SSC क्या है? SSC की पूरी जानकारी

SSC Kya Hai Full Details in Hindi: नमस्कार दोस्तों, यदि आप SSC के बारे में जानकारी खोज रहे है तो आप बिल्कुल सही जगह पर आये हैं। आज हम आपको बताने जा रहे है कि SSC क्या होती है और SSC कौनसे एक्साम्स करवाता है। इसके लिए नीचे लिखी जानकारी (SSC Full Information in Hindi) को पूरा पढ़ना होगा।

SSC Kya Hai Full Details in Hindi
ssc kya hai full information in hindi

हम में से कई छात्र ऐसे है, जो SSC क्या होती है (SSC Kya Hoti Hai) इसके बारे में नहीं जानते है। छोटे-छोटे शहरों में और गांवों में इतनी जागरूकता नहीं होने के कारण छात्र इसके बारे में पूरी जानकारी (SSC Kya Hai Details in Hindi) ले सकते और इसके लिए आवेदन कर सकते।

यदि आप कोई केंद्र सरकार कि जॉब करना चाहते है तो आप यह एग्जाम दे सकते हैं। इसलिए आज हम आपको एसएससी के बारे में जानकारी (SSC Full Details) देने जा रहे हैं।

SSC क्या है? इसकी पूरी जानकारी | SSC Kya Hai Full Details in Hindi

SSC क्या है? (What is SSC in Hindi)

Staff Selection Commission भारत में एक एग्जाम करवाता है। उस एग्जाम को पूरा करने वालों को बाद में अलग-अलग डिपार्टमेंट में कर्मचारियों का चुनाव करता है। इसे हम सरल शब्दों में जाने तो यह मतलब होता है कि SSC विभिन्न डिपार्टमेंट के लिए कर्मचारीयों का चयन करता है। SSC केंद्र सरकार का संस्थान है और एग्जाम भी केंद्र सरकार द्वारा आयोजन करवाया जाता है।

जब भी केंद्र सरकार में कोई नई जॉब निकलती है तो उसके लिए यह संसथान ही एग्जाम का आयोजन करवाता है। SSC के अंतर्गत बहुत सारी जॉब आती है और यह एक बड़ा एग्जाम होता है। SSC हर साल एग्जाम का आयोजन करवाता है। एग्जाम से लेकर नियुक्त तक सब काम इसके अंतर्गत ही आता है।

कर्मचारी चयन आयोग (SSC) CGL, CHSL, Steno, JE, CAPF, JHT आदि जैसे कई एग्जाम का आयोजन करवाता है। इस एग्जाम में छात्र अपनी योग्यता (SSC ke Liye Qualification) के अनुसार एग्जाम देकर केंद्र सरकार में जॉब कर सकता है। आइये जानते इनके बारे में विस्तार से।

SSC का फुल फॉर्म क्या है? (SSC Full Form in Hindi)

SSC का फुल फॉर्म Staff Selection Commission होता है। यह एक ऑर्गेनाइजेशन होता है, जो कि भारत में हो रही अपन लेवल की सभी परीक्षाओं पर नियंत्रण रखता है। SSC को हिंदी में कर्मचारी चयन आयोग भी कहा जाता है, क्योंकि सरकारी नौकरियों के लिए सभी परीक्षाओं का गठन एसएससी ही करती है।

SSC का गठन

SSC का गठन भारत में भारत सरकार के द्वारा अधीनस्थ सेवा आयोग के नाम से किया गया था। अधीनस्थ सेवा आयोग को अंग्रेजी भाषा में subordinate service commission कहां जाता था। इसका गठन वर्ष 1975 ईस्वी में 4 नवंबर को किया गया था और फिर बाद में 26 सितंबर 1977 को इसका नाम अधीनस्थ सेवा आयोग से बदलकर कर्मचारी चयन आयोग अर्थात एसएससी कर दिया गया। एसएससी का मुख्यालय वर्तमान समय में भारत की राजधानी दिल्ली में स्थित है।

क्या होनी चाहिए शैक्षणिक योग्यताएं?

SSC एग्जाम को क्लियर करने के लिए सभी शिक्षार्थियों के पास कुछ शैक्षणिक योग्यताएं होनी चाहिए। यह सभी शैक्षणिक योग्यताएं एसएससी एग्जाम के अंतर्गत तय की गई अलग-अलग परीक्षाओं के लिए अलग-अलग होती है। एसएससी एग्जाम को क्लियर करने के लिए योग्यताएं नीचे निम्नलिखित रुप से दर्शाई गई हैं:

CGL (Combined Graduate Level Examination)

SSC CGL Kya Hai: इस एग्जाम को देने के लिए आपको स्नातक होना जरूरी है। यदि आप स्नातक नहीं है तो आप एग्जाम को नहीं दे सकते है। इस एग्जाम को पास करने के बाद छात्र इस प्रकार के विभिन्न पदों पर कार्य कर सकता है जैसे:

  1. इन्स्पेक्टर आयकर (Inspector Income Tax)
  2. इन्स्पेक्टर परीक्षक (Inspector Examiner)
  3. सहायक लेखा परीक्षा अधिकारी (Assistant Audit Officer)
  4. विदेश मंत्रालय में सहायक (Assistant in Ministry of External Affairs)
  5. केंद्रीय सतर्कता आयोग में सहायक (Assistant in Central Vigilance Commission)
  6. सहायक प्रवर्तन अधिकारी (Assistant Enforcement Officer)
  7. इंस्पेक्टर केंद्रीय उत्पाद शुल्क (Inspector Central Excises)
  8. सहायक रेल मंत्रालय (Assistant Ministry of Railway)

CHSL (Combined Higher Secondary Level Examination)

ये एग्जाम वो छात्र दे सकते हैं जो 12वीं के बाद जॉब करना चाहते है। इस एग्जाम को देने के बाद आप अवर श्रेणी लिपिक LCD (Lower Division Clark), तथ्य दाखिला प्रचालक DEO (Data Entry Operator), डाक साहयक PA (Postal Assistance), न्यायालय लिपिक CC (Court Clark) इस तरह के पद पर कार्य कर सकते हैं।

Steno

जो छात्र अपना भविष्य आशुलिपि (Stenography) में बनाना चाहते है वो इस एग्जाम को दे सकते हैं।

JE (Junior Engineer)

इस एग्जाम को देने के लिए आपको Engineering में Diploma कि योग्यता होनी जरूरी होती है। जूनियर इंजिनियर का एग्जाम देकर आप केंद्र सरकार की जूनियर इंजिनियर पर काम कर सकते है।

CAPF (Central Armed Police Forces)

केंद्र सरकार में सशस्त्र पुलिस बल में Inspector, Sub Inspector आदि के लिए यह एग्जाम clear करना होता है।

JHT (Junior Hindi Translators)

इस पोस्ट के लिए आपकी हिंदी और इंग्लिश दोनों मजबूत होनी बहुत ही जरूरी है। इसका एग्जाम देकर आप हिंदी अनुवादक के पद पर काम कर सकते है।

यह भी पढ़े: पीएचडी (PhD) क्या हैं और कैसे करें?

SSC ऑफिसर्स की सैलरी कितनी होती है?

एसएससी परीक्षा पास करने के बाद आप सभी लोगों को अलग-अलग क्षेत्रों में नौकरियां मिल सकती हैं। सरकारी कर्मचारियों को दी जाने वाली सैलरी कुछ बातों पर निर्भर करती हैं:

  1. आपको एसएससी एग्जाम क्लियर करने के बाद किस पद के लिए चुना गया है।
  2. एसएससी एग्जाम क्लियर करने के बाद आप की पोस्टिंग कहां पर हुई है।

इसके अलावा एसएससी एग्जाम क्लियर करने के बाद पोस्टिंग के शहर को 3 वर्गों में बांटा गया है x, y और z

  • X city: एक्स सिटी के अंतर्गत जितने भी कर्मचारियों की पोस्टिंग की जाती है, उन्हें अन्य सिटी के कर्मचारियों की तुलना में अधिक सैलरी मिलती है। अतः हम सभी लोग कह सकते हैं कि कर्मचारियों को दी जाने वाली सैलरी एक ही पद के लिए अलग-अलग हो सकती है। एक्स सिटी के अंतर्गत भारत के महत्वपूर्ण शहरों को रखा गया है, जिनमें से मुंबई, कोलकाता, दिल्ली, अहमदाबाद, बेंगलुरु, चेन्नई और हैदराबाद शामिल है।
  • Y City: वाइ सिटी के अंतर्गत जितने भी कर्मचारियों की पोस्टिंग की जाती है, उन्हें एक्स एक्स सिटी में कार्यरत कर्मचारियों की तुलना में थोड़ा सा कम वेतन दिया जाता है। वाइ सिटी में आने वाले शहर भोपाल, सूरत, इलाहाबाद, अमृतसर, नागपुर, कानपुर, लखनऊ, वाराणसी, आगरा, पटना, फरीदाबाद, वरंगल, भावनगर, गोरखपुर, इंदौर, रायपुर, गुंटुर इत्यादि आते हैं।
  • Z City: जेड सिटी के अंतर्गत जितने भी कर्मचारियों की पोस्टिंग की जाती है, उन्हें अन्य कर्मचारियों की तुलना में कम वेतन दिया जाता है। क्योंकि इनकी पोस्टिंग भारत के पिछड़े शहरों में हुई होती है।

SSC का एग्जाम पैटर्न

किसी भी एग्जाम की तैयारी करने से पहले उस एग्जाम के पैटर्न को समझाना बहुत ही जरूरी है। SSC कॉम्पीटिशन एग्जाम करवाता है। यह एग्जाम ऑब्जेक्टिव टाइप का होता है। इस एग्जाम में दूसरे एग्जाम की तरह ही पैटर्न होता है।

इस एग्जाम में Maths, English और reasoning से संबंधित प्रशन पूछे जाते है। इन प्रशनों का स्तर ऊपर बताई गई Posts के आधार पर होता है।

क्या विकलांग महिलाएं भी दे सकती है एसएससी का एग्जाम?

जी हां! बिल्कुल एसएससी का एग्जाम सामान्य पुरुष एवं महिला ही नहीं बल्कि विकलांग महिला एवं पुरुष भी दे सकते हैं। एसएससी के एग्जाम के अंतर्गत भारत की सभी सरकारी नौकरियों का परीक्षा लिया जाता है, इतना तो आप भी जानते ही होंगे कि भारत की बहुत सी सरकारी नौकरियां है, जिनमें विकलांग पुरुष महिलाओं को भी भर्ती किया जाता है।

हालांकि सभी विकलांगों के लिए उनके विकलांगता होने का सर्टिफिकेट होना चाहिए और विकलांग व्यक्ति 60 से 70% तक ही विकलांग हो यदि व्यक्ति 90% तक विकलांग होता है तो उसे सरकारी नौकरियां नहीं दी जाती है। अर्थात वह एसएससी का एग्जाम नहीं दे सकता।

60 से 70% या उससे कम विकलांग लोगों को भारत सरकार के द्वारा आयोजित किए गए एसएससी एग्जाम में बैठने की अनुमति दी जाती है, परंतु कुछ निर्धारित नौकरियों के लिए ही। आप सभी लोगों को यह जानकर बहुत ही खुशी होगी कि विकलांग पुरुष महिलाओं को एसएससी एग्जाम में विशेष रूप से छूट प्रदान की जाती है।

विकलांग पुरुष महिलाओं को एसएससी एग्जाम देते समय उनके समय में लगभग 20% तक की वृद्धि कर दी जाती है, अर्थात उन्हें 20% तक ज्यादा समय मिलता है, अन्य परीक्षार्थियों की तुलना में।

FAQ

कौन दे सकता है एसएससी एग्जाम?

भारत के सभी नागरिक

क्या विकलांग महिलाएं भी दे सकते हैं एसएससी का एग्जाम?

जी हां बिल्कुल परंतु उनकी विकलांगता 70% से कम होनी चाहिए।

एसएससी का गठन कब किया गया?

4 नवंबर 1975 को एसएससी का गठन किया गया परंतु उस समय इसका नाम अधीनस्थ सेवा आयोग था।

अधीनस्थ सेवा आयोग से बदलकर एसएससी कब किया गया?

26 सितंबर वर्ष 1977 में अधीनस्थ सेवा आयोग से बदलकर एसएससी किया गया।

निष्कर्ष

इस एसएससी क्या है फुल जानकारी (SSC Kya Hai Full Details in Hindi) जानकारी से जुड़ा यदि आपका कोई सवाल है तो आप कमेंट बॉक्स में जरूर पूछे। इस जानकारी को आगे जरूर शेयर करें और हमारे Facebook Page को जरूर लाइक करें।

यह भी पढ़े

बेसिक शिक्षा अधिकारी कैसे बने?

ग्राम विकास अधिकारी (VDO) कैसे बने?

B.Ed Course कैसे करें? क्या है इसकी योग्यताएं

SDM क्या होता है और कैसे बने SDM Officer

GNM और ANM क्या होता है? पूरी जानकारी

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 5 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

8 COMMENTS

    • Komal suman आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद!
      हमने आपके सवाल को विस्तार से आर्टिकल में सांझा कर दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here