सुभाषचंद्र बोस के अनमोल विचार

Subhash Chandra Bose Quotes in Hindi: सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 में उड़ीसा के कटक में हुआ था। सुभाष चंद्र बोस के माता का नाम प्रभावती देवी था, जबकि उनके पिता का नाम जानकीदास बोस था। नेताजी सुभाष चंद्र बोस की पत्नी का नाम एमिली था। सुभाष चंद्र बोस की एक बेटी भी हुई, जिसका नाम अनीता बोस है।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु जापान में 18 अगस्त 1945 को एक हवाई हादसे में हो गई। सुभाष चंद्र बोस के पिता जानकीदास एक प्रसिद्ध वकील थे, उन्हें रायबहादुर नाम की उपाधि दी गई थी। सुभाष चंद्र बोस ने अपनी शुरुआती पढ़ाई कटक प्राथमिक विद्यालय से ही पूरी की।

शुरुआती समय से ही वे अपने मित्रों के साथ खेलने कूदने में काफी ज्यादा व्यस्त रहते थे, इसीलिए कई बार पिता से डांट भी मिलती थी। कटक प्राथमिक विद्यालय से प्राथमिक शिक्षा पूर्ण करने के बाद आगे की पढ़ाई के लिए नेताजी सुभाष चंद्र बोस कोलकाता चले गए।

Subhash Chandra Bose Quotes in Hindi
Image: Subhash Chandra Bose Quotes in Hindi

वहां पर उन्होंने प्रेसीडेंसी कॉलेज से लो सफर में बी.ए. की डिग्री हासिल की। इसी कॉलेज में नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने देखा कि अंग्रेज अफसर भारतियो को काफी ज्यादा परेशान कर रहा है। यहीं से नेताजी सुभाष चंद्र बोस के मन में अंग्रेजों के खिलाफ नफरत पैदा हो गई और उन्होंने अंग्रेजों को भारत से निकालने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाने शुरू कर दिए।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस स्वामी विवेकानंद को अपना गुरु मानते थे और समय में उनके बारे में अच्छी बातें कहते थे। नेताजी सुभाष चंद्र बोस शुरुआत से ही सिविल सर्विस करना चाहते थे। इसीलिए उनके पिताजी ने सुभाष चंद्र बोस को इंग्लैंड भेज दिया।

जहां पर उन्होंने इंडियन सिविल सर्विस की तैयारी की इस परीक्षा में उन्हें चौथा स्थान प्राप्त हुआ। लेकिन उन्होंने इस नौकरी को ठोकर मार दी एवं देश की स्वतंत्रता के लिए भारत आ गए। यहां पर आकर उन्होंने लोगों को संगठित करना शुरू किया और अंग्रेजों के खिलाफ आवाज उठाना जरूरी समझा।

Read Also: नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्म परिचय

सुभाषचंद्र बोस के अनमोल विचार | Subhash Chandra Bose Quotes in Hindi

“मेरे पास एक लक्ष्य है
जिसे मुझे हर हाल में पूरा करना हैं।
मेरा जन्म उसी के लिए हुआ है !
मुझे नैतिक विचारों की धारा में नहीं बहना है। ”

सुभास चंद्र बोस भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के
महान क्रान्तिकारियो में एक थे,

आज हमारे अन्दर बस एक ही इच्छा होनी चाहिए,
मरने की इच्छा ताकि भारत जी सके! एक शहीद
की मौत मरने की इच्छा ताकि स्वतंत्रता का
मार्ग शहीदों के खून से प्रशश्त हो सके।

“अन्याय सहना और गलत के साथ
समझौता करना सबसे बड़ा अपराध है।”

तुम मुझे खून दो मै तुम
लोगों को आजादी दूंगा।

1921 में सुभाषचंद्र बोस सबसे पहले आय.सी.एस.
अधिकारी थे, जिम्होने पद को त्याग करके
राष्ट्रीय स्वतन्त्रता के आंदोलन में कूदे.

“जीवन में अगर संघर्ष न रहे, किसी भी
भय का सामना न करना पड़े,
तब जीवन का आधा स्वाद ही समाप्त हो जाता है।”

“अपने पूरे जीवन में मैंने
कभी खुशामद नहीं की है।
दूसरों को अच्छी लगने वाली
बातें करना मुझे नहीं आता।

कॉंग्रेस के महासचिव के रूप में सुभाषचंद्र बोस और
पंडित जवाहरलाल नेहरू को चुना गया जिसके
कारन इन दोनों नेताओ का आत्मबल और बढ़ा..

“अपनी ताकत पर भरोसा करो,
उधार की ताकत तुम्‍हारे लिए घातक है।”

“जीवन की अनिश्चितता से मैं
जरा भी नहीं घबराता।”

हमारा सफर कितना ही भयानक और बदतर क्यों न हो,
फिर भी हमें आगे बड़ते ही रहना चाहिए,
सफलता का सफर लम्बा हो सकता है
लेकिन उसका आना अनिवार्य है।

1938 में हरिपुरा कॉंग्रेस
अधिवेशन के अध्यक्ष बने.

Subhash Chandra Bose Quotes in Hindi

“आजादी मिलती नहीं
बल्कि इसे छिनना पड़ता है।

“आज हमारे पास एक इच्छा होनी चाहिए ‘मरने की इच्छा’,
क्योंकि मेरा देश जी सके –
एक शहीद की मौत का सामना करने की शक्ति,
क्योंकि स्वतंत्रता का मार्ग शहीद के खून से प्रशस्त हो सके।”

संघर्ष ने मुझे मनुष्य बनाया,
मुझमे में आत्मविश्वास उत्पन्न हुआ,
जो पहले मुझमे नही था।

1939 में अपने पद से इस्तीफा दे के
फॉरवर्ड ब्लॉक’ की स्थापन की

भारत में राष्ट्रवाद ने एक ऐसी शक्ति
का संचार किया है जो लोगों के
अन्दर सदियों से निष्क्रिय पड़ी थी।

“जब आज़ाद हिंद फौज खड़ी होती हैं
तो वो ग्रेनाइट की दीवार की तरह होती हैं ;
जब आज़ाद हिंद फौज मार्च करती है
तो स्टीमर की तरह होती हैं। ”

आईये दोस्तों जानते हैं
नेताजी सुभाषचंद्र बोस द्वारा कही गयी
बातो को इस आर्टिकल के माध्यम से

“याद रखिये सबसे बड़ा अपराध अन्याय
सहना और गलत के साथ समझौता करना है।

“भविष्य अब भी मेरे हाथ में है। ”

विचारों से कमजोरियां दूर होती है,
हमें हमेशा उच्च विचार पैदा करते रहना चाहिए।

तुम मुझे खून दो ,
मैं तुम्हें आजादी दूंगा..

इतिहास में कभी भी विचार -विमर्श से
कोई ठोस परिवर्तन नहीं हासिल किया गया है।

“राजनीतिक सौदेबाजी का एक रहस्य यह भी है
जो आप वास्तव में हैं उससे अधिक मजबूत दिखते हैं।”

यदि कभी झुकने की नौबत
आ जाए तो वीरों की तरह झुके।

Read also: स्वामी दयानंद सरस्वती के अनमोल विचार

Subhash Chandra Bose Quotes in Hindi

मुझमे जन्मजात प्रतिभा तो नहीं थी,
परन्तु कठोर परिश्रम से बचने की प्रवृति मुझमे कभी नहीं रही…

“अजेय (कभी न मरने वाले) हैं वो सैनिक जो
हमेशा अपने राष्ट्र के प्रति वफादार रहते हैं,
जो हमेशा अपने जीवन का बलिदान करने के लिए तैयार रहते हैं।”

आशा की कोई न कोई किरण होती है,
जो हमें जीवन से कभी भटकने नही देती।

इतना तो आप भी मानेंगे, एक न एक
दिन तो मैं जेल से अवश्य मुक्त हो जाऊँगा,
क्योंकि प्रत्येक दुःख का अंत होना अवश्यम्भावी है …

“सफलता,
हमेशा असफलता के स्तम्भ पर खड़ी होती हैं।”

“मैंने अपने अनुभवों से सीखा है ;
जब भी जीवन भटकता हैं,
कोई न कोई किरण उबार लेती है
और जीवन से दूर भटकने नहीं देती।”

सफल होने के लिए आपको अकेले चलना होगा,
लोग तो तब आपके साथ आते है,
जब आप सफल हो जाते है।

असफलताएं कभी कभी सफलता
की स्तम्भ होती हैं..

राष्ट्रवाद मानव जाति के उच्चतम आदर्शों सत्यम,
शिवम्, सुन्दरम से प्रेरित है।

“इतिहास गवाह है की कोई भी
वास्तविक परिवर्तन चर्चाओं से कभी नहीं हुआ।”

जिस व्यक्ति के अन्दर सनक नही होती,
वो कभी महान नही बन सकता।

हमारी राह भले ही भयानक और पथरीली हो,
हमारी यात्रा चाहे कितनी भी कष्टदायक हो,
फिर भी हमें आगे बढ़ना ही है..
सफलता का दिन दूर हो सकता है, पर उसका आना अनिवार्य है….

“यदि आपको अस्‍थायी रूप से झुकना
पड़े तब भी वीरों की भांति झुकना।”

Subhash Chandra Bose Quotes in Hindi

“एक व्यक्ति एक विचार के लिए मर सकता है,
लेकिन वह विचार उसकी मृत्यु के बाद,
एक हजार जीवन में खुद को अवतार लेगा।”

“मेरे मन में कोई संदेह नहीं है
कि हमारे देश की प्रमुख समस्याएं गरीबी,
अशिक्षा, बीमारी, कुशल उत्पादन एवं वितरण सिर्फ
समाजवादी तरीके से ही की जा सकती है।”

“यह हमारा कर्तव्य है कि हम
अपनी स्वतंत्रता का भुगतान अपने रक्त से करें।
आपके बलिदान और परिश्रम के माध्यम से हम जो स्वतंत्रता जीतेंगे,
हम अपनी शक्ति के साथ संरक्षित करने में सक्षम होंगे।”

जो पाप तुम कर रहे हो उसका
कभी बंटवारा नहीं होगा।

“मुझे ये देखकर बहुत दुःख होता है कि मनुष्य –
जीवन पाकर भी उसका अर्थ समझ नहीं पाया है।
यदि आप अपनी मंजिल पर ही पंहुच नहीं पाए,
तो हमारें इस जीवन का क्या मतलब।”

“अच्छे चरित्र निर्माण करना ही छात्रों
का मुख्य कर्तव्य होना चाहियें।”

सफलता की नीव हमेशा असफलता
से ही होकर गुजरती है।

ये हमारा कर्तव्य है कि हम अपनी स्वतंत्रता का मोल अपने खून से चुकाएं.
हमें अपने बलिदान और परिश्रम से जो आज़ादी मिलेगी,
हमारे अन्दर उसकी रक्षा करने की ताकत होनी चाहिए…

हमने यहाँ पर सुभाषचंद्र बोस के अनमोल विचार शेयर किये है। हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह सुविचार पसंद आये होंगे, इन्हें आगे शेयर जरुर करें। आपको यह कैसे लगे, हमें कमेंट बॉक्स में जरुर बताएं।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here