भारत का मैनचेस्टर किसे कहा जाता है?

भारत का मैनचेस्टर गुजरात राज्य के अहमदाबाद शहर को कहा गया है। यह शहर भारत के मुख्य शहरों में प्रमुख स्थान रखता है। वर्तमान समय में अहमदाबाद अत्यंत तेजी से विकास की तरफ बढ़ता हुआ और अत्यंत जनसंख्या वाला शहर है। इसमें हर रोज नए नए स्टार्टअप कंपनियां, कल कारखाने और व्यापार के साधन उत्पन्न हो रहे हैं। यहां पर दूसरे राज्यों के लोगों का भी निवास है क्योंकि यहां नौकरी और व्यापार करने के पर्याप्त साधन उपलब्ध है। तरह-तरह के व्यापार चल रहे हैं।

गुजरात राज्य के बहुचर्चित शहर अहमदाबाद अपने सूती कपड़े के उत्पादन के लिए जाना जाता है। वर्तमान समय में संपूर्ण भारत में सबसे ज्यादा सूती कपड़े का उत्पादन अहमदाबाद शहर में किया जाता है क्योंकि यहां पर अंग्रेजों के समय से सूती कपड़े के वस्त्र बनाने की मशीनें लगाई गई है। जो वर्तमान समय तक चल रही है। इसीलिए आज के समय में भारत में सबसे ज्यादा सूती कपड़ा अहमदाबाद में बनकर तैयार होता है।

Bharat ka manchester kise kaha jata hai

अहमदाबाद का भारत देश में अपना एक महत्वपूर्ण योगदान है। अहमदाबाद अपनी विशेषता के लिए देश में जाना चाहता है। यह शहर अपनी खूबसूरती, अपने इतिहास और यहां की संस्कृति, रीति रिवाज, वेशभूषा, परंपरा के लिए जाना जाता है।

हर वर्ष यहां पर देश और दुनिया के लाखों लोग घूमने के लिए आते हैं। अहमदाबाद में देश के बड़े-बड़े अस्पताल है।‌ जहां पर देश ही नहीं बल्कि दुनिया भर के लोग इलाज करवाने के लिए आते हैं। यहां पर विशेष रूप से स्पेशलिस्ट डॉक्टर और बड़े-बड़े अस्पताल मौजूद है।

भारत का मैनचेस्टर किसे कहा जाता है?

भारत का मैनचेस्टर

मेनचेस्टर शब्द को इंग्लैंड से लिया गया है क्योंकि यह इंग्लैंड के एक शहर का नाम है, जहां से अंग्रेजों के जमाने में सूती से बने हुए वस्त्र भारत व्यापार के लिए लाए जाते थें। उस समय इंग्लैंड का शहर मैनचेस्टर संपूर्ण दुनिया भर में सूती के कपड़े के लिए जाना जाता था। उसी समय मैनचेस्टर में सूती कपड़े से वस्त्र बनाने की अनेक सारी बड़ी-बड़ी मशीनें लगी हुई थी। जिससे कम खर्चे में और कम समय में सुती से बने हुए वस्त्र तैयार किए जाते थे।

यही वजह थी कि भारत में अंग्रेजों के शासनकाल के दौरान अंग्रेज इंग्लैंड के मैनचेस्टर शहर से बने हुए वस्त्र लाकर भारत में बेचते थे। अंग्रेजों द्वारा बेचे जाने वाले यह वस्त्र अत्यंत सस्ते होते थे। इसीलिए यहां के लोगों ने भारतीयों के द्वारा बुनकर तैयार किए गए वस्त्रों की बजाय अंग्रेजों के वस्त्र को खरीदना शुरू कर दिया।

मशीन से बने होने की वजह से अंग्रेजों को सस्ते दाम पर वस्त्र बेचने पर भी मोटा मुनाफा होता था। जिसके बाद भारत में हाथ से बने हुए कपड़े चलने बंद हो गए। अंग्रेजों के समय में भारत में स्वदेशी कपड़ा काफी प्रचलित था।

परंतु स्वदेशी कपड़े को बनाने के पीछे अत्यंत मेहनत लगती थी और काफी समय लगता था। इसीलिए उस कपड़े को सस्ता बेचना आसान नहीं था। यही वजह थी कि जब भारत इतना गरीब था, उस समय स्वदेशी कपड़ा भी महंगा मिलता था।

इसी बात का फायदा उठाते हुए अंग्रेजों ने इंग्लैंड के मैनचेस्टर शहर से मशीनों द्वारा बने हुए कपड़े लाकर भारत में बेचना शुरू किया और भारत के लोगों ने अंग्रेजों के उन कपड़ों को खरीदना शुरू कर दिया।

कुछ समय बीतता गया और उसके बाद लोग पूरी तरह से मशीनों से बने हुए कपड़ों के ऊपर निर्भर हो गए क्योंकि हाथ से बने हुए कपड़ों का व्यापार पूरी तरह से ठप हो चुका था और लोग हाथ से बने हुए कपड़े नहीं पहनते थे। यहां तक कि लोगों को हाथ से कपड़े बनाने भी नहीं आते थे।

इसीलिए कुछ समय बाद अहमदाबाद में भी आधुनिक जमाने की मशीनों से कपड़े बनाने के लिए कारखानों का शुभारंभ हुआ और तरह-तरह के कपड़े बनाने की मशीनें लगाई गई। यहां से अब सस्ते दाम पर कपड़ा बनकर तैयार होने लगा, जिसके बाद हाथ से बनाने वाले कपड़े पूरी तरह से बंद हो गए।

अहमदाबाद को भारत का मैनचेस्टर क्यों कहते हैं?

अंग्रेजों के समय अहमदाबाद में आधुनिक मशीन से कपड़ों का निर्माण होना शुरू हुआ। वर्तमान समय में भी अहमदाबाद सूती कपड़ा उद्योगों के लिए जाना जाता है लेकिन उस समय अहमदाबाद में भारत की पहली सूती कपड़ा बनाने की आधुनिक मशीन अहमदाबाद में लगाई गई थी।

इससे पहले इंग्लैंड के मैनचेस्टर शहर से मशीनों से बना हुआ कपड़ा संपूर्ण दुनिया में बेचा जाता था। इसीलिए अहमदाबाद में भी कपड़ा बनाने की आधुनिक मशीन लगाने पर अहमदाबाद को मैनचेस्टर कहना शुरू हो गया, जो वर्तमान समय में अहमदाबाद को भारत का मैनचेस्टर कहा जाता है।

आज जब हम अहमदाबाद को भारत का मैनचेस्टर कहते हैं तब हमें ऐसा लगता है कि मैनचेस्टर कोई उपाधी है या कोई ऐसा विशेषण शब्द है, जो बड़े शहर के तौर पर या विकसित शहर के तौर पर ले जाता है। लेकिन इसका इतिहास अंग्रेजों के समय से जुड़ा हुआ है।

अहमदाबाद को भारत का मेनचेस्टर केवल इसीलिए का जाता है क्योंकि अंग्रेजों के समय में जिस इंग्लैंड के मैनचेस्टर शहर से कपड़े भारत में आते थे। उसी आधुनिक कपड़े बनाने की मशीन को अमदाबाद में लगाने से अहमदाबाद को भी मैनचेस्टर शहर नाम से पुकारे जाने लगा।

जब अंग्रेजों ने इंग्लैंड के मैनचेस्टर शहर से सूती से बने हुए कपड़े लाकर भारत में बेचना शुरू किया। तब सस्ते दाम पर कपड़ा मिलता देख लोगों ने हाथ से बने हुए कपड़े छोड़कर अंग्रेजों द्वारा बेचे जा रहे कपड़े खरीदने शुरू कर दिए। देखते ही देखते अंग्रेजों द्वारा बेचे जा रहे कपड़ों की डिमांड बढ़ने लगी और हाथ से बनाएं जा रहे कपड़ों को कोई नहीं पूछ रहा था, जिससे हाथ से कपड़े बनाने वाले लोगों का व्यवसाय ठप हो गया और यह लोग भुखमरी का शिकार होने लगें।

धीरे-धीरे भारत में हाथ से बनाने वाले और बुनकरों द्वारा कपड़े बनाने का कार्य भारत में पूरी तरह से ठप हो गया। अब लोग पूरी तरह से मशीनों से बने हुए कपड़ों पर निर्भर हो गए थे। इसीलिए उस समय भारत में मशीन से बने हुए कपड़ों की डिमांड काफी ज्यादा बढ़ गई।

इसी डिमांड को पूरा करने के लिए गुजरात में तरह-तरह की कपड़ा बनाने की मशीन स्थापित की गई, जिसमें अहमदाबाद में मुख्य रूप से सूती के कपड़े बनाने की आधुनिक मशीनें स्थापित की गई थी। जिसमें भारी मात्रा में कपड़े का उद्योग होता था। इसी कपड़े बनाने की मशीन के चलते जिंदाबाद को मैनचेस्टर कहते हैं।

FAQ

भारत का मैनचेस्टर किसे कहा गया है?

गुजरात के अहमदाबाद शहर को भारत का मैनचेस्टर कहा गया है।

दक्षिण भारत का मैनचेस्टर किसे कहा गया है?

दक्षिण भारत का मैनचेस्टर तमिलनाडु के कोयंबटूर शहर को कहा गया है।

उत्तर भारत का मैनचेस्टर किसे कहा गया है?

उत्तर भारत का मैनचेस्टर उत्तर प्रदेश के प्रसिद्ध शहर कानपुर को कहा गया है।

भारत में कुल कितने मैनचेस्टर हैं?

भारत में कुल 3 मैनचेस्टर है, जिसमें दक्षिण भारत में तमिलनाडु का कोयंबटूर शहर। उत्तर भारत में उत्तर प्रदेश का कानपुर शहर एवं उत्तर पश्चिम भारत में गुजरात का अहमदाबाद शहर सबसे प्रसिद्ध भारत का मैनचेस्टर है।

निष्कर्ष

मैनचेस्टर शब्द इंग्लैंड से आया है क्योंकि अंग्रेजों के समय में भारत में अंग्रेजों ने इंग्लैंड के मैनचेस्टर शहर से आधुनिक मशीनों द्वारा बने हुए कपड़ों की आपूर्ति शुरू कर दी थी। जिसके बाद कपड़ों की बढ़ती हुई डिमांड को देखते हुए गुजरात के अहमदाबाद शहर में भी कपड़े बनाने की आधुनिक मशीन लगा दी गई। जिससे अहमदाबाद को भारत का मैनचेस्टर कहने लगा।

इसीलिए आज के इस आर्टिकल में हमने आपको पूरी जानकारी के साथ विस्तार से बताया है कि भारत का मैनचेस्टर किसे कहा गया है? एवं क्यों कहा गया है? गुजरात के अहमदाबाद शहर को भारत का मैनचेस्टर कहा गया है। लेकिन इसके पीछे का इतिहास क्या है? इस विषय में जानकारी आज के इस आर्टिकल में हमने आपको बता दी है।

इसीलिए हमें उम्मीद है कि वह जानकारी आपके लिए जरूर ही उपयोगी साबित हुई होगी। यदि आपका इस आर्टिकल से संबंधित कोई भी प्रश्न है तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं। हम पूरी कोशिश करेंगे कि जल्द से जल्द आपके द्वारा पूछे गए प्रश्न का उत्तर दे सकें।

यह भी पढ़ें:

भारत के सबसे अमीर व्यक्ति कौन है?

भारत का राष्ट्रीय खेल कौनसा हैं?

भारत का सबसे बड़ा रेलवे स्टेशन कौन सा है?

साइकिल का आविष्कार किसने और कब किया था?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here