दीवानगी पर शायरी

Deewana Shayari in Hindi

Deewana Shayari in Hindi
images :- Deewana Shayari in Hindi

Deewana Shayari in Hindi|दीवानगी पर शायरी

मैं दीवाना hoon तेरा मुझे इनकार nahi
कैसे kah दूँ कि मुझे तुमसे pyar नहीं,
कुछ शरारत to तेरी नजरों में bhi थी,
Main अकेला ही तो iska गुनहागार नहीं

ये इश्क़ के इन्तहा थी या दीवानगी मेरी,
हर सूरत में मुझे सूरत तेरी नज़र आने लगी.

जब से tune मुझे दीवाना बना रखा hai
संग har शख्स ने हाथों mainउठा रखा है
उसके Dil पर भी कड़ी इश्क main गुजरी होगी
नाम जिसने bhi मोहब्बत का Saja रखा है

दिल दरिया समुन्दर से गहरा,
कौन दिलों की जाने
दीवाना दिल दो वहाँ
जो अपनों की कदर जाने

तुम्हारी बेरुख़ी ne लाज रख li बादा-ख़ाने की
Tum आँखों से पिला देते To पैमानें कहाँ जाते

तेरे झूठ पर भी हम पूरा ऐतबार करते हैं
हम तो तेरे दीवाने हैं और तुझे प्यार करते हैं

दीवानगी हो अक़्ल हो, उम्मीद हो या आस
अपना वही है वक़्त पे जो काम आ गया.

किस्मत apni भगवान्
से लिखवा kar लाए हैं
ऐसे hi नहीं तेरे दीवाने कहलाए hai

चेहरे देख कर प्यार नहीं होता जनाब,
जहां दीवानगी होती है वहाँ शकलो
की नहीं दिलों की कीमत पड़ती है

उसने मेरी महोब्बत का,
इस तरह तमाशा किया.
कि हम मरते है उनके प्यार मे,
और वो हसते रहे मेरी दीवानगी पर.

Read Also: दोस्ती पर शायरी

अभी भी Tera हुस्न डालता है Mujhko हैरत में
मुझे दीवाना kar देता है जलवा जानेमन Tera

कर गयी दीवाना मुझे बातें चार करके
पागल ही न करदे कहीं वो मुझे प्यार करके

******

ख्वाहिश है पहुंचूं इश्क के मै उस मुकाम पर
जब उनका सामना मिरी दीवानगी से हो.

Diwane हैं दीवानो को ना Ghar चाहिए
Bus मोहब्बत भारी इक Najar चाहिए

दीवानगी भी बहुत अजीब है
जिसे पाया ही नहीं उसे भी
खोने का डर लगा रहता है

सौ Baar कहा दिल से
चल भूल भी Jaa उसको,
Har बार कहा दिल ने तुम Dil से नहीं कहते

Deewana Shayari in Hindi

कहाँ तलाश करेगी मुझे जैसे दीवाने की
जो तेरे दिए दुःख भी सहे और प्यार भी करे

दीवानगी मे कुछ एसा कर जाएंगे
महोब्बत की सारी हदे पार कर जाएंगे.
वादा है तुमसे दिल बनकर तुम धड़कोगे
और सांस बनकर हम आएँगे.

की है दीवानगी Koi, पाप To नहीं किया
Khuda ने करवाई है, खुद to नहीं किया

बहुत खुश हु मैं अपनी इस
एक तरफ़ा दीवानगी से
क्योंकि वो चाह कर भी
मुझसे ये रिश्ता नहीं तोड़ सकती

दीवाना उस ने कर दिया एक बार देख कर,
हम कर सके न कुछ भी लगातार देख कर.

kisi को चाहने का koi बहाना नहीं होता
दिल लगाने se कोई दीवाना nahi होता
आशिक़ी सीखनी ho तो सीखो humse
हमें पता hai मोहब्बत का मतलब pana नहीं होता

किसी को अपना दीवाना बना लेना,
फिर कसमें वादे कर लेना
फिर नाराज़ हो जाना और
मजबूरी बता कर रिश्ता तोड़ देना
क्या इसे ही प्यार कहते हैं

शहर में बिखरी हुई हैं,
ज़ख्म-ए-दिल की खुशबुएँ,
ऐसा लगता है के दीवानों का मौसम आ गया.

दीवाना kar के छोड़ोगे,
लगता hai यूँ हमको
सौ बार kaha ऐ जान-ए-जहां,
यूँ प्यार से tum देखा न करो

जहां प्यार और दीवानगी दोनों हों
वहां कसमों और वादों की जरूरत नहीं पड़ती

Read Also: दूरियों पर बेहतरीन शायरी

कभी रोना कभी हँसना कभी हैरान हो जाना
मोहब्बत क्या भले-चंगे को दीवाना बनाती है.

Log पागल कहते हैं hume
ab उन्हें कौन समझाए के
दीवाने to होते ही पागल हैं

ये ज़िन्दगी इतनी छोटी है,
कहीं रूठने मनाने में न गुज़र जाए
हम तेरे दीवाने हैं,
कहीं यही समझाने में न गुज़र जाए

आपकी इस दिल्लगी में हम अपना दिल खो बैठे,
कल तक उस खुदा के थे जो आज आपके हो बैठे,
सुना तो था प्यार दीवाना कर देता है,
करके जो देखा खुद तो हम भी होश खो बैठे.

******

Pyar दीवाना होता है, मस्ताना hota है
Har खुशी से, हर ग़म से, बेगाना होता hai.

Deewana Shayari in Hindi

अजीब अदा है तेरी दीवानगी की
नज़रें भी हम पर हैं और नाराज़गी भी हम से है
शिकायत भी हम से है और प्यार भी हमसे है

किसी को चाहने का कोई बहाना नहीं होता
दिल लगाने से कोई दीवाना नहीं होता
आशिक़ी सीखनी हो तो सीखो हमसे
हमें पता है मोहब्बत का मतलब पाना नहीं होता.

kabhi रोना kabhi
हँसना kabhi हैरान हो जाना
मोहब्बत kya भले-चंगे ko दीवाना बनाती है

दीवानगी की एक छोटी से परिभाषा –
मैं शब्द और तू अर्थ, तेरे बिना सब व्यर्थ

शरीके-ज़िंदगी तू है मेरी, मैं हूँ साजन तेरा,
ख्यालों में तेरी ख़ुश्बू है चंदन सा बदन तेरा,
अभी भी तेरा हुस्न डालता है मुझको हैरत में,
मुझे दीवाना कर देता है जलवा जानेमन तेरा.

ऊपर wala भी दीवाना होगा हमारा
इसी लिए हमें किसी और का होने nahi देता

ये मेरा दिवानापन है,
या मोहब्बात का सुरूर,
तू ना पहचाने तो है
ये तेरी नजरों का कुसूर.

दीवाने hoजाए जिसे पढ़ kar हम.
kuch ऐसा तुम एक Baar लिख दो.

दीवानगी कभी झूठी नहीं होती
झूठे तो कसमें और वादे होते हैं

Read Also: आँसू शायरी

कुछ लौग ये सोचकर भी
मेरा हाल नहीं पुँछते,
कि यै पागल दिवाना
फिर कोई ‪ शायरी न सुना देँ.

इश्क़ ki बेड़ी और दीवानगी ki ज़ंजीर है
चाहता hoon मैं तुझे बहुत,
आगे meri तक़दीर है

दिल को ठगना तेरे नैनो की आदत पुरानी है
हमारे भी दीवानेपन की एक छोटी सी कहानी है

कौन कहता है ये दिल पागल है,
पागलपन तो बस एक बहाना है.
एक बार मुस्कुरा कर तो देखो लो,
ये पागल दिल तुम्हारा दीवाना है.

अगर मोहब्बत ka शौक
रखते हो तो dil से रखो,
जिस्म ke दीवाने तो
यहाँ जानवर bhi होते है

******

मेरी दीवानगी ने खुदखुशी कर ली
कुछ रिश्तों को ज़िन्दगी देने के लिए

एक दीवाने को जो आए हैं समझाने कई
पहले मैं दीवाना था और अब हैं दीवाने कई.

Deewana Shayari in Hindi

दीवाना hoon तेरा मुझे इनकार nahi है,
कैसे कह दूँ के तुमसे प्यार नही है,
teri नज़रों ने भी की थी kuch शरारत,
मेरा दिल अकेला hi तो इसका गुनेहगार नही hai

जो आसानी से मिल जाएँ वो ख़जाने नहीं होते
जो हरेक पर मर जाएँ वो दीवाने नहीं होते

दीवानगी का सिलसिला जावे न हाथ से,
दामन को फाड़िए जो गरेबाँ रफ़ू करें.

फिर तेरी याद, फिर तेरी तलब, फिर तेरी बातें,
ऐसा लगता है ऐ दिल तुझे सुकून नहीं आता

दुनिया में सबसे बड़ा दीवाना वो है
जो आपको उस वक़्त भी प्यार करता था
जब आप प्यार के काबिल भी न थे

बंदगी में इश्क सी दीवानगी पैदा करों,
एक दम दुआओं में असर आ जाएगा.

कुछ दीवाने इतने भी नादान होते हैं
ले जाते हैं अपनी कश्ती वहां
जहाँ तूफ़ान होते हैं

हम तो तेरे दीवाने हैं,
तेरे हर नख़रे को उठाते हैं
हम कपडे मैले पहन सकते हैं
लेकिन दिल साफ़ रखते हैं

ये तो दिल दीवाना था जो तुम पर आ गया,
वरना हम जिंदगी दाव पे लगाया नहीं करते.

Read Also: आरज़ू शायरी

तुमसे बिछड़कर tumko भुलाना,
मुमकिन haiआसान नहीं
दीवाने दिल ko समझाना,
मुमकिन है आसान nahi

जीना मरना हो साथ तेरे,
कोई साँस तुझसे न अलग हो
तुझे मैं अपनी दीवानगी कह सकू,
बस इतना तुझपर हक़ हो

इस बहते दर्द को मत रोको ये
तो सज़ा हे किसी के इंतज़ार की
लोग इन्हें आंसू कहे या दीवानगी पर ये
तो निशानी हे साँवरिया के प्यार की.

छोटी सी है ज़िन्दगी, अरमान बहुत हैं
हमदर्द कोई नहीं, इंसान बहुत हैं
अपनी दीवानगी सुनायें किसे
दिल के जो करीब है वो अनजान बहुत हैं

उनकी एक झलक पे
ठहर जाती है नज़र खुदाया,
कोई हमसे पुछे दीवानगी क्या होती है.

एक अजीब सा मंजर नजर आता है,
हर एक आँसू समंदर नजर आता है,
कहाँ रखूं मैं शीशे सा दिल अपना,
हर एक हाथ में पत्थर नजर आता है

*****

दो चीज़ों को याद करके
बंदा सारी उम्र मुस्कुराता है
एक तो स्कूल की
आवारगी और दूसरी दीवानगी

थोड़ी सी दीवानगी तो
तुझमें दिखती थी ऐ दिल,
ये न सोचा था तू इतना बावरा हो जायेगा.

इतना दीवाना हूँ के अब भी
उसके झूठे वादों को याद करके मुस्कुराता हूँ
और लोग पूछते हैं इतनी ख़ुशी कहाँ से मिलती है

ऐसी हुई तुम से दीवानगी
हर सूरत में तुम्हारी सूरत नज़र आने लगी.

दिल की हसरत जुबां पर आने लगी
तुमको देखा जिंदगी मुस्कुराने लगी.

Deewana Shayari in Hindi

आज हम भी एक नेक
काम कर आए
दिल और दीवानगी की
वसीयत किसी और के नाम कर आए

यह मेरा इश्क़ था या फिर दीवानगी की इन्तहां,
कि तेरे ही क़रीब से गुज़र गए तेरे ही ख़्याल मे.

दीवानगी हो तो ऐसी हो के
मिलने को रूह तरसे
अलग हो जाएँ तो भगवान्
की आँखों से भी आंसू बरसे

तुझ से वाबस्तगी रहेगी अभी
दिल को ये बेकली रहेगी अभी
सर को दीवार ही नहीं मिलती
सो ये दीवानगी रहेगी अभी.

गौरा भोले की दीवानी,
भोले भंग के दीवाने,
और हम दोनों के दीवाने.

इश्क़ की बेड़ी और दीवानगी की ज़ंजीर है
चाहता हूँ मैं तुझे बहुत, आगे मेरी तक़दीर है

मेरी दीवानगी अब भी वही है,
बस इज़हार का अंदाज़ अलग है,
तब बिखरे मोती की माला थी,
आज बिखरे सपनो की सौगात है .

ऊपर वाला भी दीवाना होगा हमारा
इसी लिए हमें किसी और का होने नहीं देता

दीवानगी तो हम कर बैठे हैं इश्क़ में
उनके घर जाकर अपने घर का पता पूछते हैं.

कोई रोको ना दीवाने को,
मन मचल रहा कुछ गाने को.

लोग पागल कहते हैं हमें
अब उन्हें कौन समझाए के
दीवाने तो होते ही पागल हैं

ये शब ओ रोज़ जो इक बे-कली रक्खी हुई है
जाने किस हुस्न की दीवानगी रक्खी हुई है.

की है दीवानगी कोई, पाप तो नहीं किया
खुदा ने करवाई है, खुद तो नहीं किया

Read Also: इश्क़ शायरी

मेरी दीवानगी इस कदर बढ़ गई कि
अब नजरें झुकाना मुमकिन नहीं.

कह रहा है हर शख्स आपका दीवाना हमें,
आप ही के नाम से दुनियां ने पहचाना हमें

किस्मत अपनी भगवान् से लिखवा कर लाए हैं
ऐसे ही नहीं तेरे दीवाने कहलाए हैं

वो खतो-कलम की
दीवानगी छोड़ दी मैंने
के अब जुबाँ हर वक्त ही आह उगलती है .

सिर्फ दो ही चीज़ें अच्छी लगती हैं
एक तू और दूसरी तेरी दीवानगी

ना जीने का शौक है ना मरने की तलब रखते है,
दिवाने है तेरे बस दीवानगी गजब की रखते है.

न कोई रंग दीवानगी का,
फिर भी देखो रंगीन है
न कोई चेहरा है प्यार का,
फिर भी देखो कितनी हसींन है

थौडी़ दीवानगी मै लाऊगा,
थौडी़ वफा तुम ले आना
साझे में कर लेंगे फिर से कारौबार-ए- मौहब्बत.

बदनाम मेरे इश्क़ का अफसाना हुवा है,
दीवाने भी कहते है कि, दीवाना हुवा है.

जो दीवानगी की हद़ तक मोहब्ब़त करता हैं,
उसकी नफ़रत भी जुनून के हद़ तक होती हैं.

कितना खूबसूरत चेहरा है तुम्हारा,
ये दिल तो बस दीवाना है तुम्हारा,
लोग कहते है चाँद का टुकड़ा तुम्हें,
पर मैं कहता हूँ चाँद भी टुकड़ा है तुम्हारा.

दौलत का दीवाना हूँ न शोहरत का दीवाना हूँ ,
शीशे का है दिल मेरा मै भोले का दीवाना हूँ.

दीवाना कर दिया आपने
हमें एक बार देख कर,
और हम कुछ भी न कर
सके तुमको बार बार देख कर.

हर शख्स को दीवाना बना देता है इश्क़
जन्नत की सैर करा देता है इश्क़
दिल के मरीज हो तो कर लो मोहब्बत
हर दिल को धड़कना सिखा देता है इश्क़.

इश्क़ भी वही मयख़ाना भी वही,
लौट कर ये दीवाना कहाँ जायेगा.

हसरत है सिर्फ तुम्हें पाने की,
और कोई ख्वाहिश नहीं इस दीवाने की,
शिकवा मुझे तुमसे नहीं खुदा से है,
क्या ज़रूरत थी, तुम्हें इतना खूबसूरत बनाने की.

*****

कोई महंगा तोहफा दे सकूँ
ये तो हालात नहीं तेरे दीवाने के
बस एक वक़्त ही है
जो शायद किसी और के पास नहीं

Deewana Shayari in Hindi

तुमसे बिछड़कर तुमको भुलाना,
मुमकिन है आसान नहीं
दीवाने दिल को समझाना,
मुमकिन है आसान नहीं.

अगर मोहब्बत का शौक
रखते हो तो दिल से रखो,
जिस्म के दीवाने तो यहाँ जानवर भी होते है .

दीवाने हो जाए जिसे पढ़ कर हम.
कुछ ऐसा तुम एक बार लिख दो.

जो फ़ना हो जाऊं तेरी
चाहत में तो ग़ुरूर ना करना,
ये असर नहीं तेरे इश्क़ का,
मेरी दीवानगी का हुनर है.

प्यार दीवाना होता है, मस्ताना होता है
हर खुशी से, हर ग़म से, बेगाना होता है.

दीवाना कर के छोड़ोगे, लगता है यूँ हमको
सौ बार कहा ऐ जान-ए-जहां,
यूँ प्यार से तुम देखा न करो.

तुम्हारी बेरुख़ी ने लाज रख ली बादा-ख़ाने की
तुम आँखों से पिला देते तो पैमानें कहाँ जाते.

ना कर जिद दीवाने हुस्न को बेपर्दा तकने की
हया जो फैलेगी रूखसार पर ,
जान लेवा होगी.

नई मुश्किल कोई दर-पेश हर मुश्किल से आगे है
सफ़र दीवानगी का इश्‍क़ की मंज़िल से आगे है.

अक़्ल में यूँ तो नहीं कोई कमी,
इक ज़रा दीवानगी दरकार है .

इस तरह तो और भी दीवानगी बढ़ जाएगी,
दीवानों को दीवानों से दूर रहना चाहिए.

आशिक़ी लिखें, दीवानगी लिखें,
या अपनी ख़ामोशी लिखें
दिल के जज़्बात अब अल्फ़ाज़
नहीं बनते, आखिर आज क्या लिखें.

चलो अच्छा हुआ काम आ गयी दीवानगी अपनी
वरना हम ज़माने को ये समझाने कहाँ जाते

मेरी शायरी में सनम तेरी कहानी है
जिसके आधे हिस्से मे तेरा
ज़िक्र आधे में मेरी दीवानगी है.

मैं तो आपकी यादों का दीवाना हो गया हू,
तुम्हारे लिए जान दे दूँगा,
परवाना हो गया हू.

तेरे बिना एक सजा है
ये जिंदगी मेरे कान्हा
किस्मतवाला बस वो है,
जो दीवाना है तेरा.

सदियों से ये रस्म है जारी,
जुर्म है दुनियाँ में दिलदारी
ऐसी दुनियाँ से टकराना,
मुमकिन है आसान नहीं.

रूप तेरा मस्ताना,
प्यार मेरा दीवाना
भूल कोई हमसे ना हो जाये.

Read Also

जुदाई शायरी

खफा शायरी

ख्याल शायरी

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here