अक्ल चरने जाना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

अक्ल चरने जाना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग (Akl charane jaana Muhavara ka Arth Aur Vakya Pryog)

अक्ल चरने जाना मुहावरे का अर्थ – बुद्धि भ्रष्ट हो जाना, समझ की कमी होना, अकल का ठीक से काम ना करना, समय पर दिमाग काम ना करना।

Akl charane jaana muhaavare ka arth – buddhi bhrasht ho jaana, samajh kee kamee hona, akal ka theek se kaam na karana, samay par dimaag kaam na karana.

अक्ल चरने जाना मुहावरे का हिंदी में वाक्य प्रयोग

वाक्य प्रयोग: मोहन के गुरु ने उसे एक प्रश्न का हल समझा दिया था, लेकिन मोहन फिर भी उसका हल नहीं ढूंढ पाया इसे कहते हैं अक्ल चरने जाना।

वाक्य प्रयोग: सीता को जब भी समझदारी का काम करने की बारी आती है तो उसकी बुद्धि काम नहीं करती है अर्थात उसकी अकल चरने चली जाती है।

वाक्य प्रयोग: मोहन आज परीक्षा में किसी भी सवाल का जवाब सही से नहीं दे पा रहा था, आज उसकी बुद्धि काम नहीं कर रही थी उसे ऐसा लग रहा था कि आज उसकी अकल चरने चली गई है।

वाक्य प्रयोग: सोहन 2 घंटे से एक हिसाब मिला रहा था लेकिन फिर भी उस में गलतियां ही गलतियां निकल रही थी इसे कहते हैं अक्ल चरने जाना।

वाक्य प्रयोग: सीता को कितना भी समझा दो लेकिन वह फिर भी किसी का सवाल का जवाब नहीं देती है क्या उसकी अक्ल चरने चली जाती है।

यहां हमने “अक्ल चरने जाना “जैसे बहुचर्चित मुहावरे का अर्थ और उसके वाक्य प्रयोग को समझा।अक्ल चरने जाना का अर्थ होता है कि बुद्धि का भ्रष्ट होना, समय पर सही फैसला नहीं ले पाना या वक्त आने पर सही तरीके से दिमाग का सही इस्तेमाल नहीं कर पाना, जैसे किसी परीक्षा में लोग अक्सर सवालों के जवाब देने में असमर्थ हो जाते हैं क्योंकि उस समय उसका सही तरीके से दिमाग का इस्तेमाल नहीं कर पाता है और उसे ऐसा महसूस होता है कि उसका अकल चरने चली गई है। अक्सर मुसीबत के समय में ही हमारा दिमाग भ्रष्ट हो जाता है और हमारी अक्ल चरने चली जाती है । चुकी यह मुहावरा है और मुहावरा और असामान्य अर्थ प्रकट करता है इसीलिए यहां इस मुहावरे का अर्थ दोहरा लाभ प्राप्त करने से हैं।

मुहावरे परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं। एक शब्द के कई मुहावरे हो सकते हैं।यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए मुहावरे ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी किसी का भी मुहावरे पूछा जा सकता है।

मुहावरे का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में मुहावरे पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से मुहावरे बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में मुहावरे का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत में भी मुहावरे पूछे जाते हैं।

मुहावरे कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण मुहावरे और उनका वाक्य प्रयोग

बड़ी बात होनाकठपुतली बनना
उड़ती चिड़िया के पंख गिननाकान भरना
आम के आम गुठलियों के दामअपना उल्लू सीधा करना

1000+ हिंदी मुहावरों के अर्थ और वाक्य प्रयोग का विशाल संग्रह 

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here