गुरु तेग बहादुर सिंह के अनमोल वचन

Guru Tegh Bahadur Quotes in Hindi

Guru Tegh Bahadur Quotes in Hindi
Guru Tegh Bahadur Quotes in Hindi

गुरु तेग बहादुर सिंह के अनमोल वचन |Guru Tegh Bahadur Quotes in Hindi

महान कार्य छोटे-छोटे
कार्यों से बने होते हैं।
(गुरु तेग बहादुर)

अपने सिर को छोड़ दो, लेकिन उन लोगों
को त्यागें जिन्हें आपने संरक्षित करने के लिए किया है।
अपना जीवन दो, लेकिन अपना विश्वास छोड़ दो।

किसी के द्वारा प्रगाढ़ता से प्रेम किया
जाना आपको शक्ति देता है
और किसी से प्रगाढ़ता से प्रेम करना
आपको साहस देता है। .

अपने सिर को छोड़ दो,
लेकिन उन लोगों को त्यागें जिन्हें
आपने संरक्षित करने के लिए किया है।
अपना जीवन दो, लेकिन अपना विश्वास छोड़ दो।

सफलता कभी अंतिम नहीं होती,
विफलता कभी घातक नहीं होती,
इनमे जो मायने रखता है वो है साहस।
(गुरु तेग बहादुर)

जिनके लिए प्रशंसा और विवाद समान हैं,
और जिन पर लालच और लगाव का कोई
प्रभाव नहीं पड़ता है। उस पर विचार करें केवल
प्रबुद्ध है जिसे दर्द और खुशी में प्रवेश नहीं होता है।
इस तरह के एक व्यक्ति को बचाओ पर विचार करें।

हार और जीत यह आपके सोच पर निर्भर है,
मान लो तो हार है और ठान लो तो जीत है। .

दिलेरी डर की गैरमौजूदगी नही,
बल्कि यह फैसला है
कि डर से भी ज़रूरी कुछ है।
(गुरु तेग बहादुर)

Read Also :-साईं बाबा के अनमोल वचन – Sai Baba Quotes in Hindi

नानक कहते हैं, जो अपने अहंकार को जीतता है
और सभी चीजों के एकमात्र द्वार के रूप
में भगवान को देखता है, उस व्यक्ति ने ‘
जीवन मुक्ति को प्राप्त किया है,
इसे असली सत्य के रूप में जानते हैं।

को प्राप्त किया है,
इसे असली सत्य के रूप में जानते हैं।

जीवन किसी के साहस के
अनुपात में सिमटता या विस्तृत होता है।
(गुरु तेग बहादुर)

प्यार पर एक और बार और
हमेशा एक और
बार यकीन करने का साहस रखिए।
(गुरु तेग बहादुर)

एक सज्जन व्यक्ति वह है
जो अनजाने में किसी
की भावनाओ को ठेस ना पहुंचाए।
(गुरु तेग बहादुर)

सफलता कभी अंतिम नहीं होती ,
विफलता कभी घातक नहीं होती .
जो मायने रखता है वो है साहस |

****

इस भौतिक संसार की वास्तविक
प्रकृति का सही अहसास,
इसके विनाशकारी, क्षणिक और
भ्रमपूर्ण पहलुओं को पीड़ित
व्यक्ति पर सबसे अच्छा लगता है। .

गलतियां हमेशा क्षमा की जा सकती हैं,
यदि आपके पास उन्हें स्वीकारने का साहस हो।
(गुरु तेग बहादुर)

जीत और हार यह आपकी
सोच पर ही निर्भर है,
मान लो तो हार है ठान लो तो जीत है |

Guru Tegh Bahadur Quotes in Hindi

हार और जीत यह आपकी
सोच पर ही निर्भर है,
मान लो तो हार है ठान लो तो जीत है।
(गुरु तेग बहादुर)

सभी जीवित प्राणियों के
प्रति सम्मान अहिंसा है |

हर एक जीवित प्राणी के
प्रति दया रखो, घृणा से विनाश होता है।
(गुरु तेग बहादुर)

साहस ऐसी जगह पाया जाता है
जहां उसकी संभावना कम हो।
(गुरु तेग बहादुर)

महान कार्य छोटे -छोटे
कार्यों से बने होते हैं |

डर कहीं और नहीं,
बस आपके दिमाग में होता है।
(गुरु तेग बहादुर)

आध्यात्मिक मार्ग पर दो सबसे कठिन परिक्षण हैं –
सही समय की प्रतीक्षा करने का धैर्य
और जो सामने आये उससे निराश ना होने का साहस |

Read Also

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here