स्वास्थ्य ही धन है पर भाषण

Speech on Health is Wealth in Hindi : एक बहुत ही प्रसिद्ध कहावत है कि स्वास्थ्य ही धन है क्योंकि हमारा स्वास्थ्य ही नहीं होगा तो धन कहां से होगा। धन से भी अधिक महत्व रखता है स्वास्थ्य। कोई भी व्यक्ति अगर अपना स्वास्थ्य बनाए रखता है, तो वह अपने जीवन में सभी चीजों को बहुत ही आसानी से प्राप्त कर सकता है। ऐसे मैं आज हम आपके समक्ष स्वास्थ्य ही धन है, पर भाषण प्रस्तुत करने जा रहे हैं। आप इसका इस्तेमाल स्कूल कॉलेज या किसी अन्य समारोह में भी कर सकते हैं, यह आपके लिए लाभदायक सिद्ध होगा।

Speech-on-Health-is-Wealth-in-Hindi
Image : Speech on Health is Wealth in Hindi

स्वास्थ्य ही धन है पर भाषण | Speech on Health is Wealth in Hindi

स्वास्थ्य ही धन है पर भाषण (500 शब्द)

माननीय अतिथि गण, प्रिंसिपल, शिक्षक गण एवं मेरे प्यारे मित्रों, आप सभी को मेरा सुप्रभात। आज हम इस शुभ अवसर पर एकत्रित हुए हैं। आप सभी का यहां पर स्वागत है। मैं आप सभी के समक्ष एक भाषण प्रस्तुत करने जा रहा हूं। हमारा आज का विषय बहुत ही महत्वपूर्ण है। हमारा आज का विषय है स्वास्थ्य, जो हमारे लिए सबसे अधिक महत्व रखता है।

आप सभी ने एक कहावत अपने बड़े बुजुर्गों से जरूर सुनी होगी, वह हमेशा कहा करते हैं कि स्वास्थ्य ही धन है। परंतु आप सभी इस बात पर कितना निर्भर रहते हैं, इसका कितना पालन करते हैं। मैं आप सभी से यह पूछना चाहता हूं कि इसका आप लोग कितना अनुसरण करते हैं या इसके बारे में कितना सोच विचार करते हैं। शायद नहीं, आजकल इसका अनुसरण कोई भी नहीं करता है।

इसकी वास्तविकता कुछ और ही है। आजकल लोग अपने जीवन में इतने व्यस्त हो गए हैं कि उनके पास अपने स्वास्थ्य का रखरखाव करने का समय ही नहीं होता है। इसी के साथ ना तो वह व्यायाम करते हैं, ना ही वह परिवार के सदस्य, मित्र, पड़ोसी इत्यादि लोगों से बात करते हैं क्योंकि किसी के पास आजकल समय ही नहीं होता है।

इसका मुख्य कारण सामाजिक प्रतियोगिता और तकनीकियो के विकास की वजह से हुआ है क्योंकि आजकल विकास इतना अधिक हो गया है कि लोग इसके आगे कुछ सोचते ही नहीं है। अपने जीवन तक के बारे में नहीं सोचते हैं। उनके जीवन में सभी चीजें मूल्यवान है क्योंकि उन्हें केवल और केवल सफलता ही चाहिए। जिसका एकमात्र साधन है कमाई, पेसा, अपना लक्ष्य प्राप्त करना, सफलता प्राप्त करना।

यह जो प्रसिद्ध कहावत है, यह पूरे विश्व भर में बताई जाती है कि स्वास्थ्य ही धन है और यह हमारे लिए बहुत ही ज्यादा कीमती है। अगर हम किसी भी बीमारी से पीड़ित होते हैं तो धन का इस्तेमाल केवल दवा खरीदने और कुछ राहत प्राप्त करने के लिए ही किया जा सकता है, परंतु हम अपने शरीर को पूरी तरह से स्वस्थ नहीं रख सकते हैं।

पूरी तरह से अपनी बीमारी से राहत नहीं पा सकते हैं क्योंकि एक बीमारी खत्म होती है कि दूसरी बीमारी शरीर में लग जाती है। इसका मतलब है कि हम एक अस्वस्थ शरीर के साथ रहते हैं और निरंतर अपने शरीर में बीमारियों को आमंत्रित करते रहते हैं और उनसे कभी आजाद ही नहीं हो पाते हैं।

अगर हम स्वस्थ रहना चाहते हैं, तो यह बहुत ही सरल है। हमें उचित और नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए। स्वस्थ आहार, अच्छी आदत, अनुशासित जीवन शैली और सकारात्मक सोच, इन सभी को अपने जीवन की आदत बनाना होगा। इसके जरिए हम एक स्वस्थ शरीर प्राप्त कर पाएंगे।

इसी के साथ मन शरीर और आत्मा को भी खुश रख पाएंगे। पूरी तरह से बीमारियों से मुक्त हो पाएंगे स्वस्थ रहने के बहुत सारे तरीके होते हैं, जैसे कि शारीरिक गतिविधियां करना, नींद अच्छी तरह से लेना, सोच का तरीका बदलना, मानसिक स्थिति को सुधारना, जल, वायु, धूप, सभी कारकों पर स्वास्थ्य निर्भर करता है।

अगर हम स्वास्थ्य के बारे में बात करने लगे तो हमारा भाषण कभी खत्म ही नहीं होगा। मैं केवल अंत में इतना ही कहना चाहूंगा कि कृपया अपनी बीमारियों से पीड़ित होना छोड़ दें। अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें। सभी प्रकार के नियम के साथ अपने जीवन को जिये और हमेशा खुश रहे।

धन्यवाद!

यह भी पढ़े : गाँधी जयंती पर भाषण

स्वास्थ्य ही धन है पर भाषण (500 शब्द )

आदरणीय अध्यापिका गण, एवं मेरे प्यारे मित्रों, सुप्रभात। आज मैं आप सभी के समक्ष इस शुभ अवसर पर स्वास्थ्य ही धन है पर भाषण प्रस्तुत करने जा रहा हूं। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि अच्छा स्वास्थ्य हम सभी के लिए बहुत ही आवश्यक है। अगर हम सुखी जीवन जीना चाहते हैं, तो अच्छा स्वास्थ्य हमारे लिए बहुत जरूरी है। अगर हमने स्वास्थ्य को एक बार खो दिया तो हम इसे वापस प्राप्त नहीं कर सकते हैं।

आज की हमारी यह कहावत बताती है कि स्वास्थ्य को धन से नहीं खरीदा जा सकता है। अनुशासित जीवन शैली के जरिए ही हम अच्छा स्वास्थ्य प्राप्त कर सकते हैं। जैसे कि नियमित व्यायाम और स्वस्थ भोजन, सकारात्मक विचार, व्यक्तिगत स्वच्छता, साफ-सफाई, अगर इन सभी चीजों को हम अपने जीवन में अपना ले तो हम एक स्वस्थ शरीर प्राप्त कर सकते है।

एक अच्छा स्वास्थ्य वही होता है जिसमें अमीरों को तो बीमारियों से आजादी मिल जाती है। एक व्यक्ति की शारीरिक मानसिक और सामाजिक भलाई की भावना उसी में निहित होती है। अगर कोई व्यक्ति अपने जीवन में अच्छा स्वास्थ्य रखता है, तो वह व्यक्ति ही पूरे जीवन में सबसे कीमती उपहार प्राप्त कर सकता है क्योंकि किसी भी समस्या के लिए उसे दवाइयां डॉक्टर की जरूरत नहीं पड़ती है।

हमारे जीवन के जितने भी आयाम होते हैं, उन सभी को स्वस्थ रखना बहुत ही जरूरी होता है जैसे कि शारीरिक, मानसिक, सामाजिक सभी आयाम को स्वस्थ रखना आवश्यक है। एक स्वास्थ्य व्यक्ति ही अपने जीवन में सभी आनंद को प्राप्त कर सकता है।

एक धनी होकर जीवन जीना सुख नहीं होता है बल्कि स्वस्थ रहना ज्यादा जरूरी होता है। एक अच्छा स्वास्थ्य तभी प्राप्त किया जा सकता है जब हम नियमित प्रयास करते रहे। अगर आप खुद को खुश रखना चाहते है, तो स्वास्थ्य अच्छा रखना बहुत ही आवश्यक है। अगर आपका स्वास्थ्य अच्छा रहेगा तो, आप हमेशा खुश रहेंगे।

इसी के साथ आपको हमेशा अपने गुस्से और डर पर काबू रखना चाहिए। इसी के साथ आप को नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए। सुबह की सैर करनी चाहिए। ताजी हवा में सांस लेनी चाहिए। उचित आहार लेना चाहिए। स्वस्थ तभी रह पाएंगे, जब सभी प्रकार के कार्य समय पर करेंगे। इन्हीं सब चीजों के जरिए आप अपने जीवन का आनंद प्राप्त कर सकते हैं। अंत में मैं अपनी वाणी को विराम देते हुए केवल इतना ही कहना चाहूंगा, स्वस्थ रहें, खुश रहें, और मस्त रहें।

धन्यवाद!

निष्कर्ष

इस आर्टिकल के जरिए हमने आपके समक्ष स्वास्थ्य ही धन है पर भाषण ( Speech on Health is Wealth in Hindi) पर भाषण प्रस्तुत किया है। अगर आप किसी स्कूल या कॉलेज की छात्र छात्राएं हैं, तो यह भाषण आपके लिए लाभदायक सिद्ध हो सकता है। आप इस भाषण का उपयोग किसी भी समारोह में कर सकते हैं। इसी के साथ अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और लोगों को जागरूक करते रहे, अपने स्वास्थ्य पर भी ध्यान दें।

यह भी पढ़े:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here