खाक छानना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

खाक छानना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग (khaak chhaanana Muhavara ka arth)

खाक छानना मुहावरे का अर्थ –भटकना, मारा-मारा फिरना होता, गलियों में भटकना, व्यर्थ मारे मारे फिरना, दर दर भटकना।

khaak chhaanana Muhavara ka arth –bhatakana, maara-maara phirana hota, galiyon mein bhatakana, vyarth maare maare phirana, dar dar bhatakana.

दिए गए मुहावरे का हिंदी में वाक्य प्रयोग

वाक्य प्रयोग: सोहनलाल एक मेले में गया और मेले के अंदर में गुम हो गया और वह जब अपने दोस्त को खोजने के लिए खाक छानता रहा तभी उसे उसके दोस्त नहीं मिले अंत में वह अकेला ही घर आ गया।

वाक्य प्रयोग: सीता की एक सोने की रिंग गुम हो गई बेचारी रात दिन खाक छानती रही लेकिन उसे अभी तक सोने का रिंग नहीं मिला।

वाक्य प्रयोग: सोहनलाल के ग्रेजुएशन किए हुए के 7 साल हो गया लेकिन अभी भी वह नौकरी की तलाश में खाक छानना रहा है और अभी तक उसे कोई नौकरी नहीं मिली।

वाक्य प्रयोग: अक्सर आपने देखा होगा कि लोग पूरी दुनिया में ईश्वर की खोज में खाक छानना हुए घूमते रहते हैं लेकिन आज तक वह अपने अंदर कभी भी भगवान को खोजने की कोशिश नहीं करते वह बाहर ही खाक छानना रहते हैं।

यहां हमने “खाक छानना” जैसे बहुचर्चित मुहावरे का अर्थ और उसके वाक्य प्रयोग को समझा। खाक छानना मुहावरे का अर्थ होता है भटकना, मारा-मारा फिरना, गलियों में भटकना, व्यर्थ के इधर से उधर फिर घूमते फिरते रहना, दर-दर भटकना। इसका सबसे अच्छा उदाहरण है कि अक्सर लोग कहते हैं कि इस दुनिया में भगवान कहां है वह कैसे दिखते हैं और उनका स्वरूप कैसा है वह कैसे हमें मिल सकते हैं जबकि सच्चाई यह है कि आप इधर उधर खाक छानना से कहीं ज्यादा बेहतर है कि आप अपने अंदर भगवान की खोज करें क्योंकि भगवान हर व्यक्ति के अंदर है हर व्यक्ति के दिल में है जो कि अक्सर लोग समझते नहीं हैं कि वह कितने मूर्ख हैं कि वह बाहर भगवान को खोजने के लिए खाक छानते फिरते हैं। चुकी यह मुहावरा है और मुहावरा और असामान्य अर्थ प्रकट करता है इसीलिए यहां इस मुहावरे का अर्थ दोहरा लाभ प्राप्त करने से हैं।

मुहावरे परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं। एक शब्द के कई मुहावरे हो सकते हैं।यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए मुहावरे ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी किसी का भी मुहावरे पूछा जा सकता है।

मुहावरे का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में मुहावरे पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से मुहावरे बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में मुहावरे का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत में भी मुहावरे पूछे जाते हैं।

मुहावरे कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण मुहावरे और उनका वाक्य प्रयोग

आपे से बाहर होनाउड़ती चिड़िया के पंख गिनना
बड़ी बात होनाअपना घर समझना
आसमान सिर पर उठानाअक्ल चरने जाना

1000+ हिंदी मुहावरों के अर्थ और वाक्य प्रयोग का विशाल संग्रह 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here