माइक्रोसॉफ्ट क्या है और विंडोज के प्रकार

Microsoft Kya Hai – माइक्रोसॉफ्ट एक बहुत ही प्रचलित कंपनी है, जो बिल गेट्स के नाम के साथ पूरे विश्व में प्रचलित हो गई है। यह कंपनी मुख्य रूप से कंप्यूटर को हर घर में पहुंचाने के लिए प्रचलित हुई है।

आज आप जिस कंप्यूटर का इस्तेमाल कर रहे हैं सालों पहले यह कंप्यूटर इस्तेमाल करना इतना सरल नहीं हुआ करता था। मगर माइक्रोसॉफ्ट वह पहली कंपनी बनी, जिसने कंप्यूटर का इस्तेमाल आम लोगों के लिए भी सरल बना दिया। इसके परिणाम स्वरूप आज माइक्रोसॉफ्ट विश्व की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है।

माइक्रोसॉफ्ट क्या है (Microsoft kya hai) इसके बारे में हर किसी को समझना चाहिए ताकि वे कामयाबी और उपलब्धि का उदाहरण कैसे बनते है।

Microsoft Kya Hai
Image Source: Microsoft Kya Hai

सरल शब्दों में कहें तो माइक्रोसॉफ्ट एक ऑपरेटिंग सिस्टम है, जो कंप्यूटर को तैयार करता है और एक ऐसा यंत्र बनाता है, जो सरल भाषा में इंसानों के द्वारा दिए गए निर्देशों को समझे और उन निर्देशों के अनुसार कार्य करें।

माइक्रोसॉफ्ट क्या है यह समझने के लिए आपको कंप्यूटर की कार्य प्रणाली को बहुत करीब से समझना होगा, जिसके बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी इस लेख में दी गई है।

माइक्रोसॉफ्ट क्या है और विंडोज के प्रकार | Microsoft Kya Hai

माइक्रोसॉफ्ट क्या है? (Microsoft kya hai)

माइक्रोसॉफ्ट एक कंपनी है, जो अमेरिका में स्थापित की गई है। यह कंपनी कंप्यूटर के ऑपरेटिंग सिस्टम को बनाने का कार्य करती है। पहले कंप्यूटर को एमएस DOS नाम के ऑपरेटिंग सिस्टम के जरिए इस्तेमाल किया जाता था। मगर इस ऑपरेटिंग सिस्टम का कमांड कोड लिखना काफी दिक्कत भरा था।

इस वजह से माइक्रोसॉफ्ट विश्व की वह पहली कंपनी बना, जिसने इस समस्या को समझा और एक ऐसा ऑपरेटिंग सिस्टम लोगों के समक्ष लाया, जिसका कमांड लिखना बहुत ही सरल था और उस ऑपरेटिंग सिस्टम का नाम विंडोज रखा गया, जिसमें कंप्यूटर इस्तेमाल करने की प्रक्रिया को इस कदर सरल बना दिया कि कंप्यूटर हर व्यक्ति के घर की एक वस्तु बन गई।

हम यह भी कह सकते है कि माइक्रोसॉफ्ट विंडोज नाम के एक ऑपरेटिंग सिस्टम को बनाया, जिसके बाद कंप्यूटर में अलग-अलग प्रकार के कंप्यूटर भाषा को सरल रूप से चलन शुरू किया गया। इसके साथ ही माइक्रोसॉफ्ट विंडोस से पहले कंप्यूटर के फीचर्स काफी सीमित हुआ करते थे। यह विश्व की पहली कंपनी थी, जिसके ऑपरेटिंग सिस्टम ने कंप्यूटर के फीचर्स को बहुत हद तक बढ़ा दिया।

माइक्रोसॉफ्ट विंडोस की अगर बात की जाए तो यह एक ग्राफिकल इंटरफ़ेस ऑपरेटिंग सिस्टम है, जिसे माइक्रोसॉफ्ट कॉरपोरेशन नाम के एक अमेरिकी आईटी कंपनी ने 1985 में सर्वप्रथम बनाया था। आगे चलकर इस ऑपरेटिंग सिस्टम में विभिन्न प्रकार के बदलाव किए गए और लगातार कंप्यूटर में पाए जाने वाले फीचर्स बदलते चले गए।

माइक्रोसॉफ्ट विश्व की पहली कंपनी थी, जिसने कंप्यूटर को एक ऐसा ऑपरेटिंग सिस्टम दिया। जिसके तहत कंप्यूटर में टास्कबार कैलेंडर टाइम जैसी विभिन्न प्रकार के फीचर्स आए बाद में उन्होंने माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस के साथ-साथ और भी विभिन्न प्रकार के फीचर्स को जोड़ा और आज आप windows 10 नाम का जो ऑपरेटिंग सिस्टम इस्तेमाल कर रहे हैं, वह कंप्यूटर को इतना आकर्षक और सरल बना चुका है कि माइक्रोसॉफ्ट के बिना हम किसी कंप्यूटर की कल्पना ही नहीं कर सकते।

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या होता है?

Microsoft की प्रचलिता का कारण उसके द्वारा बनाया गया ऑपरेटिंग सिस्टम है। अगर आप माइक्रोसॉफ्ट को समझना चाहते हैं तो उसके द्वारा बनाए गए ऑपरेटिंग सिस्टम को समझना भी आवश्यक है। इस वजह से ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है एक अहम प्रश्न समक्ष आता है।

इस प्रश्न का सरलता से जवाब देते हुए हम यह कह सकते हैं कि कंप्यूटर एक मशीन है, जो इंसान के द्वारा दिए गए निर्देश को नहीं समझ सकता इंसानी भाषा में दिए गए निर्देश को मशीन की भाषा में परिवर्तन करना और कंप्यूटर को समझाना एक अहम कार्य है, जो ऑपरेटिंग सिस्टम के द्वारा संपन्न किया जाता है। अर्थात ऑपरेटिंग सिस्टम एक्यूजर और कंप्यूटर के बीच का माध्यम होता है, जो यूजर के द्वारा दिए गए निर्देश को कंप्यूटर को समझाने का कार्य करता है।

ऑपरेटिंग सिस्टम की एक परिभाषा यह भी कहती है कि कंप्यूटर विभिन्न प्रकार के हार्डवेयर का संस्करण होता है। इंसान के द्वारा दिए गए निर्देश किस हार्डवेयर को दिए जाएंगे और कितनी देर तक वह हार्डवेयर दिए गए निर्देश पर काम करेगा। साथ ही परिणाम यूजर को किस रूप में दिए जाएंगे, इन सबकी व्यवस्था ऑपरेटिंग सिस्टम के द्वारा की जाती है।

यह भी पढ़े: कंप्यूटर क्या है तथा इसकी बेसिक जानकारी

माइक्रोसॉफ्ट इतना प्रचलित क्यों है?

आपको बता दें कि विश्व की सबसे प्रतिष्ठित कंपनियों में से एक माइक्रोसॉफ्ट भी आता है। माइक्रोसॉफ्ट के मालिक बिल गेट्स कई सालों तक विश्व के सबसे अमीर आदमी के रूप में शीर्ष स्थान पर रहे थे। आज माइक्रोसॉफ्ट के मालिक बिल गेट्स विश्व के दूसरे सबसे अमीर आदमी है।

माइक्रोसॉफ्ट की प्रचलिता का कारण उसके द्वारा बनाया गया ऑपरेटिंग सिस्टम है। 1985 से पहले MS DOS नाम का एक operating system था, जो यूज़र और कंप्यूटर के बीच माध्यम की तरह काम करता था। मगर इस ऑपरेटिंग सिस्टम में कार्य करना बहुत ही कठिन था।

इस वजह से कंप्यूटर केवल रिसर्च का हिस्सा बनकर रह गया था, बिल गेट्स ने एक ऐसा ऑपरेटिंग सिस्टम तैयार किया जिसमें अलग-अलग किस्म के फीचर्स थे और किसी कंप्यूटर को निर्देश देना और कंप्यूटर को दिए गए निर्देश को समझाने का कार्य बहुत ही सरल कर दिया।

उनके द्वारा किए गए इस कार्य ने माइक्रोसॉफ़्ट के द्वारा बनाए गए ऑपरेटिंग सिस्टम जिसका नाम विंडोज रखा गया और सर्वप्रथम विंडोज नाम का यह ऑपरेटिंग सिस्टम 1985 में कंप्यूटर में आया वक्त के साथ इस ऑपरेटिंग सिस्टम में लगातार बदलाव किए गए और धीरे-धीरे यह इतना सरल हो गया कि आज जिस व्यक्ति को कंप्यूटर के बारे में कुछ नहीं पता वह भी कंप्यूटर को ओपन करके अपने हिसाब से कुछ न कुछ अवश्य कर सकता है।

आपको यह भी समझना चाहिए कि विश्व में केवल माइक्रोसॉफ्ट ही एक ऑपरेटिंग सिस्टम तैयार करने वाली कंपनी नहीं है। इसके अलावा भी विभिन्न प्रकार की कंपनियां अलग-अलग तरह के ऑपरेटिंग सिस्टम बनाती है और माइक्रोसॉफ्ट ने एक ऑपरेटिंग सिस्टम तैयार किया, जिसका नाम विंडोस था जिसने इस कंपनी को विश्व की सबसे प्रचलित कंपनियों की सूची में स्थान दे दिया।

ऐसा इस वजह से हुआ क्योंकि विंडोज के जितना सरल और अच्छा कार्य करने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम इससे पहले किसी ने नहीं बनाया आज विंडोज इतना प्रचलित हो चुका है कि वह हर कंप्यूटर का हिस्सा बन चुका है और इसे हटा कर एक नया ऑपरेटिंग सिस्टम लाना लगभग नामुमकिन है।

माइक्रोसॉफ्ट विंडोज क्या है?

माइक्रोसॉफ्ट विंडोस या विंडोस यह माइक्रोसॉफ्ट नाम के प्रचलित आईटी कंपनी का एक प्रोडक्ट है, जिसे बिल गेट्स नाम के एक व्यक्ति ने शुरू किया था। 1985 से पहले कंप्यूटर का इस्तेमाल या किसी भी प्रकार का निर्देश देने के लिए आपको एक कोड याद रखना पड़ता था, जिस कोड के बाद ही आप कंप्यूटर को किसी भी प्रकार का निर्देश दे सकते थे। यह प्रक्रिया एक आम इंसान के लिए काफी जटिल थी।

बिल गेट्स ने इसी परेशानी का समाधान ढूंढते हुए 1985 में अपना एक ऑपरेटिंग सिस्टम लांच किया, जिसकी सबसे मुख्य विशेषता यह थी कि यह किसी कोड के आधार पर नहीं बल्कि ग्राफिक आइकन के आधार पर कंप्यूटर को इंसान के निर्देश समझने में मदद करता था।

आज भी आप जब अपने कंप्यूटर को ओपन करेंगे तो उसमें अलग-अलग तरह के आइटम देखने को मिलेंगे कंप्यूटर को ओपन करते ही उसमें अलग-अलग कार्य करने के लिए अलग-अलग प्रकार के आइकन बने हो यह विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम के द्वारा सर्वप्रथम लाया गया था।

इस ऑपरेटिंग सिस्टम के आने के बाद आपको किसी भी प्रकार का कोड याद रखने की आवश्यकता नहीं थी। केवल अपने माउस से आइकन, मेनू और टैब को छूते हुए अपने निर्देश कंप्यूटर को देने थे। यह इतना सरल था कि एक साधारण व्यक्ति से अपने घर में इस्तेमाल कर सकता है और एक पढ़ने वाला बच्चा कंप्यूटर को स्कूल और कॉलेज में भी इस्तेमाल कर सकता है।

वक्त के साथ विंडोज में अलग-अलग तरह के बदलाव किए गए माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के द्वारा बनाया गया। यह विंडोज हर बार एक नया वर्जन के साथ लोगों के समक्ष आया लगातार हुए इस बदलाव से यह ऑपरेटिंग सिस्टम हर साल पहले से ज्यादा बेहतर बनता चला गया और आज माइक्रोसॉफ्ट नाम की अमेरिकी आईटी कंपनी ने ऊंचाई के तमाम आयामों को छू लिया है।

यह भी पढ़े: प्रोसेसिंग डिवाइस क्या है? और इसका उदाहरण

विंडोज के प्रकार

अपने से बहुत कम लोगों को पता होगा कि विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम के कुछ प्रकार भी होते हैं, उनमें से दो मुख्य प्रकार के बारे में नीचे विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई है।

Single user operating system

घर कॉलेज या स्कूल में आप जिस कंप्यूटर को देखते हैं, वह सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम के तहत काम करता है। अर्थात इस तरह के माइक्रोसॉफ्ट का बनाया गया। विंडोस एक व्यक्ति को एक समय में कंप्यूटर पर काम करने की सुविधा देता है। अर्थात एक व्यक्ति कंप्यूटर खोलकर अपने ऑपरेटिंग सिस्टम पर कंप्यूटर को जो निर्देश देगा, कंप्यूटर उस वक्त उस निर्देश पर कार्य करेगा।

मल्टीप्ल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम

बड़ी-बड़ी कंपनियां इस ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल करती हैं। माइक्रोसॉफ्ट विंडोज बड़ी-बड़ी कंपनियों से इसके लिए subscription के आधार पर पैसा लेता है। इस ऑपरेटिंग सिस्टम का मतलब होता है कि एक बार में बहुत सारे लोग कंप्यूटर के साथ जुड़कर कार्य करते हैं और दिए गए निर्देश पर कंप्यूटर हर किसी के निर्देश को समझते हुए आगे बढ़ता है।

बड़ी-बड़ी कंपनियों में लगातार इतनी सारी कोडिंग करनी होती है कि हर कंप्यूटर को एक दूसरे के साथ सामंजस्य बना कर चलना आवश्यक है, इस वजह से मल्टीपल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम आवश्यक हो जाता है।

उम्मीद करते है ऊपर बताई गई जानकारी को आप पढ़ने के बाद विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है यह समझ गए होंगे। किस प्रकार अमेरिका के माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने आज हमारे कंप्यूटर में मल्टीमीडिया म्यूजिक प्लेयर वीडियो जैसे विभिन्न प्रकार के चीजों को डाला और कंप्यूटर इस्तेमाल करने की प्रक्रिया को इतना सरल बना दिया, इस योगदान का असर इंसान इस विकास में बहुत मायने रखता है, जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकता।

FAQ

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या होता है?

यूजर और कंप्यूटर के बीच संवाद करने के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया जाता है। यह एक खास किस्म का प्रोग्रामिंग ढांचा होता है, जो इंसान ने भाषा को कंप्यूटर या मशीन की भाषा में बदलता है ताकि कंप्यूटर इंसान के द्वारा दिए गए निर्देश को समझ सके और उसके बाद ऑपरेटिंग सिस्टम यह तय करता है कि कंप्यूटर का कौन सा हिस्सा उस निर्देश को सफलतापूर्वक संपन्न कर पाएगा, जिसके बाद हमें आवश्यकता अनुसार परिणाम मिलते हैं।

माइक्रोसॉफ्ट कंपनी क्या बनाती है?

आज माइक्रोसॉफ्ट कंपनी विभिन्न प्रकार की चीजें बनाती है, जिसमें एप्लीकेशन भी शामिल है। मगर इस कंपनी के प्रचलिता का कारण विंडोज नाम का ऑपरेटिंग सिस्टम है। 1985 में माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने विंडोज नाम का एक ऑपरेटिंग सिस्टम बनाया, जिसने कंप्यूटर इस्तेमाल करने की प्रक्रिया को बहुत सरल बना दिया और इस आविष्कार ने माइक्रोसॉफ्ट को ऊंचाइयों की सभी आयाम छूने में मदद की।

माइक्रोसॉफ्ट कंपनी का मालिक कौन है?

माइक्रोसॉफ्ट कंपनी का मालिक बिल गेट्स है, जो कई सालों तक विश्व के सबसे अमीर आदमी के रूप में सूची के शीर्ष स्थान पर बने रहे।

माइक्रोसॉफ्ट विंडोस कब शुरू हुआ?

माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के तरफ से बनाया गया ऑपरेटिंग सिस्टम विंडोज 1985 में शुरू हुआ मगर यह पूरे विश्व में Microsoft Vista जो 2006 में लांच किया गया था। वहां से प्रचलित होना शुरू हुआ और आज माइक्रोसॉफ्ट का WINDOWS 11 चुका है।

निष्कर्ष

उम्मीद करते हैं ऊपर बताई गई सभी जानकारियों को ध्यानपूर्वक पढ़ने के बाद पुन सिस्टम क्या होता है microsoft kya hai और किस प्रकार इस कंपनी ने विश्व की सभी कंपनियों के बीच अपना एक सर्वोच्च स्थान बनाया। इन सभी के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी मिली होगी और आप सब कुछ अच्छे से समझ पाए होंगे।

अगर आज के लेख से माइक्रोसॉफ्ट के प्रचलिता का कारण ऑपरेटिंग सिस्टम और उससे जुड़ी सभी प्रकार के सवाल के जवाब आपको सरलता से मिले हैं तो इसे अपने मित्रों के साथ भी साझा करें साथ ही इस लेख पर अपने सुझाव और विचार हमें कमेंट के रूप में बताना ना भूलें।

यह भी पढ़े

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? कार्य, प्रकार और विशेषता

डेटाबेस क्या है? इसके प्रकार, कार्य, उपयोग और लाभ

आउटपुट डिवाइस क्या है? (प्रकार, कार्य और उदाहरण)

विंडोज क्या है?

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 5 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here