झुमके पर शायरी

Shayari on Jhumka: झुमका औरत का वो गहना होता है, जिसे पहने के बाद वो और भी खूबसूरत लगती है। झुमके को कानों में पहना जाता है। झुमके चाहे जैसे भी हो लेकिन उसे पहनने के बाद आवर्त की खूबसूरती में चार चांद लग जाता है।

अगर आपको भी झुमके पहनी हुई लड़कियां पसंद है और आप उसे शायरी के जरिये अपनी बात बताना चाहते हो तो यह आर्टिकल आपके लिए मददगार साबित हो सकता है।

Shayari on Jhumka
Image: Shayari on Jhumka

इस आर्टिकल में हम आपके लिए झुमके पर शायरी (Shayari on Jhumka) का बेहतरीन कलेक्शन लेकर आये है, जो आप अपनी झुमके वाली गर्ल को सोशल मीडिया जैसे Whatsapp, Instagram, Facebook, Twitter आदि पर शेयर कर सकते हैं।

झुमके पर शायरी | Shayari on Jhumka

तेरे कान के यह झुमके मुझे बहुत जलाते हैं
क्योंकि हर दफा तेरे गले को चूम कर चले जाते हैं

झुमके से कह दो गालों को चूमना छोड़ दे,
इश्क रुस्वा हुआ तो कत्ल हजार होंगे।

आप हमारे दिल में जगह बनाते हो
जब यह झुमका पहन के चले आते हो

गिले शिकवों का हिसाब लगाकर बैठे थे
वो झुमका पहन कर आये और हम सब भूल गए

खूबसूरत झुमका डाल
कर वो मेरे सामने आई थी,
जब वो पहली बार मेरे दिल मे समाई थी।

Shayari on Jhumka

jhumka shayari

में कहीं भी रहूं ,
तेरी बालियों की खनक
हमेशा मेरी जहन में रहती है।

मुझे तो तुम्हारे झुमके
तक से प्यार हैं तुम्हे
यह जिस्म की
गलतफहमियाँ मिटानी होगी।

मुझे तुम्हारे झुमके भी,
अपनी तरफ आकर्षित करते हैं,
हम उन लोगों में से नहीं,
जो सिर्फ जिस्म पर मरते हैं।

तुम्हे हथियार रखने
की जरुरत नहीं हैं
तुम झुमके से
अपने कत्लेआम कर देती हो।

तुम्हार झुमका तुमसे ज्यादा खूबसूरत है।

आपका झुमका गालों में झूम रहा है
हमारे दिल की धड़कनों को बढ़ा रहा है

पीने के लिए चाय हो तो
होनी चाहिए अदरक वाली
प्यार करने के लिए लड़की हो तो
होनी चाहिए झुमके वाली

Shayari on Jhumka

jhumka quotes in hindi

मुसीबत है जो तेरा ये झुमका गालों पे झूल गया,
कहने आया था मैं दिल की बात और भूल गया।

आप हमारे दिल की रानी हो हम सबको बताते हैं
जब देखते हैं आपके झुमकों को तो खो जाते हैं

उन्हें झुमके बहुत पसंद है
और हमें झुमके में वो

Read Also: मोहब्बत शायरी

Shayari on Jhumka

दिल का मरीज हु,
यू ही सदमे ना दिया करो,
कोई जाके कह दो उनसे,
झुमका पहने कर बाहर न निकला करो।

देखो ,कभी झुमका
पहनना मत भूल जाना,
तुम्हारी झुमके की
खनक से मेरा दिल धड़कता है।

कहने को तो ये महज एक झुमका हैं
पर तेरे वो आखिरी मुलाकात की सिर्फ
यही तो एक निशानी हैं मेरे पास।

धकड़नो की तबाही के लिए,
उसके झुमके की
खन–खन की काफी है।

झुमका शायरी

चाय अदरक वाली
और मोहब्बत झुमके वाली।

लोग चाहकर भी नहीं
चाहते पड़ना हमारी मोहब्बत
में कहते हैं मैं दिल
में नहीं रूह में समां जाता हूँ।

मैं तारीफ करता था उसकी बिंदी कि,
मेरे लफ़्ज़ कम पड़ गए जब उसने झुमके पहन लिए।

यह चूड़ी कंगन तुम पहनो तो कोई बात नहीं
पर इस झुमके को ना पहना करो
जब यह आपकी गालों को चूमता है तो
हमारे दिल में जलन होने लगती है

तेरे कानों का झुमका देख दिल जल जाता है
मुझसे बेहतर तेरा झुमका है जो गालों को चुम जाता है

Shayari on Jhumka

jhumka shayari in hindi

सुनो, जब तुम बार बार बालों
को कान के पीछे फंसा देती हो,
ताकी ‘हम’ तुम्हारे नये वाले झुमके
को notice कर सके तो अच्छा लगता है।

बरेली के झुमके मशहूर है चल तुम्हें दिलाता हूँ
आज तेरे जन्मदिन पर तोहफा झुमके लेकर आता हूँ

झुमका पहन जब निकलती हो बाहर
तुम्हें देख मर जाते हैं आशिक हजार

तेरे कानों का झुमका,मेरे बगीचे में क्या गिरा,
बगीचे की मिट्टी भी,तेरी जुल्फों की खुश्बू से महक उठी।

संयोग तो देखिये जनाब आपको
झुमके पसंद हैं
और हम बरेली से हैं।

बाल भी खुले थे,
उसने काजल भी लगा रखा था,
उसके झुमके ने तो अलग ही
उधम मचा रखा था।

jhumke par shayari

तुम्हारे झुमके पर दिल
तो आना ही था,
कमबख्त इतनी
जोर जोर से आवाज कर रहे थे।

तस्वीर मेरी भी वापस
ना की उसने मैंने
भी उसके कान
का झुमका नहीं दिया।

किसी को घायल कर गयी तेरी अदा
किसी को मार गयी तेरी मुस्कान
हम मरे तो तेरे झुमकों को देख
इन झुमकों में लगती हो कमाल मेरी जान

तेरे झुमके की क्या तरीफ करूँ
यह तो बहुत आम है
लेकिन जब तुम इसे पहन लेती हो
इसकी कीमत लाखों में हो जाती है

Shayari on Jhumka

काजल, आँखे, जुल्फे, झुमके, चेहरा, होंठ,
हाए, सब हार गए तुझे बे-नकाब देख कर।

Read Also: दिल को छूने वाली शायरी

Shayari on Jhumka

यह झुमके तेरे सब का दिल मोह लेते हैं
सब काम छोड़ हम तेरी और नज़रें फेर देते हैं

आज वो झुमका भी
तेरे कानों में इतरा रहा है
मामूली सा झुमका तेरे गालों को चूम
खूद को खुशकिस्मत बता रहा है

हाथ में जो था सब छूट गया
जब आपका झुमका हमारी नज़रों से टकराया

खामोशी से ही सही,
पर ये बातें हजार करते है,
उसके झुमके आए
दिन कत्लेआम करते है।

Shayari on Jhumka

झुमका पर शायरी

मै उस उम्र में भी तुम्हारे
कानों में झुमके बांध दूंगा
जिस उम्र में मेरे हाथ कांप रहे होंगे।

उसकी गालो को
चूम कर हंसता है।
यह झुमका तो मेरा रकीब हैं।

झुमके पहन कर कॉलेज आती थी,
मुझे देख कर झुमके हिलती थी,
में इधर हु कहकर मुझे यूं इशारे देती थी।

सुना था जहर अच्छे अच्छों की जान लेती है
पर आज तुम्हारे झुमके के अदाओं ने
जहर का काम करके हमें मार दिया।

तेरे हुस्न को देख दिल हिल जाता है
यह झुमका बीच में आकर हमें संभाल जाता है

जुल्फ़े सिर्फ दांयी तरफ मत रखा करो,
बांया झुमका खुद को महफूज़ नहीं समझता।

jhumke pe shayari

यह तेरा हँसता चेहरा जब मेरे सामने आया
मेरा दिल अंदर से बहुत मुस्कुराया
जब गयी तेरे झुमकों पर नज़रें हमारी
देखते ही दिल तुम पर हमारा आया

क्या तरीफ करूँ तेरे हुस्न की
तेरा हुस्न बहुत कमाल है
एक तो तुम हुस्न की परी
ऊपर से यह झुमका बवाल है

हम चाहते हैं कि आप अपने दिल पर
मेरा नाम लिखा कर भूल जाओ
जैसे कान में तेरे यह झुमका झूल रहा है
तुम आओ मेरी बाहों में और झूल जाओ

तेरा मुझे चाहना अच्छा लगता है
तेरा पास आना अच्छा लगता है
जुल्फें हटा कर तेरा झुमका दिखाना
अच्छा लगता है

Shayari on Jhumka

Read Also: फुर्सत के पल शायरी

कान के बाली पर शायरी

हमारे प्यार का दीवानापन तो देखो,
तुम्हारे झुमके की तलास
में बरेली तलक आ गए।

हवाओं को भी इजाजत न दी जिसे छूने की
कमबख्त झुमके उसके
गालों को सरेआम चुमते रहे।

आंखों से गुफ्तगू का
जवाब वो इस तरह देती है,
कभी पलके झुका तो,
कभी झुमके हिला देती है।

जलन सी होती है झुमके से,
बेवजह तुम्हारे
गालों को चूमती रहती है।

ये झुमके उसे पसंद हैं
यह Smile उसे पसंद हैं लोग
पूछते हैं सबक मेरी अदाओं
का मैं कहती हूँ उसे पसंद हैं।

हम जा रहे थे किसी लंबे सफर पे
पर हमारे पांव तुम्हें देख रुक गए
जैसे आप हो इस दिल की मालिक
हम देखते ही आपको झुक गए

Shayari on Jhumka

हलका हलका झुमता तेरा झुमका…
दिल को ललचाता तेरा झुमका…
इन झुल्फो के घेरे में चुप
कर मदहोश करता तेरा झुमका।

Shayari on Jhumka

तेरे दिल को मेरे दिल से जोड़ लेना चाहता हूँ
जैसे तेरा झुमका है तेरे कानों के सहारे
वैसे मैं अपना दिल तेरे सहारे छोड़ देना चाहता हूँ

तुम आई तो आया एक हवा का झोंका
ऐसा लगा जैसे किसी ने हम को टोका
हम फिद्दा हो गए तेरे इस झुमके को देख
किसी ने यह गुना ए इश्क़ करने ना रोका

पूरा दिन तेरी ही सूरत
आँखों के सामने आती है
जिस दिन तुम पहन कर
झुमका मेरे सामने आती है

कान के झुमके पर शायरी

ऐसा लगता है तुम ही दोगी मेरा हर पल साथ
कुछ तो कहते हैं झुमके तेरे हमसे बात
शायद तुम भी करती हो मुझसे बहुत ज्यादा प्यार
तेरे झुमके जो हमें बताना चाहते हैं बात

तेरे कानो का झुमका मेरे
बगीचे में क्या गिरा बगीचे
की मिट्टी भी तेरी
जुल्फों की खुशबू से महक उठी।

दिल तो तुम्हारा चुरा ना पाए,
चुराए हुए झुमके से ही ज़िंदगी काट लेंगे,
अगर मोहब्बत तुमको हो जाए कभी हमसे,
तो इन्ही झुमकों का तुम्हे उपहार देंगे।

सामने से मेरे बचता हुआ जाये कोई
हाय इस झुमके ने
मेरी आँखों में झाक लिया।

में वो समाने लगता है,
उसका झुमका मुझे जलाने लगता है,
गालों को चूमता है उसके कानों में रहकर,
और दूर से हमें चिढ़ाने लगता है।

Read Also: गुज़रा वक़्त शायरी

झुमके पर शायरी

उसे लगता था के वो
झुमकों से खूबसूरत लगती है
पर झुमके की खूबसूरती में
वो खुद चार चांद लगाती थी

उनसे कहना के हम मरते नहीं उसके जिस्म पर
हमारा दिल तो उसके झुमका ही चुरा ले गया था

धडकनों की तबाही के लिए
झुमकों की खन-खन ही काफी हैं।

सुनो,
कैसे कह दू कि तुम मुझसे बहुत दूर हो,
बनकर झुमका हर वक्त मेरी रूह को चूमते हो।

तुम्हारे साथ किसी
मंजिल की तलब नहीं है,
बस जहाँ तक राह
चले हमसफ़र बने रहना।

झुमके पर लिख कर
क्या करोगे गालिब,
झुमके वाली पर
लिखो तब कोई बात है।

Shayari on Jhumka

jhumka captions in hindi

झुमका देकर उसने तो अपना इश्क और सुनहरा
कर लिया मेरी उसे बार-बार खुद पर सजाने की
आदत ने माँ शक और गहरा कर दिया।

भारी महफिल में तुम्हारे झुमके का शोर है,
और तुम हमसे ही आकर पूछती हो,
हमारा लिहाज़ किस ओर है।

jhumke shayari in hindi

शादी की अंगूठी न सही,
मेरी दी हुई बाली आज भी
तुम्हारे कानों में सजी तो है।

जब तुम बार-बार बालों को कान के पीछे फँसा
देती हो ताकि हम तुम्हारे नए वाले झुमके को
Notice कर सके तो अच्छा लगता हैं।

सुनना जरा गौर से,
वो कानो के झुमके कानो
में नाम तो लेते होंगे मेरा।

महंगी महंगी बालियां न सही,
पर अपने हाथो की बनी
रोटियां जरूर खिला सकता हूं।

मुसीबत है तेरा ये झुमका,
जो गालों पे झूल गया,
कहने आया था में,
दिल की बात और भूल गया।

मेरा झुमका शायरी

उसने कहा,
याद रखूं ता–उम्र ऐसा कुछ कह दो मुझे,
ये भी फीके लगते है तुम्हारे
आगे ऐसा कहकर मैंने “झुमके” पहना दिया उसे।

जी करता है
तुझे परी सा सजा दूं,
चांद की रोशनी
से तेरी बालियां रंगा दूं।

सुनों चर्चाओ का माहौल
बहुत गर्म हैं आजकल मेरे
दिए हुए झुमके पहनकर
यूँ क्लास में ना आया करों।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here