सतीश धवन का जीवन परिचय

Satish Dhawan Biography in Hindi: नमस्कार दोस्तों, आज हम यहां पर भारत एक महान वैज्ञानिक प्रोफ़ेसर सतीश धवन के जीवन परिचय के बारे में जानने वाले है। सतीश धवन एक भारतीय गणितज्ञ और एयरोस्पेस इंजीनियर थे, जिन्हें व्यापक रूप से भारत में प्रयोगात्मक तरल गतिकी अनुसंधान का जनक माना जाता था। इनके बारे में विस्तार से जानने के लिए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़े।

satish dhawan biography in hindi

सतीश धवन का जीवन परिचय – Satish Dhawan Biography in Hindi

सतीश धवन की जीवनी – Biography of Satish Dhawan in Hindi

पूरा नामसतीश धवन
जन्म और स्थान25 सितंबर 1920, श्रीनगर (जम्मू कश्मीर)
पत्नीनालिनी धवन
बच्चेज्योत्सना धवन (बेटी)
शिक्षाBA, MA, BE, MS, PhD
कॉलेजपंजाब विश्वविद्यालय (लाहौर),
मिनेसोटा विश्वविद्यालय (मिनियापोलिस),
कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी
व्यवसायभारतीय गणितज्ञ और एयरोस्पेस इंजीनियर
निधन3 जनवरी 2002 (81 वर्ष की उम्र में)

जन्म और परिवार

भारत के महान वैज्ञानिको में से एक सतीश धवन का जन्म भारत के खूबसूरत वादियों से घिरे राज्य जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में एक पंजाबी परिवार में 25 सितंबर 1920 को हुआ। इनके पिता डेरा इस्माइल खान (शहर का नाम) से थे, सतीश का बचपन लाहौर और कश्मीर में बिता।

सतीश की शादी नालिनी धवन से हुई। नालिनी धवन एक कोशिकाविज्ञानी हैं। सतीश धवन की बेटी ज्योत्सना धवन वरिष्ठ प्रधान वैज्ञानिक के रूप में सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी में कार्यरत है।

सतीश धवन की शिक्षा

सतीश धवन ने अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री लाहौर की पंजाब विश्वविद्यालय से भौतिकी और गणित में पूर्ण की। इसके बाद मैकेनिकल इंजीनियरिंग (Bachelor of Engineering) की पढ़ाई की। अपनी स्नातक की डिग्री करने के बाद इन्होंने अंग्रेजी साहित्य में मास्टर ऑफ आर्ट्स में पोस्‍ट ग्रेजुएशन किया।

फिर आगे की पढ़ाई जारी रखने के लिए सतीश धवन अमेरिका चले गये। वहां पर इन्होंने मिनेसोटा विश्वविद्यालय (मिनियापोलिस) से 1947 में एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में एमएस की डिग्री हासिल की।

इसके बाद कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से एक एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की और अपने सलाहकार हंस डब्ल्यू लेपमैन की देखरेख में 1951 में गणित और एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में डबल पीएचडी की।

सतीश धवन का करियर

भारतीय विज्ञान संस्थान, बैंगलोर में 1951 में वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी के रूप में रहे। इसके बाद इन्होने इस संस्थान में 1955 में प्रोफेसर और वैमानिकी इंजीनियरिंग विभाग के प्रमुख का पद और 1962 से 1981 तक निर्देशक का पद भी संभाला। इसके साथ ही 1971–72 में कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, यू.एस. में विजिटिंग प्रोफेसर के पद पर भी काम किया। फिर 1977 से 1979 तक भारतीय विज्ञान अकादमी में अध्यक्ष के रूप में अपनी भूमिका भी निभाई।

सतीश धवन भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) में भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक विक्रम साराभाई के बाद 1972 से 1984 तक अध्यक्ष रहे। 1984 से 1993 तक अध्यक्ष, अनुसंधान परिषद के रूप में नेशनल एयरोस्पेस लेबोरेटरीज, बैंगलोर में अपना योगदान दिया। 1972 से 2002 तक भारतीय अंतरिक्ष आयोग के अध्यक्ष के रूप में रहे।

अंतरिक्ष अनुसंधान में नेतृत्व

1972 में डॉ. धवन भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के अध्यक्ष और अंतरिक्ष विभाग में भारत सरकार के सचिव बने।

एपीजे अब्दुल कलाम ने बताया कि 1979 में जब वह एक सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल के निदेशक थे, तो मिशन उपग्रह को कक्षा में लॉन्च करने में विफल रहा। इसके बजाय, इसे बंगाल की खाड़ी में डाल दिया गया था। अब्दुल कलाम की टीम को पता था कि सिस्टम के ईंधन में एक रिसाव था।

लेकिन उन्हें उम्मीद थी कि रिसाव नगण्य था, और इस तरह उन्होंने सोचा कि सिस्टम में पर्याप्त ईंधन था। यह मिसकैरेज विफलता का कारण बनता है। सतीश धवन, उस समय के अध्यक्ष होने के नाते, अब्दुल कलाम को बुलाया और प्रेस को अवगत कराया: “हम असफल रहे! लेकिन मुझे अपनी टीम पर बहुत भरोसा है और मुझे विश्वास है कि अगली बार हम निश्चित रूप से सफल होंगे।”

इसने अब्दुल कलाम को आश्चर्यचकित कर दिया। क्योंकि विफलता का दोष इसरो के अध्यक्ष द्वारा लिया गया था। अगला मिशन 1980 में सफलतापूर्वक तैयार किया गया और लॉन्च किया गया। जब यह सफल हो गया तो सतीश धवन ने अब्दुल कलाम को अपनी उपस्थिति के बिना प्रेस मीट में भाग लेने के लिए कहा।

यह देखा गया कि जब टीम विफल हो गई, तो उसने दोष लिया। लेकिन जब टीम सफल हुई, तो उन्होंने सफलता को अपनी टीम के लिए जिम्मेदार ठहराया। इस प्रकार एक आदर्श नेता की तस्वीर को चित्रित किया।

Read Also: डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम का जीवन परिचय

सतीश धवन का निधन

सतीश धवन ने 3 जनवरी 2002 को 81 वर्ष की उम्र इस दुनिया को अलविदा कह दिया। धवन अशांति और सीमा परतों के क्षेत्र में सबसे प्रतिष्ठित शोधकर्ताओं में से एक थे, जिसने भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के सफल और स्वदेशी विकास का नेतृत्व किया।

सतीश धवन को मिले पुरस्कार

  • 1966 में पद्म श्री
  • 1969 में प्रतिष्ठित पूर्व छात्र पुरस्कार (कैलिफोर्निया प्रौद्योगिकी संस्थान)
  • प्रतिष्ठित पूर्व छात्र पुरस्कार, भारतीय विज्ञान संस्थान
  • 1981 में पद्म विभूषण (भारत का दूसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान)
  • 1971 में पद्म भूषण (भारत का तीसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान)
  • 1999 में राष्ट्रीय एकता के लिए इंदिरा गांधी पुरस्कार

सतीश धवन के सम्मान में किये गये कार्य

  • इनके निधन के बाद चेन्नई से लगभग 100 किलोमीटर उत्तर में स्थित आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में उपग्रह प्रक्षेपण केंद्र का नाम बदलकर सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र कर दिया गया।
  • सतीश चंदर धवन गवर्नमेंट कॉलेज फॉर बॉयज़ का नाम उनके नाम पर रखा गया है।
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी रोपड़ में मैकेनिकल इंजीनियरिंग बिल्डिंग का विभाग भी उनके नाम पर सतीश धवन ब्लॉक, आईआईटी रोपड़ के रूप में रखा गया है।

मैं उम्मीद करता हूँ कि मेरे द्वारा शेयर की गई यह जानकारी “सतीश धवन का जीवन परिचय (Satish Dhawan Biography in Hindi)” आपको पसंद आई होगी, इसे आगे शेयर जरूर करें। आपको यह जानकारी कैसी लगी, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here