लकार (संस्कृत की लकारें, प्रकार और भेद)

लकार (संस्कृत की लकारें, प्रकार और भेद) | Lakar in Sanskrit

संस्कृत भाषा में लकारें दस प्रकार के होती हैं। इनमें से केवल पांच ही आज प्रचलन में हैं। जो यहाँ है लट् लकार, लङ् लकार, लृट् लकार, लोट् लकार तथा विधि लिङ् लकार।

Lakar in Sanskrit
Lakar in Sanskrit

लकार के प्रकार (Types of Lakar in Sanskrit)

  1. लट् लकार (Present Tense)
  2. लोट् लकार (Imperative Mood)
  3. लङ्ग् लकार (Past Tense)
  4. विधिलिङ्ग् लकार (Potential Mood)
  5. लुट् लकार (First Future Tense or Periphrastic)
  6. लृट् लकार (Second Future Tense)
  7. लृङ्ग् लकार (Conditional Mood)
  8. आशीर्लिन्ग लकार (Benedictive Mood)
  9. लिट् लकार (Past Perfect Tense)
  10. लुङ्ग् लकार (Perfect Tense)

संस्कृत के १० लकारों का परिभाषा

1. लट् लकार

लट् लकार का प्रयोग वर्तमान काल में किया जाता है। क्रिया के जिस रूप से वर्तमान काल में क्रिया होती हुई पाई जाती है, उसे वर्तमान काल कहते हैं।

क्रिया हमेशा अपने विषय के अनुसार प्रयोग की जाती है। जिस व्यक्ति, शब्द और काल का कर्ता होता है, उसी व्यक्ति, शब्द और समय का भी प्रयोग किया जाता है। यह पहले ही स्पष्ट किया जा चुका है कि मध्य पुरुष में युष्मद (तवं) शब्द का और श्रेष्ठ पुरुष में अस्मद (अहम्) शब्द का प्रयोग होता है। शेष सभी संज्ञा या सर्वनाम का प्रयोग प्रथम व्यक्ति में ही किया जाता है।

2. लिट् लकार

परोक्ष भूत का प्रयोग अप्रत्यक्ष भूतकाल में किया जाता है। आँखों के सामने की जाने वाली क्रिया को परोक्ष भूत काल कहते हैं। उत्तम पुरुष में लिट् लकार का प्रयोग स्वप्न या उन्मत्त अवस्था में ही किया जाता है।

3. लुट् लकार

अद्यतन भविष्य काल में, एक लूटकार का उपयोग किया जाता है। पिछली रात बारह बजे से अगली रात बारह बजे तक का समय “नवीकरण” (आज का समय) कहलाता है। आने वाली रात के बारह बजे के बाद के समय को नवीकृत भविष्य काल कहा जाता है।

4. लृट् लकार

सामान्य भविष्य काल में, “लूट” का प्रयोग किया जाता है। क्रिया का वह रूप जो आमतौर पर भविष्य में होता है, उसे “सामान्य भविष्य काल” कहा जाता है।

5. विधिलिङ्ग् लकार

विधिलिङ्ग् लकार का उपयोग कानून चाहिए, निमंत्रण, आदेश, कानून, निर्देश, प्रश्न और प्रार्थना आदि के अर्थ को समझने के लिए किया जाता है।

6. लोट् लकार

लोट् लकार का उपयोग आदेश, प्रार्थना, अनुमति, आशीर्वाद आदि की समझ बनाने के लिए किया जाता है।

7. लङ्ग् लकार

अद्यतन भूतकाल, जो क्रिया आज से पहले हो चुकी है, अर्थात क्रिया आज समाप्त नहीं हुई है, बल्कि कल या उससे भी पहले की गई है, वह अद्यतन काल है।

8. आशीर्लिन्ग लकार

आशीर्वाद के अर्थ में आशीर्लिन्ग लकार का प्रयोग किया जाता है।

9. लुङ्ग् लकार

लुंडकर सरल भूत काल का उपयोग करता है। सरल भूतकाल को जिस रूप में जाना जाता है उसे सामान्य काल कहा जाता है। सामान्य भूतकाल का प्रयोग प्रायः सभी भूतकाल के लिए किया जाता है।

10. लृङ्ग् लकार

यदि भूत काल में एक क्रिया दूसरी क्रिया पर निर्भर करती है, तो इसका कारण भूत काल है। इस समय के वाक्यों में एक शर्त है।

यह भी पढ़े

संस्कृत धातु रुपसंस्कृत वर्णमालासमास प्रकरण
संस्कृत में कारक प्रकरणप्रत्यय प्रकरणउपसर्ग प्रकरण
संस्कृत विलोम शब्दसंस्कृत में संधिसंस्कृत शब्द रूप
संस्कृत धातु रुपहिंदी से संस्कृत में अनुवाद

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here