इश्क़ शायरी

Ishq Shayari in Hindi

Ishq Shayari in Hindi
Images :- Ishq Shayari in Hindi

Ishq Shayari in Hindi | इश्क़ शायरी

इश्क़ लिखने को इश्क़ होना बहुत जरूरी है
जहर का स्वाद बिना पिए कोई कैसे बताएगा

बहती हुई आँखों की रवानी में मरे हैं,
कुछ ख्वाब मेरे ऐन जवानी में मरे हैं,
इस इश्क ने आखिर हमें बरबाद किया है,
हम लोग इसी खौलते पानी में मरे हैं,
कब्रों में नहीं हमको किताबों में उतारो,
हम लोग मोहब्बत की कहानी में मरे हैं।

फ़रिश्ते ही होंगे जिनका हुआ इश्क मुकम्मल,
इंसानों को तो हमने सिर्फ बर्बाद होते देखा है…

एक ख़लिश सी रह गयी दिल में,
मुझ जैसा इश्क़ करता, मुझ से भी कोई!
~अनिल कुमार साहू

हम एस कदर तुम पर मर मिटेंगे
तुम जहाँ देखोगे तुम्हे हम ही दिखेंगे

इश्क का तो पता नहीं पर
जो तुमसे है वो किसी और से नहीं !

मैं भी हुआ करता था
वकील इश्क वालों का कभी….
नज़रें उस से क्या मिलीं
आज खुद कटघरे में हूँ….”

भटक जाते हैं लोग अक्सर
इश्क़ की गलियों में,
इस सफर का कोई इक
नक्शा तो होना चाहिए।

शायरी उसी के लबों पर सजती है साहिब
जिसकी आँखों में इश्क़ रोता हो

चाँद मेरी ज़िंदगी में तब लग जाएँगे जब मेरे
एहसासों के साथ-साथ
उनके ज़ज़्बात भी जग जाएंगे !

इश्क है वही जो हो एक तरफा;
इजहार है इश्क तो ख्वाईश बन जाती है;
है अगर इश्क तो आँखों में दिखाओ;
जुबां खोलने से ये नुमाइश बन जाती है।

इश्क ने हमसे कुछ ऐसी साजिशें रची हैं,
मुझमें मैं नहीं हूँ अब बस तू ही तू बसी है।

चलते तो हैं वो साथ मेरे
पर अदाज देखिए जैसे की इश्क
करके वो एहसान कर रहें है !

मेरे इश्क़ से मिली है ,,
तेरे हुस्न को ये शौहरत ,
तेरा ज़िक्र ही कहाँ था
मेरी दीवानगी से पहले ,,

खुशबू से है वो जब आसपास भी नहीं होते
फिर भी महसूस होते है।

कुछ तो शराफत सीख ले,
ऐ इश्क़ शराब से………..!!
बोतल पे लिखा तो होता है,
मैं जानलेवा हूँ………….!!

इश्क का दस्तूर ही ऐसा है
जो इस को जन लेता है
ये उसकी जन लेता है

बरसों से कायम है इश्क़ अपने उसूलों पर,
ये कल भी तकलीफ देता था
ये आज भी तकलीफ देता है.

इश्क में जिसने भी बुरा हाल बना रखा है,
वही कहता है अजी इश्क में क्या रखा है !

बंद कर दिए हैं हमने तो
दरवाजे इश्क के
पर कमबख़्त तेरी यादें तो
दरारों से ही चली आई..

इश्क की गहराईयों में..
खूबसूरत क्या है..!!
एक मैं हूँ, एक तुम हो
और ज़रुरत क्या है..!!

रब ना करें इश्क की कमी किसी
को सताए प्यार करो उसी से
जो तुम्हें दिल की हर बात बताए

कोहरा सा बनकर मेरे दिल पे छा गए हो
तुम्हारे सिवाय कुछ दिखता ही नहीं !

Read Also: दर्द भरी शायरी

इश्क़ ने हमे बेनाम कर दिया,
हर खुशी से हमे अंजान कर दिया,
हमने तो कभी नही चाहा की हमे
भी मोहब्बत हो,
लेकिन तुम्हारी एक नज़र ने
हमे नीलाम कर दिया…

अपनों की महफिल में गैर भी
हैं इश्क के दुश्मन
और भी हैं मैं तो चाहता हूँ
आपको मगर आपके चाहने
वाले और भी हैं !

जाने कब उतरेगा क़र्ज़ उसकी मोहब्बत का . .
हर रोज आँसुओं से इश्क की किस्त भरते हैँ

*****

इश्क़ है तो शक कैसा
अगर नहीं है तो फिर हक कैसा..?

राख से भी आएगी खुशबू मोहब्बत की
मेरे खत तुम सरे आम जलाया ना करो !

ऐ इश्क मुझे अब और जख्म चाहिये…!!
मेरी शायरी मे अब वो बात नही रही…!!

Ishq Shayari in Hindi

तेरे इश्क़ में हर इम्तिहान दे देंगे
हमे है तुमसे मोहब्बत
सारी दुनिया से कह देंगे !

इश्क सूफी है ना मुफ्ती है ना आलीम है
ये जालीम है बहूत जालीम है फकत जालीम है

लिखने को हर दिन आधा इश्क़ लिखता हूँ
तुम आओगे तभी तो पूरा होगा !

इश्क ओर दोस्ती मेरे दो जहान है,
इश्क मेरी रुह, तो दोस्ती मेरा ईमान है,
इश्क पर तो फिदा करदु अपनी पुरी जिंदगी,
पर दोस्ती पर, मेरा इश्क भी कुर्बान है

इश्क की गहराईयों में खूबसूरत क्या है
एक मैं हूँ एक तुम हो और ज़रुरत क्या है !

Read Also: स्माइल पर स्टेटस

इस कदर ये इश्क़ ऐसी साजिशें रचता है
कि मेरे चेहरे में उसका चेहरा दिखता है !

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को
pictures के रूप में डाउनलोड
करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

शमा जली है मोहब्बत की परवाने पास आएंगे
माशूक निकले हैं सज धज कर
अब इश्क़ का माहोल बनाएंगे !

हर वक़्त फ़िराकमें रहता है ये मेरा इश्क़
तुमसे मिलने को कहता है !

*****

प्यार का पहला इश्क़ का दूसरा
मोहब्बत का तीसरा अक्षर अधूरा होता है
इसलिए हम तुम्हे चाहते है
क्योंकि चाहत का हर अक्षर पूरा होता है ।?

Ishq Shayari in Hindi

इश्क ने कब इजाजत ली है आशिकों से
वो होता है और हो कर ही रहता है !

इश्क़ का रोग भला कैसे पलेगा मुझ से
क़त्ल होता ही नहीं यार अना का मुझ से !

इश्क कर लीजिए बेइंतेहा किताबो से..
एक यही ऐसी चीज़ है
जो अपनी बातों से पलटा नही करती.

हम इस कदर तुम पर मर मिटेंगे
तुम जहाँ देखोगे तुम्हे हम ही दिखेंगे!

इश्क़ अगर ख़ाक ना करे
तो ख़ाक इश्क़ हुआ !

आधे से कुछ ज्यादा है,
पूरे से कुछ कम…
कुछ जिंदगी… कुछ गम,
कुछ इश्क… कुछ हम…

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश ग़ालिब
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने !

Read Also: दीदार पर शायरी

इश्क में इसलिए भी धोखा खानें लगें हैं लोग,
दिल की जगह जिस्म को चाहनें लगे हैं लोग.

मुक़म्मल ना सही अधूरा ही रहने दो
ये इश्क़ है कोई मक़सद तो नहीं !

इश्क़ ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया
वर्ना हम भी आदमी थे काम के!

सच्चे इश्क में अल्फाज़ से ज्यादा..!
एहसास की एहमियत होती है…!।

******

चाहने की वजह कुछ भी नहीं ,
बस इश्क
की फितरत है, बे- वजह होना… . !!

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं
अभी इश्क़ के इम्तिहाँ और भी हैं!

इन आँखो में कैद थे गुनाह ए
इश्क कि सजा के बेहिसाब आंसु….
तेरी यादों ने आकर उनकी जमानत कर दी….

Ishq Shayari in Hindi

इश्क़ नाज़ुक मिज़ाज है बेहद
अक़्ल का बोझ उठा नहीं सकता!

जरुरी तो नहीं, हर चाहत का मतलब इश्क हो,
कभी कभी कुछ अनजान रिश्तों के लिए भी…
दिल बेचैन हो जाता है…!!!!

तुम्हारे इश्क़ का मौसम
हर मौसम से सुहाना होता है !

कत्ल किया था जिसने मेरी मासूम मुहब्बत का
वो बा-इज़्ज़त बरी है
और हम इश्क़ करके सारे शहर के गुनहगार हो गये

राह ए दूर ए इश्क़ में रोता है क्या
आगे आगे देखिए होता है क्या!

Read Also: दूरियों पर बेहतरीन शायरी

क्या कहूँ तुमसे मैं क्या है इश्क
जान का रोग है बला है इश्क!

गलत सुना था कि,
इश्क़ आँखों से होता हे
दिल तो वो भी ले जाते है,
जो पलके तक नही उठाते हे

कोई समझे तो एक बात कहूँ
इश्क़ तौफ़ीक़ है गुनाह नहीं!

*****

इश्क़ के चर्चे भले ही सारी दुनिया में होते होंगे,
पर दिल तो ख़ामोशी से ही टूटते हैं….!!!!

ऐ इश्क!!
तेरा वकील बनके बुरा किया मैंने
.
यहां हर शायर तेरे खिलाफ सबूत लिए बैठा है

तेरे ख़त में इश्क की गवाही आज भी है,
हर्फ़ धुंधले हो गए पर स्याही आज भी है।।

Ishq Shayari in Hindi

साहिब ए अकल हो तो एक मशविरा तो दो
एहतियात से इश्क करुं या इश्क से एहतियात!

तू यकीन करें या ना करें….
तेरे साथ से मैं सवर गई….
तेरे इश्क के जूनून मे……
मैं सारी हदों से गुजर गई.

लफ़्ज़ों से तुम मेरी तारीफ कर लो
इश्क हम तेरी आंखो में ढूँढ लेंगे!

किसी को इश्क़ की अच्छाई ने मार डाला,
किसी को इश्क़ की गहराई ने मार डाला,
करके इश्क़ कोई ना बच सका,
जो बच गया उससे तन्हाई ने मार डाला.

बरबाद कर देती है मोहब्बत
हर मोहब्बत करने वाले को
इश्क़ हार नही मानता और
दिल बात नही मानता..!!

मुक़म्मल इश्क़ तो इबादत है
बस करते चले जाना है!

सोच कर पांव डालना
इसमें इश्क दरिया नहीं दलदल है!

झुका ली उन्होंने नज़रे जब
मेरा नाम आया ‪
इश्क़ मेरा नाकाम ही
सही पर कही तो काम आया

इश्क़ है या कुछ और ये तो
पता नहीं पर जो तुमसे है
वो किसी और से नही!

मोहब्बत‬ नही थी तो एक
बार समझाया‬ तो होता…
बेचारा‬ दिल तुम्हारी ‪
ख़ामोशी‬ को ‪इश्क़‬ समझ बैठा..!!

Read Also: दीवानगी पर शायरी

प्यार करना सीखा है नफरतो का कोई ठौर नही
बस तु ही तु है इस दिल मे दूसरा कोई और नही!

कितनी मासुम है दिल की
ख्वाहिश…….
इश्क भी करना चाहता है और
खुश भी रहना चाहता है…..!

किसी ने पूछा कभी इश्क हुआ था
हम मुस्कुरा के बोले आज भी है!

तेरी बातों में जिक्र मेरा….
मेरी बातों में जिक्र तेरा….
अजब सा ये इश्क हैं….
ना तु मेरी ना मैं तेरा

वो कहते है भूल जाओ पुरानी बातों को…..
कोई उसे समझाये कि इश्क़ कभी पुराना नहीं होता..||||

आग थे इब्तिदा ए इश्क़ में हम
अब जो हैं ख़ाक इंतिहा है ये!

इश्क़ इक भारी पत्थर है
कब ये तुझ ना तवाँ से उठता है!

ना आह सुनाई दी ना तड़प दिखाई दी….!!
बर्बाद हो गए तेरे इश्क में
हम बड़ी खामोशी के साथ….!!

आज कोई गज़ल तेरे नाम ना हो जाए
आज कही लिखते लिखते शाम ना हो जाए!

दिल इश्क से
बंधा हुआ एक
जिद्दी परिंदा है !
उम्मीदों से ही घायल है
उम्मीदों पर ही जिंदा !!

हुस्न की मल्लिका हो या साँवली सी सूरत…!!
इश्क अगर रूह से हो तो
हर चेहरा कमाल लगता है…!!

अजब चिराग हूँ दिन रात जलता रहता हूँ
थक गया हूँ मैं हवा से कहो बुझाए मुझे।

इश्क का रोग है जाता नहीं कसम से
गले में डालकर सारे ताबीज देखे मैंने!

सुनो मुझे इश्क़ हुआ है
दूर रहना तुम हमसे सुना है
ये मर्ज छूने से बढ़ जाता है !

खुदा तू इश्क न करना
वरना बहुत पछतायेगा
हम तो मर के तेरे पास आयेंगे
तू कहाँ जायेगा!

ज़मीन से आसमान तक
इश्क़ का ही बोल बाला है
इश्क़ के करने का लेकिन
सभी का ढंग निराला है!

जिसे इश्क़ का तीर कारी लगे
उसे ज़िंदगी क्यूँ न भारी लगे !

मै खुद लिखता हूँ मोहब्बत
तुम आइने को संवार लो
मै अपनी खुशबु बिखेर देता हूँ
तुम अपनी जुल्फों को सवार लो !

******

चर्चे किस्से नाराजगी आने दो मुझको इश्क़ में
और इश्क़ को मुझमें मशहूर हो जाने दो!
साथ देना चाहते है आप की हर राह मे
जिंदगी जीना चाहते है
आप की बाहों मे बन जाना साँसे हमारी ओर
कर देना एहसान इतना जो हो
हमारा प्यार सच्चा इस दुनिया मे !

तुम चाहो अगर तो लिख दो
इश्क़ मेरी तकदीर में
तुमसे खूबसूरत इबादत तो
जन्नत में भी नही!

मन में छुपे राज़ बताऊ कैसे
तुम्हे अपना करीब लावू कैसे
दिल के अरमान दिल में रेह न जाए कभी
चाहत अपनी तुज पर जताऊ भी तो कैसे!

इश्क़ में भी कोई अंजाम हुआ करता है
इश्क़ में याद है आग़ाज़ ही आग़ाज़ मुझे!

Ishq Shayari in Hindi

मैं आदत हूँ उसकी वो ज़रूरत है मेरी
मैं फरमाइश हूँ उसकी वो इबादत है मेरी
इतनी आसानी से कैसे
निकल दू उसे अपने दिल से
मैं ख्वाब हूँ उसका वो हक़ीक़त है मेरी !!

सुना है हश्र हैं उस की ग़ज़ाल सी आँखें
सुना है उस को हिरन दश्त भर के देखते हैं!

दिल की आवाज़ को इज़हार कहते है
झुकी निगाह को इकरार कहते है
सिर्फ़ पाने का नाम इश्क़ नही
कुछ खोने को भी प्यार कहते हैं!

नशा है इश्क़ खता है इश्क़
क्या करें यारो बड़ा दिलकश है इश्क़!

बादशाह थे हम अपनी मिजाज ए मस्ती के
इश्क़ ने तेरे दीदार का फ़क़ीर बना दिया!

फरवरी की एक सर्द शाम और साथ तुम्हारा हो
काश कुछ पल ही सही ख़्वाब ये सच हमारा हो!

इश्क़ वही है जो हो एकतरफा हो
इज़हार ऐ इश्क़ तो ख्वाहिश बन जाती है
है अगर मोहब्बत तो आँखों में पढ़ लो
ज़ुबान से इज़हार तो नुमाइश बन जाती है!

इक बात कहूँ इश्क़ बुरा तो नहीं मानोगे,
बड़ी मौज के थे दिन, तुमसे पहचान से पहले।

यह वही है जो मुझे जीवन पर गर्व करता है,
आपने मुझे बहुत देर कर दी है
प्यार से कोई तरकीब करते हो तो
मुझमें हारने की हिम्मत है।

इबादत ए इश्क बस इतना है तु रहे
सदा पास मेरे मै रहू सदा एहसासो मे तेरे!

प्यार लिखने के लिए प्यार
का होना बहुत जरूरी है।
बिना जहर का स्वाद पिए
कोई कैसे बता सकता है?

Read Also

आँसू शायरी

आरज़ू शायरी

चाहत शायरी

इंतज़ार शायरी

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here