अकबर के कितने बेटे थे और उनका नाम क्या था?

इतिहास में अकबर को मुगल साम्राज्य का सबसे ताकतवर शासक माना गया है। इतिहासकार अकबर के बारे में लिखते हैं कि अकबर एक अत्यंत बुद्धिमान और चतुर शासक था, जिसने अपनी बुद्धिमता से बड़ी बड़ी लड़ाइयां जीत ली थी एवं अनेक तरह की रियासतें अपने कब्जे में कर ली थी।

अकबर ने अपने शासनकाल में भारत के एक बहुत बड़े भूभाग को मुगल सल्तनत के अधीन कर लिया था। भारत में मुगल सल्तनत की स्थापना बाबर ने की थी। बाबर अत्यंत क्रूर और निर्दई शासक था, अकबर उसी बाबर का पोता था।

अकबर की राजधानी दिल्ली थी। अकबर राजधानी दिल्ली में बैठे-बैठे बड़ी बड़ी लड़ाइयां प्लान कर देता था। किस लड़ाई में किस को भेजना है और किस तरह से लड़ाई जीती जाएगी, इस तरह हमेशा विचार विमर्श किया करता था। अकबर हमेशा लोगों को आपस में लड़ा कर रियासत अपने अधीन कर लेता था।

akbar ke kitne bete the akbar ke bete ka naam

अकबर ने राजपूतों को ही राजपूतों के खिलाफ करके अनेक सारी रियासतें अपने अधीन कर ली थी। इसके अलावा अनेक सारे हिंदू राजाओं को भी हिंदू शासकों के सामने युद्ध हेतु भेज कर अपना फायदा उठाया था। अकबर के शासन काल को मुगल इतिहास का स्वर्ण युग माना जाता है।

क्योंकि अकबर ने अपने शासनकाल में लगभग आधे से भी ज्यादा भारत पर कब्जा कर लिया था। विशेष रूप से दक्षिण भारत और उत्तर भारत में मेवाड़ रियासत को छोड़कर लगभग संपूर्ण भारत अकबर के अधिन आ चुका था।

अकबर पूरे भारत को मुगल सल्तनत के अधीन करना चाहता था और एक छत्र राज करना चाहता था, लेकिन उनका यह सपना कभी पूरा नहीं हो सका। अकबर ने सात शादियां की थी। अकबर की 7 पत्नियां थी, जिनसे उन्हें शासक के तौर पर सलीम पुत्र पैदा हुआ, जो आगे चलकर जहांगीर नाम से मुगल शासक बना।

अकबर के बेटे का क्या नाम था?

अकबर के तीन बेटे थे, जिनके नाम सलीम, मुराद एवं दानियाल था। इन दिनों में अकबर को अपना सबसे बड़ा बेटा सलीम पसंद आता था। अकबर सलीम को ही मुगल साम्राज्य का अगला शासक मानता था। इसीलिए अकबर हमेशा अपने पुत्र सलीम को हर तरफ से सहायता प्रदान करता और तरह-तरह की कला सिखाता था।

अकबर सलीम को शासन व्यवस्था सिखाता था और किस तरह से शासन करना है, इस बारे में भी जानकारी देता था। लेकिन सलीम हमेशा अकबर के विरूद्ध चलता था, फिर भी अकबर सलीम को माफ कर देता था।

सलीम

मुगल शासक अकबर का सबसे बड़ा बेटा सलीम था। सलीम का जन्म 31 अगस्त 1569 को हुआ था।‌ आगे चलकर सलीम इतिहास में जहांगीर नाम से प्रचलित हुआ और मुगल साम्राज्य का चौथा शासक बना।

सलीम को अकबर “शैखबाबा” कहकर पुकारता था। शुरुआत से ही अकबर सलीम को अत्यधिक प्रेम करता और उसी को अपना उत्तराधिकारी मानता था। लेकिन सलीम हमेशा ही अकबर के विरूद्ध जाता और ऐसे ऐसे काम करता, जो अकबर को पसंद नहीं थे, फिर भी अकबर उसे माफ कर देता था।

मुराद मिर्जा

अकबर के दूसरे बेटे मुराद मिर्जा का जन्म 7 जून 1570 में हुआ था। बचपन से मुराद युद्ध कला में निपुण थे। उन्होंने अनेक तरह की सैन्य उपाधि हासिल की थी। मुराद मिर्जा ने बेगम हबीबा बानो के साथ विवाह भी किया था।

अकबर ने मुराद को सन 1593 में दक्षिण क्षेत्र का सैन्य अधिकारी नियुक्त किया था। मुराद काफी ज्यादा दारू पीता था, हमेशा नशे में ही रहता था। इसीलिए 12 मई 1599 को लाहौर के किले में उसकी मृत्यु हो गई।

यह भी पढ़े: जलाल उद्दीन मोहम्मद अकबर की जीवनी और इतिहास

दानियाल मिर्जा

अकबर का तीसरा और सबसे छोटा बेटा दानियाल मिर्जा था। दानियाल का जन्म राजस्थान के अजमेर में हुआ था। दानियाल हिंदी और फारसी भाषा का जानकार था। दानियाल मिर्जा ने सात शादियां की थी।

विशेष रूप से कला के प्रति दानियाल का लगाव था। दानियाल को दक्षिण क्षेत्र का सूबेदार बनाया गया। इस दौरान उन्होंने अनेक तरह के कार्य किए लेकिन 19 मार्च 1605 को उसकी मृत्यु हो गई।

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में हमने आपको पूरी जानकारी के साथ विस्तार से बताया है कि अकबर के बेटे का क्या नाम है?, अकबर के कितने बेटे हैं? इसके अलावा अकबर के सभी बेटों के बारे में पूरी जानकारी विस्तार से बताई है।

हमें उम्मीद है यह जानकारी आपके लिए जरूर ही उपयोगी साबित हुई होगी, इसे आगे शेयर जरूर करें। यदि आपका इस लेख से जुड़ा कोई सवाल या सुझाव है तो कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

यह भी पढ़े

अकबर को किसने मारा था?

अकबर की कितनी पत्नियां थी?

सिन्धु सभ्यता के लोग सोना कहाँ से प्राप्त करते थे?

भारत के रक्षा मन्त्री कौन है? (1947 से 2022 तक सूची)

भारत का मैनचेस्टर किसे कहा जाता है?

भारत के गृह मंत्री कौन है? (1947 से 2022 तक सूची)

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here