मेरा पढ़ाई में मन नहीं लगता क्या करूं? (5 आसान उपाय)

“मेरा पढ़ाई में मन नहीं लगता क्या करूं” यदि आपका भी यही सवाल है? तो आपको बता दें कि पढ़ाई करना जीवन के लिए अत्यंत जरूरी है, क्योंकि पढ़ाई से ही शिक्षा प्राप्त होती है। बिना शिक्षा के व्यक्ति जीवन में कुछ भी कार्य नहीं कर सकता है, जबकि शिक्षा हासिल करके ऐसे ऐसे कार्य किए जा सकते हैं, जिनके बारे में लोग सोचते भी नहीं होते हैं।‌ शिक्षा मनुष्य जीवन के लिए अत्यंत जरूरी ज्ञान है, जो सभी मनुष्य को प्राप्त करना चाहिए।

वर्तमान समय में बढ़ती जनसंख्या अनेक सारे नए-नए क्षेत्र विकसित कर रही है। इसीलिए बढ़ती जनसंख्या के कारण ही किसी भी जगह पर नौकरी करना या कोई डिग्री हासिल करना भी काफी कठिन हो जाता है। इसके लिए अत्यधिक मेहनत करनी होती है, अत्यधिक पढ़ाई करनी होती है। परंतु कुछ लोगों का पढ़ाई में मन नहीं लगता है।

वर्तमान समय में कोई भी नौकरी करने के लिए कुछ भी कार्य करने के लिए आपके पास शिक्षा होनी चाहिए। आपके पास डिग्री होनी चाहिए।‌ शुरुआत में बचपन में स्कूल के समय से ही कॉन्पिटिशन शुरू हो जाता है।‌ स्कूल में पास होने के लिए परीक्षा का आयोजित किया जाता है, उस परीक्षा में अच्छे अंक लाने वालों को पास किया जाता है।‌

mera padhai me man nahi lagta kya karu

इसीलिए सभी तरह के क्षेत्र और सभी तरह की नौकरियां में भर्ती होने के लिए पढ़ाई करना अत्यंत आवश्यक है, लेकिन कुछ लोगों का पढ़ाई में मन नहीं लगता है। मन विचलित हो जाता है या फिर उनका ध्यान कहीं पर भटक जाता है।‌

अत्यंत कोशिश करने के बाद भी वे पढ़ाई में अपना ध्यान नहीं लगा पाते हैं तो आज के इस आर्टिकल में हम आपको पूरी जानकारी विस्तार से बताएंगे कि पढ़ाई में मन नहीं लगता तो क्या कर सकते हैं, कौन-कौन से उपाय हैं, इनके बारे में विस्तार से जानेंगे।

मेरा पढ़ाई में मन नहीं लगता क्या करूं? (5 आसान उपाय)

पढाई का उद्देश्य जानना

हमें पढ़ाई क्यों कर रहे हैं?, पढ़ाई करके क्या करेंगे? इस तरह से आपको पढ़ाई का महत्व या पढ़ाई का उद्देश्य जानना होगा। तभी आपको यह समझ में आएगा कि पढ़ाई आपके लिए कितनी जरूरी है। पढ़ाई से आप क्या कुछ कर सकते हैं। यह सभी जानने के बाद आप का पढ़ाई में मन लगने लग जाएगा।

आमतौर पर हमें पढ़ाई का मुख्य उद्देश्य ज्ञात नहीं होता है, इसीलिए पढ़ाई में मन नहीं लगता है। हमें इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि पढ़ाई ही आज के समय में सब कुछ है, बिना पढ़ाई के कुछ भी नहीं कर सकते। पढ़ाई करके ही व्यक्ति अनेक सारी डिग्री हासिल करता है और उसके आधार पर अच्छी से अच्छी नौकरी करता है।

इस तरह से पढ़ाई के आधार पर ही व्यक्ति जीवन में सफलता हासिल करता है तथा पढ़ाई के जरिए ही वे अपना खुद का बिजनेस, स्टार्टअप इत्यादि कोई भी कामकाज शुरू कर सकता है। बिना पढ़ाई के आज के समय में कोई भी ऐसा काम नहीं है, जिसे आप करके जीवन में सफल हो सकें।

इसीलिए अब अगर आपने पढ़ाई का महत्व और उद्देश्य समझ लिया है, तो पढ़ाई करने में अब आपका मन लगने लगेगा, अब आपका ध्यान पढ़ाई में आकर्षित होगा।

कुछ समय विश्राम करना

आमतौर पर हमें ऐसा देखने को मिलता है कि लोग किताब को आगे रखकर दिन भर बैठे रहते हैं और रात को भी देर तक बैठे रहते हैं। इसीलिए आपको कुछ समय विश्राम भी करना चाहिए। ताकि शरीर को आराम मिल सकें और आपको एक नई ऊर्जा प्रदान हो। कुछ समय विश्राम करने से यदि आपको आलस आता था तो वह पहले सब नहीं आएगा, जिसकी वजह से फिर से आपका पढ़ाई में ध्यान लगने लग जाएगा।

कुछ लोगों को हम सारे दिन भर और रात भर पढ़ाई करते हुए देते हैं, लेकिन वे असल में पढ़ाई नहीं कर रहे होते हैं। क्योंकि इतने लंबे समय तक रोजाना कोई भी पढ़ाई नहीं कर सकता। वह बस केवल दिखावा करते हैं, अपने पास पुस्तके रखते हैं। थोड़ी टाइम कभी पढ़ाई करते हैं तो कभी उनका ध्यान भटक जाता है। इसीलिए आप कुछ समय विश्राम करेंगे तो आपका ध्यान नहीं भटकेगा। जब भी आप पढ़ाई करने बैठेंगे तो अच्छे से मन लगाकर पढ़ाई करेंगे।

पढ़ाई का टाइम टेबल बनाना

अक्सर हम कुछ लोगों को दिन भर और पूरी रात भर पुस्तके लिए हुए देखते हैं और हम सोचते हैं कि वह सारे दिन और सारी रात पढ़ते हैं।‌ लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है, कोई भी इस तरह से पढ़ाई नहीं कर सकता, वह केवल दिखावा करते हैं। कुछ समय पढ़ते हैं तो कुछ समय बाद उनका ध्यान पड़ जाता है।

इसलिए आपको पढ़ाई करने का एक निश्चित समय निर्धारित करना होगा, पढ़ाई का टाइम टेबल बनाना होगा तभी आप अच्छी तरह से पढ़ाई कर पाएंगे कि पढ़ाई करके जीवन में आगे बढ़ने के लिए, आपको एक निश्चित समय के अनुसार पढ़ाई करनी होगी। उसके लिए आपको टाइम टेबल बनाना होगा।

टाइम टेबल बनाने के लिए आपको यह निर्धारित करना होगा कि आप सुबह कितने बजे उठते हैं, कितने बजे नाश्ता करते हैं, कितने बजे फ्रेश होते हैं, कितने बजे खाना खाते हैं, कितने बजे नहाते हैं, कितने बजे क्या काम करते हैं, उसके अनुसार आपको पढ़ाई का समय देना है।

बीच-बीच में समय देने से आपका कार्य भी हो जाएगा और पढ़ाई का भी निश्चित समय निकल जाएगा। इससे आपका पढ़ाई में ध्यान लगा रहेगा, क्योंकि आपके बीच बीच में काम भी होते रहेंगे और पढ़ाई भी होती रहेगी।‌ यदि आप कंटिन्यू कई घंटों तक पुस्तकें लेकर बैठे रहेंगे तो बिल्कुल भी पढ़ाई नहीं होगी।

पढ़ाई में रुचि रखना

कुछ विषय ऐसे होते हैं, जो विद्यार्थियों को बोरिंग लगते हैं। कुछ विद्यार्थी को गणित अच्छी नहीं लगती तो कुछ विद्यार्थियों को राजनीति अच्छी नहीं लगती, इसी तरह से किसी ने किसी विद्यार्थी को कोई न कोई विषय अच्छा नहीं लगता है। इससे उन्हें आलस आने लग जाता है, उनका मूड खराब हो जाता है और उनकी रुचि नहीं रहती है।

ऐसे विषय में पढ़ाई करने के लिए मन लगाने हेतु, आपको उस विषय का महत्व जानना होगा, उसमें रुचि दिखानी होगी। आपको यह समझना होगा कि उस विषय में अच्छे नंबर लाने से आप अच्छे अंको से पास होंगे, जिससे आपको अच्छी डिग्री मिलेगी। उस विषय से संबंधित आपको जीवन में कोई भी समस्या से निकाला जा सकता है। इसीलिए उसमें रूचि दिखाएं, जिससे आपका पढ़ाई में मन लगने लग जाएगा।

इन चीजों से दूरी बनाएं

वर्तमान समय में पढ़ाई करने से जिस वस्तु से मन भटकता है, वह सामान्यत मोबाइल ही है। क्योंकि वर्तमान समय में सभी के पास स्मार्टफोन है और स्मार्ट फोन में 4G इंटरनेट चलता है, जो लोगों को अपनी और आकर्षित करता है।‌ लोग दिन भर इंटरनेट और सोशल मीडिया पर लगे हुए रहते हैं।

सोशल मीडिया पर वीडियो देखते है, दूसरों के वीडियो देखते हैं, फोटो अपलोड करते हैं, दूसरों की प्रोफाइल चेक करते हैं, लाइक शेयर करते हैं इत्यादि दिनभर मनोरंजन करते रहते हैं। ऐसे में उन्हें पढ़ाई में बिल्कुल भी मन नहीं लगता‌, इसीलिए यदि आप का फोकस क्लियर है, आप जीवन में आगे बढ़ना चाहते हैं तो पढ़ाई में ध्यान लगाना अत्यंत आवश्यक है।

उसके लिए आपको मोबाइल को अवॉइड करना चाहिए। आपको पढ़ाई का जिस तरह से समय सारणी बनाई है, ठीक उसी प्रकार आपको मोबाइल इस्तेमाल करने का भी टाइम टेबल बनाना होगा। आपको यह निर्धारित करना होगा कि दिन में किस समय आप मोबाइल चेक करेंगे या देखेंगे।

तभी आप अच्छी तरह से पढ़ाई कर सकेंगे, इसके अलावा टीवी या अन्य कोई ऐसी वस्तु जिससे आप डिस्टर्ब होते हैं, पढ़ाई से ध्यान भटकते हैं, उन सभी को नजरअंदाज करना चाहिए।

समय के अनुसार विषय का चयन करना

समय के अनुसार विषय का चयन करना अत्यंत आवश्यक है। क्योंकि पूरे दिन भर आपको एक तरह की ही ऊर्जा नहीं मिलती है। पूरे दिन भर आपका मूड एक तरह का ही नहीं रहता है, क्योंकि जो उर्जा और मूड आपका सुबह के समय रहता है। वह दोपहर और शाम के समय नहीं रहता है। इसीलिए आपको मूड के अनुसार अपने विषय क्वेश्चन करना चाहिए।

कहीं ऐसा ना हो कि आपका मूड ठीक नहीं,‌ ऊर्जा कम हो और उस समय आप उस विषय को लेकर बैठ जाए, जो आपको पसंद नहीं है तब आपका पढ़ाई में मन बिल्कुल भी नहीं लगेगा। इसलिए आपको इस बात का हमेशा ध्यान रखना है और अपने मूड के अनुसार विषय को सेलेक्ट करना है।‌ उस विषय में पढ़ाई करनी है। इस तरह से आप समय के अनुसार विषय का चयन करके, पढ़ाई में ध्यान लगा सकते हैं।‌ पढ़ाई में मन लगा सकते हैं।

निष्कर्ष

“मेरा पढ़ाई में मन नहीं लगता क्या करूं?” यह सवाल प्रत्येक कुछ विद्यार्थी के मन में आता है, जो अपने बेहतर भविष्य के लिए पढ़ाई तो करना चाहता है, लेकिन इसी कारण से उनका ध्यान भटक जाता है, मन विचलित हो जाता है।‌ पढ़ाई में मन नहीं लगता है, तो उनके लिए आज के इस आर्टिकल में हमने आपको कुछ उपाय और तरीके बताएं हैं, जिन्हें फॉलो करके आप अच्छी तरह से पढ़ाई कर सकते हैं, पढ़ाई में मन लगा सकते हैं।

यदि आप इस आर्टिकल को शुरुआत से लेकर अंत तक ध्यान पूर्वक पढ़ेंगे तो आप यह जान जाएंगे कि पढ़ाई में ध्यान लगाने के लिए, पढ़ाई में मन लगाने के लिए क्या-क्या करना होता है।

हमें पूरी उम्मीद है कि यह जानकारी आपको जरूर पसंद आएगी। इस जानकारी से आपको जरूर सहायता हुई होगी। यदि आपका इस लेख से जुड़ा कोई सवाल या सुझाव है तो कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

यह भी पढ़े

लक्ष्य निर्धारण का महत्व क्या है और इसे कैसे पूरा करें?

सॉफ्ट स्किल्स क्या है और यह कैसे बढाएं?

पढ़ाई में अव्वल कैसे आएं?

दिमाग की एकाग्रता कैसे बढ़ाये?

खुद को मोटिवेट कैसे करें?

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here