शब्द को संस्कृत में ‘समासिक’ या समस्तपद कहा जाता है। जहाँ बिखरे पदों (विभिन्न श्लोकों) को ‘समस विग्रह’ कहा जाता है।

समास के भेद

संस्कृत में समास मुख्यतः चार प्रकार के होते हैं:

  1. अव्ययीभाव समास
  2. तत्पुरुष समास
  3. कर्मधारय समास
    • द्विग समास
    • नञ् समास
    • द्वंद्व समास
  4. बहुब्रीह समास

1.अव्ययीभाव समास

इस समास में, पूर्वपाद ‘अव्यय’ है और उत्तपदा अव्यय है। लेकिन सब बेकार हो जाता है, इसमें प्रधानता है।

  • निर्मक्षिकम् = मक्षिकाणाम भाव:
  • समुद्रम् = मद्रणां समृद्धि:

2.तत्पुरुष समास

तत्पुरुष समास में उत्तरपद का अर्थ प्रधान रहता है। तत्पुरुष का विलय होने पर पूरे भाग को उत्तरपद का लिंग प्राप्त होता है।

जैसे:

  • धन्यन अर्थ: = ग्रेन्यार्थ
  • राज्ञः पुरुष: = राजपुरुषः
  • कृष्णः सर्पः = कृष्णसर्पः
  • अपरं कायस्य = अपरकायः

3.कर्मधारय समास

कर्मधारय समास को ‘समाधिकरण तत्पुरुष’ भी कहा जाता है, क्योंकि इसमें दोनों श्लोक समान विभक्ति के हैं। इसमें विशेषण / विशेषण और उपमा / प्रत्यय शामिल हैं। कुछ स्थानों पर, दोनों शब्द विशेषण या विशेषण हो सकते हैं। कुछ स्थानों पर उपमान और उपमा के बीच भेद स्थापित करते हुए, रूपक क्रिया-उन्मुख हो जाता है।

  • महान् + राजा = महाराजः
  • नरः सिंह + इव = नरसिंहः

द्विगु समास

जिसका पहला पद एक अंक है और दूसरा पद एक संज्ञा है। द्विग समास तीन प्रकार के होते हैं- तद्दितार्थ द्विगु, उत्तरपद द्विगु और समाहार दिग।

द्विगु के अंत में तद्दितार्थ रहता है; यदि कोई पद संख्यात्मक विशेषण के बाद आता है, तो उत्तर द्विगु होता है और यदि समूह का अर्थ प्रकट होता है तो योग द्विगु होता है।
नाना समसाही

उपंत के साथ नान (ना) के संयोजन को नान समसा कहा जाता है। यदि उत्तर शब्द का बहु अर्थ प्रधान हो तो तत्पुरुष नहीं होता और यदि दूसरे शब्द की प्रधानता हो तो वह ‘नह’ होता है।

  • सप्तानां ऋषीणां समाहारः इति = सप्तर्षिः
  • सप्तानां दिनानां समाहारः इति = सप्तदिनम्
  • पञ्चानां वटानां समाहारः इति = पञ्चवटी

4.बहुब्रीह समास

अनेक-मन्य पदार्थ जिसमें सभी छंदों में मौजूद दो शब्दों में से कोई भी प्रमुख नहीं है लेकिन तीसरे पद की पूर्वता है। इसमें इसी तरह के छंदों के अन्य छंदों के अर्थ में कई प्रथमंत सुबंत श्लोक विलीन हो गए हैं।

  • पीतम् अम्बरं यस्य सः = पीताम्बरः
  • दत्तं भोजनं यस्मै सः = दत्तभोजनः
  • चन्द्रः इव मुखं यस्याः साः = चन्द्रमुखी

यह भी पढ़े

संस्कृत धातु रुपसंस्कृत वर्णमालाउपसर्ग प्रकरण
संस्कृत में कारक प्रकरणलकारप्रत्यय प्रकरण
संस्कृत विलोम शब्दसंस्कृत में संधिसंस्कृत शब्द रूप
संस्कृत धातु रुपहिंदी से संस्कृत में अनुवाद

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here