चूड़ियाँ पहनना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

चूड़ियाँ पहनना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग (Choodiyan pahanana muhavare ka arth)

चूड़ियाँ पहनना मुहावरे का अर्थ – स्त्री के समान असमर्थता हो जाना।

Choodiyan pahanana muhavare ka arth – stri ke saman asamarthata ho jaana.

दिए गए मुहावरे का हिंदी में वाक्य प्रयोग

वाक्य प्रयोग: सोहनलाल जब अपने घर के लिए कुछ ना कर पाया तो उसके घर वाले उसे कहते हैं कि क्या तुमने अपने हाथों में चूड़ियां पहन रखी है।

वाक्य प्रयोग: मोहन जब गुंडे मवाली से पीट रहा था तो रमेश उसे कहता है कि तुम अपने हाथों में चूड़ियां पहन रखी जो उस गुंडे मवाली को नहीं मार सके।

वाक्य प्रयोग: राजेश एक बहुत बड़ा पहलवान है लेकिन जब लड़ाई की बारी आई तो वह हार गया लोग उसे कहते हैं कि राजेश ने अपने हाथों में चूड़ियां पहन ली है इसीलिए वह लड़ाई से हार गया।

वाक्य प्रयोग: जब कोई व्यक्ति किसी गलत और बुरे चीजों के लिए अपनी आवाज नहीं उठाता है और वह दबकर और डर कर रह जाता है तो वैसे व्यक्ति को कहा जाता है कि उसने अपने हाथों में चूड़ियां पहन ली है इसीलिए वह डरकर दबकर रहता है।

यहां हमने “चूड़ियाँ पहनना” जैसे बहुचर्चित मुहावरे का अर्थ और उसके वाक्य प्रयोग को समझा। चूड़ियाँ पहनना मुहावरे का अर्थ होता है कि डरना दबकर रहना या स्त्रियों के समान असमर्थता होना। सबसे अच्छा उदाहरण है जब व्यक्ति किसी भी गलत या बुरे कामों के लिए अपनी आवाज को नहीं उठाता है और वैसे परिस्थिति में वह डर कर रह जाता है या फिर किसी कारण कुछ ना कर पाए तो वैसे परिस्थिति में कहा जाता है कि उसने अपने हाथों में चूड़ियां पहन ली है इसीलिए वह सच्ची के आगे करके बोलने में असमर्थ है। चुकी यह मुहावरा है और मुहावरा और असामान्य अर्थ प्रकट करता है इसीलिए यहां इस मुहावरे का अर्थ दोहरा लाभ प्राप्त करने से हैं।

मुहावरे परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं। एक शब्द के कई मुहावरे हो सकते हैं।यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए मुहावरे ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी किसी का भी मुहावरे पूछा जा सकता है।

मुहावरे का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में मुहावरे पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से मुहावरे बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में मुहावरे का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत में भी मुहावरे पूछे जाते हैं।

मुहावरे कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण मुहावरे और उनका वाक्य प्रयोग

आपे से बाहर होनाउड़ती चिड़िया के पंख गिनना
बड़ी बात होनाअपना घर समझना
आसमान सिर पर उठानाअक्ल चरने जाना

1000+ हिंदी मुहावरों के अर्थ और वाक्य प्रयोग का विशाल संग्रह 

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here