घास खाना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

घास खाना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग (Ghaas khaana Muhavara ka arth)

घास खाना मुहावरे का अर्थ – व्यर्थ समय नष्ट करना, फुजूल समय बिताना।

Ghaas khaana Muhavara ka arth – vyarth samay nasht karana, phujool samay bitaana.

दिए गए मुहावरे का हिंदी में वाक्य प्रयोग

वाक्य प्रयोग: सोहन अपने आवारा दोस्तों के साथ हमेशा फिजूल समय बिताते रहता है उसके साथ घास खाते रहता है।

वाक्य प्रयोग: जब से सोहन की छुट्टी हुई है वह घर पर भी ना तो पढ़ाई करता है और ना ही पढ़ने के लिए किताब को ही खोलता है सारा दिन घास खाते रहता है।

वाक्य प्रयोग: मोहन का परीक्षा में फेल होने का केवल एक ही कारण था कि वह पढ़ने की अपेक्षा सारा दिन घास खाने में लगा रहता था।

वाक्य प्रयोग: सीता की एक ऐसी दोस्ती बन गई जो कि उसे ना पढ़ाई करने देती थी ना ही किसी अच्छे कार्य को करने देती थी जिससे सीता का काफी समय फिजूल में समाप्त होते जा रहा था सीता की ऐसी दोस्ती के वजह से सीता ने घास खाना शुरू कर दिया था।

यहां हमने “घास खाना” जैसे बहुचर्चित मुहावरे का अर्थ और उसके वाक्य प्रयोग को समझा।घास खाना मुहावरे का अर्थ होता है कि व्यर्थ में समय नष्ट करना, फिजूल का समय व्यतीत करना। जिसका सबसे अच्छा उदाहरण आजकल हमारे हाथों में पड़े स्मार्टफोन को देखकर कहा जा सकता है जैसे ही हम लोग स्मार्टफोन को अपने हाथों में लेते हैं हमारा समय कहां होता है हमें कुछ पता नहीं चलता आप हमें स्मार्ट फोन यूज़ तो करना चाहिए लेकिन अपने समय का सही उपयोग करते हुए उपयोग करना चाहिए जिससे हमारा समय फिजूल में व्यतीत ना हो और हम सभी घास खाने ना लगे। चुकी यह मुहावरा है और मुहावरा और असामान्य अर्थ प्रकट करता है इसीलिए यहां इस मुहावरे का अर्थ दोहरा लाभ प्राप्त करने से हैं।

मुहावरे परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं। एक शब्द के कई मुहावरे हो सकते हैं।यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए मुहावरे ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी किसी का भी मुहावरे पूछा जा सकता है।

मुहावरे का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में मुहावरे पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से मुहावरे बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में मुहावरे का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत में भी मुहावरे पूछे जाते हैं।

मुहावरे कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण मुहावरे और उनका वाक्य प्रयोग

आपे से बाहर होनाउड़ती चिड़िया के पंख गिनना
बड़ी बात होनाअपना घर समझना
आसमान सिर पर उठानाअक्ल चरने जाना

1000+ हिंदी मुहावरों के अर्थ और वाक्य प्रयोग का विशाल संग्रह 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here