कंगाली में आटा गीला होना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

कंगाली में आटा गीला होना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग ( kangaalee mein aata geela hona muhaavare ka arth )

कंगाली में आटा गीला होना मुहावरे का अर्थ – विपत्ति में और विपत्ति आना, गरीब में और अधिक हानि होना, एक विपत्ति पर दूसरी विपत्ति आना, समस्या पर समस्या पड़ना, मुसीबत में और मुसीबत, कमी में और कमी होना, परेशानी पर परेशानी आना।

kangaalee mein aata geela hona muhaavare ka arth – vipatti mein aur vipatti aana, gareeb mein aur adhik haani hona, ek vipatti par doosaree vipatti aana, samasya par samasya padana, museebat mein aur museebat, kamee mein aur kamee hona, pareshaanee par pareshaanee aana.

दिए गए मुहावरे का हिंदी में वाक्य प्रयोग

वाक्य प्रयोग: सोहन के पिताजी पहले से ही बीमार थे और आखिर आर्थिक तंगी चल रही थी और दूसरी ओर बच्चों की पढ़ाई का भी खर्च लगातार बढ़ती जा रहा था इसे कहते हैं कंगाली में आटा गीला होना।

वाक्य प्रयोग: सोहन के घर में बिजली का बिल जमा नहीं हो पा रहा था और फिर राशन वालों ने भी तगादा करना शुरू कर दिया इसे कहते हैं गरीबी में आटा गीला होना।

वाक्य प्रयोग: सोहनलाल तो पहले से ही बेरोजगार था और उसकी एक एक्सीडेंट में टांग टूट गई इसे कहते हैं गरीबी में आटा गीला होना।

वाक्य प्रयोग: सोहनलाल मजदूरी करके कमाता था जिससे वह कमजोर था और जब डॉक्टर के पास गया तो उसे कोई बड़ी बीमारी का नाम बता दिया इसे कहते हैं कंगाली में आटा गीला होना।

यहां हमने “कंगाली में आटा गीला होना” जैसे बहुचर्चित मुहावरे का अर्थ और उसके वाक्य प्रयोग को समझा। कंगाली में आटा गीला होना मुहावरे का अर्थ होता है कि जब एक विपत्ति पहले से ही हो और दूसरी विपत्ति का अचानक आ जाना, गरीबी में और अधिक हानि का होना, समस्या पर समस्या का आना , मुसीबत के ऊपर मुसीबत का आना, परेशानी पर परेशानी का आना। जब इंसान एक मुसीबत से निकलता भी नहीं है और उसके ऊपर दूसरी मुसीबत टूट पड़ती है, तो ऐसी परिस्थिति में कहा जाता है कि कंगाली में आटा गीला होना। चुकी यह मुहावरा है और मुहावरा और असामान्य अर्थ प्रकट करता है इसीलिए यहां इस मुहावरे का अर्थ दोहरा लाभ प्राप्त करने से हैं।

मुहावरे परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं। एक शब्द के कई मुहावरे हो सकते हैं।यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए मुहावरे ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी किसी का भी मुहावरे पूछा जा सकता है।

मुहावरे का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में मुहावरे पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से मुहावरे बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में मुहावरे का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत में भी मुहावरे पूछे जाते हैं।

मुहावरे कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण मुहावरे और उनका वाक्य प्रयोग

आपे से बाहर होना उड़ती चिड़िया के पंख गिनना
बड़ी बात होनाअपना घर समझना
आसमान सिर पर उठानाअक्ल चरने जाना

1000+ हिंदी मुहावरों के अर्थ और वाक्य प्रयोग का विशाल संग्रह 

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here