सचिन तेंदुलकर का जीवन परिचय

Sachin Tendulkar Biography Hindi: जब भी जहां भी क्रिकेट का जिक्र होता है, वहां सचिन तेंदुलकर का नाम शान से लिया जाता है। क्रिकेट खेल को इतना लोकप्रिय बनाने में सचिन तेंदुलकर का बहुत बड़ा हाथ है, ऐसा कहें तो गलत नहीं होगा।

sachin-tendulkar-wikipedia
Sachin Tendulkar Biography Hindi

भारत में लोग क्रिकेट को धर्म मानते हैं और सचिन को क्रिकेट का भगवान। लोगों में सचिन को लेकर इतना क्रेज था कि जब वे बैटिंग करने मैदान में उतरते थे तो पूरा मैदान सचिन! सचिन!! के नारों से गूंज उठता था।

उनके फैन्स की दीवानगी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उनके एक आस्ट्रेलियन फैन ने सचिन के बारे में यहां तक कहा कि “अपराध तब करो जब सचिन बैटिंग कर रहे हों” क्योंकि उस समय भगवान भी सचिन की बैटिंग देखने में व्यस्त होता है।

तो आइये आज हम जानते हैं, उनकी महान जीवन के बारे में।

सचिन तेंदुलकर की जीवनी – Sachin Tendulkar Biography Hindi

सचिन तेंदुलकर बायोग्राफी (Biography of Sachin Tendulkar in Hindi)

नामसचिन तेंदुलकर
उप नाम (Nick Name)मास्टर ब्लास्टर, क्रिकेट का भगवान, लिटिल मास्टर
जन्म दिनांक24 अप्रैल 1973 (47 वर्ष)
सचिन तेंदुलकर की मातारजनी तेंदुलकर
पिता का नामरमेश तेंदुलकर (मराठी नावेल लेखक)
भाईअजीत तेंदुलकर, नितिन तेंदुलकर
बहनसविता तेंदुलकर
सचिन तेंदुलकर की पत्नीअंजली तेंदुलकर
सचिन तेंदुलकर की बेटी सारा तेंदुलकर
सचिन तेंदुलकर की बेटाअर्जुन तेंदुलकर
स्कूलशारदाश्रम विद्यालय
समाजब्राह्मण (हिन्दू)
पता19-ए, पैरी क्रोस रोड, बांद्रा (वेस्ट), मुंबई
सचिन तेंदुलकर विवाह दिनांक24 मई 1995
नागरिकताभारतीय

सचिन तेंदुलकर का जन्म व शिक्षा (Sachin Tendulkar Education)

सचिन तेंदुलकर का बचपन बहुत ही सरल रहा। 24 अप्रैल 1973 को मुंबई के उपनगर दादर में रजनी व रमेश तेंदुलकर के यहां एक पुत्र ने जन्म लिया, जिसका नाम रखा गया सचिन। सचिन के पिता Ramesh Tendulkar अपने प्रिय म्यूजिक डायरेक्टर सचिन देव बर्मन के नाम पर सचिन का नाम रखा। म्यूजिक के फैन रमेश तेंदुलकर को क्या पता था कि नियति ने नन्हे सचिन की किस्मत पहले ही स्वर्णिम अक्षरों में लिख रखी थी।

sachin-tendulkar-essay

सामान्य परिवार में पले बढ़े सचिन ने अपनी शिक्षा मुंबई के शारदाश्रम विद्यालय में पूरी की, वे बचपन में अपने वर्तमान स्वभाव से बिल्कुल ही विपरीत थे, उनको लड़ाई-झगड़ा और अपने सहपाठी छात्रों को धमकाना पसन्द था। सचिन की झगड़ालू आदत थी।

उनकी बचपन से ही क्रिकेट की दीवानगी को देखते हुए उनके बड़े भाई अजित तेंदुलकर ने उनका दाखिला क्रिकेट अकादमी में करवाया। उनके कोच रमाकांत आचरेकर जो उस समय के क्रिकेट के प्रसिद्ध कोच हुआ करते थे, उन्होंने सचिन की क्रिकेट के प्रति दीवानगी को पहचान लिया और उन्हें बेहतरीन ट्रेनिंग देना शुरू किया।

सचिन ने एक साक्षात्कार में अपने बचपन की घटना का वर्णन करते हुए कहा था कि “जब बचपन में वे क्रिकेट का अभ्यास करते थे, तब उनके कोच स्टम्प पर एक रूपये का सिक्का रखा करते थे और बाकि खिलाडियों से कहा करते थे कि “जो भी गेंदबाज सचिन को आउट करेगा वह ये सिक्का ले जायेगा, अगर कोई खिलाडी सचिन को आउट नहीं कर पाता है तो वो सिक्का सचिन का होगा।” सचिन ने कहा कि उनके पास ऐसे कुल 13 सिक्के हैं जो उनके जीवन की अमूल्य सम्पति है।

वैवाहिक जीवन व क्रिकेट में कैरियर

1995 में सचिन का अंजलि तेंदुलकर से विवाह हुआ, डॉ. अंजली और क्रिकेटर सचिन की दो सन्तानें हैं सारा और अर्जुन। अर्जुन भी अपने पिता की तरह क्रिकेट में ही अपना करियर बनाना चाहता है।

सचिन के कोच रमाकांत ने उनके स्कूल जाने से पहले और स्कूल से वापस आने के बाद निरन्तर क्रिकेट का अभ्यास करवाना शुरू कर दिया। उनका आवास अभ्यास स्थल से दूर होने के कारण उन्होंने अपने चाचा-चाची के साथ शिवाजी पार्क के निकट रहने का फैसला किया, जो उनके घर के मुकाबले नजदीक था।

क्रिकेटर विनोद काम्बली के साथ मिलकर सचिन 15 वर्ष की आयु में हारेस शील्ड मुकाबले में 664 रन की पारी की, जिसमें अपनी प्रतिभा के दम पर 320 रनों की पारी खेली। इस पारी से सचिन को बेहद लोकप्रियता मिली। इसी की बदौलत सचिन को मात्र 16 साल की कम आयु में भारतीय क्रिकेट टीम में खेलने का अवसर मिला।

सचिन ने 1989 में पहला अन्तर्राष्ट्रीय मैच पाकिस्तान के खिलाफ खेला, पहले मैच में पाकिस्तानी क्रिकेटरों ने नन्हे सचिन को आउट करने में एडी चोटी का जोर लगा दिया। इसी मैच के दौरान एक बाउंसर गेंद सचिन की नाक से टकराई और सचिन घायल हो गये उनकी नाक से खून बहने लगा, लेकिन नन्हे सचिन ने अपने दर्द की परवाह किये बगैर खेल जारी रखा।

sachin-tendulkar-information

ऐसा कहा जाता है कि जब शेर घायल हो जाता है, तब वह और भी खतरनाक हो जाता है। कुछ ऐसा ही सचिन के साथ भी हुआ। पहले मैच की बाउंसर ने सचिन को घायल तो जरुर किया, लेकिन उसके बाद जो सचिन ने गेंदबाजों की जो धुलाई की थी, वो आज भी दिग्गज गेंदबाजों को अच्छी तरह याद है। उनकी इस यादगार पारी ने क्रिकेट प्रेमियों का दिल जीत लिया था। 

1990 में इंग्लैड में सचिन ने पहले टेस्ट मैच में शतक लगाया जिसमें वे 119 रन पर नॉट आउट रहे।

उनकी क्रिकेट की प्रतिभा के कारण क्रिकेट इंटरनेशनल पत्रिका द्वारा उन्हें डॉन ब्रेडमैन की उपाधि से नवाजा गया। सचिन के शानदार प्रदर्शन को देखते हुए उन्हें टीम का कप्तान भी बनाया गया। लेकिन कुछ समय तक कप्तानी के पद संभालने के बाद इस्तीफा दे दिया।

sachin-endulkar-biography
1.bp.blogspot.com

सचिन ने वन-डे क्रिकेट से 23 दिसंबर 2012 को सन्यास ले लिया और 16 नवंबर 2013 को टेस्ट मैच में अंतिम पारी 74 रनों की खेली। सचिन ने 200 टेस्ट मैचों में 15921 रन बनाये और 51 शतक और 68 अर्द्धशतक उनके नाम दर्ज है।

सफलता की उंचाईयों को छूने के बाद भी सचिन जमीन से जुड़े व्यक्ति हैं। सचिन अपनालय नाम का एक संगठन चलाते हैं, जिसमें 200 से भी अधिक बच्चों का पालन-पोषण होता है।

Read Also: विराट कोहली का जीवन परिचय

सचिन तेंदुलकर से जुड़े महत्वपूर्ण बिंदु

  • सचिन तेंदुलकर अंतरराष्ट्रीय मैचों में कुल रन – 18,421
  • सचिन तेंदुलकर टेस्ट मैच कुल रन – 15,921
  • कुल टेस्ट मैच – 200
  • कुल वनडे मैच – 463
  • टेस्ट मैच में कुल शतक – 51
  • अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा शतक – 49
  • विश्व कप में कुल रन – 2278

सचिन तेंदुलकर अवार्ड्स (Sachin Tendulkar Awards)

  • अर्जुन अवार्ड (1994)
  • राजीव गांधी खेलरत्न अवार्ड (1997)
  • विसडन क्रिकेटर ऑफ़ द इयर (1997)
  • पद्मश्री (1999)
  • महाराष्ट्र भूषण अवार्ड (2001)
  • आई सी सी ओ डी आई टीम ऑफ़ द इयर (2004)
  • आई सी सी ओ डी आई टीम ऑफ़ द इयर (2007)
  • पद्म विभूषण (2008)
  • सर गरफील्ड सोबर्स ट्राफी (2010)
  • आउटस्टैंडिंग अचीवमेंट इन स्पोर्ट्स (2010)
  • पीपल्स चॉइस अवार्ड (2010)
  • एल जी पीपल्स चॉइस अवार्ड (2010)
  • विसडन लीडिंग क्रिकेटर इन द वर्ल्ड (2010)
  • आई सी सी ओ डी आई टीम ऑफ़ द इयर (2010)
  • वर्ल्ड टेस्ट XI (2010)
  • वर्ल्ड टेस्ट XI (2011)
  • बी सी सी आई क्रिकेटर ऑफ़ द इयर (2011)
  • कैस्ट्रोल इंडियन क्रिकेटर ऑफ़ द इयर (2011)
  • विसडन इंडिया आउटस्टैंडिंग अचीवमेंट अवार्ड (2012)
  • भारत रत्न (2013)

सचिन तेंदुलकर रिकार्ड्स लिस्ट

  • खेल के दोनों प्रारूपों में सचिन ने सबसे अधिक रन बनाये है। वनडे में 18,426 और टेस्ट में 15,921 रन और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सर्वाधिक 34,347 रन बनाएं।
  • सचिन ने सबसे अधिक शतक बनाये है वनडे में 49, टेस्ट में 51 और 100 अंतरराष्ट्रीय शतक एक मात्र सचिन ने ही बनाये है।
  • सचिन ने 989 खिलाडियों के साथ और खिलाफ़ क्रिकेट खेला है जिसमें 848 विरोधी और 141 भारतीय खिलाड़ी शामिल है।
  • सचिन ने 200 अंतरराष्ट्रीय टेस्ट खेले हैं जो कि एक खिलाडी के लिए अधिक है।
  • सचिन ने सबसे अधिक वनडे मैच खेले है जो कि 463 है।
  • सचिन वनडे मैच में 10000 रन तक जाने वाले पहले खिलाड़ी थे और सचिन ने टेस्ट मैच में 12000 रन और इससे ज्यादा सबसे पहले बनाये थे।
  • सचिन ने सभी देश जो टेस्ट मैच खेलते है उनके खिलाफ़ शतक लगाया है।

सचिन तेंदुलकर के सोशल मीडिया

Sachin Tendulkar InstagramClick Here
Sachin Tendulkar FacebookClick Here
Sachin Tendulkar TwitterClick Here

हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह जानकारी “सचिन तेंदुलकर का जीवन परिचय (Sachin Tendulkar Biography Hindi)” पसंद आई होगी। इसे आगे शेयर जरूर करें। यदि इससे जुड़ा कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। ऐसी ही और जानकारी के लिए हमारा Facebook Page लाइक जरूर कर दें।

Related Searches: sachin tendulkar information in hindi, sachin tendulkar hindi, sachin tendulkar history in hindi, sachin tendulkar wikipedia in hindi, essay on sachin tendulkar, sachin tendulkar essay, सचिन तेंदुलकर पर निबंध, सचिन तेंदुलकर के बारे में जानकारी, सचिन तेंदुलकर का घर

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here