कान का कच्चा होना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

कान का कच्चा होना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग (kaan ka kachcha hona Muhavara ka arth)

कान का कच्चा होना मुहावरे का अर्थ – बिना सोचे-विचारे दूसरों की बातों पर विश्वास करना, हर एक की बात मान लेना, बिना सोचे-समझे दूसरों की बातों में आना, आसानी से किसी की बात पर भरोसा करना, हर एक की बात मान लेना।

kaan ka kachcha hona Muhavara ka arth – bina soche-vichaare doosaron kee baaton par vishvaas karana, har ek kee baat maan lena, bina soche-samajhe doosaron kee baaton mein aana, aasaanee se kisee kee baat par bharosa karana, har ek kee baat maan lena.

दिए गए मुहावरे का हिंदी में वाक्य प्रयोग

वाक्य प्रयोग: मोहनलाल को बहुत सोच समझकर और संभल कर रहना पड़ेगा क्योंकि वह कान का कच्चा है।

वाक्य प्रयोग: हमें हमेशा सोच समझ कर फैसला लेना चाहिए क्योंकि कान का कच्चा होना अच्छी बात नहीं होती है।

वाक्य प्रयोग: मीरा की बातों को सुनकर ऐसा लगता है कि वह दूसरों पर बहुत जल्दी विश्वास कर लेती है वह कान की कच्ची है ।

वाक्य प्रयोग: मोहनलाल के दफ्तर में अक्सर जो भी अधिकारी आते हैं वह सभी कान के कच्चे होते हैं जो कि दूसरों की बातों में जल्द आ जाते हैं और अपनी ही हानि कर डालते हैं।

यहां हमने “कान का कच्चा होना” जैसे बहुचर्चित मुहावरे का अर्थ और उसके वाक्य प्रयोग को समझा। कान का कच्चा होना मुहावरे का अर्थ होता है कि बिना सोचे समझे दूसरों की बातों पर विश्वास कर लेना, हर एक व्यक्ति की बात को मान लेना, बिना सोचे समझे दूसरों की बातों में आ जाना आसानी से भी ,किसी की बातों पर भरोसा कर लेना। जिसका सबसे अच्छा उदाहरण है कि जब लोग किसी पर भी बिना सोचे समझे विश्वास कर लेते हैं तो उसे अक्सर हानि ही उठानी पड़ती है। इसीलिए हमें हमेशा कहा जाता है कि हमें हर एक की बातों को नहीं मानना चाहिए, बिना सोचे समझे कोई कार्य नहीं करना चाहिए। चुकी यह मुहावरा है और मुहावरा और असामान्य अर्थ प्रकट करता है इसीलिए यहां इस मुहावरे का अर्थ दोहरा लाभ प्राप्त करने से हैं।

मुहावरे परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं। एक शब्द के कई मुहावरे हो सकते हैं।यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए मुहावरे ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी किसी का भी मुहावरे पूछा जा सकता है।

मुहावरे का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में मुहावरे पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से मुहावरे बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में मुहावरे का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत में भी मुहावरे पूछे जाते हैं।

मुहावरे कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण मुहावरे और उनका वाक्य प्रयोग

आपे से बाहर होना उड़ती चिड़िया के पंख गिनना
बड़ी बात होनाअपना घर समझना
आसमान सिर पर उठानाअक्ल चरने जाना

1000+ हिंदी मुहावरों के अर्थ और वाक्य प्रयोग का विशाल संग्रह 

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here