जंजाल में पड़ना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

जंजाल में पड़ना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग (Janjaal mein padana Muhavara ka arth )

जंजाल में पड़ना मुहावरे का अर्थ – किसी मुसीबत में पड़ जाना, किसी के चक्कर में पड़ना, किसी बिन बुलाए मुसीबत को न्यौता देना।

Janjaal mein padana Muhavara ka arth – kisee museebat mein pad jaana, kisee ke chakkar mein padana, kisee bin bulae museebat ko nyauta dena.

दिए गए मुहावरे का हिंदी में वाक्य प्रयोग

वाक्य प्रयोग: सोहन ने मोहन के बातों में आकर अपनी जान जंजाल में पढ़ा दिया अर्थात सोहन ने मोहन को किसी मुसीबत में डाल दिया।

वाक्य प्रयोग: सीता अपनी मूर्खता के कारण ऐसी जगह जाकर फस गई जहां उसकी जान जंजाल में पड़ गया अर्थात उसने बिन बुलाए मुसीबत को न्यौता दे दिया।

वाक्य प्रयोग: सोहन ने अपने घर और दोस्तों के सामने यह कहकर अपनी जान जंजाल में दे दी कि वह अपनी दसवीं के एग्जाम में सबसे ज्यादा अंक लाकर दिखाएगा अब उसे दिन रात एक कर के मेहनत करनी पड़ रही है।

वाक्य प्रयोग: सीता ने अपना एक नया घर बनाया है जहां पर वह इस तरह से व्यस्त हो गई है कि उसे कहीं भी जाने की फुर्सत नहीं मिलती उसे ऐसा लगता है कि उसकी जान जंजाल में पड़ गई है अर्थात घर के कामों में काम के चक्कर में पड़ गई है।

यहां हमने “जंजाल में पड़ना” जैसे बहुचर्चित मुहावरे का अर्थ और उसके वाक्य प्रयोग को समझा। जंजाल में पड़ना मुहावरे का अर्थ होता है किसी मुसीबत में पड़ जाना, किसी के चक्कर में पड़ना, किसी बिन बुलाए मुसीबत को न्यौता देना।इसका सबसे अच्छा उदाहरण किसी ऐसे कार्य के पीछे पड़ जाना जिसको करते करते आपका समय कब निकलता है आपको कुछ भी पता नहीं चलता है आपको फुर्सत का कोई समय नहीं मिलता है अर्थात आप काम के चक्कर में इस तरह पड़ जाते हैं कि आपकी जान जंजाल में पड़ जाती है अर्थात आप व्यस्त ही रहते हैं। चुकी यह मुहावरा है और मुहावरा और असामान्य अर्थ प्रकट करता है इसीलिए यहां इस मुहावरे का अर्थ दोहरा लाभ प्राप्त करने से हैं।

मुहावरे परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं। एक शब्द के कई मुहावरे हो सकते हैं।यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए मुहावरे ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी किसी का भी मुहावरे पूछा जा सकता है।

मुहावरे का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में मुहावरे पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से मुहावरे बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में मुहावरे का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत में भी मुहावरे पूछे जाते हैं।

मुहावरे कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण मुहावरे और उनका वाक्य प्रयोग

आपे से बाहर होनाउड़ती चिड़िया के पंख गिनना
बड़ी बात होनाअपना घर समझना
आसमान सिर पर उठानाअक्ल चरने जाना

1000+ हिंदी मुहावरों के अर्थ और वाक्य प्रयोग का विशाल संग्रह 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here